Hamarivani.com

स्वप्न मेरे ...

सभी भारत वासियों को स्वतंत्रता दिवस, १५ अगस्त की हार्दिक बधाई और ढेरों शुभकामनाएँ ... एक छोटा सा आग्रह इस गीत के माध्यम से:  हो गए टुकड़े अनेकों चेतना जागी नहीं है क्या तपोवन में कहीं सिंह गर्जना बाकी नहीं है था अतिथि देव भव का भाव अपना दिव्य चिंतन पर सदा लुटते रहे इस बा...
स्वप्न मेरे ......
Tag :गीत
  August 13, 2018, 8:40 am
एहसास ... जी हाँ ... क्यों करें किसी दूसरे के एहसास की बातें,जब की खुद का होना भी बे-मानी हो जाता है कभी कभी ... अकसर ज़िन्दगी गुज़र जाती है खुद को चूंटी काटते काटते ... जिन्दा हूँ तो उसका एहसास क्यों नहीं ...  उँगलियों में चुभे कांटे इसलिए भी गढ़े रहने देता हूँ  कि हो सके एहसास खुद क...
स्वप्न मेरे ......
Tag :एहसास
  August 6, 2018, 8:03 am
हम उदासी के परों पे दूर तक उड़ते रहे बादलों पे दर्द की तन्हाइयाँ लिखते रहे गर्द यादों की तेरी सेंडिल से घर आती रही हम तेरा कचरा उठा कर घर सफा करते रहे तुम बुझा कर प्यास चल दीं लौट कर देखा नहीं   हम मुनिस्पेल्टी के नल से बारहा रिसते रहे कागज़ी फोटो दिवारों से चिपक कर रह गई&n...
स्वप्न मेरे ......
Tag :कचरा
  July 30, 2018, 7:12 am
नफरतों की डालियाँ काटा करोघी सभी बातों पे ना डाला करो  गोपियों सा बन सको तो बोलना कृष्ण मेरे प्यार को राधा करो तुम भी इसकी गिर्द में आ जाओगे यूँ अंधेरों को नहीं पाला करो दुःख हमेशा दिल के अंदर सींचना सुख जो हो मिल जुल के सब साझा करोखिड़कियों के पार है ताज़ा हवा धूल यादों क...
स्वप्न मेरे ......
Tag :गोपियाँ
  July 23, 2018, 7:00 am
चूड़ियाँ कुछ तो लाल रक्खी हैं जाने क्यों कर संभाल रक्खी हैंजिन किताबों में फूल थे सूखे शेल्फ से वो निकाल रक्खी हैं  हैं तो ये गल्त-फहमियाँ लेकिन चाहतें दिल में पाल रक्खी हैं बे-झिझक रात में चले आना रास्तों पर मशाल रक्खी हैं वो नहीं पर निशानियाँ उनकी यूँ ही बस साल साल रक...
स्वप्न मेरे ......
Tag :चिट्ठी
  July 17, 2018, 12:51 pm
हम इसलिए फरेब में आते नहीं ... सुनोआँखों से आँख उनकी मिलाते नहीं ... सुनोअच्छा किया जो खुद ही ये झगड़ा मिटा दियाइतने तो नाज़ हम भी उठाते नहीं ... सुनोमंज़ूर है हमें जो ये है आपकी अदारूठे हुओं को हम भी मनाते नहीं ... सुनोदो चूड़ियों की खनक हमको याद आ गईघर बार वरना छोड़ के जाते नही...
स्वप्न मेरे ......
Tag :
  July 9, 2018, 6:28 pm
किसी की याद के मटके भरेंगेपुराने रास्तों पे जब चलेंगे कभी मिल जाएं जो बचपन के साथी गुज़रते वक़्त की बातें करेंगेगए टूटी हवेली पर,यकीननदिवारों से कई किस्से झरेंगे जो रहना भीड़ में तनहा न रहना किसी की याद के बादल घिरेंगेदिये ने कान में चुपके से बोला हवा से हम भला कब तक डरेंग...
स्वप्न मेरे ......
Tag :अमरुद
  July 2, 2018, 7:35 am
ये दाव खुद पे लगा दिया है तुम्हारे ख़त को जला दिया है तुम्हारी यादों की ईंट चुन कर  मकान पक्का करा दिया है जहाँ पे टूटा था एक सपना वहीँ पे पौधा उगा दिया है शहर में लौटे थे जिसकी खातिरउसी ने हमको भुला दिया है समझ रहा था “का” खुद को अब तक  “ख” आईने ने बता दिया है गुज़रते लम्ह...
स्वप्न मेरे ......
