POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: मेरी दुनिया

Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
लो बीता हिन्दी दिवस, खत्म हो गया स्वांग।किचन और ऑफिस चढ़ी, अंग्रेजी की भाँग।अंग्रेजी   की   भाँग,  गटककर  मुर्गा  सोता।अंग्रेजी  रँग  बाल,  रँगे   बाबा   का   पोता।चढ़ छज्जे पर  मेम, बन  गयी  देशी  सीता।हिन्दी हित हर हाथ, दिख रहा एक पलीता।।9198907871क... Read more
clicks 4 View   Vote 0 Like   8:28am 15 Sep 2020 #कविता
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
मैं हिन्दी साहित्य का छोटा सा विद्यार्थी हूँ। सब हिन्दी भाषा की दशा और दिशा पर चर्चा करते हैं तो मैं भी इस पर कभी-कभी विचार करता हूँ। अपने विकास की प्रक्रिया में कोई वस्तु कहाँ है? यह मेरी दृष्टि में महत्वपूर्ण नहीं है अपितु महत्वपूर्ण यह है कि वह वहाँ किन परिस्थितियों ... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   3:03pm 6 Sep 2020 #इतिहास
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
 दिए गये त्रिभुज ABCमें 3 माध्यिकाएं AD, BFव CEहैं|AB= b,BC= aऔर AC= cहै|इनकी लम्बाई के लिए निम्नलिखित सूत्र हैं|  कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके प्रोत्साहित अवश्य करें|... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   2:36pm 31 Aug 2020 #बीजगणित
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
एक #प्राइवेट_शिक्षक की पीड़ाइस कोरोना ने निकम्मा कर दिया।आसमां से ला जमीं पर धर दिया।।इस जुलाई में जिधर भी पग बढ़े,नैन ऊपर किन्तु नीचे सिर किया।धो गया सावन बिना बरसे हमें,आँसुंओं ने बिन बहे उर तर किया।हम बिधाता हैं नए निर्माण के,पा उपेक्षा चहुँदिशा मन भर गया।हम जिए हैं य... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   12:58pm 31 Jul 2020 #जुलाई
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
प्राइवेट विद्यालय विशेषकर ग्रामीण क्षेत्र के आजकल घोर आर्थिक संकट से गुजर रहे हैं। कुछ लोग तर्क देते हैं कि प्राइवेट विद्यालयों ने खूब कमाया उन्हें क्या दिक्कत तो बन्धु कब्र का हाल मुर्दा ही जानता है। पैसा आनी जानी चीज है किसी के पास जमा रहती हो तो रहती हो मेरे जैसे ल... Read more
clicks 25 View   Vote 0 Like   4:46am 16 Jul 2020 #प्राइवेट स्कूल
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
अखण्ड श्री लंकाआजकल अपनी अपनी सीमाओं की सुरक्षा और उनके विस्तार को लेकर जिस तरह चीन, नेपाल जैसे देश लफड़ा मचाये हैं तो मुझे श्री लंका पर तरस आता है। मैंने सुना है वहाँ कभी कोई ब्राह्मण राजा हुआ जिसका नाम था रावण। ये नामुराद राजनीतिज्ञों व नस्लवादियों का भला हो कि उसे रा... Read more
clicks 34 View   Vote 0 Like   3:47am 7 Jul 2020 #लेख
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
दूर कहाँ जायें जिंदगी से उकताकर?यहीं रहते हैं थोड़ी दूरियाँ बनाकर।।ज्यादा प्रेम मुझे हजम नहीं होता,तुम रूठो, मैं खुश रहूँ तुम्हें मनाकर।।चारों ओर समय के अजीब रँग बिखरे,दो चार ही सही ले चलें हम भी चुराकर।।रह लेंगे हम सड़क पर टेन्ट में प्यारे,बनायेंगे नहीं अपना किसी का घ... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   3:42am 22 Jun 2020 #कविता
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
टकले भी चाहते हैं चाँद पे प्रकाश बढ़े,खिले मुखमंडल पे चाँदनी श्रृंगार की।कोई नवयुवती जो हिये प्रेम धारे हो,आये अब सँवार दे जिन्दगी उधार की।मन के महल बीच कम्पनों का वेग बढ़ा,चाहता हिलाना नींव, प्रीति के पहाड़ की।यूपी को जो मिले नही, तो भी कोई बात नहीं, काली हो या गोरी होय, ब... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   4:05pm 16 Jun 2020 #घनाक्षरी
