Aawaaz

मूक सिनेमा के दौर का यह एकदम सच्चा वाकया है ! मशहूर निर्देशक होमी मास्टर और उनकी फ़िल्म के हीरो के बीच किसी बात को लेकर विवाद हो गया ! झगड़ा इतना ज्यादा बढ़ गया कि बीच-बचाव की नौबत आ गयी ! क्रोध में हीरो ने होमी मास्टर के साथ काम न करने का एलान कर दिया और शूटिंग छोड़कर चल दिया ! ...
Aawaaz...
Tag :
  February 10, 2014, 5:20 pm
एक कालोनी टाईप मोहल्ला था ! वहीँ के लोगों ने स्थानीय रख-रखाव व अन्य कार्यक्रमों के लिए एक मोहल्ला समिति बनायी और बुजुर्ग रईस अहमद को सर्व सम्मति से अध्यक्ष बना दिया था ! जैसा कि अन्य अच्छे मोहल्लों में होता है वैसा ही वहाँ भी माहौल था - जमादार सड़कें साफ़ करता, कूड़े वाला कूड़...
Aawaaz...
Tag :
  December 10, 2013, 7:13 pm
एक तालिबानी पाकिस्तान में बैंक लूटने के लिए गया, वहाँ कैशियर के पास जाकर बोला - "मेरे बैग में AK 47 है, चुपचाप सारा कैश मेरे हवाले कर दो !"कैशियर ने सहमकर जल्दी-जल्दी सारा रुपया तालिबानी को सौंप दिया ! तालिबानी लूट कर जब बैंक से बाहर निकला तो उसे अचानक ध्यान आया कि वो जो बै...
Aawaaz...
Tag :
  December 2, 2013, 9:37 pm
आजकल अध्यात्म का मार्ग कितना सहज-सरल हो गया है …. बस दोनों हाथ जोड़ कर भक्तिभाव से टीवी ऑन कीजिए, धार्मिक चैनल के बटन दबाइए और खो जाईये अध्यात्म में। बड़े-बड़े वातानुकूलित महलों में रहकर आर्थिक साम्राज्य स्थापित करने वाले … दुनिया भर के भौतिक सुखों को भोगने वाले आजकल...
Aawaaz...
Tag :
  September 4, 2013, 6:14 pm
एक बार बांग्लादेश का शातिर डाकू महमूद-उर-रहमान अपने देश की पुलिस से बचता-बचाता हुए बॉर्डर तक आया और उसके बाद आराम से टहलता हुआ भारत की सीमा में घुस गया ! यहाँ भी रोज कहीं न कहीं लूट-पाट, राहजनी, चोरी ! जनता में आक्रोश फैल गया …जगह-जगह कैंडल मार्च होने लगे … फेसबुक में आन्द...
Aawaaz...
Tag :
  August 12, 2013, 4:59 pm
एक दरोगा जी का मुंह लगा नाऊ पूछ बैठा - "हुजूर पुलिस वाले रस्सी का साँप कैसे बना देते हैं ?" दरोगा जी बात को टाल गए लेकिन नाऊ ने जब दो-तीन बार यही सवाल पूछा तो दरोगा जी ने मन ही मन तय किया कि इस भूतनी वाले को बताना ही पड़ेगा कि रस्सी का साँप कैसे बनाते हैं ! लेकिन प्रत्यक्ष में ना...
Aawaaz...
Tag :
  August 9, 2013, 2:25 pm
एक राजा था जिसकी प्रजा हम भारतीयों की तरह सोई हुई थी ! बहुत से तीस मार खां लोगों ने कोशिश की किसी तरह प्रजा जग जाए .. अगर कुछ गलत हो रहा है तो उसका विरोध करे, लेकिन प्रजा को कोई फर्क नहीं पड़ता था ! राजा ने तेल के दाम बढ़ा दिये प्रजा चुप रही राजा ने सब्जियों के दाम बढ़ा द...
Aawaaz...
Tag :
  August 8, 2013, 1:50 pm
एक अंग्रेज ट्रेन से सफ़र कर रहा था .. सामने गजोधर भैय्या बैठे थे ----अंग्रेज ने गजोधर से पूछा यहाँ कौन से स्टेट्स घूमने वाले नहीं हैं ?गजोधर : महाराष्ट्र, पंजाब, गुजरात, हरयाणा, यू पी -अंग्रेज : 'क्यों ... क्या ये पांच स्टेट्स भारत में नहीं हैं क्या ?'गजोधर : 'नहीं ... ये खुद में ...
Aawaaz...