Tag :दाव
  June 25, 2018, 8:16 am
सूरज खिला तो धूप के साए मचल गए कुछ बर्फ के पहाड़ भी झट-पट पिघल गए तहजीब मिट गयी है नया दौर आ गया इन आँधियों के रुख तो कभी के बदल गए जोशो जुनून साथ था किस्मत अटक गई हम साहिलों के पास ही आ कर फिसल गए झूठे परों के साथ कहाँ तक उड़ोगे तुम मंज़िल अभी है दूर ये सूरज भी ढल गए निकले तो कितन...
स्वप्न मेरे ......
Tag :जूनून
  June 18, 2018, 8:38 am
जीत मेरी हो न तेरी हार हो जो सही है बस वही हरबार हो रात ने बादल के कानों में कहा हट जरा सा चाँद का दीदार होनाव उतरेगी सफीनों से तभीहाथ में लहरों के जब पतवार हो है मुझे मंज़ूर हर व्योपार पर पाँच ना हो दो जमा दो,चार हो मौत है फिर भी नदी का ख्वाब है बस समुन्दर ही मेरा घरबार हो इक न...
स्वप्न मेरे ......
Tag :चार
  June 11, 2018, 9:40 am
नहीं जाता है ये इक बार आ करबुढ़ापा जाएगा साँसें छुड़ा कर फकत इस बात पे सोई नहीं वो अभी सो जायेगी मुझको सुला कर तुम्हारे हाथ भी तो कांपते हैं में रख देता हूँ ये बर्तन उठा कर “शुगर” है गुड़ नहीं खाऊंगा जाना न रक्खो यूँ मेरा “डेन्चर” छुपा कर तुझे भी “वाइरल”,मैं भी पड़ा हूँ दिखा आ...
स्वप्न मेरे ......
Tag :ola
  June 4, 2018, 7:51 am
होठ दांतों में दबाना तो नहींयूँ ही कुछ कहना सुनाना तो नहींआप जो मसरूफ दिखते हो मुझे गम छुपाने का बहाना तो नहीं एक टक देखा हँसे फिर चल दिएसच कहो, ये दिल लगाना तो नहींपास आना फिर सिमिट जाना तेरा प्रेम ही है ना, सताना तो नहीं कप से मेरे चाय जो पीती हो तुम कुछ इशारों में बताना ...
स्वप्न मेरे ......
Tag :अदा
  May 28, 2018, 7:02 am
दिन पुराने ढूंढ लाओ साब जी लौट के इस शहर आओ साब जी कश पे कश छल्लों पे छल्ले उफ़ वो दिन विल्स की सिगरेट पिलाओ साब जी मैस की पतली दाल रोटी,पेट फुलपान कलकत्ति खिलाओ साब जी मेज मैं फिर से बजाता हूँ चलो तुम रफ़ी के गीत गाओ साब जी क्यों न मिल के छत पे बचपन ढूंढ लें कुछ पतंगें तुम उडा...
स्वप्न मेरे ......
Tag :गज़ल
  May 22, 2018, 9:44 am
जाने किसने भेजी है पर मुझको तो बे-नाम मिली आज सुबह दरवाज़ा खोला तो अख़बार के नीचे से यादों की खुशबू से महकी इक चिट्ठी गुमनाम मिली टूटी निब, पेन्सिल के टुकड़े, साइकिल की टूटी गद्दी दागी कंचे, गोदे लट्टू, चरखी से लिपटी सद्दी छुट्टी के दिन सुबह से लेकर रात तलक की कुछ बातें बीते ...
स्वप्न मेरे ......
Tag :गीत
  April 16, 2018, 8:13 am
जिनके जीवन में हमेशा प्रेम है, उल्लास हैदर्द जितना भी मिले टिकता नहीं फिर पास है   दूसरों के घाव सिलने से नहीं फुर्सत जिन्हेंअपने उधड़े ज़ख्म का उनको कहाँ आभास हैहोठ चुप हैं पर नज़र को देख कर लगता है यूँदिल धड़कता है मेरा शायद उन्हें एहसास है दिन गुज़रते ही जला लेते हैं अप...
स्वप्न मेरे ......
Tag :एहसास
  April 9, 2018, 10:05 am
लम्हे जो गुम हुए थे दराजों में मिल गए दो चार दिन सुकून से अपने निकल गएडट कर चुनौतियों का किया सामना मगरदो आंसुओं के वार से पल भर में हिल गए दुश्मन के तीर पर ही ये इलज़ाम रख दिया किस किस को कहते यार के खंज़र से छिल गए  इतिहास बन गए जो समय पर चले नहीं  बहते रहे दरिया तो समुं...
स्वप्न मेरे ......
Tag :गज़ल
  April 2, 2018, 9:24 am
सपने पालने की कोई उम्र नहीं होती वो अक्सर उतावली हो के बिखर जाना चाहती थी ऊंचाई से गिरते झरने की बूँद सरीखी ओर जब बाँध लिया आवारा मोहब्बत ने उसे ...  उतर गई अंधेरे की सीडियां, आँखें बंद किएये सच है वो होता है बस एक पल  बिखर जाने के बाद समेटने का मन नहीं होता जिसे उम्र की सल...
