POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: अंतर्मंथन

Blogger: डॉ टी एस दराल
सर्दियों में वेट बढ़कर पेट अक्सर निकल जाता है,क्या करें, दावत का रोज ही अवसर मिल जाता है।कम्बल रज़ाई में बैठे बैठे खाते रहते हैं सारा दिन,हाथ पैर अकड़े होते हैं, परंतु ये मुंह चल जाता है।ग़ज़्ज़क, पट्टी, गाजर का हलवा देख मन ललचाये,खाते पीते नये साल का जश्न भी हिलमिल जाता ... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   6:45am 2 Jan 2021 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 1.क्वारेन्टीन और डिस्टेंसिंग जैसे शब्द अब यक्ष हो गए हैं ,आइसोलेशन में पति पत्नी के जुदा शयन कक्ष हो गए हैं । कोरोना ने लोगों की जिंदगी में कर दिया ऐसा करेक्शन , कि युवा ही नहीं बूढ़े भी अब गृह कार्यों में दक्ष हो गए हैं ।2.लॉक डाउन के दिन रात तो नाकाम बीते हैं,पर कोरोना ने ... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   5:55am 28 Dec 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 कोरोना काल के 9 महीने:18 मार्च 2020 को अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद की गईं थीं। आज 9 महीने पूरे हो गये। इस कष्टकाल मे भी कुछ बातें सुखद बनकर सामने आईं हैं, जैसे :* अब लोगों को मास्क पहनने की आदत सी पड़ गई है। इसलिए कोरोना खत्म होने के बाद भी लोग जापानियों की तरह बिना शरमाये मास्क पह... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   6:03am 19 Dec 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 1.हरसालहोलीपरमिलतेथेहरएकसेगले,इससालगलेमिलनेवालेवोगलेहीनहींमिले।  कोरोनाकाऐसाडरसमायादिलोंमें,किदिलोंमेंहीदबेरहगएसबशिकवेगिले।2.कोरोनाकाकहरजबशहरमेंछाया ,हमेंतोवर्कफ्रॉमहोमकाआईडियाबड़ापसंदआया।किन्तुपत्नीकोदेरनलगीयेबातसमझते ,किघरतोक्याहमतोऑफि... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   5:55am 19 Dec 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
कोरोना संक्रमण एक ऐसी बीमारी है जो जब तक नही होती , तब तक सब नॉर्मल लगता है। आखिर, वायरस न नज़र आता है, न ही इसमे कोई गंध है। बस जब बुखार आता है , तब टैस्ट कराते हैं और पॉजिटिव आने पर हाथ पैर फूलने लगते हैं । घर मे किसी एक को हो जाये तो बाकी लोगों का बिना संक्रमित हुए बचना बहुत मु... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   6:48am 7 Dec 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 कहतेहैं, खरबूजेकोदेखकरखरबूजारंगबदलताहै।लेकिनपत्नीपरभैया, भला किसकावशचलताहै। हमनेपत्नीसेकहा , आपमेंबसएककमीहै।आपकोहमारीलम्बीउम्रकी, फ़िक्रहीनहींहै। पत्नीबोली, देखोमेरागलाख़राबहै,ज्यादाजोरसेबोलनहींसकती।लेकिननापहलेकभी कीहै ,अभीभीकभीनक़ल करनहींसकती... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   7:37am 4 Nov 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 एक दिन एक महिला बोली, आप पत्नी विषय पर कविता क्यों नहीं सुनाते हैं ! हमने कहा हम पत्नी पर कविता लिखते तो हैं, पर सुनाने से घबराते हैं।  एक बार पत्नी पर लिखी कविता पत्नी को सुनाई , गलती ये हुई कि अपनी को सुनाई।  उस दिन ऐसी मुसीबत आई कि हमें घर छोड़कर जाना पड़ा , ... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   9:50am 15 Oct 2020 #पत्नी
Blogger: डॉ टी एस दराल
बेटी होती है, मन मोहिनी, मां के मन की, अंतरंग संगिनी।  पिता के दिल का, एक नाज़ुक कोना। छोटी हो तो, भैया की दुलारी।  पथ प्रदर्शक बनती,  ग़र बड़ी हो बहना।  शैशव काल में, उसकी किलकारियां।  छुटपन में ,उसके नन्हे क़दमों की छम छम। किशोरावस्था में,खिलखि... Read more
clicks 84 View   Vote 0 Like   7:51am 28 Sep 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
