Hamarivani.com

नमस्ते namaste

कविता तो वो हैजिसे जिया जा सके ।सान पर चढ़ाया जा सके ।विसंगतियों की तेज़ धार परआज़माया जा सके ।जिसके बूते परअपने सिद्धांतों परअड़ा जा सके ।कविता तो वो हैजिसे जीवन गढ़ेमूर्तिकार की तरह ।जो मिटाए ना मिटेगोदने की तरह ।या फिर वो हैजिसे मन की मिट्टी मेंबोया जा सके ।दिन-प्रति...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  October 14, 2018, 10:26 pm
जिन पौधों कोतुम सींचती होश्रम जल से,उनके पत्तों परठहरी एक बूँद,अपनी आंखों में रख ली है मैंने,बिना तुम्हें बताए,ये सोच केकि एक दिनजब वो बूँदअश्रु जल सेसींचते-सींचतेमोती बन जाएगीऔर तुम्हेंसौंपी जाएगी,तो झट सेतुम्हारी आंखों कीचमक बन जाएगी ।अनकहे भावों कीखुशी झिलमिलाय...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  October 10, 2018, 9:29 pm
सघन वृक्ष की ममतामयी छांव में,कुहू कुहू कोयल कूक रही है ।और मन ही मन सोच रही है,जीवन पथ जाने कहाँ-कहाँ ले जाएगा ।इस पथ पर चलने वालाक्लांत पथिक क्या,मेरी तान सुन करकुछ पल चैन पाएगा ?यदि ऐसा हो पाएगा,उसकी थकान दूर करमेरा मन सुख पाएगा ।गान मेरासार्थक हो जाएगा ।जब मेरा गायन...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  October 3, 2018, 3:57 pm
                              बप्पा यदि जाएं ही नाहमें छोड़ केकभी घर सेतो अच्छा हो ना ?सदैव मंगल हो ना ?पर विसर्जन में बप्पा जाते हैं क्या ?ऐसा हमें लगता है ना ?पर पिताबच्चों से दूर कभी नहीं जाते ।विसर्जन होता है उसकाजो जीवन में नहीं खपता ।दुख ग्लानि आक्रोश कुं...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  September 22, 2018, 1:03 pm
हम गर्व तो नहीं करते रह सकते। उसने कहा। छर्रे की तरह उसका ये कहना चीर गया।उसने कहा क्योंकि उसका कोई अपना शहीद हुआ था। वो ख़&#...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  September 22, 2018, 10:05 am
सांझ की लौटती धूपधीरे-धीरे आती है,सोच में डूबी हौले-हौले भोले बच्चों जैसीफूल-पत्तियों को..सरल सलोने स्वप्नों कोदुलारती है ।हल्की-सी बयार सेपीठ थपथपाती है ।बस इतनी-सी बात परशाम रंग-बिरंगे दुपट्टों-सीझटपट रंग जाती है ।थके-हारे मन सीमाथे की शिकन-सीआसमान की सलेटी सिलवटो...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  September 16, 2018, 11:27 pm
उनका भी त्यौहार है ।उनका भी परिवार है ।पर कहीं देश में बाढ़ है ।कहीं आतंक की मार है ।कौन संभालेगा ?कौन जल प्रलय में डूबते को हाथ बढ़ाएगा ?कौन अशक्त को कंधे पर लाद के लाएगा ?कौन भूखे-प्यासों को राशन पहुंचाएगा ?सर्वस्व गंवा बैठे जो उनको कौन दिलासा देगा ?कौन दिन-रात सीमा पर अलख ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  September 14, 2018, 7:56 pm
स्टीफ़न हॉकिंग ने कैसे एक अर्थपूर्ण शानदार जीवन जिया ?काटा नहीं  . . जिया। कुछ भी तो नहीं था,तन के नाम पर। पर मन भर असीम आकाश था। जिसमें जीवट नाम का प्रखर सूर्य चमकता था। संवेदनशील धैर्य का चंद्रमा शिफ्ट ड्यूटी करता था। विलक्षण प्रतिभा पंख फैलाये नि...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  September 7, 2018, 11:34 pm
