POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: LOKRANG

Blogger: pritima vats
बिहार की समृद्ध संस्कृति के पीछे जो इतिहास है उसमें लोक गीतों और लोक गाथाओं का बहुत हीं महत्वपूर्ण स्थान रहा है। कभी सामा-चकेबा के गीत, कभी करमा देव की पूजा तो कभी ग्राम्य देवी के विभिन्न रूपों की पूजा लोक जीवन का हिस्सा है। गीत-नृत्य के इसी फेहरिस्त में जट-जटिन का लोक न... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   8:45am 30 Jun 2019
Blogger: pritima vats
बॉक्स - सदियों से हर खुशी और गम में शामिल, सुख-दुख की भागीदार बनी चलती रही, पर अब मैं थक गई हूँ। ध्यान लगाकर सुनो तो शायद मेरी आवाज तुम तक पहुँच जाएगी कि बस अब और नहीं, अब और नहीं।सदियों से तुम्हारे कष्टों को हरती आ रही हूँ, तुम्हें जीवन देती आ रही हूँ । कई बार खुश हुई कई बार ब... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   5:44pm 17 Mar 2019
Blogger: pritima vats
आज के बदलते परिवेश में जब हम अपनी परंपरा, साहित्य या संस्कृति की बात करते हैं तो लोकजगत हमें अपनी ओर खींचता है। और यदि हमआदिवासी लोक में झाँकें तो हमें यह खिंचाव कुछ ज्यादा हीं अपनेपन की उष्मा से भरा मिलता है।संताल जनजाति का कोई लिखित इतिहास नहीं है पर इनके बीच प्रचल... Read more
clicks 25 View   Vote 0 Like   11:11am 4 Mar 2019
Blogger: pritima vats
सदियों से मेहंदी हमारे समाज में महिलाओं के श्रृंगार का एक अभिन्न हिस्सा माना जाता है। इसकी महत्ता तो इतनी है कि मेहंदी के बिना महिलाओं का श्रृंगार ही अधूरा माना जाता है। शादी हो या कोई तीज त्योहार भारतीय महिलाएं मेहंदी लगाना नहीं भूलती हैं। चाहे वो किसी शहर में रहती ह... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   11:32am 27 Aug 2018
Blogger: pritima vats
सावन के महीने में शिव जी की पूजा का विधान तो समस्त भारत में है। साथ हीं बिहार, झारखंड समेत देश के कई हिस्से में शिव के साथ-साथ नाग-नागिन की भी पूजा की पूजा बड़े विधि-विधान के साथ की जाती है। यह पूजा खासकर वो औरतें जिनकी शादी नयी-नयी हुई है। यह पूजा पूरे 15 दिनों तक चलता है। इस ... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   12:52pm 30 Jul 2018
Blogger: pritima vats
कभी बिहार के दरभंगा, मधुबनी और नेपाल के कुछ हिस्सों की कच्ची दीवारों पर बनने वाली मधुबनी कला आज अपने देश के हर कोने-कोने में फैल चुका है। अपने देश ही नहीं विदेशों में भी इस कला ने पूरे सम्मान के साथ अपनी उपस्थिति दर्ज करा ली है।मधुबनी कला में पहले जहाँ सिर्फ कच्चे रंगों ... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   12:52pm 22 Jun 2018
Blogger: pritima vats
मार्गशीर्ष के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालभैरव अष्टमी कहा जाता है।कालभैरव जी के जन्मदिवस के रूप में यह तिथि मनाई जाती है। देवताओं की तरह पूजे जानेवाले कालभैरव जी रुद्र के गण हैं, इनकी प्रकृति अत्यंत उग्र तथा क्रोधी है। इनका वाहन कुत्ता है तथा इनके हाथ में त्रिशूल,... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   2:39pm 15 Nov 2017
Blogger: pritima vats
(इस लोकगीत में शिव को मनाने की बात कही जा रही है। किसी को समझ में नहीं आ रहा है कि मतवाले भोलेनाथ की पूजा किस प्रकार की जाए कि वह मान जाएँ।)किए लाए शिव के मनाईब हो शिव मानत नाहीं ।-2बेली-चमेली शिव के मनहूँ न भावे -2आक-धथूरा कहाँ पाईब हो शिव मानत नाहीं।किए लाए शिव के मनाईब हो शि... Read more
clicks 97 View   Vote 0 Like   11:54am 8 Nov 2017
Blogger: pritima vats
इसी आँगन में चलना सीखा,इसी आँगन में खेलकर बड़ी हुई, इसी आँगन में पति के साथ अग्नि के सात फेरे लिए और इसी आँगन की देहरी से विदा हुई। परन्तु जब महानगर के इस छोटे से मकान में आई तो यहाँ आँगन नाम की कोई चीज नहीं है। अब बहुत याद आता है वो आँगन और समझ में आता है उसकी महत्ता।सुबह की... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   2:16am 16 Sep 2017
Blogger: pritima vats
राजू आज भी अपने कमरे में सर पकड़ कर बैठा है, शायद आज भी स्कूल नहीं जा पाएगा। इस महीने यह चौथा दिन है ऐसा कि वह स्कूल नहीं जा रहा है।उसकी माँ राजू के पापा से कह रही है, कितने हीं डॉक्टर को दिखा चुकी पर कोई फायदा हो नहीं रहा। सब डॉक्टर एक ही बात कहते हैं। बच्चे को फिजीकल गेम खे... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   6:23am 17 Aug 2017
Blogger: pritima vats
