POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: काँव -काँव

Blogger: निर्मल गुप्त
एक ऐसे इतिहासकार को भुला दिया जाना वास्तव में दुखद है ,जिसने मेरठ के भूले बिसरे स्वतंत्रता सेनानियों को यथोचित गौरव दिलवाने का महत्वपूर्ण कार्य  किया .क्या मेरा शहर इतना कृतघ्न कभी-कभी वाकई अफसोस होता है। दुख भी होता है। यह जानकर कि महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के बाद भी ... Read more
clicks 370 View   Vote 0 Like   5:15pm 9 May 2012 #
Blogger: निर्मल गुप्त
 आजकल पांडेजी बहुत परेशान हैं |वह सरकारी मुलाजिम हैं फिर भी परेशान हैं |आमतौर से सरकारी महकमों में काम करने वाले कम ही परेशान हुआ करते हैं |उनका तो मुख्य काम होता है हर उस शख्स को हैरान परेशान करना जो उनके पास अपनी कोई काम या  दरख्वास्त लेकर आये |वह जनता की हर चाहत को लालफी... Read more
clicks 202 View   Vote 0 Like   3:01am 30 Apr 2012 #
Blogger: निर्मल गुप्त
चर्चा के चरखे पर चिंता चर्चा की कपास ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,                  मेरे शहर में आजकल चर्चाओं के चरखे पर अपनी –अपनी दुश्चिंताओं  की कपास खूब काती जा रही है |वैसे तो यह समय गर्मी के मौसम के आगमन की पहली सूचना के साथ मच्छरों  मक्खियों और विद्युत विभाग  को गरियाने का है |नौचंदी के मेल... Read more
clicks 240 View   Vote 0 Like   3:19pm 1 Apr 2012 #
Blogger: निर्मल गुप्त
                         एक समय वो भी था जब पत्र बड़ा कमाल करते थे |इनके जरिये एक दिल से दूसरे दिल तक प्यार की पींग पहुँच जाती थी |तब न एसएमएस था न एमएमएस ,न मोबाईल फोन ,न  इंटरनेट   और न हीं  फेसबुक |फेस टू फेस प्यार का  इज़हार संभव ही नहीं था  |लड़कियों के अभिभावक हाथ में मज़बूत डंड... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   7:31am 29 Mar 2012 #
Blogger: निर्मल गुप्त
                                                                  हाल ही में संपन्न हुए प्रदेश विधानसभा चुनावों में अनेक लोगों की नाक दांव पर लगी थी |हर ओर एक ही खतरा था कि कहीं नाक न कट जाये और परिणाम आये तो आंकड़े बताते हैं कि कटी नाक वालों को निर्विविवाद रूप से बहुमत मिला |जीतने वाले क... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   2:50pm 15 Mar 2012 #
Blogger: निर्मल गुप्त
खौफनाक आशंकाओं के बीच जैसे-तैसे रात बीती और  मुझे मेरे  मोबाइल के आलार्म  ने अत्यंत कर्कश ध्वनि में  सूचना दी कि सुबह के चार बज गए हैं |कायदे से तो यह ब्रह्म मुहूर्त है पर मेरे लिए मतदान की प्रक्रिया को सुचारू रूप से चलाने के गुरुतर दायित्व से भरी  एक ऐसी छद्म सुबह का  आगा... Read more
clicks 205 View   Vote 0 Like   4:32pm 3 Mar 2012 #
Blogger: निर्मल गुप्त
                                  मेरे शहर के युवा आजकल गुस्से में हैं |दिलचस्प बात यह है कि इनके इस गुस्से के पीछे कोई परोक्ष या प्रत्यक्ष वजह नहीं है, फिर भी वो गुस्से में हैं |बहुत दिनों के बाद इन युवाओं को इतना गुस्सा आया है तो कहा ये जा रहा है कि लोकतंत्र के बगीचे में कोई दुर्ल... Read more
clicks 230 View   Vote 0 Like   6:37am 18 Feb 2012 #
Blogger: निर्मल गुप्त
एक समय की बात है एक महानगर में रहती थी एक लड़की जो हँसती हरदम खिलखिला कर ऐसे जैसे बहे कोई उच्श्रंखल नदी अपने तटबंधों से बेपरवाह समय सीमाओं को चिढ़ाती. मुस्कान थिरकती उसके होठों पर पूरे दिन तब जब वह काम में रहती तल्लीन या फिर तलाश रही होती एक बार फिर बेरोजगार होकर अप... Read more
clicks 198 View   Vote 0 Like   4:42am 8 Feb 2012 #
Blogger: निर्मल गुप्त
एक समय की बात ............. एक समय की बात है एक महानगर में रहती थी एक लड़की जो हँसती हरदम खिलखिला कर ऐसे जैसे बहे कोई उच्श्रंखल नदी अपने तटबंधों से बेपरवाह समय सीमाओं को चिढ़ाती. मुस्कान थिरकती उसके होठों पर पूरे दिन तब जब वह काम में रहती तल्... Read more
clicks 227 View   Vote 1 Like   3:20am 8 Feb 2012 #
Blogger: निर्मल गुप्त
देशज मुहावरे में कहा जाये तो मेरे शहर में भी पूरे प्रदेश के साथ चुनावी रणसिंघा बज गया है |सारे राजनीतिक दल अपने जंग खाए भोथरे हथियारों को अपनी मध्ययुगीन सोच के सान पर रगड़ -रगड़ कर चमकाने और धारदार बनाने में लगे हैं |इस बार भी किसी दल के पास जनता के लिए न कोई नए वादे हैं ,न कि... Read more
clicks 196 View   Vote 0 Like   3:44pm 14 Jan 2012 #निर्मल गुप्त current affair
Blogger: निर्मल गुप्त
कुहासे में लिपटी सुबह से मैं और मेरा शहर आजकल जब यह पूछते हैं कि कहो कैसी हो तो उसका जवाब होता है ,ठीक तुम्हारी तरह हूँ ,एक टुकड़ा धूप के लिए बेचैन |उसका यह उत्तर सुनकर शहर मायूस हो जाता है और कुछ देर यहाँ -वहाँ जल रहे अलावों पर हाथ सेंकने के बाद अपने रोज़मर्रा के काम पर बढ़ ... Read more
clicks 225 View   Vote 0 Like   4:14am 11 Jan 2012 #निर्मल गुप्त व्यंग्य
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4019) कुल पोस्ट (193765)