Hamarivani.com

गीत-ग़ज़ल

ये देश बदल रहा है , इतिहास रच रहा है गाँधी के सपनों का भारत , करवट बदल रहा है थोड़ी सी कस है खानी , थोड़ी सी परेशानी अपने हितों से बढ़ कर , पहचानो है देश प्यारा आओ हम आहुति दें , इक बेहतर कल का निर्माण चल रहा है ये देश बदल रहा है उग्रवाद , कालाबाजारी और जाली नोटों का धन्धा...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  December 5, 2016, 7:48 am
दिल के बदले दिल चाहियेहमको सौदा खरा चाहियेमुश्किल नहीं है बहुतहमको रिश्ता सगा चाहियेआहें ही बसती रहींदिल दुआ से भरा चाहियेजी भर के रो लें मगरतेरा काँधा जरा चाहियेपतझड़ के मौसम में भीदिल हमको खिला चाहिये लाइये , शेख जी लाइये हमको मौसम हरा चाहिये ...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  June 1, 2016, 1:03 pm
गुलाब को उसके काँटों की वजह से मत छोड़ो अवगुणों की वजह से गुणों को मत छोड़ो गुजारा है जो वक़्त साथ-साथ , वो बोलता ही मिलेगा खुशबुएँ साथ-साथ चलती हैं ,वरना दिल तन्हा ही मिलेगा सारी खरोंचें जायेंगी भर ,गुलाब सा चेहरा दमकता ही मिलेगा गुलाब को उसके काँटों की वजह से म...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  March 10, 2016, 2:02 pm
ऐसे उठ आये तेरी गली से हमजैसे धूल झाड़ के कोई उठ जाता हैयादों की गलियों में थे अँधेरे बहुतवक़्त भी आँख मिलाते हुए शर्माता हैवक़्ते-रुख्सत न आये दोस्त भीगिला दुनिया से भला क्या रह जाता हैलाये थे जो निशानियाँ वक़्ते-सफर कीरह-रह कर माज़ी उन्हें सुलगाता है अब मेरे हाथ लग गया अ...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  October 7, 2015, 5:14 pm
तू न देख के कितना है रन्ज रिश्ते में अपने,तू ये देख के क्या क्या है निभाया मैंने सारी दुनिया मिलती है किसे ,टुकड़ों में मिली धूप को कैसे गले लगाया मैंने तू मुझसे जुदा ही नहीं है ,कैसे समझाये कोई अपने ही जिगर को बोले जो कभी भी तुम सख़्त होकर ,दरक गया कुछ तो कैसे सँभाला म...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  September 18, 2015, 4:24 pm
और हाँ नैनीताल जैसे ज़न्नत , और अब विदा लेने का वक्त आ चला है ....कोई मेरे हाथों से जन्नत को लिये जाता है मेरे ख्वाबों के फलक को , लम्हों में पिये जाता है घबरा के मुँह फेर लेती है आशना अक्सर अब ये आलम है के दिल दीवाना किये जाता है  अपने ही शहर में मुसाफिर की तरह रहे हम अप...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  July 31, 2015, 6:07 pm
इतने साल इस शहर में बिता कर अब जाने का वक्त हो चला है , सँगी-साथियों से बिछड़ने का वक़्त …हम तेरे शहर से चले जायेंगे कितना भी पुकारोगे , नजर न आयेंगे अभी तो वक़्त है , मिल लो हमसे दो-चार बार और फिर ये चौबारे मेरे , मुँह चिढ़ायेंगे भूल जाना जो कभी , दिल दुखाया हो मैंने तेरा&n...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  July 20, 2015, 11:16 am
तू जिसे ढूँढ रहा है , वो तो इश्क है हक़ीकी दुनिया की महफ़िलों में , मिलता है वो रिवाजी ज़माने की आँधियों में , रहना है तुझे साबुत मिले न भले कुछ भी , हर हाल में हो राजी ज़िन्दगी का है ये मेला , चाहे तो चल अकेला चाहे तो सजदा कर ले , चाहे तो रख नाराज़ी मिलती नहीं है दुनिया त...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  June 17, 2015, 10:41 pm
