Hamarivani.com

नमस्ते namaste

तना झुक गया है,फिर भी, तन कर चुनौती दे रहा है, आने वालेसमय कीअनिश्चितता को ।या झुक करसलाम कर रहा है,सर पर तनेनीले आकाश कीअसी...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  July 14, 2018, 2:34 pm
फूलों की माला गूँथनामन के भाव पिरोने जैसा है ।बिना बिंधे बिना बंधेफूल वेणी मेंठहर नहीं सकते ।यदि बिखर गएतो माला बने कैसे ?अनुभव की चुभन बिनाफूलों में पराग कैसा ?रंग और सुगंध बिना फूल अर्पित हों कैसे ?फूलों की सरल सरसता।भक्ति की पुनीत भावना ।दोनों जब खिलते हैं,माला में ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  July 4, 2018, 11:34 pm
चाह कर भी संभव नहीं होता सदा,दर्द कम करना किसी का ।दर्द कम करना तुमने चाहा,इतना ही बहुत है ।क्यूंकि,वक़्त बदलता है ।वक़्त की फ़ितरत है ।हमदर्द बदलता है ।ये भी हक़ीक़त है ।ये कौन नई बात है ?सबके अपने हालात हैं ।पर मन भी हठधर्मी है ।आस नही छोड़ता ।कई बार चोट खाता है ।पर हर बार आस बं...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  July 2, 2018, 1:40 pm
घर के खिड़की - दरवाज़े इन दिनों बंद करते वक़्त बहुत आवाज़ करते हैं ।  जैसे घर में रहने वालों के अहम टकराते हों बात बात पर । कल की तूफ़ानी बरसात मेंघर के बाहर पहरेदारी करता बड़ा छायादार पेड़ भी धराशायी हो गया ।घर के भीतर और बाहर अब पड़ने लगी हैं दरारें ।मैं ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  June 29, 2018, 10:31 pm
ये इत्तफ़ाक नहीं है ।सीमा पर तैनात जवानरोज़ शहीद हो रहा है ।तब जाकर इस देश काहर आदमी चैन से सो पा रहा है ।वो अपना फ़र्ज़ निभा रह...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  June 15, 2018, 11:39 pm
अंजुरी भर जल मेंआकाश की परछाईं है ।मिट्टी के छोटे से दीपक नेसूरज से आंख मिलाई है ।घर के टूटे-पुराने गमले मेंहरी-हरी जो कोपल फूटी है ।उसने अनायास ही मेरे मन मेंजीवन के प्रति निष्ठा रोपी है ।हो सकता है ये बात अटपटी लगेपर धूप ने भी अपनी मुहर लगाई है ।...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  June 11, 2018, 12:03 am
दहकते नारंगी बेल-बूटेकढ़े हुए हैंउस पेड़ केहरे उत्तरीय पर,जिसके पास सेमें रोज़ गुज़रता हूँ ।मुस्कुराते हुए,हाथ हिलाते हुए,सोचते हुए...कड़ी धूप में हीखिलते हैं गुलमोहर ।ये याद रहे ।...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  June 9, 2018, 11:46 pm
सब हिसाब मांगते हैं ।  पल-पल का  हिसाब मांगते हैं ।बच्चे अपने माँ-बाप से  गिन-गिन कर हिसाब मांगते हैं। पूछते हैं बार-बार गुस्से से, आपने हमारे लिए क्या किया ?जो किया क्या वो काफ़ी था ?जो नहीं किया उसका हिसाब कौन देगा ?पति-पत्नी एक दूसरे से,  एक दूसरे के परिवारो...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  June 1, 2018, 7:27 pm
माँ की झिड़की में माँ का दुलार,माँ की महिमा अपरंपार !जितने माँ ने कान उमेंठे,उतने मेरे भाग जागे। माँ का रूतबा शानदार ! शाही फ़रमान है होशियार !माँ के हाथ में अदृश्य तलवार,भागें भूत के नाना प्रकार !माँ ने जब-जब आँख तरेरी,टेढ़ी ग्रहदशा हो गई सीधी। माँ की खा-खा नित फटकार,सुध...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  May 17, 2018, 7:19 pm
हर नया दिन एक फूल की तरहखिलता है,और कहता है  . .उठो जागो !बाहर चलो !शुरू करोकोई अच्छा काम,लेकर प्रभु का नाम ।आगे जो होगासो होगा,अभी तोकोशिश करो,बन जाएं बिगड़े काम ।देखो, मुझे भी पता है ।कुछ देर की छटा है ।जो खिलता हैमुरझाता है ।पर जब तकखिलता है,मुस्कुराता है ।भीतर जंगल...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  April 27, 2018, 10:37 pm
मेरे ज़हन में एक किताब है, जिसे बड़े जतन से संभाल कर रखा मैंने ।  ये किताब  . . किताब नहीं इबादत है ।इसमें दर्ज हैं वो सारी बातें, जो सच्चे मन से चाही थीं कभी  . . कुछ करते बनीं,कुछ रह गईं रखी मेज़ की आख़िरी  दराज में ।     हो  सकता है, कभी कोई मेर...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  April 23, 2018, 11:50 pm
जो कह कर भी कही ना जा सकीं,उन बातों की छाप ही कहलाती है कल्पना ।कागज़ ,कैनवस या  मन का कोना,कहीं भी लिख डालो ,या रंग दो  . . जो उस वक़्त सही लगता हो, जब  ह्रदय में उठा हो ज्वार या उमड़ी हो वेदना । कह ना पाओ तो कोलाज बनाओ अनुभूतियों का । या सजाओ  रंगोली या ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  April 1, 2018, 8:03 pm