Tag :
  August 7, 2013, 4:46 pm
सदाचारी और अवसरवादी दो बालक थे ! सदाचारी अपने नाम के अनुरूप आज्ञाकारी, परिश्रमी बालक ... तो वहीँ अवसरवादी आवारागर्दी करता ... जुआं खेलता ...गांजे की चिलम खींचता ... प्रधान जी का ख़ास चेला !  सदाचारी पढाई में हमेशा अव्वल और अवसरवादी पता नहीं कौन से जुगाड़ से गांधी डिवीजन मे...
Aawaaz...
Tag :
  August 6, 2013, 4:33 pm
एक बैँक लूट के दौरान लुटेरों के मुखिया ने चेतावनी देते हुए कहाये पैसा देश का है और जान आपकी अपनीसब लोग लेट जाओ तूरंत ... क्विकसब लोग लेट गये ![इसे कहते हैँ - 'Mind Changing Concept']एक महिला उत्तेजक मुद्रा मेँ लेटी थीलुटेरों के मुखिया ने उससे कहा -'ये लूट है रेप नहीँ तमीज से लेटो'[इसे कहते ह...
Aawaaz...
Tag :
  August 5, 2013, 1:32 pm
एक बार मुझे मेरे गाँव का सरपंच बना दिया गया.. गाँव वालो ने सोचा की छोरा पड़ा लिखा है...समझदार है, अगर ये सरपंच बन गया तो गाँव की भलाई के लिए काम करेगा..मौसम बदला, सर्दियों के आने के महीने भर पहले गाँव वालो ने मुझसे पूछा कि - "सरपंच साहब इस बार सर्दी कितनी तेज पड़ेगी ?"मैंने गाँ...
Aawaaz...
Tag :
  August 4, 2013, 4:49 pm
एक फकीर किसी बंजारे की सेवा से बहुत प्रसन्‍न हो गया। और उस बंजारे को उसने एक गधा भेंट किया। बंजारा बड़ा प्रसन्‍न था गधे के साथ। अब उसे पेदल यात्रा न करनी पड़ती थी। सामान भी अपने कंधे पर न ढोना पड़ता था। और गधा बड़ा स्‍वामीभक्‍त था। लेकिन एक यात्रा पर गधा अचानक बीमार पड...
Aawaaz...
Tag :
  August 3, 2013, 1:14 pm
बहुत पहले की बात है ! एक फ़कीर भ्रमण करते-करते किसी नगर में पहुंचा ! वहां मीठे पानी का एक कुंआ था, जिससे सम्पूर्ण नगरवासियों का काम चल जाता था ! फ़कीर ने कुंए का पानी पिया और घोषणा कर दी कि अगली पूर्णमासी को इस कुंए का पानी दूषित हो जाएगा ... जो भी इस पानी को पिएगा वो पागल हो जाए...
Aawaaz...
Tag :
  August 2, 2013, 8:24 pm
एक होड़ सी मची है बिकने के वास्ते साँसों को समेटे हैं मरने के वास्ते, जिंदगी का ये तमाशा कितना अजीब है क्या क्या जतन हैं करते जीने के वास्ते !***************************************************"रूह ने उसकी कहा मरघट से कल ये दोस्तोंउम्र ही हारी है मेरी ज़िन्दगी हारी नहीं" !!***************************************************कश्ती ...
Aawaaz...
Tag :
  July 30, 2013, 3:14 pm
झूठ-फरेब ***************एक दिन में कई बार जता ही देते हैं हम कितना खराब हो गया है समय मजा यह है कि बगैर झूठ-फरेब के एक दिन भी नहीं काट पाते !==============================खुशफहमी**********घर की रस्मों से डर रही होगीभीगी पलकें छुपा के आँचल मेंवो मुझे याद कर रही होगी !==============================झूठा सच*********रात सूरज ...
Aawaaz...
Tag :
  July 29, 2013, 4:24 pm
---------------------------मृत्यु को जन्म देकरईश्वर अपराधी हैइतनी जोरों से जियें हम दोनोंकि इश्वर के अँधेरे कोक्षमा कर सकें !!! ----------------------------******************************************उस अपंग बच्चे को गए हम फूल दे आये दरवाजे पर रूककर, पलटकर देखा मानो देहरी से निकल अपने देवता कोउसी की किस्मत परछोड़ आये !!! ---...
Aawaaz...
Tag :
  July 29, 2013, 2:36 pm
बाजारबाजार ही बाजारहर शहर मेंसामान से भरे हुएचीजें ही चीजें दुकानों मेंसारी ही चीजेंउस आदमी के वास्तेजो नंगा-नंगा पैदा हुआ था !============================================रिश्तेदारीरिश्तेदारी भी टेलीफोन है आज सिक्के डालो तो बात होती है !!============================================उम्मीद यहाँ रोटी नहीं, उम्मीद सबको ...
