POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: वृद्धग्राम

Blogger: harminder singh
आधा घंटा बौछार हुई. फ़िर वही एक-दूसरे से अनजान लोग अपने-अपने रास्ते हो लिए.गर्मी कुछ दिन से कम थी. लेकिन अचानक मौसम में नमीं की वजह से बादलों का घिरना जरुरी था. ऐसा लगा जैसे उन्होंने घेराबंदी की, और वे इसमें कुछ हद तक कामयाब भी रहे. वो अलग बात है कि अधिकतर पानी गजरौला के खाद... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   1:42pm 27 Jul 2020 #
Blogger: harminder singh
फूलों की क्यारियाँ सजकर, शब्द के भौरें इतराते-फिरते हैं...लहलहाते हैं शब्द जबमहकती हैं उनकी गंधतो शब्दों की हरियाली होती हैतब चहकते शब्दों से बात होती हैफूलों की क्यारियाँ सजकरशब्द के भौरें इतराते-फिरते हैंपौधे-तिनके-मिट्टी-धूल-कणगंध शब्दों की निराली होती है.किताबे... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   2:30pm 1 Mar 2020 #
Blogger: harminder singh
उम्रदराज़ी से खुशियाँ सिमट रहीं, जद्दोजहद खूब होती है...ज़िंदगी चुप्पी के साथ इश्क़ करती हैअंदाज़ जो भी हँसती हैशहर उसे गाँव-सा लगता हैहर बार गिरगिट-सा रंग बदलती है।उम्रदराज़ी से खुशियाँ सिमट रहींजद्दोजहद खूब होती हैअकेलेपन की गुँजाइश नहींतन्हाई साथ सोती है।सिलसिला साँ... Read more
clicks 222 View   Vote 0 Like   4:11pm 24 Mar 2019 #
Blogger: harminder singh
ढेरों किस्से शुरु होते हैं और दम तोड़ देते हैं. हर कहानी अपनी छाप छोड़ती है. हर किस्सा एक नई कहानी बन जाता है.'ज़िन्दगी के अपने मायने होते हैं। कुछ शब्द खट्टे और मीठे हो सकते हैं। जिंदगी हमसे किसी सफर में चलने के लिए कहती है। हम उसके साथ हो जाते हैं। ऐसा बिल्कुल नहीं कि हम अ... Read more
clicks 280 View   Vote 0 Like   8:41am 31 Jan 2018 #
Blogger: harminder singh
लफ्ज़ ज़िंदगी का हिस्सा हैं. लफ्ज़ बहता नीर हैं और रौशनी की परतों पर भी तैर रहे हैं.लफ़्ज जो बहता नीर हैं,लफ़्ज जो ज़िंदा तस्वीर हैं,लफ़्ज जो किस्सा हैं,लफ़्ज जो ज़िंदगी का हिस्सा हैं,उन्हें किताबों में जमने दिया,वे उगे, उन्हें थमने दिया,विचारों में गोता लगाने दो,खुद को खुद से भुल... Read more
clicks 286 View   Vote 0 Like   3:51pm 12 Oct 2017 #lafz
Blogger: harminder singh
यह बात चौंकाने वाली है कि बाहर से पांच गुना ज्यादा प्रदूषण हमारे घरों में होता है.प्रदूषित हवा में सांस लेने का सबसे अधिक असर हमारे फेफड़ों पर पड़ता है। कई बार यह असर इतना खतरनाक हो सकता है कि हम अंदाजा भी नहीं लगा सकते। दूषित हवा से हर साल बहुत लोग कई गंभीर बीमारियों का ... Read more
clicks 215 View   Vote 0 Like   10:44am 17 Sep 2017 #health
Blogger: harminder singh
व्यायाम करना और अच्छा खाना यदि हमारी जिंदगी का हिस्सा बन जाये तो जिंदगी कितनी आसान हो जाये.मैंने व्यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल कर लिया है। मेरा मानना है कि हर किसी को कम से कम दस-पन्द्रह मिनट रोज कसरत करनी चाहिए। जबतक हमारा शरीर स्वस्थ नहीं रहेगा, हम ठीक से सोच भी न... Read more
clicks 202 View   Vote 0 Like   3:39pm 14 Sep 2017 #health
Blogger: harminder singh
हमारे बुजुर्ग अपनों की उपेक्षा के शिकार हैं और जीवन के आखिरी दिनों में मायूस भी हैं.."अभिवादन शीलस्य नित्यं वृद्धोपसेविनः।चत्वारि तस्य वर्धन्ते आयुर्विद्या यशोबलम॥"अर्थात “नित्य गुरुजनों का अभिवादन और वृद्धों की सेवा करने से आयु, विद्या, यश एवं बल की वृद्धि होती है... Read more
clicks 323 View   Vote 0 Like   4:33am 10 Aug 2017 #budhapa
Blogger: harminder singh
