POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: रंग बिरंगी एकता

Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
ताउम्र शक्ल बदल-बदल के मेरे साथ रही तिशनगी,कभी इसकी तो कभी उसकी प्यासी रही ज़िन्दगी।जिस से भी मिल गयी, वो नज़र अपनी सी लगी,हर गुफ़्तगू में दिल लगाती रही ज़िन्दगी। एक शख़्स, एक जगह, एक एहसास में क़ैद न रह सकी,चाहने के नए बहाने  ढूंढती रही ज़िन्दगी। वो 'एक' जो दौड़ता है रगों म... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   3:53pm 7 Mar 2021 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
सुन अपने मन की धुन,तू सही है, सुन!उड़, और ऊपर उड़,चिड़ियों के संग कर गुन-गुन!पर्दों-ओ-दीवारों के बाहर,आसमानों के सपने बुन! तेरी नज़र हो तेरा नज़राना,तू ख़ुद बन अपना शगुन!झिझक और शर्म बहुत हुई,उठ, अपना रास्ता ... Read more
clicks 25 View   Vote 0 Like   2:07pm 16 Feb 2021 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
जंगोसेतबाहशहरोंकोदेखो,बिखरी हुई इमारतोंकोदेखो, सूनी बदरंग सड़कोंकोदेखो,इंसाफ़कोचिल्लातीलाशोंकोदेखो,माँकीगोदकेख़ालीख़ज़ानोंकोदेखो,बापकेहारेहुएइरादोंकोदेखो, लूटे हुए बचपन की आँखों को देखो,हारेहुएसैनिककेज़ख़्मोंकोदेखो, जीतेहुएसिपा... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   2:00am 12 Feb 2021 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
इस शहर के कई शजर सूख गए हैं,अब अब्र नहीं बरसते, आब नहीं बहता है,नमी की कमी है ज़मी में आजकल,मट्टी की सीना सुबकता रहता है।  यह शहर इतना ख़ुश्क हो गया है,के एक शरर से आग फैल जाती है,हर बशर जल रहा हो जैसे,आग इंसान को इंसान से जलाती जाती है। यह सब बस तकदीर ने नही किया,इस तदबी... Read more
clicks 36 View   Vote 0 Like   2:36pm 20 Jan 2021 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
जब शब्दों की जगह आँसू  उभर आते हों तो कोई कविता या लेख लिखना मुश्किल हो जाता है।  कहने को बहुत कुछ है मगर सही शब्दों का चुनाव ही नहीं हो पा रहा है।  बलात्कार या फिर कहूं की बलात्कारों की न ख़त्म होने वाली दर्दनाक दास्तान बन गया है हिंदुस्तान! आप जितना चाहें योगी अजय बि... Read more
clicks 59 View   Vote 0 Like   8:21pm 2 Oct 2020 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
तेरे दिल की जेब बस यूँ ही,ईमान-ओ-उम्मीद से रहे भरी।  तेरे सुनहरे सपनों की,ख़ुद आसमाँ करे मेज़बानी।  तेरे क़दमों को खींचे आगे,बड़े प्यार से ये ज़मीं।  बरकत ही बने हमेशा,उठें हाथ तेरे जब भी।  बाहर अँधेरा कितना भी गहरा हो,तेरे सीने में जलती रहे रौशनी।  उसकी माफ... Read more
clicks 101 View   Vote 0 Like   4:53pm 25 Jun 2020 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
अलग-अलग डब्बों में, ग़मों को ढक्कन लगा के बंद कर दिया है। और उन डब्बों को दिल के किचन में,करीने से सजा के रख दिया है।  हर डब्बे के ग़म का ज़ायका ज़रा मुख़्तलिफ़ है।  कोई ग़म बड़ा तीखा है,महसूस करते ही दिल सी-सी करने लगता है,लोगों की तीख़ी बातों से बना ह... Read more
clicks 75 View   Vote 0 Like   10:08pm 13 Apr 2020 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
ये कविता हर उस उपद्रवी भाई के लिए है जो गुस्से में आकर सड़क पर उतर तो जाता है मगर असल में उसकी किसी से भी कोई दुश्मनी नहीं होती।  उस के घर में भी वही संघर्ष होते हैं जो उन लोगों के यहाँ होते हैं जिन्हे वो धर्म या जात  के नाम पर तबाह करने जाता है।  सच तो है की उस की रोज़म... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   10:14pm 5 Mar 2020 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
