Hamarivani.com

आपका-अख्तर खान "अकेला"

बात अजीब और कितनी अजीब है ,,देशभर में वोटर्स को वोट डालने के लिए जागरूक करने ,सम्पूर्ण देशभर की मतदान प्रक्रिया के इंचार्ज रहे ,,आदरणीय पूर्व चुनाव आयुक्त जी वी जी श्रीकृष्ण मूर्ति का गाज़ियाबाद की चुनाव सूचि में नाम नहीं होने से वोह वोट नहीं डाल सके ,,कहने को यह सिर्फ एक ...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 13, 2019, 7:49 am
    चैत्रे नवम्यां प्राक् पक्षे दिवा पुण्ये पुनर्वसौ ।    उदये गुरुगौरांश्चोः स्वोच्चस्थे ग्रहपञ्चके ॥    मेषं पूषणि सम्प्राप्ते लग्ने कर्कटकाह्वये ।    आविरसीत्सकलया कौसल्यायां परः पुमान् महाकाव्य रामायण के अनुसार अयोध्या के राजा दशरथ की तीन प...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 13, 2019, 7:47 am
मूसा ने कहा खु़दा ज़रूर फरमाता है कि वह गाय न तो इतनी सधाई हो कि ज़मीन जोते न खेती सीचें भली चंगी एक रंग की कि उसमें कोई धब्बा तक न हो, वह बोले अब (जा के) ठीक-ठीक बयान किया, ग़रज़ उन लोगों ने वह गाय हलाल की हालाँकि उनसे उम्मीद न थी वह कि वह ऐसा करेंगे (71)और जब तुमने एक शख़्स को म...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 13, 2019, 7:27 am
(और वह वक़्त भी याद करो) जब तुमने मूसा से कहा कि ऐ मूसा हमसे एक ही खाने पर न रहा जाएगा तो आप हमारे लिए अपने परवरदिगार से दुआ कीजिए कि जो चीज़े ज़मीन से उगती है जैसे साग पात तरकारी और ककड़ी और गेहूँ या (लहसुन) और मसूर और प्याज़ (मन व सलवा) की जगह पैदा करें (मूसा ने) कहा क्या तुम ऐ...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 12, 2019, 5:59 am
*सलीमखान (सलमान के पिता) द्वारा पत्रकारोको/मिडियाको करारा थप्पड़..*👇👇👇👇👇👇आज कलम का कागज से ""मै दंगा करने वाला हूँ,"" . मीडिया की सच्चाई को मै ""नंगा करने वाला हूँ "" .मीडिया जिसको लोकतंत्र का चौंथा खंभा होना था,"" . खबरों की पावनता में "" .जिसको गंगा होना था ""आज वही दिखता है हमको ""...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 11, 2019, 6:39 am
और फिरऔन के आदमियों को तुम्हारे देखते-देखते डुबो दिया और (वह वक़्त भी याद करो) जब हमने मूसा से चालीस रातों का वायदा किया था और तुम लोगों ने उनके जाने के बाद एक बछड़े को (परसतिश के लिए खु़दा) बना लिया (51)हालाँकि तुम अपने ऊपर ज़ुल्म जोत रहे थे फिर हमने उसके बाद भी तुम से दरगुज...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 11, 2019, 6:27 am
...दी जी के पहले धरती चपटी थी ,,दी ने उसे गोल कियाघरती घुमती नही थी ,,,दी ने उसे घुमना सिखाया समुद्र सुखे थे ,,,दी ने पानी भरासूरज मे रोशनी नही थी मोदी ने रोशनी लाईहिमालय पर बर्फ़ नही था ,,,दी ने वहॉ बर्फ़ जमाया पहले भारत मे कुछ नही था जो कुछ आज है सब ,,,दी ने किया ,,क्त जन समझेwww.akhtarkhanakela....
