Hamarivani.com

Dr. Hari Mohan Gupt

 अब पुराना हो रहा है यह मकान,                    देखो खिसकने लगीं ईटें पुरानी,                    झर रहा प्लास्टर कहे अपनी कहानी।           ज रही अब मिटाने पुरानी शान,          अब पुराना हो रहा है...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  July 17, 2018, 10:02 am
राम चरण रज पा सके, कविश्री “तुलसीदास”,चरण वन्दना हम  करें, राम  आयंगे  पास l                                            रामचरित मानस लिखा, तुलसी के हैं राम,                      गुण गायें ह...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  July 13, 2018, 9:54 am
 धर्म आचरण का पालन कर, धर्म जिये जा,अहंकार को  छोड़, छिपा यह  मर्म जिए जा.काम, क्रोध, मद, लोभ, सदा से शत्रु रहे हैं, फल की इच्छा क्यों करता, तू कर्म किये जा. ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  July 11, 2018, 9:24 am
                        पारस मणि श्री राम हैं, सत्संगति संयोग,                        कंचन मन हो आपका,करलो तुम उपयोग l                 राम नाम की ओढनी, मन में स्वच्छ विचार,                फिर देखो  परिणाम  तुम, बहे प्रेम ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  July 9, 2018, 10:10 am
जितनी कम जिसकी इच्छायें, उसकी सुखी  रही है काया,विषय भोग में लिप्त रहा जो, उसने दुख को ही उपजाया.सब ग्रन्थों का सार यही है, सुख दुख की यह ही परिभाषा,तृष्णा, लोभ, मोह को छोड़ो, संतों ने  यह  ही दुहराया....
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  July 5, 2018, 9:26 am
फौलाद की   चट्टान को भी फोड़ सकते हो,कोई कठिन अवरोध हो तुम तोड़ सकते हो l तुम युवा हो, बस इरादा नेक सच्चा चाहिये,सामर्थ  है तुम में, हवा रुख मोड़ सकते हो l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  July 2, 2018, 8:22 am
कवि ही ऐसा प्राणी है जो, गागर में सागर को भरता केवल वाणी के ही बल पर, सम्मोहित सारा जग करता,सीधी, सच्ची, बातें कह कर, मर्म स्थल को वह छू लेता आकर्षित हो जाते जन जन, भावों में भरती है दृढ़ता l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  June 29, 2018, 8:57 am
नभचर,जलचर,जब खेमों में नहीं बंटे हैं,थलचर प्राणी क्यों आपस में लडे कटे हैं,हम में हो सदभाव, सियासी दांव न खेलें,मिल कर रहना सीख सकें हर जगह डटे हैं  ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  June 17, 2018, 11:27 am
ईद पर सभी मित्रों को  शुभ कामनाएं,                             आपका                              डा० हरिमोहन गुप्त ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  June 16, 2018, 6:09 pm
जिसकी बुद्धि प्रखर होती है,वही व्यक्ति मेधावी होता,मेधावी  ही  आगे  बढ़  कर, प्रज्ञावान प्रभावी  होता l अगर विवेकी बनना है तो, बस सत्संग सदा आवश्यक,गुणी, पारखी और विवेकी, वह  ही प्रतिभा शाली होता l...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  June 15, 2018, 8:59 am
जो पीड़ित हो बलात्कार से , इस में उसका दोष रहा क्या ?कब तक वह प्रस्तरवत होगी , पूँछ रही है आज अहल्या ?...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  June 10, 2018, 9:40 am
जग प्रकाशित है सदा आदित्य से, हम प्रगति करते सदा सानिध्य से, कोई माने, या न माने सत्य है,देश जाग्रत  है सदा साहित्य से l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  June 7, 2018, 9:56 am
जग में जो जन्मी प्रतिभायें,उनकी हों जग में चर्चायें,मिल पाए सम्मान यथोचितउनके हित मेरी कवितायें- डॉ. हरिमोहन गुप्त ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  June 5, 2018, 11:28 am
  सेवा भाव समर्पण  ही बस, मानव की पहिचान है,              जिसको है सन्तोष हृदय में, सच में वह धनवान है l              यों तो मरते,और जन्मते,जो भी आया यहाँ धरा पर,करता  जो उपकार सदा  ही, पाता  वह सम्मान है l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  June 3, 2018, 8:45 am
गद्द लेखन की तुलना में कहानी का प्रभाव अधिक होता है l कहानी पढने में और सुनने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है l यदि कहानी पद्द में हो तो और अधिक प्रभावी हो जाती है l“सब सुलझ जाती समस्या , बात नानी की पुरानीबस प्रतीकों में भले हो , एक राजा एक रानीतथ्य के संग हो कथानक , उद्देश्...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :पुस्तकें