लम्हों ने कीं ख़ताएँ सदियों ने पाईं सजाएँ सहर सी खिलीं फिज़ाएँ मरघट सी सूनीं खिज़ाएँ लफ़्ज़ों में क्या बताएँ हाल अपना क्यूँ सुनाएँ फूलों को जो दिखाएँ काँटों पे चल बताएँ ज़िन्दगी की हैं अदाएँ सहरां में फूल खिलाएँ बर्फ सी ठण्डी शिलाएँ चिन्गारी किस को दिख...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  June 2, 2015, 1:44 pm
उठते हैं दुआओं में जब हाथ मेरे लब हिलते ही नहीं टूटा है भरोसा मेरा अल्फ़ाज़ निकलते ही नहीं पड़ गये छाले हैं चला जाता ही नहीं है कैसा सफर ये सूलियाँ दिखती ही नहीं और जाऊँ भी किधर रूह का शहर मिलता ही नहीं नहीं बनना है तमाशा मुझको साबुत हूँ , आँख में पानी भ...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  May 12, 2015, 2:46 pm
आँतक-वाद की रोकथाम कैसे हो .....बदले के बदले चलते रहेंगे खुदा बन के खुद को छलते रहेंगे थोक में बिछी लाशें , क्या सुख है पाया जो भी गया है ,लौट के न आया जख्मीं हैं सीने तो , मरहम लगाओ गूँजती सदाओं को , न तुम भुलाओ कब तक यूँ ख़्वाबों को मसलते रहेंगे कराहता है कोई , नज...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  April 18, 2015, 10:18 am
हम सब हैं किताब , पढ़ने वाला न मिला या खुदा ऐसा भी कोई ,चाहने वाला न मिला हाथ में हाथ लिये चलते रहे हम यूँ ही दूर तक कोई भी साथ निभाने वाला न मिला चलती रहती है सारी दुनिया यूँ तो दिल से फिर भी कोई पलकों पे बिठाने वाला न मिला गुनगुनाने के लिये चाहिये कोई तो फिजाँ ...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  March 30, 2015, 10:59 am
व्यस्तता की वजह से होली पर लिखा गीत होली के मौके पर पोस्ट नहीं कर पाई  ....आँखें मलती उठ बैठी है , होली में मन रँग बैठी है एक उजास है अँगना में , चूनर अपनी रँग बैठी है सरक-सरक जाये है चुनरी ,गोरी खुद हल्कान हुई है दूर खड़े हैं कान्हा तब से , राधा जैसे मगन बैठी है ...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  March 17, 2015, 2:57 pm
ये जो हाले-दिल तुम्हें हम सुना न सकेफासले दिलों के भी हैं ,जो मिटा न सकेतुम्हारे तरकश में तीर शब्दों के हैंज़ख्मी-जिगर निशाँ ,आज तक भुला न सकेउम्र भर पूछते रहे ज़िन्दगी का पता हीफूल तेरी चाहत के ,अरमान खिला न सके   धूप ही धूप उतर आई है शब्दों में छाया कितनी भी रही , ...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  February 24, 2015, 11:24 am
वो आया तो ऐसे आया ,जैसे हो साँझ का कोई झुटपुट साया हाथ से फिसला वही लम्हा ,समझा था जिसे , जीने का सरमाया हमने देखे हैं गुलाब महकते हुए भी ,काँटों पे चल के , ये हमने क्या पाया सजी हुई थी चाँद तारों की महफ़िल ,फिर ये सानिहा सा क्यूँकर आया दाँव पर दिल ही लगा ,हर बार ,किसके पा...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  February 8, 2015, 3:44 pm
ऐ मुहब्बत मेरे साथ चलो  के तन्हा सफ़र कटता नहीं    दम घुटता है केसाहिल का पता मिलता नहीं   जगमगाते हुए इश्क के मन्जर  रूह को ऐसा भी घर मिलता नहीं    तुम जो आओ तो गुजर हो जाए  मेरे घर में मेरा पता मिलता नहीं    लू है या सर्द तन्हाई है एक पत्...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  February 2, 2015, 11:57 am
न बुलाओ हमें उस शहर में किताबों की तरह बयाँ हो जायेंगे हम जनाज़ों की तरह मुमकिन है खुशबुएँ जी उट्ठें किताबों में मिले सूखे गुलाबों की तरह जाने किस-किस के गले लग आयें हाथ से छूट गये ख़्वाबों की तरह यादों के गलियारे कहाँ जीने देते चुकाना पड़ता है कर्ज किश्तों मे...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  January 21, 2015, 7:58 pm