गाँधी जी पूछ रहें हैं हमसे,कितनी दूर भागोगे मुझसे?कब तक ढूँढोगे दुश्मन यहाँ-वहाँ,जब वो  छिपा है खुद में?यह हिन्दू, वो मुसलमां,कर लो चाहे जितना,रोटी, नौकरी, इज़्ज़त, शौहरत,पा लोगे क्या आगे-ए -नफरत में?इंसान को कब तक,देखोगे मज़हब की हद तक?अरे, अब बस भी करो,अब सब्र ख... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   1:41am 1 Feb 2020 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
एक नाराज़ समंदर मेरे अंदर रहता है,न प्यास बुझाता है, न डूबने ही देता है,न आँसुओं को बहने देता है,न पलकों को सूखने ही देता है... https://www.pinterest.com/pin/180003316344469612/... Read more
clicks 83 View   Vote 0 Like   9:44pm 12 Jan 2020 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
मै ज़िम्मेदार हूँ,मै ही उस कभी बलात्कारी को रोक नहीं पायी,चुप देखती रही,अपने चारों तरफ,आदमी का चिल्लाना,औरत के आदर को कुचलना,औरत हो कर औरत को दबाना,मैं ही अपने बेटे,नहीं सिखा पायी,औरत का सही आदर,घर में, बस में,सड़क पे, दूकान पे,हर शहर, हर तरफ,जाने कितनी बार,औरत को इन्साफ ... Read more
clicks 165 View   Vote 0 Like   1:12pm 9 Jan 2020 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
साथ समंदर के सफर के बाद भी दिल्ली से ज़्यादा दूर कभी भी नहीं जा पायी! खाना रोज़ ही देसी पकता है, music/movies भी देसी चलती हैं. और दिन रात ट्विटर पर हिंदुस्तान की खबरें follow करती हूँ। मम्मी, भाई और दोस्तों से फ़ोन पर बात भी होती रहती है। मगर कभी-कभी यह सब कम पड़ जाता है।अपनी मि... Read more
clicks 123 View   Vote 0 Like   5:36pm 3 Jan 2020 #Delhi
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
तू मेरी आँख में नहीं देखता,मेरे दिल में नहीं झांकता,मेरे कपड़ों में मेरा मज़हब ढूंढ़ता है,क्या हिन्दुस्तानियत की ख़ुश्बू नहीं पहचानता??तू कौन है, कौन है तू,के मुस्लिम को हिन्दू का भाई नहीं मानता?कौन सा बीज और कहाँ की जड़ें हैं,के बापू-बिस्मिल की बातें नहीं मानता?... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   1:13pm 22 Dec 2019 #CommunalHarmony
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
ये कतई ज़रूरी नहीं के,मेरी नज़र जो देख रही है, तुझे दिखाई दे,मगर अब भी गर राबता है मुझसे तो,मेरी आखों में जो डर है, वो तो तुझे दिखाई दे.मज़हब में खुदा बड़ा है या इमारत?एहम वो है जो न आँख से दिखाई दे,खुदा में अमल बड़ा है या इबादत?मेरे अज़ीज़, जो ज़रूरी है चीज़, काश, वो तुझे द... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   12:26pm 22 Sep 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
मेरे राज़-ए -दिल सेहरा-ए -ज़िन्दगी में महफूज़ रहे,मैं रेत पे लिखती रही, हवाएं मिटाती रहीं। कोई समझे भी क्यों मेरे दिल की बात,मैं ही तो हमेशा हसरतें-ए -दिल सबसे छिपाती रही।हर बात का एक क़द होता है,बौनी बात छिपाती रही, ऊँची बात बताती रही।   के कह भी दूँ और समझ भी न आय... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   7:58pm 16 Sep 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
ऐ ग़मज़दा दिल, तू मेरा अपना है,चाहे हिन्दू का है या मुसलमा का है! हर मज़हब का खुदा मुहब्बत है,ये अंदाज़-ए -हैवानियत कहाँ का है? क्यों दबा रहे हैं आवाज़ें?ये काम तो तानाशाही का है! हर आवाज़ बुलुंद हो, बेख़ौफ़ हो,यही तो निशाँ आज़ाद हिन्दुस्तां का है!अपने ही घरों में बंद... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   10:50pm 16 Aug 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
जय श्री राम कह कह कर,भूल न जाना राम,दबंगई व हिंसा मत जोड़ना उसमर्यादा पुरषोत्तम के नाम!शांति, अहिंसा और भाईचारा,यही है भारतीयता की पहचान! हत्या, क्रूरता, और उद्दंडता में,क्यों छूमंतर हो रहा इंसान! गाँधी के देश में रहने वालों,मत करो भारत बदनाम,जिस मिटटी में बढ़... Read more
