POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: (VIKALP) विकल्प

Blogger: j chaube
एक दौर था जब गांधी की आलोचना वामपंथी या क्रान्तिकारी रुझान  होने का प्रथम प्रमाण माना जाता था और गांधी से घृणा करना दक्षिणपंथी होने की ज़रूरी शर्त। लम्बे समय तक गांधी व उनके विचारों को लेकर जहां लेफ्ट पार्टियों में वैचारिक असहमति का वातावरण बना रहा और दक्षिणपंथि... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   8:48am 19 Oct 2019 #
Blogger: j chaube
गांधी की बचाने की ज़िम्मेदारी नई नस्ल पर है : गौहर रज़ा  20 वी सदी में भारत  ने विश्व को दो महान हस्तियां दीं , एक गांधी और एक नेहरू शायर, विचारक एवं वैज्ञानिक गौहर रजा ने उक्त बात प्रभाकर चौबे फाउंडेशन व पत्रकारिता विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में गांधी की 150 वीं ... Read more
clicks 30 View   Vote 0 Like   3:50am 4 Oct 2019 #
Blogger: j chaube
दन्तेवाड़ा की  जीत निश्चित रूप से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की नीतियों और जनोन्मुखी योजनाओं की सफलताकी जीत है । एक बात पर ग़ौर किया जाना ज़रूरी है कि इस उपचुनाव के पूर्व लोकसभा चुनाव में कॉंग्रेस को प्रदेश में करारी हार का सामना करना पड़ा हालांकि कॉंग्रेस ने बस्तर में... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   2:01pm 27 Sep 2019 #
Blogger: j chaube
विगत वर्षों में कॉलेज युनिवर्सिटी में छात्रसंघ चुनाव न कराए जाने का चलन आम हो गया है । तमाम सरकारें इससे बचती हैं और मनोनयन की प्रक्रिया पर ज्यादा जोर देती हैं । विडंबना ये है कि जो भी दल सत्ता में होता है वो चुनाव से बचना चाहता है और जो विपक्ष में होता है वो इसकी पैरवी ... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   11:21am 20 Sep 2019 #
Blogger: j chaube
वरिष्ठ साहित्यकार स्व. श्री प्रभाकर चौबे का लेखजब अंग्रेज यहां आए तो अपने बंगले में काम करने के लिए हिन्दुस्तानियों को रखा। उन्हें काम चलाऊ अंग्रेजी सिखाई और समय के साथ वे सीखते भी चले। इनकी अंग्रेजी को ‘बटलर अंग्रेजी’ कहा जाने लगा। बटलर का मतलब आक्सफोर्ड डिक्शनरी क... Read more
clicks 39 View   Vote 0 Like   11:08am 14 Sep 2019 #
Blogger: j chaube
मुक्तिबोध के एक लेख का शीर्षक है 'अंग्रेजी जूते में हिंदी को फिट करने वाले ये भाषाई रहनुमा।'यह लेख उस प्रवृत्ति पर चोट है जो कि हिंदी को एक दोयम दर्जे की नई भाषा मानती है और हिंदी की शब्दावली विकसित करने के लिए अंग्रेजी को आधार बनाना चाहती है।     भाषा विज्ञानियों का... Read more
clicks 4 View   Vote 0 Like   5:06am 14 Sep 2019 #
Blogger: j chaube
छत्तीसगढ़ की एक विधानसभा सीटदंतेवाड़ापर उप चुनाव की घोषणा हुई है, दूसरी   विधान सभा सीट चित्रकोट  को क्यों छोड़ दिया गया कोई नहीं जानता । दंतेवाड़ा विधानसभा सीट के भाजपा विधायक भीमा मंडावी की नक्सली हमले में मौत हो गई थी, जिसकी वजह से यह सीट खाली हुई थी।  दूसर... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   4:00pm 5 Sep 2019 #
Blogger: j chaube
5 सितंबर को प्रतिवर्ष शिक्षक दिवस मनाया जाता है। अब शिक्षक दिवस ने राष्ट्रीय त्योहार का रूप ले लिया है। इसे एक तरह से राष्ट्रीय त्योहार का दर्जा मिल गया है। शिक्षक दिवस अब विद्यालयों तक ही सीमित नहीं है। पहले केवल स्कूलों में ही शिक्षक दिवस मनाया जाता था। पहले प्राथमि... Read more
clicks 38 View   Vote 0 Like   3:19am 5 Sep 2019 #
Blogger: j chaube
