POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: बाल सजग

Blogger: Bal Sajag
"चिड़िया आया चिड़िया आया" चिड़िया आया चिड़िया आया।  चिड़िया ने दो दाना लाया।।साथ में अपने बच्चों को खिलाया। चिड़िया गया चिड़िया गया।।आसमान में चिड़िया गया। चोंच हैं उनके छोटे-छोटे।।पकड़ लाये कीड़े मोटे-मोटे।खाया उसे कर छोटे-छोटे।।चिड़िया आया चिड़िया आया।साथ में अपने दाना ल... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   3:28pm 28 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"कवि सभा के मंच पर"कवि सभा के मंच पर।  सुना रहें हैं कविता।।पीछे से वाह-वाह किये जा रहें हैं। सुर और ताल दिए जा रहें हैं।।कवि सभा के मंच पर।  सुना रहे हैं  कविता।। तालियों की गड़गड़ाहट गूँज उठी है। हर चेहरे पर खुशी की।। लहर झूम उठी है।कवि सभा के मंच पर।। कविता सुना रहे... Read more
clicks 22 View   Vote 0 Like   3:48am 26 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
 "आज मैं जो हूँ"आज मैं जो हूँ।  वाकय में मैं हूँ।।खुद पे यकीन नहीं होता। कि मै एक इंसान हूँ।।मेरा कर्तव्य क्या है।  मैं किसके लिए जी रहा हूँ।।मुझे खुद ही नहीं पता। क्या करुँ क्या न करुँ।।किसके लिए करुँ और क्यों करुँ। ये सवाल मन में हैं रहता।।लेकिन जीना ही। सबका मकस... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   4:57am 24 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"कितना सुहावना मौसम"कितना सुहावना मौसम।आज मैंने देखा।। लाल सूर्य सुबह की। और बनी थी रेखा।। चिड़िया अपने घरों को छोड़कर। जा रही थी किसी और ओर।। मछुआरे निकले नदी की ओर। तालाब में फेक बंसी की डोर।। बच्चे लेकर बस्ते। चले स्कूल के रस्ते।। चाय,टोस्ट और सुबह के नास्ते। चल देत... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   4:56am 23 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"वह अनजान है"वह अनजान है।।   इस दुनियाँ से।।    उसे कुछ मत कहना। घुम लेने दो दुनियाँ उसको।।   पता तो चले यह कैसा है। कैसा इसका रंग है ।।   कैसा इसका रूप है। देख लेने दो दुनियाँ उनको उसे कुछ मत कहना। बेजान है उसके चेहरे।।   देखो तो ये हैं कैसे।  वो अनजान है।।   इस द... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   4:20am 22 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"तितली रानी तितली रानी"तितली रानी तितली रानी।कितनी सुन्दर तुम्हारी कहानी।।फूल-फूल पर जाती हो।  सबका रस पी जाती हो।। फूल-फूल मुश्कुराते हैं। सभी को पास बुलाते हैं।।तितली रानी तितली रानी। पीती है रस और बताती है पानी।। तितली रानी है बड़ी श्यानी। कितनी सुन्दर तुम्हार... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   6:41am 21 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
 "युहीं नहीं इन्हें किसान कहा जाता है"युहीं नहीं इन्हे किसान कहा जाता है।  कुछ खास तो बात है इनमे।। जो हर फसल में जान डाल जाते है।  कभी काली घटा जो किसानों को।।खुशियाँ बाँट चले जाते है। क्योंकि पानी को देखकर।। जीने की आस बढ़ जाती है।  हर तरफ खुशियाँ और।।खेत लहलहा... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   10:40am 20 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
 "आज मै घर से बाहर निकला हूँ"आज मै घर से बाहर निकला हूँ। अपने मंजिल की तलाश में।। ना कोई अपना है यहाँ।  और ना ही कोई घर ठिकाना ।। बस हम यूहीं चलते जा रहें हैं। कब तक चलना है ये तो पता नहीं ।। घर द्वार छोड़कर मै आया हूँ। अपने उस मंजिल को पाने ।।  रुक अब सकता नहीं। और न ही मुँह... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   5:22am 19 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"समय कितना कीमती होता है"समय कितना कीमती होता है। कब गुजर जाये पता ही नहीं चलता है।।लोगो के पास समय होने के बावजूद।  कहते है मेरे पास समय नहीं।।लेकिन समय तब बताती है। जब समय की जरुरत होती है।।समय एक ऐसा चीज है। जिसको न रोक सकते है।।  न ही वापिस ला सकते है।   बस केवल सम... Read more