कहानियां ज़िन्दगी से शुरू होकर ज़िन्दगी पर ख़त्म होती हैं.खुशी के तारों की छांव में जिंदगी दो पल बदल रही,हवाओं की तरह मचलते हुए सितार सी बह रही,शांत, हिलौरे मारती हुई भी,उम्र की दास्तान जो सच है,अपने में सिमटी हुई और मुस्कान से भर रही,झुर्रियों का रौब नहीं, बेहिचक बढ़ रही,सुन... Read more
clicks 244 View   Vote 0 Like   3:25am 6 Jun 2017 #kavita
Blogger: harminder singh
पापा, प्यार और बेटी काफी जुड़े हुये हैं। पिता को सबसे प्यारी अपनी बेटी होती है। सबसे छोटी बेटी कलेजे का टुकड़ा होती है उनकी नजर में। यह आमतौर पर देखने में आया है कि एक बाप अपनी बेटी को हद तक चाहता है। डोली विदा होती है, तो उसकी आंखें ज्यादा नम होती है। वह भीतर तक रोता है।मा... Read more
clicks 230 View   Vote 0 Like   2:13pm 30 May 2017 #fathers day
Blogger: harminder singh
काकी का जीवन धीमा बह रहा है, लेकिन वह जीवन की सुन्दरता को मन से नहीं जाने दे रही.‘हमें क्या बनना है? हमारी आकांक्षायें क्या हैं? क्या हम महान बन सकते हैं? हमेरे जीवन का लक्ष्य क्या है? ऐसे तमाम विचार हमारे मन में आते हैं। उन सवालों का उत्तर तलाशने की हम कोशिश भी करते हैं। उत... Read more
clicks 189 View   Vote 0 Like   2:20pm 27 May 2017 #old age
Blogger: harminder singh
सपने सुन्दर होते हैं. जानती थी वह कि सपने हर बार सच नहीं होते, फिर भी वह सपने देखती थी.‘जिंदगी के महीन धागों की बनावट को देखकर वह हैरान थी। उसने खुद को उनसे जोड़ लिया था। वह खुद भी प्रेम की बहारों की ओर जाने को बेताब थी। मैंने उससे एक शब्द भी नहीं कहा और वह चली गयी।’ अमित के ... Read more
clicks 253 View   Vote 0 Like   7:01am 22 Apr 2017 #hal girlfriend
Blogger: harminder singh
उम्र बीत रही है धीरे-धीरे. जिंदगी से आस है जाने कितनी, और मुसाफ़िर भी अभी थका नहीं.ख़ामोशी से जीवन के पड़ाव पार कर गया,उतरता हुआ, लहरों की परतों को छूते हुए,उम्रदराजी है तो क्या हुआ?जिंदगी अब भी वैसे ही सांस ले रही है.उगते सूरज की पहली किरण का एहसास,कुछ कम नहीं, कुछ ज्यादा नहीं ... Read more
clicks 228 View   Vote 0 Like   12:54pm 8 Apr 2017 #old age
Blogger: harminder singh
एक ऐसी दुनिया जहां हर कोई नौजवानों की बातें करता है, वहां एक नौजवान बूढ़ों की बात कर रहा है.गूगल के गुड़गांव ऑफिस पहुंचने के बाद एक अलग तरह की संस्कृति का पता चला। कार्यस्थल और उससे जुड़े लोगों की सोच जो मेरे जैसे व्यक्ति के लिए शोध का विषय हो सकती है। एक दशक से अधिक समय बीत ग... Read more
clicks 236 View   Vote 0 Like   1:57pm 5 Apr 2017 #talks
Blogger: harminder singh
वह उमंग और बूढ़ों में भी उपजने वाली तरंग आज के मशीनी युग में कहां गुम हो गयी.दीपावली और होली दो ऐसे पर्व हैं जो भारतीय संस्कृति के रोम-रोम में रच बस गये हैं और अनंतकाल से परंपरागत और उत्साह के साथ मनाये जाते हैं। होली के बारे में भी देश में कई मान्यतायें और रुढ़ियां प्रचलित... Read more
clicks 247 View   Vote 0 Like   11:02am 13 Mar 2017 #talks
Blogger: harminder singh
बच्चों की कहानियां इस दुनिया से बाहर की दुनिया में भी घटती हैं.ब्रह्मांड की कहानियां अकसर हमें हैरान करती हैं। बचपन से ही बढ़े-बूढ़ों से ऐसे किस्से सुने और यकीनन मैं भी उस दौरान ग्रहों के बीच कहीं गुम हो जाता था। नन्हें इशांत ने कुछ समय पहले मुझे ऐसी ही एक कहानी सुनायी ... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   2:04pm 12 Mar 2017 #
Blogger: harminder singh
बच्चों की कहानियां इस दुनिया से बाहर की दुनिया में भी घटती हैं.ब्रह्मांड की कहानियां अकसर हमें हैरान करती हैं। बचपन से ही बढ़े-बूढ़ों से ऐसे किस्से सुने और यकीनन मैं भी उस दौरान ग्रहों के बीच कहीं गुम हो जाता था। नन्हें इशांत ने कुछ समय पहले मुझे ऐसी ही एक कहानी सुनायी ... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   2:04pm 12 Mar 2017 #
