POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: राहें a hindi poems blog.

Blogger: Archana saxena
आज की हमारी पोस्ट है -ठंड पर हास्यकविताऔर इसका शीर्षक है"मिल गया ठंड का बहाना" ,जिसमें हम आपको हर घर की ठंड की कहानी से रूबरू कराएंगे और इसमें बच्चों द्वारा बनाने वाले बहानों को भी समझाएँगे|ठंड पर हास्यकविता मिल गया ठंडका बहाना आज फिर बच्चों को नहीं नहानावैसे तो नह... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   10:57am 10 Jan 2018 #ठंड पर हास्य कविता
Blogger: Archana saxena
प्रेरणादायी कविता - कभी हंस दो ऐसे भी तुममत ढूंढो सिर्फ बड़ी- बड़ी बजहेंतुम मुस्कुराने के लिए कभी हंस दो ऐसे भी तुमअपना दिल बहलाने के लिए    मत सोचो कल क्या होनाबस जी लो इस लम्हे के लिए  हर लम्हे में बहुत खुशी छुपी है ज़रा जी के देखो औरों के लिएकुछ लोग जीवन में आते हैं... Read more
clicks 63 View   Vote 0 Like   1:04pm 12 Dec 2017 #
Blogger: Archana saxena
नसीब पर कविता "अपना-अपना एक नसीब"यहाँ सब ही का होता है अपना-अपना एक नसीबसदियों से चली आ रहीइस दुनिया की ये ही रीतजो मुझ पर है उसकी मुझको कदर अभी  क्यों होती नहींऊंचे से करना चाहूँ बराबरीपर कभी भी यह सोचा नहींजो मुझ पर है वो भी तो शायदहर किसी को तो मिलता नहींक्यों नही... Read more
clicks 63 View   Vote 0 Like   11:53am 30 Nov 2017 #
Blogger: Archana saxena
जिंदगी पर कविता "इस जिंदगी की कशमकश में "इस जिंदगी की कशमकश में कुछ ख्वाब हुए पूरे पर जो जरूरी थे वो ही बस क्यों रह गए अधूरे दौड़े थे वक़्त से भी आगेऔर छू के भी देख लिए सितारेमगर हम अपनो के ही जज़्बात पढ़ना भूल गएइस जिंदगी की कशमकश में कुछ ख्वाब हुए पूरे पर जो जरूरी थे ... Read more
clicks 132 View   Vote 0 Like   4:00am 26 Oct 2017 #
Blogger: Archana saxena
दिवाली के लिए बधाई संदेश | diwali messages with pictureदोस्तों आने वाली 19 ता. को हमारे देश में और अन्य देशों में भी दिवाली को मनाया जाएगा | दिवाली रोशनी  के साथ -साथ साल का सबसे बड़ा  त्योहार होता है |दिवाली के आने से  कई दिनों पहले से ही जगह -जगह बाज़ार लग जाते हैं|हर तरफ एक चहल-पहल सी दिखाई ... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   4:36am 16 Oct 2017 #
Blogger: Archana saxena
भगवान राम पर कविता भगवान राम पर कविता "राम तुम्हारे देश में क्यों "राम तुम्हारे देश में क्यों बढ़ गया इतना अपराध  फिर से आओ धरा पर तुमकर दो सभी शत्रुओं का नाशविद्द्या के मंदिर थे जो पहले क्यों बन गए व्यापार की दुकान इतना क्या कम था अब तो नित्यछिन रहे बच्चों की मुस... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   6:46am 25 Sep 2017 #
Blogger: Archana saxena
अंधविश्वास पर कविता"कुछ बाबाजी"भोले - भाले लोगों को कुछ बाबजी रोज हैं ठगतेसाइन्स के एक्सपेरिमेंट दिखाखुद को भगवान बताया करतेपर अंदर से ये बहुत मेले अत्याचार महिला पर करते बाहर से दिखावे के लिएब्रह्मचर्य का पालन करते जितना धन ना उद्द्योग्पतियों परखजाने इनके ... Read more
clicks 132 View   Vote 0 Like   1:57pm 27 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
दोस्ती पर कविता                            ऐ दोस्त तुझे दोस्ती का वास्ताऐ दोस्त तुझे दोस्ती का वास्तायूं इस तरह से मुझे छोड़ के ना जाजो वादा तेरा मुझसे हुआ कभी कुछ भी करके तू वादे को दे निभाऐ दोस्त तुझे दोस्ती का वास्ताक्या भूल गया साथ में बिताई जो सुबहेंज... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   1:42pm 24 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