clicks 15 View   Vote 0 Like   10:21am 12 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"आज मौसम जो उभरा"आज मौसम जो उभरा।  सदियों से इंतजार था।।जो शायद अब नहीं बुरा।  मौसम तो ढ़लते उभरते रहते है।।कल हो या परसों या हो पूरा साल।  अगर वो मौसम चला गया।।तो दुबारा आने लगेगा पूरा साल।  या फिर क्या तुम्हें  पता है।।या फिर मुझे क्या पता है। इसका न आने का मन हो प... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   4:35am 11 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"माँ के आँचल में सोया रहता हूँ"अपने सपनों में खोया रहता हूँ।  न जाने क्यों खुद को।।अकेला महसूस करता हूँ। जाने क्यों उदास बैठा रहता हूँ।।परिवार से दूर नही रहना चाहता हूँ।  न ख़ुशी न माँ का प्यार।।न ही दोस्तों से मिलना जुलना।  मै अपनी माँ की सिर्फ राह देखता हूँ।।न जान... Read more
clicks 16 View   Vote 0 Like   9:52am 6 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
 "खेल खिलौने बाजार के"खेल खिलौने बाजार के।  हो गए अब हजार के।। कैसे मै अब खेलूँगा। अब बस माँ के सामने रो लूंगा।।  जिद एक भी ना उनसे करूँगा।कि खेले बिना मै ना रहूँगा।। माँ मेरे लिए आसमान से।  चाँद तारे उतार दे।।  उनसे अब मै खेलूंगा।  अब जिद मै ना करूँगा।। कविः- न... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   10:07am 5 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"अब खो गया है क्या कोरोना"अब खो गया है क्या कोरोना। न अब मास्क है और भर गया हर कोना।। दो गज की दूरी अब कहाँ है होती। अब दुनियाँ नहीं है रोती।।अब कोरोना से लोग कहाँ डर रहे हैं। लोग अब एक दूसरे के घर घूम रहे हैं।।क्या अब सब कुछ हो गया ठीक।  बजने लगे हैं अब सरे जगह बीन ।।अब खो ग... Read more
clicks 24 View   Vote 0 Like   4:46am 4 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"मेरी चाह है घूमू ,खेलूं"मेरी चाह है घूमू ,खेलूं। जो पसंद आये सब ले लूँ।।  कहानियों की दुनियाँ में डूब जाऊ। भरे समंदर में उछलकर डुबकी लगाऊं।। बाग बगीचों में इतराऊं। भारी परिस्थियों में भी डट जाऊं।। औरों के साथ खुशियाँ बांटू। अपने अरमानों में चार चाँद लगाऊं। फूलो की खु... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   5:07am 3 Feb 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
 "आओ मिलकर पेड़ लगाएं"आओ मिलकर पेड़ लगाएं। पर्यावरण को मिलकर स्वछ बनाएं।।पेड़ से प्राप्त होता है कई प्रकार के चीज। भोजन आदि तरह-तरह की बीज।।फले हैं फल पेड़ो में तरह-तरह के। कुछ मीठे कुछ खट्टे कुछ कच्चे।।आओ मिलकर पेड़ लगाएं। आओ अपना जीवन बचाएं।।आओ मिलकर पेड़ लगाए। कविः- अमि... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   4:41am 30 Jan 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"जीना सीख"जब मै गिरा तो। उठाने कौन आएगा।। जब चोट लगेगी।  तब दिखलाने कौन जायेगा।। मै बैठा सोच रहा था।  अपने दिमाग के दरवाजे ठोक रहा था।।  अपने है तो,मै ये सोच रहा था।  अपने सर के बालों को नोच रहा था।।कि जिसका कोई नहीं है। जिसका घर ही नहीं है।।जिसको प्यार मिला ही नहीं ... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   5:58am 28 Jan 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"मै अनजान हूँ"मै बहुत अनजान हूँ। अपने इस दुनियाँ से।। न समझ है मुझमें। न समझ है कदर की।। खुद से ही मैं परे हूँ। अपनी इस दुनियाँ में।। मोहलत और दुःख दोनों। खुशियों की बात करते है।। इस अनजान दुनियाँ  में। जहाँ  इंसानों की  कदर नहीं।। वहाँ दुनियाँ का मेला कैसा। मै बहुत ... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   4:43am 27 Jan 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"मोती सी चमक"मोती सी चमक। घासों में नजर आता है।। वह मनोरम खुशबू। सिर्फ फूलों से महक आते है।। चाँद की रोशनी में भी। सितारे नजर आते है।। वह ओश की बूंद। दरवाजे पर दस्तक दे जाते है।।  मै रोज टहलता हूँ सुबह। कोहरा ही कोहरा नजर आता है।। इस ठंडे हवा के झोकों से।  ओश फिसल जाता ह... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   5:01am 25 Jan 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
 "हाथ पाँव हमारे काँप रहे हैं"हाथ पाँव हमारे काँप रहें हैं।   अब हर जगह आग तप रहें हैं।।  स्वेटर टोपी मोजा पहने। अब कहीं घूमने न निकलें।। सर सर ठंडी हवा का झोका। चलते-चलते कहीं उड़ जायें न टोपा।। अपने को बचाना पड़ जाता है मुश्किल। जम गए हैं दुनियाँ  के सारे झील।। कट-कट ... Read more
clicks 24 View   Vote 0 Like   4:53am 21 Jan 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
 "मै एक गुलाब हूँ"मै एक गुलाब हूँ।  मेरी  खूबसूरती ऐसी है।। की लोग मेरी तरफ खिचे आते हैं। मै एक गुलाब हूँ।। जो सबके दिलों पर राज करता हूँ। मेरी कलियाँ  इतनी अच्छी।। कि सब तोड़ना चाहते हैं।  मै एक गुलाब हूँ।। जो सबके साँसों में बसता हूँ। मुझे तोड़ना आसान नहीं।। मै... Read more
clicks 16 View   Vote 0 Like   6:56am 16 Jan 2021 #asha trust
Blogger: Bal Sajag
"जिंदगी की जंग "जिंदगी की जंग खूब लड़ेंगें हम, जिंदगी की जंग जीत लेंगें हम | हमें यकीन है  ये बदलेगा मौसमआंखें नम होगी न होगें, दिल कोई गम  न होंगें | जिंदगी के जंग जीत लेंगें हम, लोग सारे साथ होंगें | साथ होंगें सातों रंग, जिंदगी जंग जीत लेंगें हम | चारो तरफ़ गुलाल हों... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   12:37am 19 May 2020 #
Blogger: Bal Sajag
"हरियाली बन जाऊँ "हरियाली को देखकर मन करता है,खुद भी हरियाली में ढल जाऊँ | शान्त स्वभाव से बढ़ता रहूँ,पानी न मिलने पर मैं सूख जाऊँ | हवा जब मेरे पास से गुजरे ,शरण के लिए मेरे पास ठहरे | नाच - नाच कर गाना गाऊं , मैं सबको ये पाठ पढ़ाऊँ | अच्छी अच्छी बातें उन्हें सिखाऊँ ,सीना तान... Read more
clicks 131 View   Vote 0 Like   12:48am 12 May 2020 #
Blogger: Bal Sajag
"मौसम है कितने प्यारे "बदलते मौसम के नज़ारे ,लगते हैं कितने प्यारे |कहीं धूप तो कहीं छाँव है,इस मौसम में सब बेहाल हैखेतों में ही हरियाली है गांव में या खलियानों में,खेतों या पहाड़ों में | ये नज़ारे आँखों को चुभते ही नहीं,इनकी शिकायतें कभी करते नहीं | ये मौसम बिलकुल अनजान ... Read more
clicks 67 View   Vote 0 Like   12:29am 30 Apr 2020 #
Blogger: Bal Sajag
 "एक कहानी "इस कहानी की है बात बड़ी,एक छोटे राज्य रानी बीमार पड़ी | जिंदगी और मौत के साथ खड़ी,यह कहानी की है बात बड़ी | डॉक्टर ने उसको  दवा दिया,विश्वास के साथ इलाज किया| लेकिन दवा रानी पर काम न कियाइससे राजा चिंता में पड़े,आधी रात में छत पर खड़े | सोच विचार कर रहे थे कुछ ऐसा,जिसस... Read more
clicks 73 View   Vote 0 Like   12:33am 28 Apr 2020 #
Blogger: Bal Sajag
"राज पाठ "जिंदगी से बढ़कर जिसको प्यारा होता है राज, अपनों से बढ़कर जिसको प्यारा होता है राज | जिसको प्यारी है सिर्फ उसकी कुर्सी, जो राज पाठ के लिए कभी नहीं करता मटरगस्ती | जिसके इशारों पर नाचती है बस्तीजो कुर्सी के लिए रहता हमेशा बेताब, जो लोगों को फाँसी पर चढ़ा देता बेनकाब |&n... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   12:33am 24 Apr 2020 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4019) कुल पोस्ट (193395)