Hamarivani.com

आरामकुर्सी से-

दिसम्बरका वक्त था। छठी में दाखिला हुआ था। आज भी याद है वो रविवार का दिन था।सहारनपुर के हकीकत नगर में हम रहते थे। करीब जीरो डिग्री सेल्सियस की सर्दहवाओं के चलते पतंगबाजी करना मेरे लिए प्रतिबंधित था। चोरी-छिपे मैंने एकखास जगह छिपाई हुई पंतग और मांझा निकाला और दबे पांव छ...
आरामकुर्सी से- ...
Tag :
  July 12, 2018, 10:59 pm
हम लोग सिक्रेट एजेंट हैं, यह बात सिर्फ दो ही लोगों को पता थी, एक तो मुझे, और दूसरा गुड्डू को।सिक्रेट मेंटेन करना ही सिक्रेट एजेंटों का सबसे बड़ा दायित्व है, और हम इस बात को खूब जानते थे।किसी को पता नहीं था कि हमारा गुप्त दफ्तर कहां है। दफ्तर के खुलने और बंदहोने का समय क्या ...
आरामकुर्सी से- ...
Tag :
  July 12, 2018, 10:54 pm
मिडिल स्कूल में गणित के मास्टर श्री राम दुलार सिंह क्षेत्र के जानेमाने अध्यापक थे. शिक्षा और चरित्र को वह एक सामाजिक मिशन के रूप में लेतेथे. सुबह दोपहर शाम मास्टर साहब के दरवाजे सभी छात्रों के लिए समान रूप सेखुले रहते. बिना भवन के स्कूल में  मास्टर साहब पीपल के पेड़ के ...
आरामकुर्सी से- ...
Tag :
  June 16, 2018, 5:25 pm
बहुत छोटी सी थी मैं, लगभग साढ़े तीन वर्ष की, घर हमारा शिवाजी पार्क सेमात्र 20 क़दम की दूरी पर है. बहुत बड़े चौराहे को पार करते ही एक बुक स्टॉलथा, काफ़ी बड़ा सा.हिंदी, अंग्रेज़ी, मराठी, गुजराती अख़बार, पत्र पत्रिकायें, कॉमिक्स की एक रंग बिरंगी दुनिया थी मानो.घर में सबसे छोटी होने कीव...
आरामकुर्सी से- ...
Tag :
  May 23, 2018, 8:43 pm
(भूमिकागुरुवार को भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रारिपब्लिक टीवी न्यूज चैनलपर बैठे बाकी हिंदुओं पर चिल्ला रहे थे, ‘आप लोग सूडो हिंदू हो’, ‘आप लोगों को हिंदू बोलने में शर्म आती है’,‘नकली हिंदू’.और फिर घनश्याम तिवारी जो कि समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता हैं ‘मौलानाघनश्याम’ ब...
आरामकुर्सी से- ...
Tag :
  May 23, 2018, 8:29 pm
बात थोड़ी संजीदा है। भारतीय रेल से हम सबका थोड़ा-बहुत लगाव है। कुछ भावनात्मक रिश्ता जैसा भी है। बचपन में हम सब कतारबद्धहोकर रेल का खेल खेलते थे। अगूंठे और उँगलियों के बीच समकोण बनाकर सीटीबजाई जाती थी। छोटी जगहों पर तो आज भी लोग नियमित रूप से टहलने के लिएस्टेशन ही जाते है...
आरामकुर्सी से- ...
Tag :
  April 21, 2018, 7:16 am
... कल परिवार की शादी में सम्मिलित होने जब हम होटल पहुँचे,तोदूल्हा-दुल्हन स्टेज़ से नदारद थे।मालूम हुआ कि दुल्हन सहित परिवार की सभीमहिलाएँपार्लरसे तब तक होटल नही पहुँचीहैं। आजकल सभी शादियों में अमूमन आखरी दिन तक यही हाल होता है। शादी केदिन घर की सभी गाडियाँ पार्लर, बुट...
आरामकुर्सी से- ...
Tag :
  April 20, 2018, 7:56 pm
'मुसलमानों के यहाँ से रवायतें ख़त्म हो रही हैं..पहले मुसलमान ख़ुद रंग खेलते थे.आज के दौर में होली के रंग की छींट पड़ जाने सेकई बार दंगे तक हो चुके हैं.हमारे आज़मगढ़ के गांवों के मुसलमान किसानोंका एक त्योहार होता था 'ऊख बुवाई'मतलब खेतों में गन्ना बोनेकात्योहार..शारिक़ ने ...
आरामकुर्सी से- ...
Tag :
  April 20, 2018, 7:54 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3801) कुल पोस्ट (179758)