 कभी हो जाये जब यूँ ही बोझिल मन, तब देखिये इन तस्वीरों को, एक सुखद अहसास होगा।   ... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   5:49am 14 Sep 2020 #
Blogger: डॉ टी एस दराल
आँखों देखी :लगभग ५-६ महीने बाद एयरपोर्ट जाना हुआ। जिस रास्तों से आना जाना हुआ , उन्हें देखकर ऐसा लग रहा था , मानो वर्षों बाद वहां से गुजरे हों। सब कुछ जैसे नया नया सा लग रहा था। दूसरी ओर ऐसा भी लग रहा था जैसे कुछ नहीं बदला, सब वैसा का वैसा ही है। ऐसा अहसास हो रहा था कि ये दुनिय... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   6:30am 28 Aug 2020 #जिंदगी
Blogger: डॉ टी एस दराल
कोरोना का डर - थर्ड ईयर सिंड्रोम :जब हम मेडिकल कॉलेज के थर्ड ईयर में थे , तब पहली बार वार्ड जाकर रोगियों से संपर्क हुआ।  तृतीय वर्ष में ही क्लिनिकल विषय पहली बार पढ़ाये जाते हैं। जब पहली बार रोगों के बारे में जाना , तब जब भी किसी रोग के बारे में पढ़ते या ऐसे रोगी को देखते , तब ऐ... Read more
clicks 73 View   Vote 0 Like   7:30am 7 Aug 2020 #बचाव
Blogger: डॉ टी एस दराल
कोरोना काल अनुभव भाग २ :हमने देखा है कि इंसान डर से ही डरता है। डर चोर डाकुओं का हो, या चोट लगने का , सज़ा का हो, बीमारी का हो या मृत्यु का।  कोरोना एपिमेडिक ही ऐसा संक्रमण है जिसमे डर जितना मृत्यु का है, उतना ही बीमारी का भी रहा। इसका कारण यह था कि यह एक नया रोग होने के कारण लो... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   3:30am 5 Aug 2020 #कोरोना
Blogger: डॉ टी एस दराल
कोरोना एपिडेमिक के कारण . ठहरी हुई जिंदगी को १२५ दिन पूरे हो चुके हैं। इन १२५ दिनों में जिंदगी की गाड़ी ऐसे हिचकौले खाते हुए चली है जैसे गाड़ी का एक पहिया टूटने पर गाड़ी चलती है।  कभी आशा, कभी निराशा, कभी डर, कभी राहत के अहसासों के बीच झूलते हुआ अब जाकर बेचैनी कुछ कम हुई है जब ... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   8:24am 1 Aug 2020 #क्वारेंटीन
Blogger: डॉ टी एस दराल
कोरोना एपिडेमिक के कारण . ठहरी हुई ज़िंदगी को १२५ दिन पूरे हो चुके हैं। इन १२५ दिनों में जिंदगी की गाड़ी ऐसे हिचकौले खाते हुए चली है जैसे गाड़ी का एक पहिया टूटने पर गाड़ी चलती है।  कभी आशा, कभी निराशा, कभी डर, कभी राहत के अहसासों के बीच झूलते हुआ अब जाकर बेचैनी कुछ कम हुई है जब ... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   8:24am 1 Aug 2020 #क्वारेंटीन
Blogger: डॉ टी एस दराल
जिंदगी के सागर में,उम्र की पनडुब्बी पर खड़े ,हम देख रहे हैं, दूर क्षितिज में ,भीषण तूफ़ान के काले बादलों तले ,समुद्र में उठती ऊँची लहरों में ,गोता लगाते, डूबते उभरते एक जहाज को।खारे पानी की हर उफनती लहर के साथ,जहाज में सवार कुछ नाविक,समा जाते और खो जाते समुद्र की गहराइयों में... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   7:30am 30 Jul 2020 #तूफ़ान
Blogger: डॉ टी एस दराल
1.देख तेरे संसार की हालत क्या हो गई भगवान,कितना बदल गया इंसान , कितना बदल गया इंसान।सब देशों में भेज कोरोना , विलेन बना वुहान।  कितना बदल गया इंसान , कितना बदल गया इंसान।आया समय बड़ा बेढंगा , मुंह छुपाकर रहता हर बंदा ,बंद हुए स्कूल और कॉलेज , बंद हुआ सब काम और धंधा।कोरोना के ... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   8:30am 23 Jul 2020 #पैरोड़ी
Blogger: डॉ टी एस दराल
एक मित्र हमारे ,बन्दे सबसे न्यारे।मूंछें रखते भारी   ,सदा सजी संवारी ।कोई छेड़ दे मूंछों की बात ,फरमाते लगा कर मूछों पर तांव।भई मूंछें होती है मर्द की आन ,और मूंछ्धारी , देश की शान ।जिसकी जितनी मूंछें भारी ,समझो उतना बड़ा ब्रह्मचारी ।फिर एक सुहाने सन्डे ,जोश में आकर , म... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   7:30am 21 Jul 2020 #मंदी