Aawaaz...
Tag :
  July 28, 2013, 4:47 pm
बाजारबाजार ही बाजारहर शहर मेंसामान से भरे हुएचीजें ही चीजें दुकानों मेंसारी ही चीजेंउस आदमी के वास्तेजो नंगा-नंगा पैदा हुआ था !============================================रिश्तेदारीरिश्तेदारी भी टेलीफोन है आज सिक्के डालो तो बात होती है !!============================================उम्मीद यहाँ रोटी नहीं, उम्मीद सबको ...
Aawaaz...
Tag :
  July 28, 2013, 4:47 pm
"आपने कितना भी बड़ा गुनाह किया हो … चोरी की, डाका डाला, बलात्कार किया है और आप खुदा पर ईमान ले आते हैं और इस्लाम कबूल करते हैं तो आपके सारे गुनाह माफ़ ! ज़न्नत सिर्फ एक कलमा पढ़कर जाया जा सकता है" ---- जाकिर नाइक ==================================एक अरसे से इस जाकिर नाइक की उल जुलूल बातें स...
Aawaaz...
Tag :
  July 26, 2013, 2:00 pm
माँ का वजूद--------------मैं माँ की बरसी पर फूलों को कैसे उठाऊंगा हाथों में फूल नहीं माँ का वजूद होगा !!==========================================कोई नहीं -------------दोस्त तो बहुत हैं परबुखार में तपते जिस्म के सिरहाने बैठ कर "मैं हूँ न"कहने वाला कोई नहीं !एक समोसे पे दिन गुजारते देख करहेल्थ पर लेक्चर ...
Aawaaz...
Tag :
  July 25, 2013, 10:00 am
बटन पुश कर देते हैं स्क्रीन चमकने लगती है उँगलियाँ हिलने लगती हैं हम गुम हो जाते हैं अनजान दुनिया में !बाहर की दुनिया क्या सचमुचइतनी नीरस और उबाऊ है कि हम अपने चिर-परिचित दायरों मेंरोमांच खोजने लग जाते हैं?जीते-जागते इंसान को छोड़करउससे नज़रें बचा करसैकड़ों लो...
Aawaaz...
Tag :
  July 23, 2013, 2:09 pm
मुलाहिजा फरमाईये कि आजकल मीडिया किस तरह दिमाग का दही करती है और आप अगर टिक गए तो लस्सी भी बना देती है ==================================सदी की सबसे बड़ी चमत्कारी घटनादो महानायकों की जानी दुश्मनी ख़त्म हुयी जी हाँ … सही सुना आपनेपांच साल और पांच दिन के बाद दो दुश्मन एक हो गएउन्होंने न...
Aawaaz...
Tag :
  July 23, 2013, 1:44 pm
=======================हमदर्दियाँ ख़ुलूस दिलासे तसल्लियाँ दिल टूटने के बाद तमाशे बहुत हुए !!=================================================तुम अपने बारे में कुछ देर सोचना छोड़ो तो मैं बताऊँ कि तुम किस कदर अकेले हो !!================================================ज़माना मेरा बड़ा एहतराम करता है उठा के ताक में जब से उसूल रखे हैं !!=====================...
Aawaaz...
Tag :
  July 20, 2013, 8:50 pm
माँ का वजूद--------------मैं माँ की बरसी पर फूलों को कैसे उठाऊंगा हाथों में फूल नहीं माँ का वजूद होगा !!==========================================अकेला ----------दोस्त तो बहुत हैं परबुखार में तपते जिस्म के सिरहाने बैठ कर "मैं हूँ न"कहने वाला कोई नहीं !एक समोसे पे दिन गुजारते देख करहेल्थ पर लेक्चर देने...
Aawaaz...
Tag :
  July 20, 2013, 4:45 pm
तरक्की *******बाबा रखते थे कदमड्योढ़ी के भीतर खांसकरचाचियाँ बाहर निकलतींसर पे पल्लू ढांपकरदेखिये इस बार पीढ़ीक्या तरक्की कर गईअब चुने जाते हैं शौहरकुछ दिनों तक जांचकर !================================लड़कपन********लड़कपन में तुझे छूकर कुछ ऐसा मुस्कराया था कि जैसे जमाने भर के मैं कंच...
Aawaaz...
Tag :
  July 20, 2013, 4:30 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]
Share:
  गूगल के द्वारा अपनी रीडर सेवा बंद करने के कारण हमारीवाणी की सभी कोडिंग दुबारा की गई है। हमारीवाणी "क्...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3070) कुल पोस्ट (108616)