POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: आर्यन

Blogger: sharadindu shekhar
जल जंगल जमीन ने कब कहा नदियों में बहेगी खून की धारजल जंगल जमीन ने कब कहा हरियाली पहनेगी खूनी हारजंगल से पूछा है तुमनेअमन चाहिए या चित्कारनदियों से पूछा  है तुमनेजल चाहिए या रुधिर धारकिसने दी आवाज तुमको कब लगाई  है गुहारदेकर वास्ता भलाई का कर रहे  हो अत्याचार जंगल ... Read more
clicks 119 View   Vote 0 Like   10:23am 15 Apr 2018 #
Blogger: sharadindu shekhar
नीम का पेड़मूक-मौन खड़ा हैदशकों सेलड़ता रहा हैतपिश से छांव के लिएनिःशब्द सवाल करता हैइंसान सेजाति-धर्म काविधान क्या है?इंसानियत कासंविधान क्या है?लोग आते हैंसुस्ताते हैं,चले जाते हैं दशकों सेक्रम जारी हैजवाब के इंतजार में यू्ं ही खड़ा हैनीम का पेड़... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   9:27am 30 Dec 2017 #
Blogger: sharadindu shekhar
इस अंधेरी बस्ती में,उम्मीद की लौ जलती है|टूटे हुए छप्पर में,गरीबी सिसकती है|लिहाफ के छेद में,सपने हजार पलते हैं|सूरज की ईष्या से,पलभर में दरकते हैं |दिन के उजाले में,सन्नाटा पसर जाता है|बस्ती की गलियों में,भूख जो टहलती है|अखबारों, इश्तिहारो में,विकास की बाते हैं|कोई तो पत... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   10:23am 27 Dec 2017 #
Blogger: sharadindu shekhar
शहर में पसरा सन्नाटा कुछ कह रहा हैलेकिन उनके पास वक्त नहीं दरअसल वो देशहित चिंतक हैंउनके अपने विचार और आदर्श हैंवे विमर्श करेंगे वर्तमान हालात पर प्रकाश डालेंगे कूटनीति परवे राष्ट्रभक्त हैं और बुद्धिजीवी भी हैंवे सिर्फ सवाल तय करते हैंअधिकार है उनका, देश खतरे में ह... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   9:58am 27 Dec 2017 #
Blogger: sharadindu shekhar
गीत या गजल बन कर दूंगा जब आवाज मैंगुनगुना लेना तुम बन जाउंगा राग मैंइश्क़ को सजदा करेंगे, तारे जगमगाएंगेआशिकी की दास्तां संग तेरे गुनगुनाएंगेचुपके चुपके चांद संग चांदनी भी आएगीप्रीत की चुनरिया ओढ़े प्रेम गीत गाएगीरागिनी बन जाना तुम बन जाउंगा साज मैं |इश्क नेमत है खु... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   9:08am 25 Dec 2017 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post