एक सशक्त विपक्ष किसी भी लोकतंत्र की जीवंतता और मूल्यों की रक्षा के लिए बहुत जरूरी है।भारत में मोदी सरकार की वापसी के पश्चात विपक्ष एकदम बिखर सा गया है और देश में विकल्पहीनता की स्थिति सी पैदा हो गई है। देखा जाए तो आजादी के पश्चात से ही देश में सशक्त विपक्ष का घोर अभाव ... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   3:30am 30 Aug 2019 #
Blogger: j chaube
आजादी के दिन छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अन्य पिछड़े वर्ग का आरक्षण कोटा बढाकर    साधने का प्रयास किया है । विगत कई वर्षों से छत्तीसगढ़ का अन्य पिछड़ा वर्ग आरक्षण में अपनी भागीदारी बढ़ाने को लेकर संघर्षरत था । विदित हो कि छत्तीसगढ़ राज्य में अब तक एस... Read more
clicks 11 View   Vote 0 Like   8:53am 18 Aug 2019 #
Blogger: j chaube
गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर ने कहा था , भारत की एकता भावनात्मक एकता में ही नीहित है। अब जबकि कश्मीर से370 की दो उप धाराएं खत्म हो चुकी हैं और कश्मीर के सारे विशेषाधिकार खत्म हो चुके हैं इस बात पर ग़ौर करना जरूरी हो जाता है कि इसमें कश्मीरी अवाम का मन या सहमति कहां है । गौरतलब... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   8:59am 9 Aug 2019 #
Blogger: j chaube
केन्द्र सरकारअपनी दूसरी पारी मेंआर्थिक, राजनैतिक, सामाजिक व सांस्ककृतिक क्षेत्रों में पूर्व तयशुदा एजेंडे पर पूरी शिद्दत व ताकत से लग गई है । सदन में कोई सशक्त विरोध बचा नहीं ये तो सीटों से साफ है  मगर जमीन पर भीविरोध न रहे तो फिर लोकतंत्र में क्या रह जाएगा । मुख्य ... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   3:32am 17 Jul 2019 #
Blogger: j chaube
सुप्रसिद्ध व्यंग्यकार प्रभाकर चौबे का व्यंग्य- चेला के साथ चांटी लगे रहते हैं, इसलिए कहा जाता है - गुरु के चेला चांटी बहुत हैं। चेला का मतलब तो समझ मे आया। चांटी का क्या अर्थ। खींच-कींचकर अर्थ निकाला छत्तीसगढ़ी मे चींटी के चांटी कहते हैं। तो चेला का मतलब प्रमुख चेला और ... Read more
clicks 16 View   Vote 0 Like   11:43am 16 Jul 2019 #
Blogger: j chaube
विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र की 17 वीं लोकसभा में नए भारत के चुने हुए जनप्रतिनिधियों ने जमकर धार्मिक नारे लगाए । चुने हुए जनप्रतिनिधियों के ये नारे अपनी जीत के बहुसंख्यक उन्माद के उद्घघोष के साथ ही अल्पसंख्कों को तिरस्कृत करते से सुनाई दिए ।  विगत  70 साल में पहली बार ... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   3:54am 26 Jun 2019 #
Blogger: j chaube
विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र की 17 वीं लोकसभा में नए भारत के चुने हुए जनप्रतिनिधियों ने जमकर धार्मिक नारे लगाए । चुने हुए जनप्रतिनिधियों के ये नारे अपनी जीत के बहुसंख्यक उन्माद के उद्घघोष के साथ ही अल्पसंख्कों को तिरस्कृत करते से सुनाई दिए ।  विगत  70 साल में पहली बार ... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   3:54am 26 Jun 2019 #
Blogger: j chaube
प्रगतिशीललेखक संघ रायपुर द्वारा  साहित्यकार , वरिष्ठ सम्पादक  स्व. श्री प्रभाकरचौबे की स्मृति में *प्रभाकर चौबे स्मृति संवाद श्रंखला* का पहला आयोजन आजस्थानीय वृंदावन हॉल में सम्पन्न हुआ ।विदित हो कि श्री प्रभाकर चौबे लगभग55 वर्षों तक निरन्तर लेखन करते रहे । गत वर्... Read more
clicks 97 View   Vote 0 Like   6:36am 23 Jun 2019 #
Blogger: j chaube
छत्तीसगढ़ी फिल्मों की 5 दशकों से भी ज्यादा की  यात्रा में आज एक नया और महत्वपूर्ण  अध्याय जुड़ गया । आज  एक छत्तीसगढ़ी फिल्म हंस झन पगली फंस जाबे”  छत्तीसगढ़ के फिल्मकारों की मंशा के अनुरूप  “मल्टीप्लैक्स  में प्रदर्शित हुई । इसी के साथ छत्तीसगढ़ी फिल्मों को ... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   3:40am 16 Jun 2019 #