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 6, 2019, 8:31 am
और जब उनसे कहा जाता है कि मुल्क में फसाद न करते फिरो (तो) कहते हैं कि हम तो सिर्फ इसलाह करते हैं (11)ख़बरदार हो जाओ बेशक यही लोग फसादी हैं लेकिन समझते नहीं (12)और जब उनसे कहा जाता है कि जिस तरह और लोग ईमान लाए हैं तुम भी ईमान लाओ तो कहते हैं क्या हम भी उसी तरह ईमान लाएँ जिस तरह और ब...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 6, 2019, 8:29 am
मैं चौकीदार हूं (द ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान)सावधान !एक बहरूपियाफिर सेआपके शहर मेंमौजूद है वह कभी कहता हैमैं फ़क़ीर हूँझोला उठाकरचल दूंगाकभी वह रोने-धोने का ऐसा नाटक करता है कि दिग्गज़ अभिनेता भीउसके सामनेपानी मांगते नज़र आते हैंकुम्भ के मेले मेंकुछ दलितों के पैर धोने काअभिन...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 5, 2019, 7:12 am
अलीफ़ लाम मीम (1) (ये) वह किताब है। जिस (के किताबे खु़दा होने) में कुछ भी शक नहीं (ये) परहेज़गारों की रहनुमा है (2)जो ग़ैब पर ईमान लाते हैं और (पाबन्दी से) नमाज़ अदा करते हैं और जो कुछ हमने उनको दिया है उसमें से (राहे खु़दा में) ख़र्च करते हैं (3)और जो कुछ तुम पर (ऐ रसूल) और तुम से पहल...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 5, 2019, 7:10 am
शुरू करता हूँ ख़ु़दा के नाम से जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम वाला है (1) सब तारीफ ख़ु़दा ही के लिए सज़ावार है (2) और सारे जहाँन का पालने वाला बड़ा मेहरबान रहम वाला है (3) रोज़े जज़ा का मालिक है (4) ख़ु़दाया हम तेरी ही इबादत करते हैं और तुझ ही से मदद चाहते हैं (5) तो हमको सीधी राह पर साब...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  April 3, 2019, 7:19 am
और वह तो यक़ीनन क़यामत की एक रौशन दलील है तुम लोग इसमें हरगिज़ शक न करो और मेरी पैरवी करो यही सीधा रास्ता है (61)और (कहीं) शैतान तुम लोगों को (इससे) रोक न दे वही यक़ीनन तुम्हारा खुल्लम खुल्ला दुश्मन है (62)और जब ईसा वाज़ेए व रौशन मौजिज़े लेकर आये तो (लोगों से) कहा मैं तुम्हारे पा...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 22, 2019, 7:56 am
उन्होंने आज ,, मेरे प्यार के अहसास का ,, पर्दाफाश किया ,, मुझे बताया ,, मेरा प्यार उन्हें रुलाता हैं,, मेरा प्यार उन्हें सताता है, उन्होंने खुद की खुशियों के लिए , खुद को मुझ से अलग कर लिया , एक जज बन कर ,मुझे हुकम सुना दिया , मुझ पर इल्ज़ाम मोहब्बत का नही , उन्हें रोज़ रुलाने रोज़ सता...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 21, 2019, 8:01 am
हिरण्यकश्यप के अहंकार ,ईश्वर के नाम की पाबंदी ,,,सिर्फ खुद के नाम का गुणगान के अहंकार ,को इस लोकतंत्र की होली में ,,झूंठ ,फरेब ,साज़िशों को जलाकर ,,हँसते खेलते ,प्रह्लाद यानी ,,ओरिजनल ईश्वर भक्ति ,ओरिजनल राष्ट्रभक्ति ,,को सम्मान देने का वक़्त आ गया , आओ हम संकल्प ले इस लोकतंत्...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 21, 2019, 8:00 am
वस्त्र रंग चुके बहुत अब तक।मन रंग सको तो अब होली है।।प्रेम से गले मिल सको किसी से तो होली है।पोछ सको यदि आँसू किसी के तो होली है।दुश्मन बहुत हैं, मित्र बना सको तो होली है।वीरान जिँदगी में रंग भर सको तो होली हैआँसू रोक किसी का हाथ थाम सको तो होली है।उदास चेहरे पर मुस्कान ल...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 21, 2019, 7:58 am
(अगर अब की छूटे) तो हम ज़रूर ऊपर आ जाएँगे फिर जब हमने उनसे अज़ाब को हटा दिया तो वह फौरन (अपना) अहद तोड़ बैठे (50)और फ़िरऔन ने अपने लोगों में पुकार कर कहा ऐ मेरी क़ौम क्या (ये) मुल्क मिस्र हमारा नहीं और (क्या) ये नहरें जो हमारे (शाही महल के) नीचे बह रही हैं (हमारी नहीं) तो क्या तुमको इ...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 21, 2019, 7:48 am