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
अब विद्यालय 15 अगस्त के बाद खुलेंगे। कोई बात नहीं जब चाहे खुलें। किन्तु समस्या आजीविका की है मुझे दूसरों का नहीं पता किसी की समस्याएं मुझसे कुछ कम हो सकतीं हैं किसी की मुझसे कुछ ज्यादा। मेरी समस्या यह है कि गाँव का स्कूल दिसम्बर, जनवरी, फरवरी में फीस प्रायः जमा नहीं होती ... Read more
clicks 22 View   Vote 0 Like   10:23am 8 Jun 2020 #पीड़ा
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
१५/१२/१९९७ओ! मीलकेपत्थरतुम्हेंमेरानमन।पत्थरनहींतुमहोगतागतज्ञानदाता।हैप्रीतजिसकोलक्ष्यसेवहजानपाता।किसदिशामेंऔरकितनाहैगमन।ओ! मीलकेपत्थरतुम्हेंमेरानमन।पथकीमहत्तामूकहोकरभीबताते।भटकेहुओंकोमार्गपरभीतुमलगाते।औरकरवातेवियुक्तोंकामिलन।ओ! मीलकेपत्थर... Read more
clicks 24 View   Vote 0 Like   4:44pm 1 Jun 2020 #तुम्हें मेरा नमन
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
न्यूटन के गति सम्बन्धी तीननियम दोहों में  चलता पिण्ड न रूक सके,रुका न पाए चाल|बिना वाह्य बल के सतत, जड़ता की पड़ताल||1||परिवर्तित संवेग दर,बल के सम-अनुपात|जिधर दिशा संवेग की, वही दिशा बल ख्यात||2||क्रिया-प्रतिक्रिया साथ हो,रहे दिशा विपरीत|बल की मात्रा सम रहे, न्यूटन कहता मीत||3||... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   2:29pm 25 May 2020 #क्रिया-प्रतिक्रिया
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
पहले यूपी, एमपी, दिल्ली, हरियाणा, गुजरात के हैं।फिर केरल, पंजाब, असम, कर्नाटक या बंगाल के हैं।काश्मीर या कलिंग, मराठा हममें कितने देश बसे,कोरोना ने समझाया है भारतीय हम बाद में हैं।।सीमाओं पर बंधन इतने खड़ी चाइना वाल ज्यों,मजदूरों की खातिर क्रोधित होकर नाचा काल ज्यों,जैसे... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   11:34am 22 May 2020 #जन-गण-मन
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
खून पसीना दे शहरों को मजदूरों ने खड़ा किया।समय पड़ा तो शहरों ने ही मजदूरों को डरा दिया।यूँ तो छत पर छतें बहुत थीं थे मालों पर माले।कोई शरण नहीं दे पाया सबने डाले ताले।जो मशीन बन चला रहे थे कारोबार तुम्हारे।नर हो उनको टिका न पाये कुत्तों से दुत्कारे।कल फिर काँधे यही मिले... Read more
clicks 34 View   Vote 0 Like   10:21am 16 May 2020 #कोरोना
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
आज फिर मेरी गुलब्बो मिल गयी बाजार में,हो गयी ज्यादा निपुण अब प्रेम के व्यापार में, माँगती थी मौन होकर आज फिर से चार पल,दे दिए थे एक दिन उसने मेरी मनुहार में||मनुहार मैं बिचारा फँस गया हूँ चक्कियों के पाट में,थी गुलबिया साथ में आई गुलब्बो बाट में,किस तरह चीजें बदलतीं मैं बख... Read more
clicks 45 View   Vote 0 Like   10:10am 14 May 2020 #गुलबिया
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
 यह वीडियो कक्षा ७ में अध्ययनरत बालकों के लिए है| यह "ऐन एलियन हैण्ड" नामक पुस्तक का पहला पाठ है| अंग्रेजी को मातृभाषा हिन्दी में समझाने के लिए यह वीडियो अतीव उपयोगी है| अपने बालक- बालिकाओं को अवश्य देखने के लिए प्रेरित करें व लाभन्वित होने दें|कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करक... Read more
clicks 49 View   Vote 0 Like   7:12am 10 May 2020 #कक्षा-7
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
इन्हें पियक्कड़ मत कहो, बड़ी आय का स्रोत।मदिरा-सागर में बहे, अर्थशास्त्र का पोत।।1।।चड्ढी फटी दिखाइ कर, मत करिये उपहास।उतर कण्ठ से माधवी, हर लेती सब त्रास।।2।।हमने चख पाई नहीं, क्या है इनका दोष।मदिरा के बूते भरे, बड़े-बड़ों के कोष।।3।।मदिरा के कारण विपुल, रचा गया साहित्य।ग़ा... Read more