 दिल पर कविताएं दोस्तों ये जो दिल है ना ,कहते हैं बड़ा ही पागल होता है|ये जानकार भी कि अगर आपने किसी से दिल लगाया तो आपको बहुत सारी परेशानियां हो सकती हैं मगर ये कहाँ मानता है | दिल की कुछ नादानी और बचकानी हरकतों को बयान करती यह दो कवितायें पढ़िये| |जब दो दिल मिल गएजब ... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   3:24am 18 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
हास्यकविता "अपने बच्चे कम थे क्या "अपने बच्चे कम थे क्या कि पड़ोस के भी आ गएअब तो लगता है जैसेमेरे बच्चों के भी भाव बड़ेकभी मांगते चिप्स के पैकेटऔर कभी मांगते कुरकुरेनींद तो पहली ही कम मिलती अब होश भी हैं मेरे उड़ गए न जाने शाम तक आते-आतेकितनी बार बर्तन धोने पड़ेंघर को ब... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   4:26am 16 Aug 2017 #हास्यकविता
Blogger: Archana saxena
हास्यकविता "हमारी नैनीताल यात्रा"☂☂☂☂☂☂☂☂☂☂☂जनवरी के महीने में हमनेनैनीताल का प्लान बनायासोचा था के नई साल परछुट्टियों का जाये लुफ्त उठायापर हो गयी बहुत बड़ी गड़बड़रात में आ गयी बारिश झर-झरगये थे हम छोटे बच्चों को लेकरबहुत पछताए फिर वहां जाकर बच्चों को लग गयी उल्टिय... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   4:24am 16 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
हास्य कविता "बबलू भैया की कार "बबलू भईया गाँव चलेनई कार में खूब जचेचश्मे,टोपी में चमकेंस्टाइल दिखाये बिना नहीं रुकेतीन घंटे में जब गाँव पहुंचे उन्हें देख बच्चे उछलेभईया ख़ुशी से बहुत अकड़ेसोचे बच्चे कितना याद करेंपर बच्चे निकल गए साइड सेगाड़ी पर  सब जा चिपकेकोई  बै... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   4:15am 16 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
सेल्फी पर हास्य कविता" हंसती-सेल्फी रोती सेल्फी"दोस्तों इस पोस्ट सेल्फी पर हास्य कविता हंसती-सेल्फी रोती सेल्फी में मैंने अपनी यात्रा के दिलचस्प अनुभव बताए हैं |जो आपको गुदगुदाएंगे|सेल्फी पर हास्य कविता" हंसती-सेल्फी रोती सेल्फी"हंसती-सेल्फी रोती सेल्फीउठते-स... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   4:12am 16 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
सेल्फी पर कविता" हंसती-सेल्फी रोती सेल्फी"हंसती-सेल्फी रोती सेल्फीउठते-सेल्फी सोते सेल्फीबड़े-छोटे सब लेते सेल्फीमुझको भी यह लत लगीपहाड़ पर सेल्फी पानी में सेल्फीपाउट बना बना करना मस्तीनए- नए से पोज़ देने के चक्कर  मेंआईस-क्रीम कपड़ों पर पिघल गिरीइंडिया-गेट पर सेल्फ... Read more
clicks 109 View   Vote 0 Like   4:12am 16 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
भाई के लिए एक प्यारी कविता | छोटा सा है मेरा भाई छोटा सा है मेरा भाई बातें लेकिन बड़ी बनायेतुतला के ऐसे है बोले आधों के समझ न आयें मटक-मटक के नाच दिखाता सारे घर का दिल बहलातारीदी-रीदी कह कर मुझसेमेरे पीछे भागा आताजब भी कोई त्योहार आता  वो तो बहुत खुश हो जातानये- न... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   4:06am 16 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
भाई के लिए एक प्यारी कविता छोटा सा है मेरा भाई बातें लेकिन बड़ी बनायेतुतला के ऐसे है बोले आधों के समझ न आयें मटक-मटक के नाच दिखाता सारे घर का दिल बहलातारीदी-रीदी कह कर मुझसेमेरे पीछे भागा आताजब भी कोई त्योहार आता  वो तो बहुत खुश हो जातानये- नये कपड़े पहनकरबहुत स... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   4:06am 16 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
एक दोस्त की शादी पर दूसरे ने जबर्दस्त खुशी मनाई किसी के कारण पूछने परबोला लो इसकी भी शामत आई इसने मेरा व्यंग बनायाघड़ी-घड़ी था मुझे चिढ़ायाआज घोड़े पर शान से है बैठाजिएगा फिर तो गधे की लाइफमुझको कहता था "जोरू का गुलाम,बिन भाभी इजाज़त कर ले कुछ काम" तब समझेगा मेरे मन की ... Read more
