POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: हास्य रस

Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayरोशनी के पर्व दीपावली की आप सबको मेरी तरफ से सहृदय शुभकामनाएं।मित्रों हर वर्ष हम दीपावली मनाते है और क्यों मनाते है ये भी हम सबको पता है, लेकिन क्या सब ये जानते हैं की अपने देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी दीपावली पर्व धूमधाम से मनाया जाता है।गुयाना, ... Read more
clicks 258 View   Vote 0 Like   3:11am 7 Nov 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabay आज पेश है फिल्मो में बम फटने से कुछ देर पहले की स्थिति 1. हर टाइम बम फटने में कम से कम एक घंटे का समय होगा ताकि नायक उसका पता लगाकर लोगों को बचा सके।2. बमों के हमेशां बड़े कई रौशनी चमकने वाले, आवाज करने वाले टाइमर होते हैं। विलेन के पास इतना वक्त होता है की इ... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   3:07am 6 Nov 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayनमस्कार मित्रों! जैसा की मैंने शीर्षक में लिखा है कि हंसने की कोई वजह नहीं होती, कुछ भी अटपटा सा लगे तो हँसी छूट जाती है। कई बार तो ऐसा होता है की किसी अच्छी बात पर भी हँसी छूट जाती है। ऐसे ही बैठे-बैठे मैंने सोचा क्यों ना दो फिल्मों के शीर्षक को आपस में मि... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   11:30am 5 Nov 2018 #गौर कीजिए
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayएक सरकारी स्कूल का इंस्पेक्शन करने शिक्षा अधिकारी आये हुए थे।  एक कक्षा में आए और बच्चो से पूछा - बच्चों इस क्लास में कौन छात्र एग्जाम में प्रथम आया था?ये सुनकर मोहन ने हाँथ उठाया।शिक्षा अधिकारी - वैरी गुड,  और सेकंड कौन आया था?मोहन ने फिर से हाँथ उठाया... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   3:29am 5 Nov 2018 #स्कूल का निरिक्षण
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayजब कभी दरबार में अकबर और बीरबल अकेले होते थे तो कोई ना कोई बात को लेकर बहस छिड़ जाती थी। एक दिन बादशाह अकबर बैंगन की सब्जी की खूब तारीफ कर रहे थे।और बीरबल भी बादशाह की हां में हां मिला रहे थे। इतना ही नहीं, वह अपनी तरफ से भी दो-चार वाक्य बैंगन की तारीफ में भी ... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   3:21am 4 Nov 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayसंवाद घिसा-पिटा आमिर बाप का लड़का किसी गरीब लड़की से प्यार करने लगा है। अमीर बाप गरीब लड़की के पास जाता है और कहता है, "मेरे बेटे को छोड़ने का क्या लोगी?"कई अमीर बाप नोटों की गड्डियां लेकर प्यार का सौदा करने निकले, लेकिन हर बार असफल होकर लौटे। अपनी बेइज्जती कर... Read more
clicks 208 View   Vote 0 Like   1:33pm 3 Nov 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayएक चाइनीज जिसे हिन्दी या इंग्लिश अच्छी तरह नहीं आती थी,भारत आया और एक रेस्टोरेंट में गया।वेटर मेन्यु लेकर आया और उस चाइनीज को दिया।चाइनीज ने मेन्यु को ध्यान से देखा और एक नाम पर उंगली रख के बोला -: 'दिस.. दिस.. डीप.. फ्राइड.. डीप फ्राइड.. फ़ास्ट।'वेटर ने अपना सिर ... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   1:55am 2 Nov 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayएक आदमी नकली नोट छापता था।एक दिन गलती से उसने पन्द्रह रूपये का एक नोट छाप दिया,अब पन्द्रह रूपये का नोट आता तो है नहीं, तो उसने उस नोट को चलाने के बारे में बहुत सोचा -'शहर में तो सब समझदार लोग होते हैं अगर ये नोट यहाँ चलाने गया तो,मैं पकड़ा जाऊंगा, हाँ अगर किस... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   2:30am 1 Nov 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayजीवन क्रिकेट है,'इनिंग्स'का अर्थ जीवन है।'पिच'हमारी कर्मभूमि है।'कमेंटेटर'हमारे जीवन का सूत्रधार है।'एम्पायर'भाग्य का विधाता है।विपक्षी कप्तान यमराज है,तो 'बॉलर'यमदूत है।छक्का मरने का अर्थ सफलता प्राप्त करना है।'आउट'होने का अर्थ मृत्यु को प्राप्त होन... Read more
