POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: जीवन की कविता

Blogger: 
कुछ खण्डित भावनायेंस्फ़ुटित होती शब्दों मेंजो कभी मैने उससे कहा था......  क्रोध मत करो वत्सइस नश्वर संसार मेंदेखों सब मरे हुए हुए हैया यूं कह लो कि सभी अजन्मा है ........................................................?हम कल भी थे और आज भी है और कल भी रहेगेहम एक ही तो है ....................................................?हम हजारो वर्ष पहले भ... Read more
clicks 115 View   Vote 0 Like   9:21pm 5 Sep 2012 #hindi
Blogger: 
मुसलसल याद को उसकी मैं दरिया को दे आया ।मुझे ठहरी हुई चीजें कभी अच्छी नही लगती ॥                                                                 --- कृष्ण  कृष्ण कुमार मिश्र 09451925997... Read more
clicks 103 View   Vote 0 Like   1:58am 1 Sep 2012 #urdu
Blogger: 
सोचता हूं कि मैं भी साहिब-ए- वक्त हो जाऊं,अब तलक मगर मुझको कोई मोहसिन न मिला---कृष्ण ... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   7:34pm 27 Aug 2012 #गीत
Blogger: 
उसका इक निशां बाकी रह गया मेरे दयार मेंसोचता हूं दरिया में बहाऊं या सुपुर्दे खाक करूं----कृष्ण ... Read more
clicks 98 View   Vote 0 Like   7:22pm 27 Aug 2012 #gazal
Blogger: 
नई दिल्ली से प्रकाशित रूप की शोभा मासिक उर्दू-हिन्दी पत्रिका के फ़रवरी २००७ के अंक में प्रकाशित मेरी यह गजल.....कृष्ण... Read more
clicks 84 View   Vote 0 Like   3:09am 27 Jun 2011 #urdu
Blogger: 
इश्क वो इबादत हैआँखो में हो आँसूओंठो पे मुस्कान उभर आयेप्यार में टूट कर मंजिल पर पहुंच जायेमहबूब के दीदार से दिल मे पाकी़जगी का हो एहसासऔर दिल से निकली हुई आहों मे हो दुआयेंकितना ही क्यो न हो महबूब फ़रेबीफिर भी देखो जब उसे तो प्यार उमड़ आयेतेरा काम ही है आशनायी कृष्णब... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   2:53am 27 Jun 2011 #kheri
Blogger: 
नाज़ हमको भी था दीवानों की शख्सिअत परदिलो मे झांक कर देखा तो गमगीनियों का इज़ाफा निकलाजिसको समझता था मै कोहिनूर अब तकआज़ देखा तो वह पत्थर निकलाआशा थी मुझे सूरज की चमक होंगी उसमेरात मे देखा तो दम तोडता हुआ दीपक निकलाजिसे कहता था अपने घर का चाँदअधियारी रात मे देखा तो टि... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   2:42am 27 Jun 2011 #krishna
Blogger: 
आज तेरी याद मुझको सताती है बहुतआज की रात प्यासी है बहुततेरा एहसास समन्दर की तरह हैतेरी याद मुझे तड़पाती है बहुतएक ख्वाइस है तेरे दीदार की मुझेज़्यादा न सही कुछ लम्हो के किरदार की तेरेकृष्ण कुमार मिश्रलखीमपुर खीरी९४५१९२५९९७... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   2:39am 27 Jun 2011 #लखीमपुर-खीरी
Blogger: 
दीवानगीकौन रहता है मुस्तकिल अपने असूलों परलोग हर लम्हा यहां रंग बदलते हैकिस पर हो यकीं किस पर गुमां करूलोग हर रोज नई शक्ल मे ढलते हैकिससे करूं वफ़ा बेवफ़ा किसे कहूंयहां नफरत को लोग बडे ढंग से समझते हैमिज़ाज अपना ही बदल लेता हूँ कृष्णदीवानगी की लोग यहाँ कद्र कहा करते ह... Read more
clicks 98 View   Vote 0 Like   2:37am 27 Jun 2011 #kheri
Blogger: 
मोहब्बत १६-०१-१९९९लोग कहते है की मोहब्बत में आबाद हुआ करते हैमैंने देखा है की बर्बादियों के भी सामान हुआ करते हैयूं तो आशिकी में दिल को सुकून मिलता हैलेकिन वहां दर्द व गम के सारे सामान हुआ करते हैमोहब्बत में पाकीज़गी का जिक्र सुना है हमनेमैंने देखा है कि जिल्लत के भी स... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   2:33am 27 Jun 2011 #krishna
Blogger: 
 दौर ए ज़माने को क्या कहूँ  कृष्ण...तलाश थी हमकों एक अशियानें कीआशियाँ जितने मिलें खौफ बारिस का था उनकोचाहत थी वफ़ा की बड़ी हमकोपर बेवफाई का खौफ था उनकोहसरत उनको भी बड़ी थी मेरी मोहब्बत कीपर जगहसाई का खौफ था उनकोजमाने कितने रंग दिखाता है हमेंपर भटक जानें का खौफ है हमको... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   2:21am 27 Jun 2011 #प्रकृति
