POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: tHe Missed Beat

Blogger: jafar
दर्द ने किस कदर इंतेहा की हैं,हमने तुमसे कोई शिकायत कहां की हैं,जिस तरह हमने हज़ार मिन्नते कीतुमने वैसे अभी इल्तेज़ा कहा की हैंबैठ कर वही घण्टो खुदको ढूंढा हैंतेरे बाद भी इश्क़ की हर रेशम अदा की हैंजब भी एक कतरा नमी तेरी आंखों में देखी हमने अपने दिल की हर आरज़ू दबा दी हैंसार... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   1:27pm 17 Jan 2020 #
Blogger: jafar
खुद से जिद करो,जहन से सवालात करो,जिंदा हो तो आदमी की तरह बात करोलोग खीच खसोट कर ले जाएंगे,अपनी हदो में अपनी हदो को बिसात करो,वक़्त बे वक़्त बेरोजगारी और भूख का रोना मत रो,थोड़ी मेहनत करो फिर बात करो,एक बार जो तुम अपना आसमा ढूंढ लो,उसे पाने को फिर दिन रात करो,हाथ मिला गले मिल सली... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   1:02am 28 Dec 2019 #
Blogger: jafar
मुश्किलो के बादल हैं,बेकशी के साये है,हमे घायल जानकर कई सियार निकल आये हैंतुम जुदाई के खौफ से मुझे डरा नही सकतेकई रिश्ते मैंने अपनी  जिद में दफ़नाए है,दिल्ली के ताज में न जाने कैसा जादू हैं,चींटियों के भी पर निकल आये हैं,रोज का जिनसे दुआ सलाम मेरे मोहल्ले में हैं,एक क़ानू... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   6:45am 23 Dec 2019 #
Blogger: jafar
कई बार जो जहर हम दोनों ने साथ-साथ पीया,चंद रोज की अनबन में तुमने जमाने को उगल दिया..बेकशी ने जैसे तैसे बेक़रारी को जब समझा लिया,नया बहाना बनाकर उसने फिर इरादा बदल दिया,आज भी अपने फैसले पे हरसू पछताता हूँ,उस मोड़ पर क्यो हमने अपना रास्ता बदल दिया,तुम्हारा गुस्सा तुम्हारे जज्... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   7:06am 14 Nov 2019 #
Blogger: jafar
चट्टाने टूट जाती हैं समुन्दर डूब जाते हैंकभी-कभी वो भी हमसे तबियत पूछ जाते हैं,बहुत दिनों बाद गाँव आया तो एहसास हुआ,झुर्रियों में सब शिक़वे शिकायत छुप जाते हैंबिजलियों की सजिश या बादलो की शरारत हैं,मेरे पुश्तें  भरी बारिशो में ही टूट जाते हैं,मैं सदियों ख़्वाहिशों अरम... Read more
clicks 12 View   Vote 0 Like   5:42am 8 Nov 2019 #
Blogger: jafar
मेरी इस प्यास की कही तो ताब होगीं,एक चिंगारी की कही आग होगीं,मेरी हर बूँद में,इश्क़ का समुन्दर हैं,प्यासा रख कर,तू भी कहाँ आबाद होगीं,मत करो फ़ोन बारहां नंबर बदल-बदल के,हमको-तुमको तकलीफें बेहिसाब होगीं,खामोश देखता हूँ मैं तेरी बदगुमानिया,कभी तो हद से पार मेरी बर्दास्त होग... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   9:25am 3 Nov 2019 #
Blogger: jafar
दर्द में डूब के भी ख़िलाफ़त ना हुयी,ना हुयीं हमें तुमसे शिकायत ना हुयीं..रब्त उसके ने हज़ार बंदिशो पे मज़बूर कियाइतनी शर्तों पे हमसे मोहब्बत ना हुयीं,हज़ार फ़ोन करो,लाख़ इल्तेज़ा, कऱोड नख़रे,गोया कभी इतनी मेरी जान को आफ़त ना हुयीं,देश परदेश में,तेरी उम्मीद पर मैं टिका रहा,एक मासूम ... Read more
clicks 32 View   Vote 1 Like   2:07am 2 Oct 2019 #
Blogger: jafar
वक़्त बे वक़्त हर बात पें निकल आये आँसू,तेरे जाने के बाद कितना काम आए आसूँएक हम थे जो ख़ामोश ज़हर पी  गयें,तुमने जा-जा के लोगो को दिखायें आँसू,सारी दुनियादारी जो शाम के अंधेरे में भूल गयें,उन गुस्ताखियों ने कितने आँख रुलाये आँसू,आँखे सुख़ गयी,रोशनी भी जाती रही,तुम ना आये तो क... Read more
clicks 10 View   Vote 0 Like   4:23pm 27 Sep 2019 #
Blogger: jafar