clicks 163 View   Vote 0 Like   2:37am 31 Oct 2018 #हास्य कविता
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayसीन जाना-पहचाना भारतीय फिल्म की नायिका अक्सर परदेशी को दिल दे बैठती है। प्रेम के मामले में परदेशी उसकी पहली पसंद होता है। 'मधुमती'फिल्म की मधु हो, चाहे 'राम तेरी गंगा मैली'की गंगा। ऐसी फिल्मों में एक बाबू किस्म का आदमी आता है, जो परदेशी होता है। नायिका उ... Read more
clicks 1348 View   Vote 0 Like   1:42am 30 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayप्रश्न - अगर किसी दुबले-पतले की शादी मोटी से हो जाये तो?उतर - दो क्विंटल से कम नहीं तोल सके तो तोल।           किसी-किसी के भाग्य में लिखी ठोस फुटबॉल ।।प्रश्न - जब चार औरतें आपस में लड़ रही हों तो हमें क्या करना चाहिए?उतर - नारी-नारी के युद्ध का मजा दूर से ... Read more
clicks 244 View   Vote 0 Like   2:14am 28 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayसीन जाना पहचाना :फिल्मों में किसी ने किसी पर जरा सा अहसान किया नहीं कि वह सामने वाले को देवता बना लेता है। खासकर बुढा आदमीं। तूफानी रात में एक नौजवान एक लड़की को उसके घर पहुँचाने जाता है, तो उस लड़की का बुढा बाप सदियों से एक ही संवाद बोलता आया है, 'बेटा, तुम इन... Read more
clicks 241 View   Vote 0 Like   1:45am 26 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayएक आदमीं के शादी के लायक चार बेटियां थी। जिसके लिए वो लडकों की तलाश में था। एक रोज ऐसा सम्भावित दामाद उसके घर आया तो उसने उसको अपनी चारों लडकियाँ दिखाई।    "ये कमला है।" - वो बोला - "जरा काली है।"मैं इसके दहेज के बदले में बीस हजार            रूपये नकद ... Read more
clicks 197 View   Vote 0 Like   11:30am 24 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayकुछ बातें सुनने या पढ़ने में भले ही अजीब लगती हों, लेकिन होती बहुत दिलचस्प और सच्ची हैं,  आइये इन्हें जानें -* वाल्ट डिज्नी के नाम से आप सभी लोग परिचित हैं। इन्होने मिकी माउस, डोनाल्ड डक और गुफी जैसी कई कार्टून फ़िल्में बनाई, जो बच्चों और बड़ों का मन मोह लेत... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   12:00am 24 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayपेश है कुछ अजब-गजब प्रश्नोतर !प्रश्न :1. वह कौनसी 'रात'है जो सिर्फ दुल्हे की ही होती है?2. कौनसा 'यार'सबको नुकसान पहुंचाता  है?3. 'सुख'और 'दुःख'में क्या फर्क है?4. कौन 'कान'है, जिसमें मनुष्य रहता है?5. 'न'ही उसकी शुरुआत है और 'न'ही उसका अंत, फिर भी उससे देखा जाता है?6. कौशि... Read more
clicks 248 View   Vote 0 Like   11:30pm 22 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayपिता ने पुत्र के चरण स्पर्श किया,और कहा - क्या आज्ञा  है मेरे लिए,पुत्र ने कहा - हे चिरंजीव बाप,उससे पहले की आपसे शुरू करूं वार्तालाप,एक बीड़ी पिलवाईए, पांव जरा धीरे दबाइये,माँ के नहीं मेरे पांव है,पिता ने पुत्र की बीड़ी सुलगाई,खुद भी खेंच के ऐसी दम लगाई,की बी... Read more