स्वप्न मेरे ......
Tag :कविता
  March 26, 2018, 8:14 am
यादें यादें यादें ... क्यों आती हैं ... कब आती हैं ... कैसे आती हैं ... जरूरी है यादों की यादों में रहना ... या साँसों  का हिसाब रखना ... या फिर जंगली गुलाब का याद रखना ...सांसों के सिवा मुसलसल कुछ नहीं जिंदगी में वैसे तिश्नगी भी मुसलसल होती है जब तक तू नहीं होती पतझड़ का आना बेसबब नहीं&...
स्वप्न मेरे ......
Tag :इरेज़र
  March 19, 2018, 1:00 pm
बेतहाशा फिसलन की राह पर काम नहीं आता मुट्ठियों से घास पकड़ना   सुकून देता है उम्मीद के पत्थर से टकराना या रौशनी का लिबास ओढ़े अंजान टहनी का सहारा  थाम लेती है जो वक़्त के हाथ  चुभने के कितने समय बाद तक वक़्त का महीन तिनका  घूमता रहता है दर्द का तूफानी दरिया बन कर पाँव ...
स्वप्न मेरे ......
Tag :उम्मीद
  March 12, 2018, 9:17 am
उम्र खर्च हो जाती है लम्हा लम्हातुम्हारी यादों का सिलसिला ख़त्म नहीं होताकडाके की ठंड और बरसाती लम्हों के बीच बूढ़ी होती दूकान से उठती अदरक वाली चाय की महक  खाली कप पे ताज़ा लिपस्टिक के निशान कुछ साए उठ के गए हैं यहाँ से अभी  क़दमों के निशान कितने मिलते हैं तेरे मेरे क़दम...
स्वप्न मेरे ......
Tag :कंधे
  March 5, 2018, 10:08 am
ढूंढता हूँ बर्फ से ढंकी पहाड़ियों परउँगलियों से बनाए प्रेम के निशान मुहब्बत का इज़हार करते तीन लफ्ज़ जिसके साक्षी थे मैं और तुम और चुप से खड़े देवदार के कुछ ऊंचे ऊंचे वृक्ष     हाँ ... तलाश है बोले हुए कुछ शब्दों की  जिनको पकड़ने की कोशिश में भागता हूँ सरगोशियों के इर्द...
स्वप्न मेरे ......
Tag :देवदार
  February 26, 2018, 10:54 am
तुम्हारा प्यार जैसे पहाड़ों पे उतरी कुनमुनी धूप झांकती तो थी मेरे आँगन   पर मैं समझ न सका वो प्यार की आंख-मिचोली है या सुलगते सूरज से पिधलती सर्दियों की धूप सर्दियों के दिन भी कितनी जल्दी ढल जाते हैं  अभी पहाड़ी से निकले नहीं की उतर गए देवदार की लंबी कतारों के पीछे मौस...
स्वप्न मेरे ......
Tag :कविता
  January 20, 2018, 4:22 pm
सभी मित्रों को नव वर्ष की हार्दिक मंगल कामनाएं ... २०१८ सबके लिए शुभ हो. नव वर्ष की शुरुआत एक रचना के साथ ... जाने क्यों अभी तक ब्लॉग पे नहीं डाली ... अगर आपके दिल को भी छू सके तो लिखना सार्थक होगा ...तेरे चले जाने के बाद पतझड़ की तरह कुछ पत्ते डाल से झड़ने लगे थे  गमले में लगी तुल...
स्वप्न मेरे ......
Tag :उम्र
  January 3, 2018, 11:34 am
नया वर्ष आने वाला है ... सभी मित्रों को २०१८ की बहुत बहुत शुभकामनाएं ... २०१७ की अच्छी यादों के साथ २०१८ का स्वागत है ... ये किरदार अपना बदलना पड़ेगा जो जैसा है वैसा ही बनना पड़ेगाये जद्दोजहद ज़िन्दगी की कठिन है यहाँ अपने लोगों को डसना पड़ेगा बहुत भीड़ है रास्तों पर शिखर के किसी ...
स्वप्न मेरे ......
Tag :झुण्ड
  December 25, 2017, 2:36 pm
छत भिगोने आ गईं जो बदलियाँशोर क्यों करती हैं इतना बिजलियाँ आदमी शहरों के ऐसे हो गए चूस कर छोड़ी हों जैसे गुठलियाँ फेर में कानून के हम आ गएअब कराहेंगी हमारी पसलियाँहाथ में आते ही सत्ता क्या हुआ पी गईं सागर को खुद ही मछलियाँउँगलियों की चाल, डोरी का चलन जानती हैं खेल सारा प...
स्वप्न मेरे ......
Tag :पसलियाँ
  December 18, 2017, 8:36 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3801) कुल पोस्ट (179653)