Blogger: 
एक कविता जो उसके लिए है !  - कृष्णतेरे जीवन के सुखद नववर्ष का आरम्भ हो ।तिलमिलाती जिन्दगी में एक नया एहसास हो ॥सूर्य की पहली किरण स्पर्श कर जाए तुझे ।आभा अलौकिक सूर्य की मुख पर निखर आये तेरे ॥चांद-तारों, की तरह तेरा प्रयोजन हो सदा ।घोर अधियारे में हमेशा तू चमक जाए सदा ॥शब्... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   1:25am 27 Jun 2011 #hindi
Blogger: 
©Krishna Kumar Mishraउलझी हुई कविता-कुछ बेतरतीब शब्दों की माला -कृष्ण कुमार मिश्र*********************************************************बात वह नही थी जो मैं कहता हूं आक्रोश में  जो उपजता है, मेरे उस अनुरोध से  जिसे तुम नकारती हो हमेशा  वर्ष महीने, दिन सप्ताह  मेरी अनुनय-विनय का प्रतिफ़ल थे वे शब्द  जिन्हे आरोपित कि... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   4:46pm 4 Mar 2011 #tiger
Blogger: 
*********************************************************************************** बूढ़ा नीम- तृतीय खण्ड(रचना काल- २७ जुलाई २००५)यह बूढ़ा पेड़इसकी मौजूदगी में मैं बढ़ातरूणाई से जवानी तकजब मैं छोटा थाइसकी खाल का चिफ़्फ़ुरघिस-घिस कर लगाताकटने और जलने परआज जब अंग्रेजी मलहम लगाता हूंतो याद आ जाता हैनीम के पेड़ का वह स्नेहजो औषधि ... Read more
clicks 89 View   Vote 0 Like   12:08pm 25 May 2010 #neem
Blogger: 
********************************************************************************* एक  स्तुति जो मेरे ह्रदय में कभी उपजी थीसरस्वती वन्दना-हे माँविद्यावरदायिनीवीणा पुस्तकधारिणीमुझे सदज्ञान दो।सदा जीवन के पथ पर सतमार्ग दो।सदा हम ज्ञान के पथ पर चले।ऐसा हमें वरदान दो॥सदभावना सत्कर्म और सत्संग को प्रेरित रहें।सदा मान... Read more
clicks 99 View   Vote 0 Like   12:00pm 25 May 2010 #वीणा
Blogger: 
********************************************************************************* बूढ़ा नीम- द्वितीय खण्डयह बूढ़ा पेड़मुझे स्मरण कराता हैकुछ बाते बचपन कीसावन में उन झूलों कीइसकी शाखायेंझुलाती थी मुझेले जाती थी दूरकल्पनाओं के संसार मेंपहले कुश से बटे जाते थे ये झूलेफ़िर सनई और बाद में प्लास्टिकऔर अब सब खत्म हो चुका हैशा... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   11:30am 25 May 2010 #nature
Blogger: 
बूढ़ा नीम -(प्रथम खण्ड)  रचना काल मध्य रात्रि १४-१५ जुलाई २००५- लखीमपुर खीरीमेरे घर के सामने नीम का पेड़सदियों से खड़ा है! वही पर हैजाड़ा गर्मी, बरसात बार-बार आते हैमौसम यूँ  ही बदलते रहते हैनन्हे-नन्हे फ़ूल खिलते हैनिमकौरियां फ़लती हैमाँ कहती हैनीम का तेल बड़ा गुड़ी होता हैबरसा... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   10:54am 25 May 2010 #kheri
Blogger: 
मातृत्व रात अपने उतार पर थीरेलवे स्टेशन कुछ अलसाया सा कुछ सो कुछ जाग रहा थामानो बस अब सोने को हैकुछ लोग चहलकदमी कर रहे थेशायद यात्रा पर होकुछ सो रहे थेकुछ गायें भी स्टेशन पर बैठीपागुर कर रही थीगायों की उपस्थितिमुझे एहसास करा गयी सर्वहारा की व्यथाएक संयोग,शहरी गायों औ... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   3:40pm 20 May 2010 #railway station
Blogger: 
आज तेरी याद मुझको सताती है बहुतआज की रात प्यासी है बहुततेरा एहसस समन्दर की तरह हैतेरी याद मुझे तडपाती है बहुतएक ख्वाइस हि तेरे दीदार की मुझेज्यादा न सही कुछ लम्हो के किरदार की तेरे... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   10:54am 9 Jan 2010 #kheri
Blogger: 
आज तेरी याद मुझको सताती है बहुतआज की रात प्यासी है बहुततेरा एहसस समन्दर की तरह हैतेरी याद मुझे तडपाती है बहुतएक ख्वाइस हि तेरे दीदार की मुझेज्यादा न सही कुछ लम्हो के किरदार की तेरेकृष्ण कुमार मिश्रलखीमपुर खीरी९४५१९२५९९७... Read more
clicks 110 View   Vote 0 Like   3:32pm 16 Sep 2008 #kheri
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4020) कुल पोस्ट (193830)