POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: संस्कृति सेतु / Samskriti Setu

clicks 235 View   Vote 0 Like   6:52am 20 Feb 2013 #
clicks 174 View   Vote 0 Like   4:11am 21 Jan 2012 #
Blogger: Neelam Anshu
(पंजाबी)    लेखक  -   अजीत सैलानीरूपांतर  –  नीलम शर्मा ‘अंशु’     वह समझ नहीं पा रही थी कि अब क्या करे।  अंतत: वह सड़क के किनारे बने पार्क में उस चूबतरे पर आ बैठी, जहां वह पहले भी कई बार घंटों बैठकर अपने अंतर्मन से बातें किया करती थी।  इस चबूतरे पर बैठने से उसे दोनों सड़कें ... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   6:51pm 24 Nov 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
गुलजा़र साहब के जन्म दिन पर विशेष‘प्यार कोई बोल नहीं,  प्यार आवाज़ नहीं,  एक ख़ामोशी है सुनती है, कहा करती है,  न ये रुकती है न ठहरती है कभी,  नूर की बूँद है सदियों से बहा करती हैं।      सिर्फ़ अहसास है ये रूह से महसूस करो   प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो।’                      ... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   2:24am 18 Aug 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
कहानी श्रृंखला -13 (पंजाबी)                                                                                                         वे घरों को नहीं लौट सकेंगे। इंतज़ार करते-करते माएं बूढ़ी हो जाएंगी और मर जाएंगी। पता नहीं वे संख्या में कितने थे।मैं भी उन्हीं में से था। मेरी आँखों में भी सेल्युलॉयड के सपने थे। वे स... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   8:03am 17 Jul 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
पापा तुम कब आओगे ?         0    दिलीप कौर टिवाणाप्यारे पापा,  आप मेरा ख़त पढ़कर हैरान तो होंगे ही। कई बार जी चाहा कि आपको ख़त लिखूं परंतु फिर यह ख़याल आया कि यदि बीजी को पता चल गया तो वे दु:खी होंगीं। बहुत बार दिल चाहा कि उनके और आपके बारे में कुछ पूछूं परंतु जब भी मैं बात शुरू क... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   3:03pm 9 Jun 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
बांगला के जाने-माने लेखक श्री समीरण गुहा साहब के उपन्यास का हिन्दी रूपातंर गोधूलि गीत आप पढ़ रहे थे। बांग्ला में तो उनके एक से बढ़कर एक उपन्यास मौजूद हैं। इस उपन्यास के माध्यम से हिन्दी पाठकों से वे पहली बार रू-ब-रू हुए। प्रस्तुत है उपन्यास की अंतिम किस्त।गोधूलि गी... Read more
clicks 141 View   Vote 0 Like   5:05pm 22 May 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
(यहां प्रस्तुत है बांग्ला के जाने-माने लेखक श्री समीरण गुहा साहब के उपन्यास का हिन्दी रूपातंर गोधूलि गीत। बांग्ला में तो उनके एक से बढ़कर एक उपन्यास मौजूद हैं। इस उपन्यास के माध्यम से हिन्दी पाठकों से वे पहली बार रू-ब-रू हो रहे हैं ताकि हिन्दी भाषा के विशाल फलक के माध... Read more
clicks 221 View   Vote 0 Like   4:16pm 22 May 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
(प्रस्तुत है बांग्ला के जाने-माने लेखक श्री समीरण गुहा साहब के उपन्यास का हिन्दी रूपातंर गोधूलि गीत। बांग्ला में तो उनके एक से बढ़कर एक उपन्यास मौजूद हैं। इस उपन्यास के माध्यम से हिन्दी पाठकों से वे पहली बार रू-ब-रू हो रहे हैं ताकि हिन्दी भाषा के विशाल फलक के माध्यम स... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   1:49am 22 May 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
(यहां प्रस्तुत है बांग्ला के जाने-माने लेखक श्री समीरण गुहा साहब के उपन्यास का हिन्दी रूपातंर गोधूलि गीत। बांग्ला में तो उनके एक से बढ़कर एक उपन्यास मौजूद हैं। इस उपन्यास के माध्यम से हिन्दी पाठकों से वे पहली बार रू-ब-रू हो रहे हैं ताकि हिन्दी भाषा के विशाल फलक के माध... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   4:21am 21 May 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
(प्रस्तुत है बांग्ला के जाने-माने लेखक श्री समीरण गुहा साहब के उपन्यास का हिन्दी रूपातंर गोधूलि गीत। बांग्ला में तो उनके एक से बढ़कर एक उपन्यास मौजूद हैं। इस उपन्यास के माध्यम से हिन्दी पाठकों से वे पहली बार रू-ब-रू हो रहे हैं ताकि हिन्दी भाषा के विशाल फलक के माध्यम स... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   2:03pm 19 May 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
