POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: रंग बिरंगी एकता

Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
गाँधी जी पूछ रहें हैं हमसे,कितनी दूर भागोगे मुझसे?कब तक ढूँढोगे दुश्मन यहाँ-वहाँ,जब वो  छिपा है खुद में?यह हिन्दू, वो मुसलमां,कर लो चाहे जितना,रोटी, नौकरी, इज़्ज़त, शौहरत,पा लोगे क्या आगे-ए -नफरत में?इंसान को कब तक,देखोगे मज़हब की हद तक?अरे, अब बस भी करो,अब सब्र ख... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   1:41am 1 Feb 2020 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
एक नाराज़ समंदर मेरे अंदर रहता है,न प्यास बुझाता है, न डूबने ही देता है,न आँसुओं को बहने देता है,न पलकों को सूखने ही देता है... https://www.pinterest.com/pin/180003316344469612/... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   9:44pm 12 Jan 2020 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
मै ज़िम्मेदार हूँ,मै ही उस कभी बलात्कारी को रोक नहीं पायी,चुप देखती रही,अपने चारों तरफ,आदमी का चिल्लाना,औरत के आदर को कुचलना,औरत हो कर औरत को दबाना,मैं ही अपने बेटे,नहीं सिखा पायी,औरत का सही आदर,घर में, बस में,सड़क पे, दूकान पे,हर शहर, हर तरफ,जाने कितनी बार,औरत को इन्साफ ... Read more
clicks 45 View   Vote 0 Like   1:12pm 9 Jan 2020 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
साथ समंदर के सफर के बाद भी दिल्ली से ज़्यादा दूर कभी भी नहीं जा पायी! खाना रोज़ ही देसी पकता है, music/movies भी देसी चलती हैं. और दिन रात ट्विटर पर हिंदुस्तान की खबरें follow करती हूँ। मम्मी, भाई और दोस्तों से फ़ोन पर बात भी होती रहती है। मगर कभी-कभी यह सब कम पड़ जाता है।अपनी मि... Read more
clicks 12 View   Vote 0 Like   5:36pm 3 Jan 2020 #Delhi
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
तू मेरी आँख में नहीं देखता,मेरे दिल में नहीं झांकता,मेरे कपड़ों में मेरा मज़हब ढूंढ़ता है,क्या हिन्दुस्तानियत की ख़ुश्बू नहीं पहचानता??तू कौन है, कौन है तू,के मुस्लिम को हिन्दू का भाई नहीं मानता?कौन सा बीज और कहाँ की जड़ें हैं,के बापू-बिस्मिल की बातें नहीं मानता?... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   1:13pm 22 Dec 2019 #CommunalHarmony
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
ये कतई ज़रूरी नहीं के,मेरी नज़र जो देख रही है, तुझे दिखाई दे,मगर अब भी गर राबता है मुझसे तो,मेरी आखों में जो डर है, वो तो तुझे दिखाई दे.मज़हब में खुदा बड़ा है या इमारत?एहम वो है जो न आँख से दिखाई दे,खुदा में अमल बड़ा है या इबादत?मेरे अज़ीज़, जो ज़रूरी है चीज़, काश, वो तुझे द... Read more
clicks 59 View   Vote 0 Like   12:26pm 22 Sep 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
मेरे राज़-ए -दिल सेहरा-ए -ज़िन्दगी में महफूज़ रहे,मैं रेत पे लिखती रही, हवाएं मिटाती रहीं। कोई समझे भी क्यों मेरे दिल की बात,मैं ही तो हमेशा हसरतें-ए -दिल सबसे छिपाती रही।हर बात का एक क़द होता है,बौनी बात छिपाती रही, ऊँची बात बताती रही।   के कह भी दूँ और समझ भी न आय... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   7:58pm 16 Sep 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
ऐ ग़मज़दा दिल, तू मेरा अपना है,चाहे हिन्दू का है या मुसलमा का है! हर मज़हब का खुदा मुहब्बत है,ये अंदाज़-ए -हैवानियत कहाँ का है? क्यों दबा रहे हैं आवाज़ें?ये काम तो तानाशाही का है! हर आवाज़ बुलुंद हो, बेख़ौफ़ हो,यही तो निशाँ आज़ाद हिन्दुस्तां का है!अपने ही घरों में बंद... Read more
clicks 57 View   Vote 0 Like   10:50pm 16 Aug 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