एक सुबह जब मैं उठी, बहुत ही सुहावना मौसम था मन कर रहा था फिर सो जाऊँ। तब-तक सोती रहूँ जब-तक कि माँ के डाँटने की आवाज न आने लगे। अभी तो माँ प्यार से हम तीनों भाई –बहनों को उठा रही थीं,‘ उठ जाओ बच्चो स्कूल का टाइम हो रहा है।’अचानक माँ की आवाज आनी बंद हो गई, हमने सोचा माँ शायद किच... Read more
clicks 108 View   Vote 0 Like   3:01pm 12 Aug 2017
Blogger: pritima vats
कृष्ण की दो बहने थीं- द्रौपदी और सुभद्रा। द्रौपदी कृष्ण की मुँहबोली बहन थी। जिसे कृष्ण इतना प्यार करते थे कि अपने नाम से जोड़कर एक नाम कृष्णा भी दिया था। द्रौपदी राजा द्रुपद की पुत्री थी,जो उन्हें पुत्र प्राप्ति हेतु किए जा रहे यज्ञ के दौरान दृष्टद्युम्न के साथ हवनकुं... Read more
clicks 108 View   Vote 0 Like   9:38am 11 Aug 2017
Blogger: pritima vats
इन्द्रप्रस्थ के राजा युधिष्ठिर ने राजसूय यज्ञ का आयोजन किया था। सम्पूर्ण आर्यावर्त के सभी जाने-माने राजा इस यज्ञ में आमंत्रित थे। अतिथि सत्कार के बाद अग्रिम पूजा की बारी आई। सबकी सहमति से युधिष्ठिर श्री कृष्ण की अग्रिम पूजा करने आगे बढ़े, ज्योहिं उन्होंने सोने के पर... Read more
clicks 181 View   Vote 0 Like   2:46am 7 Aug 2017
Blogger: pritima vats
हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार सावन का महीना शिव को समर्पित है। कहा जाता है कि इस महीने में शिवजी की विशेष कृपा रहती है अपने भक्तों पर। जो भी व्यक्ति भगवान शिव को प्रसन्न करना चाहता है ,उन्हें सावन के महीने में जरुर शिव की अराधना करनी चाहिए। जो भक्त इस महीने में शिव जी ... Read more
clicks 109 View   Vote 0 Like   9:48am 3 Aug 2017
Blogger: pritima vats
जब चारों तरफ छाई हुई हरियाली हो, किसानों के चेहरे खिले हुए हों, खेतों का रंग हरा हो, महिलाओं के हाथों की चूड़ियों और उनके कपड़ों का रंग हरा हो, रह-रहकर बारिश की बूंदों से मन भींग-भींग जाता हो, मतलब इतना खूबसूरत नजारा मानों पूरी प्रकृति श्रृंगार करके खड़ी हो तब लगता है जैसे ... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   10:16am 2 Aug 2017
Blogger: pritima vats
मर्यादा पुरुषोत्तम राम का जन्म अयोध्या के राजघराने में हुआ था। उनके पिता राजा दशरथ उस समय के सबसे शक्तिशाली राजा थे। बेहद आलीशान तरीके से बीता उनका बचपन,लेकिन बाकी की जिन्दगी में काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा। बहुत ही धैर्य और मर्यादा के अपना जीवन जीने वाले राम अ... Read more
clicks 112 View   Vote 0 Like   2:59am 2 Aug 2017
Blogger: pritima vats
जिंदगी की आपाधापी में हम विलासिता के सामान जुटाने और एक दूसरे से आगे निकलने के चक्कर में कभी ये सोच ही नहीं पाते कि हम किस राह पर चल रहे हैं। हमारा कर्म सही है या नहीं। हम जो काम कर रहे हैं हमारा ज़मीर उसकी गवाही देता है या नहीं।आगे पढ़ने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करें -http:... Read more
clicks 115 View   Vote 0 Like   7:30am 29 Jul 2017
Blogger: pritima vats
http://tz.ucweb.com/7_1tF0M... Read more
clicks 111 View   Vote 0 Like   2:22am 21 Jul 2017
Blogger: pritima vats
सृष्टि के प्रत्येक कण की उत्पत्ति तथा समाप्ति जिस शक्ति से होती है वह शिव हैं। अर्थात जो वस्तु सृष्टि के पूर्व हो वही जगत् का कारण है, और जो जगत् का कारण है, वही शिव है। 108 नामों से जाने-जानेवाले शिव सभी देवी-देवताओं में श्रेष्ठ माने जाते हैं तभी तो इनका एक नाम महादेव भी है... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   6:56am 18 Jul 2017
Blogger: pritima vats
विद्या दान के द्वारा हमारे जीवन को सब प्रकार से सार्थक और सुगम करने वाले गुरू का स्थान हिन्दू धर्म में पिता तथा माता से भी बढ़कर आदरणीय तथा पूज्य है। गुरू को ब्रह्मा,विष्णु और महेश्वर से समान देवता समझ कर पूजा करने की पद्धति हिन्दू धर्म की अपनी विशेषता है। 'आचार्य देवो ... Read more
clicks 121 View   Vote 0 Like   8:54am 7 Jul 2017
Blogger: pritima vats
आदि शक्ति मां भगवती ही ऐसी एक मात्र पूज्यनीया हैं जो संसार के समस्त सांसारिक सुखों को प्रदान करती हुई अपने भक्तों पर कृपा करती हैं और अंत में उन्हें मुक्ति भी देती हैं। अतः मानव को चाहिए कि शक्ति स्वरूपा देवी की साधना उपासना करें।विश्व में बहुत सी जातियां हैं। ढेर सार... Read more
clicks 113 View   Vote 0 Like   12:16pm 3 Nov 2016
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3910) कुल पोस्ट (191391)