क्या खूब हो अगरतुम्हारी कमी को मैं पूरा कर दूं !और मेरे खाली पन्ने कोतुम भर दो !आओ चलो !एक तस्वीर बनाते हैं ,मिल - जुल कर।अपने - अपनेरंग भर कर। शायद इनके मिलने सेइन्द्रधनुष बन जाये !कितना मज़ा आये !या तुम अपनी बात कहो।मैं अपनी व्यथा कहूँ।हो सकता है ,बात - बात मेंकविता रच जा...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  September 2, 2018, 11:24 am
सब कुछ टूट - फूट कर बिखर जाये, छिन्न - भिन्न हो जाये, खो जाये  . .कुछ भी हो जाये  . . आदमी चोट खाता है परफिर उठ खड़ा होता है। हिम्मत का धनी होता है। विसंगतियों से हारता है। पर हार नहीं मानता। वो अपाहिज हो ही नहीं सकता, जिसका मनोबल नहीं टूटा। ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  August 31, 2018, 11:07 am
एक था गोविंदा ।                                                 सब कहते थे करमजला ।माँ - बाप का इकलौता बेटा ।पर पैरों से लाचार था ।बैसाखी लेकर चलता था ।किसी काम का ना था ..खेत क्या जोतता ?बच्चे जब खेलते थे ।दूर बैठा तकता रहता ।गुपचुप रोता रहता ।एक दिन माँ ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  August 28, 2018, 4:59 pm
कहो मित्र,कैसे हो ?एक अरसा हुआ,न सलाम न दुआ ?सब कुशल तो है ना ?शिकायत नहीं करता,बस दिया उलाहना ।जिससे तुम जान जाओ,याद बहुत आते हो ।मन मसोस कर कुछ करने पर,अब भी टोक देते हो ।परछाईं की तरह,साथ चलती है तुम्हारी याद ।पक्की है,हमारी मित्रता की बुनियाद ।क्या फ़र्क पड़ता है ?तुम्हारा ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  August 5, 2018, 10:56 am
माँ चली गई ।बिटिया रानी ..बहुत बदलेगी ज़िन्दगी अभी ।तुम भी बहुत बदलोगी ।माँ के लिए,जो आंसू आंखों में आए,उन्हें निरर्थक बहन...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  August 4, 2018, 11:40 pm
हाथ छुड़ा कर, कभी भी एकाकी, निर्जन जीवन पथपार मत करना ।ठाकुरजी की उंगलीकस के पकड़े रहना ।ठोकर लगी भीतो गिरोगे नहीं ।जो कनिष्ठा परगोवर्धन धारण करते हैं,पर समर्पित भाव को डूबने नही देते ।वो तर्जनी परसुदर्शन चक्र भीधारण करते हैं,सौवीं ग़लती परक्षमा नहीं करते ।इन्हीं ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  July 22, 2018, 12:25 am
स्नेह के अधिकार सेमांगो तो मनचाहामिलता है ।और क्या हैमन की चाहना,ये भी मायने रखता है ।देने वालादेने से पहलेलेखा-जोखा करता है ।किसको देना है ?कितना देना है ?किन शर्तों पर देना है ?पर तुम ये सब मत सोचना ।मनचाहा मांग लेना ।नभ से चाँद-तारे नहीं,विशाल हृदय औरदिल में सबके लिए ज...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  July 21, 2018, 1:11 am
तना झुक गया है,फिर भी, तन कर चुनौती दे रहा है, आने वालेसमय कीअनिश्चितता को ।या झुक करसलाम कर रहा है,सर पर तनेनीले आकाश कीअसी...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  July 14, 2018, 2:34 pm
फूलों की माला गूँथनामन के भाव पिरोने जैसा है ।बिना बिंधे बिना बंधेफूल वेणी मेंठहर नहीं सकते ।यदि बिखर गएतो माला बने कैसे ?अनुभव की चुभन बिनाफूलों में पराग कैसा ?रंग और सुगंध बिना फूल अर्पित हों कैसे ?फूलों की सरल सरसता।भक्ति की पुनीत भावना ।दोनों जब खिलते हैं,माला में ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  July 4, 2018, 11:34 pm