चलते रहो ।मुसलसल सफ़र में रहो ।मंज़िल तक पहुंचो,ना पहुंचो ।चलते रहो ।मील के पत्थरों से राह पूछो ।बरगद की छांव में कुछ देर सुस्ता लो ।नदी के बहते पानी में तैरो ।धूप में तपो ।रास्ते की धूल फांको ।बारिश में भीगो ।आते-जाते मुसाफ़िरों का हाल पूछो ।जिसे ज़रूरत हो,उसकी मदद करो ।जह...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  March 31, 2018, 11:45 pm
तुम एक शायर हो ।तुम्हें पता है ? ना जाने कितने लोगों का आसरा तुम्हारा पता है ।जिस पते पर मन ही मन में, इन लोगों ने अपने दिल का हाल लिख भेजा है ।  तुम्हारे दिल तक उनका पैग़ाम पहुंचा है क्या ?अगर हाँ  . . तो ख़याल रखना इनका । हज़ारों की तादाद में,या अकेले , ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  March 28, 2018, 2:52 pm
कौन कह सकता है ,सूरदास देख नहीं सकते थे ?सूर की दृष्टि से ही हर भक्त ने कृष्ण लीला का भावमय दर्शन किया ।बिना जाने कौन मान सकता था ?हेलेन केलर ना सुन सकती थीं ,ना देख सकती थीं ।पर जानती सब थीं ।    उनसे ज़्यादा भरपूर जीवन किसने जिया ?सारे संसार को उन्होंने प्रस...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  March 28, 2018, 11:16 am
एक ठण्ड ऐसी होती है,जो हड्डियों से उतरती हुई, भीतर तक -सब कुछ जमा देती है ।ऐसी ठण्ड में काम आता हैकिसी के हाथ का बुना स्वेटर ।अक्सर ये माँ के हाथों का बुना होता है ।क्योंकि अब तो सब बना - बनाया मिलता है ।हाथ का बुना स्वेटर बड़े काम का होता है ।इसमें बुनने वाले का प्यार बुना ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  March 28, 2018, 10:50 am
बुआ कहती थीं,कड़ाके की ठण्ड में जब तक हाथ के बुने स्वेटर ना पहनो चैन नहीं पड़ता  . . जाड़ा सहन नहीं होता ।हाथ के बुने स्वेटर में बुनी होती हैं बुनने वाले की भावनाएं ।जितने दिन स्वेटर बुना गया होगा,जिसके लिए बुना गया उसे ऊन के फंदे चढ़ाते - उतारते बहुत याद कि...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  March 22, 2018, 11:47 pm
होली बहुत कुछ दे जाती है ।दुःख देती हैं जो मान्यताएं ,उन्हें होम कर देने का साहस ।मनमोहक रुपहले रंग जीवन में, निरंतर घोलने की चाहत ।झूठी अपेक्षाएं ,थके-हारे मन के क्लेश,निरर्थक दंश,सब ध्वस्त करने का मनोबल ।होलिका दहन में भस्म करते हुए टूटा . . पुरान...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  March 1, 2018, 9:32 pm
...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  February 23, 2018, 11:52 pm
कुछ बातें गड़ती हैं कलेजे में ऐसे, जैसे शब्द बन गए हों शूल ।और कुछ बातें, धीरे - धीरे खिलती हैं मन के ताल में,मानो कमल के फूल । ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  February 20, 2018, 9:49 pm
बातें बीज की तरह होती हैं ।जो बो दो ,वही उपजता है मन उपवन में ।इसीलिए तो कहीं उगते हैं कैक्टस ,कहीं बबूल के कांटे ,कहीं सरसों के खेत लहलहाते ,कहीं अमर बेल, और कहीं खिलते हैं दूर दूर तक, बेशुमार, फूल ही फूल ।   ...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  February 20, 2018, 1:57 pm
एक हुए थे निराला सूर्यकांत त्रिपाठी निराला । जिनकी कालजयी रचना, राम की शक्ति पूजा, शूरवीरों की आराधना, अब तक अलख जगाती है ।एक सपूत भारत माता के बहादुर सिपाही ये -कॉर्पोरल ज्योति प्रकाश निराला । जिस शूरवीर ने कर दिखाया, वास्तव में कैसे निभाई जाती है&nb...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  January 26, 2018, 4:03 pm
Anonymous soldiersof peace,Quietly,Lay down their lives,Fightingon the battlefield,for the freedomof their country.Their countrymenThose who are wise,from their securehome's comfort,close their eyes,with a condescending sigh,sipping tea coffeefrom a smug mug,endlessly analyze and collectively philosophize....
नमस्ते namaste ...
Tag :
  January 26, 2018, 1:57 pm
क्यों हो जाती हैं विदा घर से बेटियां ?गुपचुप सोचते हैं सदा दुनिया भर के पिता ।सूना हो जाता है आँगन सारा,जब-जब चली जाती है बिटिया ।  कोई नहीं रखता ध्यान इतना,बिना कहे जितना करती हैं बेटियां ।घर आते ही पानी का गिलास देना ।सामान का थैला हाथ से ले लेना ।बटुआ और चश्मा ढू...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  January 19, 2018, 2:52 pm
...
नमस्ते namaste ...
Tag :
  January 14, 2018, 3:43 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3801) कुल पोस्ट (179758)