clicks 37 View   Vote 0 Like   7:14am 6 May 2020 #कविता
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
जिन्हें घृणा बिखरानी जग में उन्हें घृणा बिखराने दो|अपना उर है प्रेम खजाना लुटता है लुट जाने दो|भले-बुरे से जग निर्मित है, साधू हैं शैतान भी हैं|देवासुर संग्राम सतत यदि ठनते हैं ठन जाने दो||1||रातें अनगिन झेलीं हमने कोई नई रात है क्या?सदा म्लेच्छों टकराये कोई नई बात है क्या?... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   3:40pm 25 Feb 2020 #देवासुर संग्राम
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
दिल्ली की पब्लिक प्रिये, फिर से हुई हलाल।माल मुफ्त का हजमकर, चुना केजरीवाल।।1।।पप्पू तब भी फेल था, पप्पू अब भी फेल।जीरो की स्पीड पर, खिसक रही है रेल।।2।।योगी गैंया बैल को, दिल्ली देते भेज।और केजरीवाल का चरवा लेते खेत।।3।।कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके प्रोत्साहित अवश्य कर... Read more
clicks 50 View   Vote 0 Like   4:23pm 16 Feb 2020 #दोहे
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
करना है सम्मान मनुज का,सन्तानों को बता न पाया।निज चरित्र की रक्षा के गुर,क्या देता निज बचा न पाया।जब अपने ही लोगों से है,ल&#... Read more
clicks 61 View   Vote 0 Like   4:19pm 10 Dec 2019 #कविता
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
दिल्ली से जो दिल दहला देने वाला समाचार आया है कि अग्निकांड में 43 लोगों की मृत्यु हो गई है व दो दिन पीछे से जो देश के विभिन्न स्थानों से रेप व रेप पीड़िताओं की मृत्यु आदि के समाचार आ रहे हैं पढ़ सुनकर ऐसा लग रहा है जैसे हम अपने चारों ओर जलती हुई आग से घिरे हैं। तन-मन अशान्त है औ... Read more
clicks 63 View   Vote 0 Like   1:31pm 8 Dec 2019 #लेख
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
आजकल #बनारस-हिंदू-विश्वविद्यालय में #प्रो0-फिरोज-खान की नियुक्ति को लेकर काफी विवाद चल रहा है। कुछ लोग पक्ष में तो कुछ लोग &... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   3:04pm 24 Nov 2019 #लेख
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
राम का नाम रहे औ' रहे अजान भी।गूँजे कुरान  और गीता का ज्ञान भी।हृदयों को जीतकर हम हो गए हिन्दू।प्रीति पूरी धरा से प्यारा ... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   2:23pm 13 Nov 2019 #कुरान
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
दिलों के बीच भी सरहद होती है,जिसकी ऊँचाई बेहद होती है,बन तो बहुत जल्दी जाती है,किन्तु न मिटने की जिद होती है।कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके प्र... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   2:13pm 13 Nov 2019 #दिल
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
महत्वाकांक्षा इतनी बड़ी हो गई कि जनता का निर्णय सिर के बल खड़ा हो गया।  सबसे बड़ी पार्टी होकर भी बीजेपी महाराष्ट्र में सरका... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   11:28am 12 Nov 2019 #लेख
Blogger: VIMAL KUMAR SHUKLA
शमा जलने  से डर जाती,पतिंगे की सँवर जाती।पता है इश्क का खतरा,मगर वो इश्क कर जाती।।1/11/2019 FBबहुत बेचैन थी साकी,न कोई मयकदे आया,न मेरे पास आती तो,सुराही ले किधर जाती।|1/11/2019 FBसजे थे शूल करतल में,बचाने थे सुमन कोमल।जो करता पीर की चिंता,तो फिर माला बिखर जाती।।2/11/2019 FBखुली खिड़की नहीं ह... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   2:27pm 5 Nov 2019 #खिड़की
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3984) कुल पोस्ट (191510)