  May 31, 2018, 10:18 am
पहली बार पाँव  कँपते  हैं, जब  हम रंग मन्च  पर जाते,किन्तु सतत अभ्यासी बन जो, कला मन्च का धर्म निभाते l द्दढता,  साहस,  सदाचरण से, तन मन उत्साहित हो जाता,जीवन  में  निर्भीक  रहे  जो, सदा सफलता  वे  नर पाते l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  May 31, 2018, 10:06 am
युग कोई भी रहा हो नारी की स्थिति बराबर की कह कर उसका शोषण ही हुआ है l पुरुषों को अधिकार है कि वह बहु विवाह कर सकता है लेकिन नारी नहीं , यदि उसके साथ बलात्कार हुआ हो तो दोष नारी का ही माना गया और उसे दण्डित भी किया गया l इस ओर समाज का ध्यान आकर्षित करने के लिए पौराणिक पात्र ‘अहल...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :पुस्तकें
  May 30, 2018, 11:35 am
पाप पुण्य के गणित को, समझ सका है कौन,मन चाही  है  व्यवस्था, शास्त्र हुये  हैं मौन l                                          पंथों  ने बाँटा हमें, द्वैत और अद्वैत,                      ईश्वर ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  May 29, 2018, 4:29 pm
   महाभारत के एक पात्र एकलव्य की गुरुभक्ति पर अधिकतर लेखकों ने लिखा है पर अँगूठा कट जाने के बाद उसकी मनः दशा क्या रही होगी इस पर लिखा यह काव्य अपना अलग स्थान रखता है l      आज ‘अर्जुन’ , ‘द्रोणाचार्य’ सम्मान तो मिलते हैं पर एकलव्य जैसे पात्र को भी सम्मानित किया जा...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :पुस्तकें
  May 28, 2018, 10:33 am
न्याय की आँखें नहीं , अपितु कान होते हैं वह दोनों पक्षों को सुनकर अपने विवेक से निर्णय सुनाता है , पर यदि न्यायाधीश के आँख और कान दोनों हों और घटना भी उसी के साथ की हो फिर भी वह दूसरे पक्ष को बिना सुने राज्य से निष्काषित कर दे तो न्याय को क्या कहेंगे ?  पौराणिक, धार्मिक, आध्...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :पुस्तकें
  May 27, 2018, 10:55 am
विमाता के प्रणय प्रेम के अस्वीकार करने का दण्ड सम्राट अशोक के पुत्र कुणाल को गरम सलाखों से अपने नेत्रों को खो कर भोगना पड़ा l ऐतहासिक प्रष्ठभूमि पर आधारित सत्य घटना है, खण्ड काव्य “कुणाल,ऐक अप्रतिम त्याग” l                             ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :पुस्तकें
  May 27, 2018, 10:51 am
पहले भारतवर्ष में वर्ण भेद की समस्या गुरुतर थी l शूद्र अंतिम स्वांस तक अस्पर्श्य का नारकीय जीवन जीते थे , पर 14 वीं शातब्दी के मध्य में शूद्र रविदास अग्रगण्य संतों में गिने गए l  एक महान संत एवं कवि की गौरव गाथा एवं सन्देश , जिसने चर्मकार के घर जन्म लेकर समता का सन्देश दिय...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :पुस्तकें
  May 26, 2018, 9:57 am
     महाभारत में कर्ण भी एक पात्र है जिसे राजपुत्र होने पर भी शूद्र का जीवन व्यतीत करना पड़ा था क्योंकि वह कुँवारी माँ कुन्ती का पुत्र था और उसे नदी में प्रवाहित कर दिया गया था l जिसे शूद्र कुल की नारी राधा ने पुत्र मान कर पाला l     शिक्षा गृहण के समय परुशराम से , ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :पुस्तकें
  May 25, 2018, 10:20 am
       बोद्ध काल में अंगुलिमाल एक डाकू था, लेकिन महात्मा बुद्ध ने अपने वार्तालाप के प्रभाव से उसका ह्रदय परिवर्तन किया, और दस्यु प्रकृति से छुटकारा दिलाया l उसी भाव को सामने रख कर आजकल दस्यु समस्या से छुटकारा न मिलने के कारण और उसके समाधान प्रस्तुत करने की दिशा ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :पुस्तकें
  May 25, 2018, 10:16 am
मैनें तो बस गीत लिखे हैं, इनको तुम अपना स्वर दे दो,मैं तो आकार  दिया है, जीवित  रहने  का  वर  दे  दो l  भाषा पर प्रतिबन्ध नहीं हो,छंदों  से अनुबन्ध नहीं  हो,स्वर,लय,गति सब साध सकूं मैं,यह आशिष झोली भर दे दो l उड़ पाऊं उन्मुक्त गगन में,ऐसे आकांक्षा  है  मन  में,एक...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  May 25, 2018, 9:44 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3771) कुल पोस्ट (178855)