ठंडी-ठंडी जब हवा चली ,तेज़ धुप में छा गयी बदली ,तो लगा तुम आ गये ........जब बादल हमे भिगाने लगे ,रंग-बिरंगी तितलिया उड़ी ,भवरे गुनगुनाने लगे ,तो लगा तुम आ गये ........शामे जब जवान होने लगी,धड़कने बे -इख़्तियार ,ऑंखे परेशान होने लगी ,खुशनुमा सहर ने जब रौशनी बिखराई ,मुंडेर से झाकती हुयी क... Read more
clicks 31 View   Vote 0 Like   12:57am 22 Sep 2019 #
Blogger: jafar
कागज़ के उन टुकडो को दिल से लगा रखा हैं ,तेरे हरेक लब्ज़ को जिंदगी बना रखा हैं ,वो ख़त जो तुमने मेरे नाम किये .....दौरे तन्हाई में वो साथ चलते हैं ,मेरी थकानो में छाँव धरते  हैं ,सारे जहां में चाहे खिज़ा छाये वो फूल मेरे सिराहने महकते हैं .उस एक आग को ख़ुदमे में दबा रखा हैं ,कागज... Read more
clicks 26 View   Vote 0 Like   7:50am 15 Sep 2019 #
Blogger: jafar
फ़िज़ूल की बातों में सर अपना खपाते क्यो हो,उलझने किसको नही इतना जताते क्यो हो,गुमनामी के अंधेरो में खो जायूँगा कभी राख़ बनकर,इतनी शिद्दत से मेरा नाम अपने साथ लिखवाते क्यो हो,मुश्किल हैं मेरे साथ रहना मग़रूर बेकार हूँ मैं,फिर नंम्बर बदल फोन की घण्टियाँ बजाते क्यो हो,यहां भी... Read more
clicks 16 View   Vote 0 Like   2:18pm 8 Sep 2019 #
Blogger: jafar
मुझ पर जाने कौन सी बेक़रारी रही,खुदकी खुद से एक जंग सी जारी रही,तुमने कई बार मुझकों ठुकरा दिया,एक उम्मीद तेरे इंतज़ार में क्यो ठाड़ी रही,मेरे घर मे रौनको का बसेरा रहा,बेटियां मेरी आँगन की दुलारी रही,सिर्फ औरो की चोरियो पे आवाज़ उठाते हैं,बस इतनी बाकी हममें वफ़ादारी रही,इतने आ... Read more
clicks 15 View   Vote 0 Like   2:24am 5 Sep 2019 #
Blogger: jafar
देर रात तक नुमाईश में प्रोग्राम जारी रहा,जनता मफ़लर,पंखी में सिमटती रही,नेताजी को सिगड़ी का पुख्ता इंतेज़ाम जारी रहा,लोग स्टार नाईट को तरसते रहे देर तक,उनका चुनावी पैगाम जारी रहा,मौत का कुँआ हो या नटनी का बैलेंस,भूख़ के वास्ते ज़िन्दगी का डांस जारी रहा,कौनसी गली में किस मुँड... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   3:06am 28 Jul 2019 #
Blogger: jafar
हम मोहब्बत करे वो दिल्लगी किया करे ,किसी के साथ ऐसा भी ना खुदा करे .....हर बार के जवाब में दिल तोड़ रहे हो ,मर ही ना जायें तो अब, क्या ख़त में लिखा करे....पास आकर जाना हम कितने दूर हो गये ,गोया इश्क में जरा-जरा फासले रखा  करे ...आज की रात सितारे मेरे कदमो में हैं,तुम साथ हो तो,औरो का क... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   9:35am 22 Jul 2019 #
Blogger: jafar
सुबह तक महती रही,मुझमेँ रात की रानी की तरह,मुझपे गुज़रना था जिसे जवानी की तरह..बहुत खुश थे जिससे पीछा छुड़ा के अमीर,याद रहा वो शख्श दादी की कहानी की तरह,एक शमा अकेले तूफ़ान से लड़ती रही,बुतो में खोजते रहे लिखा था जो पेशानी की तरह,मेरी बरबादियाँ कुछ काम तो जरूर आयीं,बच्चों को सु... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   3:21am 20 Jul 2019 #
Blogger: jafar
चूड़ी काज़ल कंगन और ऑंसू,बारिश कोहरा बादल और आँसूपीपल पतझड़ जेठ दुपहरी,झूले साथी सावन और आँसू,मेरी पीड़ा मेरा दुखड़ा बोझ भयंकर,मिश्री बातें तेरी जियरा सदल और आँसूलकड़ी गठ्ठर,रोटी लून सक्करगैय्या ग्वाले,बन्सी जंगल और आँसूफावड़ा कुटला ,खेत का टुकड़ा,मुठठी फ़सलें,भतेर दंगल और आ... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   1:58am 14 Jul 2019 #
Blogger: jafar
चिता की अग्नि में हर शाम मौन लेट जाता हूँमैं आज भी ऐसे तेरा वचन निभाता हूँ,थक जाते हैं सब पुतले दिनभर की भेड़चल से,में जागकर अपना फर्ज निभाता हूँ,कोई सूरज अपने ताक़त में जब मग़रूर दिखा,बहुत सादगी मैं उसको दिया दिखता हूँजमाने भर की जिलालत से तो लड़ भी लेता हूँ,घर आकर तुम्हारे ... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   6:03pm 10 Jul 2019 #