चाह कर भी संभव नहीं होता सदा,दर्द कम करना किसी का ।दर्द कम करना तुमने चाहा,इतना ही बहुत है ।क्यूंकि,वक़्त बदलता है ।वक़्त की फ़ितरत है ।हमदर्द बदलता है ।ये भी हक़ीक़त है ।ये कौन नई बात है ?सबके अपने हालात हैं ।पर मन भी हठधर्मी है ।आस नही छोड़ता ।कई बार चोट खाता है ।पर हर बार आस बं...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  July 2, 2018, 1:40 pm
घर के खिड़की - दरवाज़े इन दिनों बंद करते वक़्त बहुत आवाज़ करते हैं ।  जैसे घर में रहने वालों के अहम टकराते हों बात बात पर । कल की तूफ़ानी बरसात मेंघर के बाहर पहरेदारी करता बड़ा छायादार पेड़ भी धराशायी हो गया ।घर के भीतर और बाहर अब पड़ने लगी हैं दरारें ।मैं ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  June 29, 2018, 10:31 pm
ये इत्तफ़ाक नहीं है ।सीमा पर तैनात जवानरोज़ शहीद हो रहा है ।तब जाकर इस देश काहर आदमी चैन से सो पा रहा है ।वो अपना फ़र्ज़ निभा रह...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  June 15, 2018, 11:39 pm
अंजुरी भर जल मेंआकाश की परछाईं है ।मिट्टी के छोटे से दीपक नेसूरज से आंख मिलाई है ।घर के टूटे-पुराने गमले मेंहरी-हरी जो कोपल फूटी है ।उसने अनायास ही मेरे मन मेंजीवन के प्रति निष्ठा रोपी है ।हो सकता है ये बात अटपटी लगेपर धूप ने भी अपनी मुहर लगाई है ।...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  June 11, 2018, 12:03 am
दहकते नारंगी बेल-बूटेकढ़े हुए हैंउस पेड़ केहरे उत्तरीय पर,जिसके पास सेमें रोज़ गुज़रता हूँ ।मुस्कुराते हुए,हाथ हिलाते हुए,सोचते हुए...कड़ी धूप में हीखिलते हैं गुलमोहर ।ये याद रहे ।...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  June 9, 2018, 11:46 pm
सब हिसाब मांगते हैं ।  पल-पल का  हिसाब मांगते हैं ।बच्चे अपने माँ-बाप से  गिन-गिन कर हिसाब मांगते हैं। पूछते हैं बार-बार गुस्से से, आपने हमारे लिए क्या किया ?जो किया क्या वो काफ़ी था ?जो नहीं किया उसका हिसाब कौन देगा ?पति-पत्नी एक दूसरे से,  एक दूसरे के परिवारो...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  June 1, 2018, 7:27 pm
माँ की झिड़की में माँ का दुलार,माँ की महिमा अपरंपार !जितने माँ ने कान उमेंठे,उतने मेरे भाग जागे। माँ का रूतबा शानदार ! शाही फ़रमान है होशियार !माँ के हाथ में अदृश्य तलवार,भागें भूत के नाना प्रकार !माँ ने जब-जब आँख तरेरी,टेढ़ी ग्रहदशा हो गई सीधी। माँ की खा-खा नित फटकार,सुध...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  May 17, 2018, 7:19 pm
हर नया दिन एक फूल की तरहखिलता है,और कहता है  . .उठो जागो !बाहर चलो !शुरू करोकोई अच्छा काम,लेकर प्रभु का नाम ।आगे जो होगासो होगा,अभी तोकोशिश करो,बन जाएं बिगड़े काम ।देखो, मुझे भी पता है ।कुछ देर की छटा है ।जो खिलता हैमुरझाता है ।पर जब तकखिलता है,मुस्कुराता है ।भीतर जंगल...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  April 27, 2018, 10:37 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3822) कुल पोस्ट (181626)