clicks 246 View   Vote 0 Like   11:37pm 27 Jun 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
मेरे दिल के टुकड़े,जब तू गुस्से से फूल के गुप्पा हो जाता है,तो सीने में बड़ा दर्द होता है,हाँ, ये बात और हैके तेरे फ़ूले गाल और भी प्यारे लगते हैं,मगर, कभी-कभी यह दर्द सोने नहीं देता,आदत ही नहीं है ना,तुझ से दर्द पाने की,बचपन से लेकर आजतक,बस प्यार ही मिला है तुझसे,तेरा ब... Read more
clicks 269 View   Vote 0 Like   12:50am 8 May 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
यह कविता मेरी स्कूल और कॉलेज की दोस्तों के लिए है और शायद थोड़ी बहोत whatsapp को भी समर्पित है क्यूंकि मैं यहाँ अमेरिका में रहती हूँ मगर whatsapp के ज़रिये उनके साथ अक्सर जुड़ पाती हूँ! Thank you whatsapp for connecting me to my flavourful, gorgous, youthful, wise and compassionate friends! येसुनहरीसी लड़कियाँ,इनकीआचारीबातें,मेरेबादलोंस... Read more
clicks 273 View   Vote 0 Like   2:52pm 9 Mar 2019 #friendship
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
१४ फरवरी को पुलवामा में सुरक्षाबलों पर हुए हमले के बाद, देश में कई लोगों ने अपनी-अपनी आवाज़ उठाई। कुछ लोगों की आवाज़ खूब सुनी गयी, कुछ की नहीं। तब से आजतक लगभग ५० जवानों की जानें चली गयीं, उनके परिवार के लोगों के दुःख का अंदाज़ा लगाना भी मुश्किल है। उम्मीद है सरकार उन... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   12:25am 24 Feb 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
तुम जहाँ भी हो,मेरा दिल कहता है,तुम यहाँ भी हो।  मुश्किलों की गर्मी में,मेरे आंसूं सुखाने वाली,ठंडी हवा भी हो।  मेरे इतने करीब,मगर मेरी ही तरह,शायद तन्हा भी हो।  ज़िन्दगी भर की सीख, और तुम्हीं मेरा हर रौशन लम्हा भी हो।  मेरे उसूल,मेरा नजरिया,मेरे दिल की सदा ... Read more
clicks 231 View   Vote 0 Like   9:44pm 2 Feb 2019 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
आज़ादी के वक़्त,तो बंटवारे और खून-खराबे का इलज़ामहमने अंग्रेज़ों पे लगा दिया,आज की नफरत के लिएकौन ज़िम्मेदार है?कोई पार्टी?कोई  नेता?या हमारे ही दिल में'उनके'लिएदिल में छिपावो नजरिया, वो बातें,जो कभी ज़बाँ पे तो नहीं आतीं,मगर जब शहर में आग लगे,हम भी अपने दिल की च... Read more
clicks 303 View   Vote 0 Like   2:07am 29 Dec 2018 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
दिल थका तो है,हर तरफ अँधेरा तो है,फिर न जाने नींद क्यों नहीं आ रही?पलकों पे एक ख़्वाब बैठा तो है,सब ठीक सा तो है,फिर न जाने नींद क्यों नहीं आ रही?बिन बुलाये ख़यालों धुतकारा तो है,सुस्त आँखों ने उसे बुलाया तो है,फिर न जाने नींद क्यों नहीं आ रही?जिस्म के साथ मन को भी लिटाया तो ह... Read more
clicks 330 View   Vote 0 Like   1:54pm 10 Nov 2018 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
कहते हैं ज़िंदगी छोटी सी है,दिल की सुनो,फिर वही दिल फ़र्ज़ों मेंज़िंदगी उलझा देता है।अपनी करो भी तोअपनी कहाँ चलती है?ये जहाँ अपनी करवाता है,तु अपनी करवाता है!मैं खिलौना हुँ सबका,या ये सब कोई खेल है?मुझे नचा भी रहें हैं, औरना थमने की तोहमत भी लगा रहें हैं!मैं खेलूँ या जियू... Read more
clicks 192 View   Vote 0 Like   12:52pm 12 Oct 2018 #
Blogger: Anjana Dayal de Prewitt
मुस्कुराती रहूंगी, सब झेल जाऊँगी,बस मेरा हाल मत पूछना, बिखर जाऊँगी।हर पर्वत हिम्मत से चढ़ जाऊंगी,मुझे गले न लगाना, सिहर जाऊंगी।उजालों में गाऊँगी, मुस्कुराऊँगी,आह भरने मगर, अंधेरें हों जहाँ उधर जाऊंगी। मैं टूट-टूट कर फिर जुड़ जाऊंगी,कैसा भी  मिले, पी हर कोई ज़हर जाऊँगी। रु... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   2:23pm 13 Aug 2018 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3991) कुल पोस्ट (194981)