जाओगे कहाँ कोई सत्कर्म करने तुम चेहरे पे खिला दो किसी के तुम कोई मुस्कान लो हो गया भजन , लो हो गया भजनघर में हों गर माँ-बाप दादा-दादी से बुजुर्ग तन-मन से करो सेवा ,अपना जनम सफल खिल जायेगा उनकी दुआओं का चमन लो हो गया भजन , लो हो गया भजनबन कर के किसी पेड़ से , तुम सह लो सार...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  January 13, 2015, 12:06 pm
तुम्हारी आँखों में हौसला चमकता बहुत है तुम्हारे आस-पास समाँ महकता बहुत है तुम्हें छू कर जो आतीं हैं हवाएँ इनकी नमी से अपनापन टपकता बहुत है तुम्हारे आ जाने से आ जाती है रौनक यादों की क्यारी में तुम्हारा चेहरा दमकता बहुत है तुम्हारी पलकों पर रक्खे हैं जो ख़...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  December 24, 2014, 6:20 pm
मुझको इस दुनिया ने दिया भी तो क्या मेरी निष्ठा पर है सवाल लगा , कद्र-दाँ न मिला सारा गगन है झुका , ज़मीं है नहीं क़दमों तले सो गये नज़ारे भी , ख़्वाबों के सितारे भी दो कदम चल के , मेरे अरमान सारे भीये मोहताजी है क्यूँकर , भीड़ में तन्हा है जहान सारा ही इम्तिहान की घड़ियाँ , व...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  December 12, 2014, 3:16 pm
सपने ओढूँ ,सपने बिछाऊँमगर हकीकत से जी न चुराऊँकुछ ऐसी करनी कर मौला मेरी ज़िन्दगी में भी ,कोई रँग तो भर मौला कितना खोया , कितना पाया लाख सँभाला ,कहाँ टिक पाया चला-चली का मेला है बेशक मेरे हिस्से में भी , कोई रहमत तो कर मौला किसी ने दस्तर-खान बिछाया किसी ने पँखों क...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  December 1, 2014, 11:53 am
है अदब भी फासले के दूसरा नाम होती है यूँ भी इबादत कभी-कभी जंजीरों की तरह रोक लेतीं हैं जो दीवारें भी बोलतीं हैं राहों की इबारत कभी-कभी चुप हो के भले बैठे दिखते हैं जो करते हैं वो भी बगावत कभी-कभी है आसाँ नहीं हवाओं का रुख मोड़ना करता है ज़मीर ही खिलाफत कभी-कभी&n...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  November 16, 2014, 12:39 pm
A few lines for my loving daughter ...अपने क़दमों से तूने नापी दुनियादिल बड़ा मुझे करना पड़ातेरी उड़ानों में है आगे बढ़ने का मज़ा दिल कड़ा मुझे करना पड़ासूरज वही , चन्दा भी वही ,तुझसे जुदा ,घूँट ये भी मुझे भरना पड़ासुनूंगी ,महसूस भी करुँगी तुझेझप्पी जादू की से महरूम मुझे होना पड़ाशाम होते ही आते लौट पर...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  November 7, 2014, 1:15 pm
आसमाँ में चन्दा ,झिलमिल तारों की छाया रात के अन्तिम पहर में जग कर बैठ सुहागन सर्घी करतीअन्न दही फल मेवा मिष्ठान और नारियल शगुनों भरी है थाली करवा-चौथ का व्रत है साजनअपने प्रिय की है वो प्रेयसि नस-नस में रँग भरती   निर्जल व्रत है , सोलह श्रृंगार कर सज-धज कर ...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  October 11, 2014, 3:01 pm
उन्हें ये है ऐतराज़ के हम खुश रहते क्यूँ हैं घड़ी-घड़ी रह-रह के यूँ मुस्कराते क्यूँ हैं बड़ी मुश्किल से आये हैं इस मुकाम पर फिर पुरानी राह हमें वो दिखलाते क्यूँ हैं अपने सीने में भी धड़कता है दिल हो जा ज़िन्दगी से महरूम बतलाते क्यूँ हैं हमें मालूम है दुनिया का चलन&...
गीत-ग़ज़ल...
Tag :
  September 18, 2014, 10:16 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3666) कुल पोस्ट (165905)