  (प्रस्तुत है बांग्ला के जाने-माने लेखक श्री समीरण गुहा साहब के उपन्यास का हिन्दी रूपातंर गोधूलि गीत। बांग्ला में तो उनके एक से बढ़कर एक उपन्यास मौजूद हैं। इस उपन्यास के माध्यम से हिन्दी पाठकों से वे पहली बार रू-ब-रू हो रहे हैं ताकि हिन्दी भाषा के विशाल फलक के माध्यम ... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   3:06am 19 May 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
(प्रस्तुत है बांग्ला के जाने-माने लेखक श्री समीरण गुहा साहब के उपन्यास का हिन्दी रूपातंर गोधूलि गीत। बांग्ला में तो उनके एक से बढ़कर एक उपन्यास मौजूद हैं। इस उपन्यास के माध्यम से हिन्दी पाठकों से वे पहली बार रू-ब-रू हो रहे हैं ताकि हिन्दी भाषा के विशाल फलक के माध्यम स... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   5:23pm 16 May 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
(प्रस्तुत है बांग्ला के जाने-माने लेखक श्री समीरण गुहा साहब के उपन्यास का हिन्दी रूपातंर गोधूलि गीत। बांग्ला में तो उनके एक से बढ़कर एक उपन्यास मौजूद हैं। इस उपन्यास के माध्यम से हिन्दी पाठकों से वे पहली बार रू-ब-रू हो रहे हैं ताकि हिन्दी भाषा के विशाल फलक के माध्यम स... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   1:14pm 15 May 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
(आज शायर साहिर लुधियानवी का जन्म दिन है। इस अवसर पर प्रस्तुत है पंजाबी के जाने माने लेखक बलवंत गार्गी का लिखा यह रेखाचित्र उनकी पंजाबी में लिखित पुस्तक 'हसीन चेहरे' से साभार। यह आलेख साहिर साहब के विभिन्न पक्षों को उजागर करता है। आज साहिर और गार्गी साहब दोनों ही हमारे ब... Read more
clicks 208 View   Vote 0 Like   5:18pm 8 Mar 2011 #
Blogger: Neelam Anshu
कहानी श्रृंखला - 11माई लभ्भो:    इलियास घुम्मणलाहौर शहर से निकल कर कार रावी के पुल पर चढ़ी तो सभी का रंग पीला पड़ गया। ड्राईवर की सीट पर बैठे मेरे बड़े भाई साहब ने डोल रहे अपने शरीर को संभाला और सामने वाले शीशे से आगे की ओर देखते हुए कहा, ‘तुम्हारी यह हरकत कहीं हम सबको ले न ड... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   1:49pm 28 Dec 2010 #साहित्य - कहानी
Blogger: Neelam Anshu
                  रजाईवीना वर्मा                     वह मुँह सर लपेटे पड़ी थी। सुबह के ग्यारह बज गए थे। दिन पूरा चढ आया था, परंतु उसने मुँह से रजाई नहीं उतारी थी। उसकी पुत्रवधु कैथी कई बार आकर रजाई हटा कर देख गई थी कि कहीं बुढ़िया मर तो नहीं गई परंतु उसकी साँस चलती देख वह फिर उसके मुँ... Read more
clicks 162 View   Vote 0 Like   4:39pm 19 Nov 2010 #साहित्य
Blogger: Neelam Anshu
     हिरणी की आँख                              0मोहन भंडारीउस दिन शनिवार ही था, शायद! हाँ, शनिवार ही। छुट्टी थी न! अरे नहीं, छुट्टी दी गई थी। वर्ना यह हादसा क्यों होता? मैंने तो कभी सोचा भी नहीं था कि ऐसा हो जाएगा। मैं डरा नहीं, हाँ, घबरा ज़रूर गया था। और, घबराहट में इन्सान को दिन, वार याद ह... Read more
clicks 220 View   Vote 0 Like   5:09am 26 Sep 2010 #साहित्य
Blogger: Neelam Anshu
दोस्तो, इमरोज़साहब का एक प्यारा सा              संस्मरण आपके साथ शेयर करना चाहती हूँ।              मैं अभी चौथी कक्षा में ही था कि माँ गुज़र गई। घर में चार चाचा थे, परंतु चाची एक भी नहीं थी। सब कुछ होते हुए भी हर शै में एक कमी सी महसूस होने लगी। ऑंखें हमेशा बाहर और भीतर कुछ तलाशती ... Read more
clicks 169 View   Vote 0 Like   7:47am 18 Sep 2010 #
Blogger: Neelam Anshu
पंजाबी शायर शिव कुमार बटालवी के 75 वें जन्मदिन ( 23जुलाई) पर विशेष पंजाबी लेखक बलवंत गार्गी ने अपने दोस्तों पर बहुत से रेखाचित्र लिखे हैं। प्रस्तुत है उनकी पुस्तक हसीन चेहरे से साभार, शिव बटालवी पर लिखा उनका रेखाचित्र।शिवबटालवी0 बलवंत गार्गीशिव बटालवी के साथ मेरा करार थ... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   6:41pm 9 Aug 2010 #
Blogger: Neelam Anshu
श्री शंकर पात्रअनुवाद - नीलम शर्मा 'अंशु'1)आज की सहस्त्र कुंतियांआज की सहस्त्र कुंतियांपुरुष का स्नेह चाहती हैंमन की तृप्ति के लिए नहीं,पेट की ज्वाला के लिए ।पार्क के बगल में खड़ी है नमितासिनेमा हॉल के सामने कावेरीइस शताब्दी की कोई वधु, कोई कुमारी।तृप्ति नहींआशा नहीं... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   6:51pm 31 Jul 2010 #literature
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3991) कुल पोस्ट (194981)