clicks 102 View   Vote 0 Like   4:04am 16 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
कृष्ण जन्म बधाई गीत "आओ सखियों  दे दें बधाई"आओ सखियों दे दें बधाईआज नन्द के लाला आयो हैनाचे जाएँ खुशी मनाएँ वो जगत दुलारा आयो हैलड्डू लाओ मिस्री लाओआकर इसको भोग लगाओवस्तर लाओ पैजनी लाओआकर इसको रूप सजाओ पर काला टीका ना भूल जानापर काला टीका ना भूल जानामेरा कान्हा ब... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   6:11pm 15 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
सैनिकों के लिये कविता | हे वीर जवानसैनिकों के लिये कविता | हे वीर जवानहे वीर जवान तुम्हें प्रणामतुम से ही भारत की शानतुम बलशाली , शौर्यवानहँसते-हँसते तजते प्राणहे वीर जवान तुम्हें प्रणामहे वीर जवान तुम्हें प्रणामतुम पर्वत से भी अटलबिजली जैसे तेजवानतुम्हारी गर्जना स... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   1:02pm 14 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
हे वीर जवान तुम्हें प्रणामतुम से ही भारत की शानतुम बलशाली , शौर्यवानहँसते-हँसते तजते प्राणहे वीर जवान तुम्हें प्रणामहे वीर जवान तुम्हें प्रणामतुम पर्वत से भी अटलबिजली जैसे तेजवानतुम्हारी गर्जना सुन काँपतेथर-थर दुश्मनों के पाँवहे वीर जवान तुम्हें प्रणामहे वीर जवा... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   1:02pm 14 Aug 2017 #
Blogger: Archana saxena
 # रक्षाबंधन पर कविता दूर देश से आई बहनाछोटे भाई को बांधने डोरीआज बहुत हर्षित लगती है पहनकर नई हरी साड़ी हाथ में पूजा की थाली लेकरमन ही मन विनती करती रहे खुशहाल मेरा भैया  है मंगल कामना करती झट से फिर भईया ने भी अपनी कलाई आगे कर दीराखी बँधने के बाद में द... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   11:00am 3 Aug 2017 #रक्षाबंधन
Blogger: Archana saxena
सावन पर कविता"आया सावन सुहाना "ये बारिश की बूंदेदेखकर के दिल झूमेये मिट्टी की खुशबूकर जाए कुछ जादूजो चलें ठंडी हवाएँमन खुद ही गुनगुनाएकोई चिड़िया पंख फड़फड़ाएलगे धुन मधुर सुनायेकहीं मेंढक की टर-टरकहीं कोयल भी गायेहम कागज की कश्ती को फिर से बनाएँचलो झूला झूल आयें  ... Read more
clicks 65 View   Vote 0 Like   3:49am 1 Aug 2017 #सावन
Blogger: Archana saxena
ये बारिश की बूंदेदेखकर के दिल झूमेये मिट्टी की खुशबूकर जाए कुछ जादूजो चलें ठंडी हवाएँमन खुद ही गुनगुनाएकोई चिड़िया पंख फड़फड़ाएलगे धुन मधुर सुनायेकहीं मेंढक की टर-टरकहीं कोयल भी गायेहम कागज की कश्ती को फिर से बनाएँचलो झूला झूल आयें  ऊंची पेंग भी बढ़ाएँलदे अंबियों ... Read more
clicks 101 View   Vote 0 Like   3:49am 1 Aug 2017 #सावन
Blogger: Archana saxena
ये कैसे हैं अनजान रास्ते जिस ओर हम हैं बढ़े चलेलगता है डर कहीं बीच मेंये साथ हमारा ना छूट लेआँधी भी है तूफान भी हैऔर आग का दरिया भी हैदुआ है अब खुदा से यही इन सबको पार कर सकेंये कैसे हैं अनजान रास्ते जिस ओर हम हैं बढ़े चलेखुशियाँ कम और गम भरकर हैंयहाँ रहना आंसू पीकर ... Read more
clicks 104 View   Vote 0 Like   12:25pm 20 Jul 2017 #कविता
Blogger: Archana saxena
जीवन पर कविता | कैसा है जीवन संग्रामकैसा है यह जीवन- संग्रामहोता है बड़ा कठिन यह कामपूरे जीवन इसके ही खातिरहम ना करते बिलकुल आरामजीवन के हर इक मोड़ परसंग्राम बिना कहे संग चल देअपने ही भाई-बहनों संग हमबचपन में खिलौंनों पर झगड़तेऔर जब समझदार हो जाते तोउनसे जायदाद पर उलझ ... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   7:10am 11 Jul 2017 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post