Blogger: harminder singh
धुंधले शब्द जोड़-तोड़कर अपने बल पर किस्मत की रचना करना उम्रदराजों के लिए कोई नया नहीं.‘उम्र का फासला हमारी जिंदादिली को बयां नहीं करता।’ बूढ़े काका ने मेरे कंधे पर हाथ रखा। वे दूर कहीं किसी खोज में लगे हुए थे। ऐसा उनकी आंखें बता रही थीं। चेहरे पर एक अधूरी मुस्कान से अनगि... Read more
clicks 265 View   Vote 0 Like   1:02pm 1 Mar 2017 #budhapa
Blogger: harminder singh
जिंदगी तो रोज छपती है,कभी इस पड़ाव, कभी उस पड़ाव,जिंदगी सवाल करती है,कभी सीधे, कभी आड़े-तिरछे,जिंदगी मचलती बड़ी है,कभी फिसलकर, कभी इठलाकर,देखता हूं, कभी-कभार मैं भी,ऐसा क्यों नहीं कि मैं हंसता रहूं हर पल,मुमकिन जो भी है, पर पूरा नहीं,यही खासियत है जिंदगी की,उधड़ती-सिलती-चलत... Read more
clicks 258 View   Vote 0 Like   8:59am 25 Jan 2017 #
Blogger: harminder singh
‘तुम मेरी प्रेरणा हो। तुम्हारी वजह से मेरा जीवन बदल गया। मैंने महसूस किया कि अगर तुम न होतीं तो मेरा क्या होता? –ऐसा उसने कहा था।’ इतना कहकर काकी चुप हो गई।‘उसने कहा था कि मैं उसके जीवन की अभिलाषा हूं, जीने की आशा हूं। जबसे वह मुझसे मिली उसके अनुसार उसका संसार सुन्दर हो ग... Read more
clicks 231 View   Vote 0 Like   4:17pm 1 Nov 2016 #
Blogger: harminder singh
‘‘मुझे आज तक समझ नहीं आया कि हम प्यार क्यों करते हैं? इतना जरुर जानते हैं कि कोई रिश्ता ऐसा है जो हमें दिख नहीं पाता और हम प्यार करते हैं।कई लोग ऐसे होते हैं जिनके साथ हम अलग-अलग तरह से प्रेम करते हैं। माता-पिता, भाई-बहन, दोस्त, आदि प्यार के बंधन में जकड़े हैं और हम उनके। यह प... Read more
clicks 246 View   Vote 0 Like   8:39am 11 Oct 2016 #
Blogger: harminder singh
जिंदगी मुस्कान के साथ उड़ चली,बिना बताये कि जाना कहां है,उड़ रही हैं बातें, शब्द भी,तैरती यादों को किनारे लगा आये,बात बने तो क्या बने,पीछे छूट गया कोई,जिंदगी मुस्कान के साथ उड़ चली,खुशी के पलों को जीते हुए,मगर कुछ कतरे गम के समेटकर,नहीं आना, नहीं आना यहां,दोबारा लौटना मुमकिन न... Read more
clicks 203 View   Vote 0 Like   8:11am 21 Aug 2016 #
Blogger: harminder singh
हर कोई उड़ना चाहता है। सभी को लगता है, जैसे जिंदगी वे ऐसे बितायेंगे या उन्हें वह सब हासिल होगा, जो उन्होंने कभी चाहा था या चाहते हैं। लेकिन जिंदगी भी कमाल की है, कुछ के पंख आसमान में इतने फैल जाते हैं कि उनके लिए जिंदगी छोटी पड़ जाती है, जबकि कुछ पंख फैलाने में ही जिंदगी बिता ... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   2:19pm 19 Aug 2016 #talks
Blogger: harminder singh
'पल भर में क्या से क्या हो जाता है। जिंदगी की कुंठायें हमें जीने कोई देती हैं। उजड़ा सा लगता है सब कुछ। मानो संसार में कुछ शेष न रह गया हो। लुट ही तो जाता है सब। सूनेपन में मिठास भला कहां से आ सकती है।'काकी ने मुझसे कहा।'खुद जीवन को समाप्त करना आसान भी तो नहीं।'मैंने काकी से क... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   1:13pm 8 Aug 2016 #
Blogger: harminder singh
बूंदों का सरपट दौड़ना,बादलों का गड़गड़ाना,उम्रदराजी में भी जीवन का ताल है,याद आता है, जैसेजिंदगी फिर जाग उठी हो।बरसता पानी,बहती धार,धुंधली तस्वीर निहारता कोई,आंखें अब ऐसी ही हैं,सच है यह,इसके सिवा कुछ नहीं।उसने मुझे पुकरा था कभी,तब खुशी बही थी, मैं भी,आज गीलापन आंखों में नह... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   7:12am 16 Jul 2016 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3982) कुल पोस्ट (191421)