clicks 113 View   Vote 0 Like   11:30pm 21 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayफिल्मों में सम्बन्ध भेद फ़िल्मी गरीबी का ईमानदारी से गहरा रिश्ता होता है। जैसे दुनियाभर की ईमानदारी का ठेका उसके ही पास हो। एक गरीब फ़िल्मी माँ है। उसका एक गरीब बेटा है। बेटा स्मगलिंग करके चार पैसा कमाने लगता है। ज्यों ही माँ को मालूम पड़ता है, तो बुढिया ... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   2:33am 21 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabay बुधसिंह नाम के एक निपट गंवार और कतई अनपढ़ सज्जन एक सुरक्षित सीट पर चुनाव में खड़े हो गये। एक बार उनको उनके हिमायतियों की तरफ से कहा गया कि वे स्टेज पर भाषण दें। "मैंने कभी भाषण नहीं दिया।" - बुधसिंह जी घबराकर बोले - "मैं भाषण में क्या कहूँगा?""अरे कुछ भी कह द... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   9:57am 20 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayफिल्मों में सम्बन्ध भेद कहते हैं, जो आदमी जितना बुरा होता है, वह उतना ही ज्यादा कला से दूर होता है, लेकिन हमारी फिल्मों के विलन का नृत्य कला से गहरा रिश्ता होता है। नाचती हुई हिरोइन के एक-एक भाव और भंगिमा को वह कला समीक्षक की तरह देखता है। हिरोइन का एक नृत... Read more
clicks 101 View   Vote 0 Like   12:30am 20 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayसेल : किसी चीज को उसकी कीमत से दुगने दामों में खरीदने का तरीका।अधेड़ावस्था :1. जब मेहनत में आनन्द नहीं रहता और "आनन्द "मेहनत लगने लगता है।2. जब आप बुजर्गों को कोसना बंद करके बच्चों को कोसना शुरू कर देते हैं।3. जब आप बस में सफर करते समय किसी महिला को सीट देने के... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   11:30am 19 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayकुता बहुत स्वाभिमानी था, प्रात: कुता और कुतिया में अनबन हो गई थी। और तब से ही कुते ने जो रोना शुरू किया था,  तो अब तक चुप नहीं हुआ था। सारे नगर के कुते उसे चुप कराते-कराते थक कर स्वयं चुप हो गये थे, परन्तु वह रोए जा रहा था।अब नगर के एक वृद्ध कुते की प्रतीक्षा ... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   12:30am 19 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayओ मेरी महबूबा तुम्हारे नापाक इरादोंजमाखोर वायदों बेईमान निगाहोंऔर तस्करी अदाओं ने मेरा बजट बिगड़ दिया मेरा घर उजाड़ दिया।खूबसूरती का ठेका लेकरहजारों दिलों का कर लिया गबन प्यार का पुल कमजोर बुनियादों पर खड़ा करकेहँस रही हो जानेमन।दुकान के आगे बढा... Read more
clicks 98 View   Vote 0 Like   11:30am 18 Oct 2018 #हास्य व्यंग्य
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayभगवान यमराज के जन्मदिन परलगा हुआ था दरबारमृत्युलोक से आई हुई तीन आत्माएंकर रही थी भाग्य निर्णय का इंतजारएक सेठ, एक जौहरी और एक चोरयमराज प्रभु मुखातिब हुए चित्रगुप्त की ओरआज ख़ुशी का दिन है गुप्त जीसबकी इच्छा पूर्ण करेंगे पापी हो, अपराधी हो, या धर्मात्... Read more
clicks 99 View   Vote 0 Like   12:30am 18 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - facebookये तस्वीर फेसबुक के वर्तमान हालात को दर्शा रही है, जहाँ लडके लडकियों को तलाश करते है तो कोई नहीं मिलती और जब लडकी तलाश करने बैठी तो ढेर लगा गया।पिक क्रेडिट - facebookयह तस्वीर बता रही है नीच लोगों को कितना भी समझा दो,फिर भी नीचता से बाज नहीं आते।इन तस्वीरों के ब... Read more
clicks 101 View   Vote 0 Like   11:25am 17 Oct 2018 #
Blogger: दिनेश प्रजापति
पिक क्रेडिट - pixabayएक आदमीं लकड़ी के एक बक्से को रस्सी से बांधे उसे सडक पर घसीटता हुआ चल रहा था। एक सिपाही ने उसे देखा तो उसे उसके दिमाग पर शक हुआ।सिपाही बोला - जनाब! कुता तो बहुत बढिया है आपका।वो आदमी तत्काल बोला - ये कुता है क्या? ये तो लकड़ी का बॉक्स है।सिपाही हड़बड़ाया सा बोला - ... Read more
clicks 114 View   Vote 0 Like   10:49am 17 Oct 2018 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post