Blogger: jafar
दर्द में डूब कर कुछ करार आया हैं,जुबां पर सच पहली बार आया हैं...मंज़िले अभी दूर हैं करवा बढ़ता रहे,बिजलिया गिरी नही,बस अंधेरा सा छाया हैं,हौसला न तोड़ना,हाथ अब ना छोड़ना,रात अभी बाकी हैं,कोई सितारा टिमटिमाया हैं,घर हमारे छीने हैं,सकुनो चैन तबाह किये,इन हसरतो ने हमे कितनी आँख रु... Read more
clicks 131 View   Vote 0 Like   8:22am 8 Apr 2019 #
Blogger: jafar
कुछ अनकही बातों को बोल लेता हूँ,कभी-कभी पुरानी डायरी खोल लेता हूँ,हरेक लब्ज़ में लम्हो के समुन्दर है,जाने कैसे कागज़ में सब उड़ेल देता हूँ,किस नकाब में कौन सा चेहरा पोशीदा हैं,बातो से लोगो का वज़न तोल लेता हूं ,हैरान होता हूँ जब अपनी खुदगर्ज़ी से,कितना एहसास बचा हैं दिल में टट... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   3:23am 21 Mar 2019 #
Blogger: jafar
बड़ी मुश्किल से इस बार खड़ा हूँ मैं,टूट-टूट कर कई बार जुड़ा हूँ मैं..जहाँ हूँ मैं बस तबाही हैं बर्बादी हैं,लोग ये भी कहते हैं बहुत कर्मजला हूँ मैं,बनाने वाले घर के,कबके मुझे भूल गये,नींव का पत्थर ख़ाक में दबा हूँ मैं,तुम अगर मुखातिब भी हो तो आँसू बरस पड़े,थाम कर बदलो को कबसे खड़ा ... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   6:04am 1 Mar 2019 #
Blogger: jafar
आईने तोड़ देने से शक्ले नही बदला करतीसिर फोड़ने से अकले नही बदला करती,कई बार मैंने किसानों को सूली पे रखके देखा हैंहमारे गांव की खुदगर्ज़ फसले नही बदला करती,लाख बार हज़ार कोशिस से जाहिर हैंवजह बदल देने से वसले नही बदला करती,तेरे जाने के बाद अकेले ही उसी जग़ह वक़्... Read more
clicks 63 View   Vote 0 Like   4:41am 24 Feb 2019 #
Blogger: jafar
इश्क़ की गहराई में उतारने में वक़्त लगा,टूट गया मगर बिखरने में वक़्त लगा...तूने मेरे नसीब में डूबना लिख तो दिया,बीच मझधार मगर पाँव धरने में वक़्त लगा,जब उसने कई बार मुझे  झूठ पीला दियामेरे गले से सच को उतरने में वक़्त लगा,तुम भी थे वक़्त भी शाम और मय भी,इतनी प्यास थी कि फिर हद से ... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   6:49am 10 Feb 2019 #
Blogger: jafar
सारे फ़रिश्ते घबरा जल्दी घर लौट आये हैं,रात काली हैं या चाँद ने अंधेरे बिछायें हैं,कुछ मग़रूरओ  के हौसले इतने बुलंद हैं,रोशनी के डर से कितने सूरज बुझाये हैं,खेत मेरे ,दो बूंद पानी को तरसते रहे,शेयर बाज़ार से आप कौनसी अच्छी ख़बर लाये हैं,बदन से आज भी मिटटी की भीनी बू नही जाती,... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   5:42am 30 Jan 2019 #
Blogger: jafar
तुम गांडीवधारी हो या तुम्हे ख़सारा हैंहम दांव खेला चुके,अब समर तुम्हारा हैं,तुम फ़क़द तमाशा देखो,फब्तियां उड़ाओ,जो चाँद पलकों पे था आँसू संग उतारा हैं,कई रोज़ की बरसात में जब आँख सुख जायेगी,तब समझ आयेगा किसको गले से उतारा हैं,तुम अपनी दुनिया सजाओ घर बनाओ,बस कभी कभार की मुलाक... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   7:03am 18 Jan 2019 #
Blogger: jafar
किसी के आगे अब खुलने को हम तैयार नहीदोस्त बहुत हैं यहाँ कोई यार नही,मुश्किलों का समुन्दर हैं,तकलीफों के पहाड़ हैं,इस ताल्लुख़ से उबरने के कोई आसार नही,हाथ मेरे ख़ाली सही,आंखों में क़यामत हैं,ख़ामोशी भी इबादत हैं,नज़दीकी ही प्यार नही,बहुत सिखाया ज़िन्दगी के तजुर्बों नेदुश्मन ... Read more
clicks 101 View   Vote 0 Like   3:36am 15 Jan 2019 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3938) कुल पोस्ट (195110)