यह कविता सूफी संत बुल्लेशाह की है जो हमारी गंगा जमनी तहजीब की नायाब मिसाल है:-होरी खेलूंगी कह कर बिस्मिल्लाहनाम नबी की रतन चढी, बूँद पडी इल्लल्लाहरंग-रंगीली उही खिलावे, जो सखी होवे फ़ना-फी-अल्लाह होरी खेलूंगी कह कर बिस्मिल्लाहअलस्तु बिरब्बिकुम पीतम बोले, सभ सखियाँ ने घ...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 20, 2019, 8:34 am
या हमने उनको उससे पहले कोई किताब दी थी कि ये लोग उसे मज़बूत थामें हुए हैं (21)बल्कि ये लोग तो ये कहते हैं कि हमने अपने बाप दादाओं को एक तरीके़ पर पाया और हम उनको क़दम ब क़दम ठीक रास्ते पर चले जा रहें हैं (22)और (ऐ रसूल) इसी तरह हमने तुमसे पहले किसी बस्ती में कोई डराने वाला (पैग़म...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 20, 2019, 8:30 am
देश के सर्वोच्च न्यायालय की एक दर्जन से भी अधिक फटकार के बाद ,,देश को आखिर भाजपा सरकार का कार्यकाल ख़त्म होने के वक़्त ,आखरी लम्हों में ,,जब चुनाव आचार संहिता लग चुकी है ,चुनावों की घोषणा हो चुकी है ,,जस्टिस पिनाकी चन्द्रघोष का नाम लोकपाल के लिए भेजना ही पढ़ा ,,मुझे नहीं पता ,,ल...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 19, 2019, 7:34 am
सारे आसमान व ज़मीन का पैदा करने वाला (वही) है उसी ने तुम्हारे लिए तुम्हारी ही जिन्स के जोड़े बनाए और चारपायों के जोड़े भी (उसी ने बनाए) उस (तरफ़) में तुमको फैलाता रहता है कोई चीज़ उसकी मिसल नहीं और वह हर चीज़ को सुनता देखता है (11)सारे आसमान व ज़मीन की कुन्जियाँ उसके पास हैं जि...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 19, 2019, 7:29 am
43 सूरए अज़ ज़ुख़रूफ़ सूरए अज़ ज़ुख़रूफ़ मक्का में नाजि़ल हुआ और उसकी (89) नवासी आयतें हैं। ख़ुदा के नाम से (शुरू करता हूँ) जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम वाला हैहा मीम (1)रौशन किताब (क़़ुरआन) की क़सम (2)हमने इस किताब को अरबी ज़बान कु़रआन ज़रूर बनाया है ताकि तुम समझो (3)और बेशक ये (क़़ुर...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 18, 2019, 7:10 am
और किसी आदमी के लिए ये मुमकिन नहीं कि ख़ुदा उससे बात करे मगर वही के ज़रिए से (जैसे) (दाऊद) परदे के पीछे से जैसे (मूसा) या कोई फ़रिश्ता भेज दे (जैसे मोहम्मद) ग़रज़ वह अपने एख़्तेयार से जो चाहता है पैग़ाम भेज देता है बेशक वह आलीशान हिकमत वाला है (51)और इसी तरह हमने अपने हुक्म को रू...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 17, 2019, 8:26 am
और जिस पर ज़़ुल्म हुआ हो अगर वह उसके बाद इन्तेक़ाम ले तो ऐसे लोगों पर कोई इल्ज़ाम नहीं (41)इल्ज़ाम तो बस उन्हीं लोगों पर होगा जो लोगों पर ज़़ुल्म करते हैं और रूए ज़मीन में नाहक़ ज़्यादतियाँ करते फिरते हैं उन्हीं लोगों के लिए दर्दनाक अज़ाब है (42)और जो सब्र करे और कुसूर माफ़...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 16, 2019, 6:57 am
और तुम लोग ज़मीन में (रह कर) तो ख़ुदा को किसी तरह हरा नहीं सकते और ख़ुदा के सिवा तुम्हारा न कोई दोस्त है और न मददगार (31)और उसी की (क़़ुदरत) की निशानियों में से समन्दर में (चलने वाले) (बादबानी जहाज़) है जो गोया पहाड़ हैं (32)अगर ख़ुदा चाहे तो हवा को ठहरा दे तो जहाज़ भी समन्दर की सतह ...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 15, 2019, 7:49 am
क्या उन लोगों के (बनाए हुए) ऐसे शरीक हैं जिन्होंने उनके लिए ऐसा दीन मुक़र्रर किया है जिसकी ख़़ुदा ने इजाज़त नहीं दी और अगर फ़ैसले (के दिन) का वायदा न होता तो उनमें यक़ीनी अब तक फैसला हो चुका होता और ज़ालिमों के वास्ते ज़रूर दर्दनाक अज़ाब है (21)(क़यामत के दिन) देखोगे कि ज़ाल...
आपका-अख्तर खान "अकेला"...
Tag :
  March 14, 2019, 6:52 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3875) कुल पोस्ट (188715)