Blogger: डॉ टी एस दराल
पिछले कुछ दिनों से फेसबुक पर टमाटर महिमा का गुणगान बहुत जोरों पर है। फेसबुकिये मित्र भी अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन खुल कर कर रहे हैं। इन्ही विचारों से उपजी है यह हास्य व्यंग रचना। टमाटर मिलें या न मिलें , आप पढ़कर ही स्वाद लीजिये :    प्याज़ ने कहा आलू से --कभी हम त... Read more
clicks 298 View   Vote 0 Like   10:30am 8 Jul 2013 #कविता
Blogger: डॉ टी एस दराल
घर में ऐ सी, दफ्तर ऐ सी,गाड़ी भी ऐ सी।इस ऐसी ने कर दी,सेहत की ऐसी की तैसी। नेता भ्रष्ट, अफसर भ्रष्ट ,इससे बाबू भी ग्रस्त।इस भ्रष्टाचार ने कर दी,संसार की ऐसी की तैसी। चाय का पैसा, पानी का पैसा ,चाय पानी का पैसा।इस पैसे ने कर दी ,इमान की ऐसी की तैसी। दवा का खर्च , दारू का खर्... Read more
clicks 236 View   Vote 0 Like   8:00am 5 Jul 2013 #व्यवहार
Blogger: डॉ टी एस दराल
डॉ बी सी रॉयकी याद में मनाये जाने वाले डॉक्टर्स डे पर सुबह सुबह फेसबुक पर डॉक्टर्स के बारे में मित्रों के विचार पढ़कर बड़ा मूड ख़राब हुआ। इन्हें पढ़कर हम जैसे दिल से कभी न लगाने वाले के भी दिल को सचमुच धक्का सा लगा कि मित्रगण भी डॉक्टर्स के बारे में ऐसा विच... Read more
clicks 245 View   Vote 0 Like   9:30am 2 Jul 2013 #डॉ बी सी रॉय
Blogger: डॉ टी एस दराल
उत्तराखंड से सभी तीर्थयात्री प्राकृतिक त्रासदी से बचकर अभी लौटे भी नहीं कि अमरनाथ की यात्रा आरम्भ हो गई। ज़ाहिर है कि धार्मिक विश्वास की जड़ें हमारी जनता में बहुत गहराई तक फैली हैं। लेकिन केवल श्रद्धा भावना के बल बूते पर हज़ारों फीट ऊंचे दुर्गम पर्वतीय स्थलों पर यू... Read more
clicks 282 View   Vote 0 Like   2:30am 30 Jun 2013 #ट्रेकिंग
Blogger: डॉ टी एस दराल
अभी ब्लॉग पर अरविन्द मिश्र जीका लेख पढ़कर फिर वही मुद्दा मन में मचलने लगा कि क्यों ब्लॉगर्स ब्लॉगिंग छोड़कर फेसबुक आदि की ओर जा रहे हैं। लेकिन यह चर्चा यहीं जारी रहे। हमें तो कुछ दिन से फेसबुक पर सक्रियता से जो देखने को मिला , वह प्रस्तुत है इस हास्य व्यंग रचना के माध्... Read more
clicks 274 View   Vote 0 Like   2:30am 27 Jun 2013 #हास्य व्यंग
Blogger: डॉ टी एस दराल
हमारे देश में लोगों की धार्मिक आस्था उनके जीवन में बड़ा महत्त्व रखती है। इसी विश्वास के सहारे सभी उम्र के लोग अपनी मनोकामना पूर्ण करने के लिए दुर्गम स्थानों पर बने मंदिरों और अन्य धार्मिक स्थलों की ओर सदैव अग्रसर रहते हैं। हिन्दुओं में विशेषकर चार धाम यात्रा का विशे... Read more
clicks 475 View   Vote 0 Like   3:00am 22 Jun 2013 #तीर्थ यात्रा
Blogger: डॉ टी एस दराल
कई दिनों से लग रहा था कि कई महीनों से श्रीमती जी मायके क्यों नहीं जा रही। आखिर साल में दो चार दिन तो पतिदेव के भी होने ही चाहिए आज़ादी के। लेकिन अब समझ में आ रहा है कि महिलाओं की मायके जाने की टाइमिंग बड़ी ज़बर्ज़स्त होती है। उनका मायके जाने का अपना ही हिसाब होता है जो ह... Read more
clicks 384 View   Vote 0 Like   3:30am 19 Jun 2013 #हास्य -व्यंग
Blogger: डॉ टी एस दराल
यूँ तो हर पर्वतीय पर्यटन स्थल की तरह धर्मशाला में भी कई ट्रेक्स हैं जहाँ आप ट्रेकिंग का शौक पूरा कर सकते हैं। लेकिन एक ट्रेक जो आम सैलानियों में बहुत लोकप्रिय है , वह है  ट्रीउंड का ट्रेक। धर्मशाला से १० किलोमीटर दूर है मैकलॉयड गंजजहाँ से डेढ़ किलोमीटर पर धरमकोटऔर ३ क... Read more
clicks 254 View   Vote 0 Like   7:30am 15 Jun 2013 #धरमशाला
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4017) कुल पोस्ट (192859)