जय श्री राम कह कह कर,भूल न जाना राम,दबंगई व हिंसा मत जोड़ना उसमर्यादा पुरषोत्तम के नाम!शांति, अहिंसा और भाईचारा,यही है भारतीयता की पहचान! हत्या, क्रूरता, और उद्दंडता में,क्यों छूमंतर हो रहा इंसान! गाँधी के देश में रहने वालों,मत करो भारत बदनाम,जिस मिटटी में बढ़... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   11:37pm 27 Jun 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
मेरे दिल के टुकड़े,जब तू गुस्से से फूल के गुप्पा हो जाता है,तो सीने में बड़ा दर्द होता है,हाँ, ये बात और हैके तेरे फ़ूले गाल और भी प्यारे लगते हैं,मगर, कभी-कभी यह दर्द सोने नहीं देता,आदत ही नहीं है ना,तुझ से दर्द पाने की,बचपन से लेकर आजतक,बस प्यार ही मिला है तुझसे,तेरा ब... Read more
clicks 41 View   Vote 0 Like   12:50am 8 May 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
यह कविता मेरी स्कूल और कॉलेज की दोस्तों के लिए है और शायद थोड़ी बहोत whatsapp को भी समर्पित है क्यूंकि मैं यहाँ अमेरिका में रहती हूँ मगर whatsapp के ज़रिये उनके साथ अक्सर जुड़ पाती हूँ! Thank you whatsapp for connecting me to my flavourful, gorgous, youthful, wise and compassionate friends! येसुनहरीसी लड़कियाँ,इनकीआचारीबातें,मेरेबादलोंस... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   2:52pm 9 Mar 2019 #friendship
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
१४ फरवरी को पुलवामा में सुरक्षाबलों पर हुए हमले के बाद, देश में कई लोगों ने अपनी-अपनी आवाज़ उठाई। कुछ लोगों की आवाज़ खूब सुनी गयी, कुछ की नहीं। तब से आजतक लगभग ५० जवानों की जानें चली गयीं, उनके परिवार के लोगों के दुःख का अंदाज़ा लगाना भी मुश्किल है। उम्मीद है सरकार उन... Read more
clicks 61 View   Vote 0 Like   12:25am 24 Feb 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
तुम जहाँ भी हो,मेरा दिल कहता है,तुम यहाँ भी हो।  मुश्किलों की गर्मी में,मेरे आंसूं सुखाने वाली,ठंडी हवा भी हो।  मेरे इतने करीब,मगर मेरी ही तरह,शायद तन्हा भी हो।  ज़िन्दगी भर की सीख, और तुम्हीं मेरा हर रौशन लम्हा भी हो।  मेरे उसूल,मेरा नजरिया,मेरे दिल की सदा ... Read more
clicks 113 View   Vote 0 Like   9:44pm 2 Feb 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
आज़ादी के वक़्त,तो बंटवारे और खून-खराबे का इलज़ामहमने अंग्रेज़ों पे लगा दिया,आज की नफरत के लिएकौन ज़िम्मेदार है?कोई पार्टी?कोई  नेता?या हमारे ही दिल में'उनके'लिएदिल में छिपावो नजरिया, वो बातें,जो कभी ज़बाँ पे तो नहीं आतीं,मगर जब शहर में आग लगे,हम भी अपने दिल की च... Read more
clicks 162 View   Vote 0 Like   2:07am 29 Dec 2018 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
दिल थका तो है,हर तरफ अँधेरा तो है,फिर न जाने नींद क्यों नहीं आ रही?पलकों पे एक ख़्वाब बैठा तो है,सब ठीक सा तो है,फिर न जाने नींद क्यों नहीं आ रही?बिन बुलाये ख़यालों धुतकारा तो है,सुस्त आँखों ने उसे बुलाया तो है,फिर न जाने नींद क्यों नहीं आ रही?जिस्म के साथ मन को भी लिटाया तो ह... Read more
clicks 186 View   Vote 0 Like   1:54pm 10 Nov 2018 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
कहते हैं ज़िंदगी छोटी सी है,दिल की सुनो,फिर वही दिल फ़र्ज़ों मेंज़िंदगी उलझा देता है।अपनी करो भी तोअपनी कहाँ चलती है?ये जहाँ अपनी करवाता है,तु अपनी करवाता है!मैं खिलौना हुँ सबका,या ये सब कोई खेल है?मुझे नचा भी रहें हैं, औरना थमने की तोहमत भी लगा रहें हैं!मैं खेलूँ या जियू... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   12:52pm 12 Oct 2018 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
मुस्कुराती रहूंगी, सब झेल जाऊँगी,बस मेरा हाल मत पूछना, बिखर जाऊँगी।हर पर्वत हिम्मत से चढ़ जाऊंगी,मुझे गले न लगाना, सिहर जाऊंगी।उजालों में गाऊँगी, मुस्कुराऊँगी,आह भरने मगर, अंधेरें हों जहाँ उधर जाऊंगी। मैं टूट-टूट कर फिर जुड़ जाऊंगी,कैसा भी  मिले, पी हर कोई ज़हर जाऊँगी। रु... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   2:23pm 13 Aug 2018 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