Blogger: j chaube
अब प्रयोग का नहीं बल्कि पिछले 3 दशकों से जारी बहुसंख्यक ध्रुवीकरण को अमल में लाकर नतीजे हासिल करने का दौर है। भोपाल से प्रज्ञा ठाकुर उर्फ साध्वी प्रज्ञा इसी रणनीति के तहत सोच समझकर दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनाव में उतारी गई हैं। साध्वी प्रज्ञा की लोकसभा दावेदारी को अ... Read more
clicks 30 View   Vote 0 Like   4:00am 10 May 2019 #
Blogger: j chaube
बेगूसराय का चुनाव संपन्न हो गया ।कई लोगों में अब तक इस ऐतिहासिक चुनाव का खुमार छाया हुआ है, मगर खुमार से उबरना जरूरी है । 23 मई को नतीजे कुछ भी हो मगर इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि इस चुनाव में सबसे ज्यादा चर्चा में बेगूसराय और कन्हैया कुमार ही रहे ।  पिछले 2-3 बरसों स... Read more
clicks 104 View   Vote 0 Like   4:06am 3 May 2019 #
Blogger: j chaube
जहां सवाल लोकतांत्रिक प्रक्रिया की पारदर्शिता और विश्वसनीयता को बढ़ाने का हो, वहां संवैधानिक संस्थाओं के बीच किसी तरह का अहं का टकराव नहीं होना चाहिए । लोकतंत्र में जनता ही सर्वोपरी है । जनता का, जनता के लिए जनता के द्वारा सिद्धांत तभी जीवित रह सकते हैं जब तक तंत्र पर ल... Read more
clicks 133 View   Vote 0 Like   3:46am 26 Apr 2019 #
Blogger: j chaube
इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी एक नई रणनीति के तहत बहुलतावाद को दरकिनार कर बहुसंख्यक ध्रवीकरण को प्राथमिकता के साथ विमर्श के केन्द्र में ला रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के स्टार प्रचारक कहे जाने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ साफ तौर पर अपने प्रचार... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   3:22am 19 Apr 2019 #
Blogger: j chaube
नागरिक अधिकार व अभिव्यक्ति की आज़ादी ही एक सभ्य व परिपक्व लोकतंत्र की पहचान होती है । सहमति का विवेक और असहमति का अधिकार ही लोकतंत्र की असली ताकत है । आज कॉंग्रेस अपने घोषणा पत्र में यदि धारा 124 ए को समाप्त करने वसशस्त्र बल विशेषाधिकार अधिनियम (आफस्पा) पर पुनर्विचारकी ... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   3:49am 12 Apr 2019 #
Blogger: j chaube
     2019 का चुनाव प्रचार पूरे शबाब पर है। सभी दल अपनी पूरी ताकत से देश भर में अपनी-अपनी पार्टियों के प्रचार-प्रसार में लगे हुए हैं। सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी अपने 5 साल के शासनकाल की उपलब्धियां गिनाने की बजाय चुनाव को अन्य गैरजरूरी मुद्दों पर केन्द्रित करने की कोश... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   7:47am 5 Apr 2019 #
Blogger: j chaube
आज विश्व रंगमंच पर पढ़ते हैं मोहन राकेश का यह प्रसिद्ध लेखनाटककार और रंगमंच’ जिसमें उन्होंने रंगमंच को नाट्यकार  के नजरिये से  देखने समझने का प्रयत्न किया  है.  आज भी उनके सवाल शंकाएं कितनी प्रासंगिक हैं-  जीवेश प्रभाकर, संपादक---------------------------------------------------    &... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   3:59am 27 Mar 2019 #
Blogger: j chaube
लोकसभा चुनाव 2019 में पिछले कई महीनों से यह अटकलें लगाई जा रही थीं कि युवाओं के बीच अपनी पहचान बनाने वाले जेएनयू के छात्र नेता रह चुके कन्हैया कुमार बिहार में महागठबंधन के उम्मीदवार होंगे। भाकपा के भी केंद्रीय नेताओं से लेकर राज्य नेतृत्व तक यह उम्मीद लगाए बैठे थे कि र... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   4:43am 26 Mar 2019 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post