मैं नदी की तरह मुख़्तलिफ़ मुक़ामोँ से गुज़रती जाती हूँ,मुझे शीशे में उतारने की कोशिश न करो,कभी बूँद, कभी बादल, कभी दरिया,मुझे किसी एक रूप में सँवारने की कोशिश न करो...! ... Read more
clicks 95 View   Vote 0 Like   9:51pm 22 Jul 2018 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
बदल और नदी अच्छे लगते हैं,अपनी धुन में चलते हैं, मगरअपनी मंज़िल नहीं हैं भूलते। https://www.istockphoto.com/gb/photos/orange-sunset-over-river?excludenudity=true&sort=mostpopular&mediatype=photography&phrase=orange%20sunset%20over%20riverबाग़ में पेड़ अच्छे लगते हैं,मस्त हवा में झूमते हैं, मगरअपनी जड़ों से हैं जुड़े रहते।https://stockarch.com/images/nature/plants/grove-tall-palm-trees-6000चीं-चीं क... Read more
clicks 202 View   Vote 0 Like   1:19am 18 Jul 2018 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
एक आँसूं आँख के किनारे पेबैठ के सोच रहा है,बह जाऊँ , सूख जाऊँ यहीं,या लिपटा रहूँ इन आँखों से यूँही,इस चेहरे की खूबसूरती को,यूँही चार चाँद लगाता रहूं,बेचारा ये नहीं जानता के ऐसे,हज़ारों आये और हज़ारों गए,और हज़ारों आएँगे,मेरे पापा की याद में.... ... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   1:40am 18 Jun 2018 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
आज यूँ ही याद आई,वो दोपहर गर्मी की,स्कूल से थक कर, पसीने-पसीने घर लौटना,पँखे की हलकी-हलकी हवा में,ढंडा -ढंडा पानी पीना,आह, क्या ख़ुशी मिलती थी! और गेस करना मम्मी ने अरहर की दाल बनाई है, या पापा ने तेहरी, फिर गरम-गरम खाने में,ताज़ा-ताज़ा दही मिला कर,प्याज़ के साथ खाना,आ... Read more
clicks 113 View   Vote 0 Like   5:33pm 21 Dec 2017 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
ऐ खुदा, टूट-टूट कर भी खड़ा हूँ मैं, यह तेरा करम नहीं तो और क्या है? इतने वार, इतने ज़ख्म, और मुस्कुरा हूँ मैं,यह तेरा करम नहीं तो और क्या है?  थक के चूर हूँ, फिर भी चल रहा हूँ मैं,यह तेरा करम नहीं तो और क्या है? बेहाल हूँ  मगर आज भी दूसरों की दवा हूँ मैं,यह तेरा करम नह... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   2:14pm 10 Dec 2017 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
ये मेरा खुदा,सड़कों पे मिल जाता है,तो कभी बादलों के पीछे से कहीं,देखके मुस्कुराता है! हर किसी से मुहोब्बत करने को दिल में तूफ़ान मचाता है,ग़रीब, मजबूर, मज़लूमों,के चेहरों में नज़र आता है! इसे कहीं दिल से पुकार लो,वहीँ मिल जाता है,कितने भी लोग खड़े हों आगे,सीधा मेरे पास आ... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   2:09pm 23 Nov 2017 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
आजकल हर तरफ नफरत का बोलबाला है।  कहीं देख लें, हिंसा का कोई न कोई चेहरा नज़र आ ही जाएगा।  हैवानियत अलग-अलग लिबास में नाच रही है।  कहीं मज़हब, कहीं रंग भेद, कहीं पैसा तो कहीं सियासत! और लोग गुटों में बँट गए हैं।  दुसरे का दर्द महसूस कम होने लगा है, अपनों की ग़लतियाँ कम ... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   7:10pm 11 Nov 2017 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
मायूसी और फिर लड़ने की जुस्तजू,दर्द और उम्मीद के बीच सफर में हूँ,दायरा सिमटा है बस, बंदी नहीं हूँ।  थक जाता हूँ तो रो लेता हूँ,उसकी मोहब्बत याद कर मुस्कुराता हूँ,दरारें पड़ीं हैं, अभी टूटा नहीं हूँ।  सवाल, सलाह, नसीहत, और इल्ज़ाम,सुन रहा हूँ हर बात, हर कलाम,ख़ामोश हूँ... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   10:41pm 4 Nov 2017 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3941) कुल पोस्ट (195174)