Hamarivani.com

बाल सजग

"हौशलों के उस सागर में "हौशलों के उस सागर में,लहरें चलती रहती हैं | छोटे से नाव साहस से,मंजिल की ओर चलती है  तन छोटा है तो क्या ,साहस बड़ा होना चाहिए | बड़ी मंजिल है तो क्या,पाने का जज्बा होना चाहिए पैर थक जाते हैं पर ,साहस को मत थकने देना | जितनी भी कोशिश हो ,मंजिल को प...
बाल सजग...
Tag :
  October 6, 2018, 2:32 pm
"कौन थे भीमराव अम्बेडकर "जब मैं बैठा माँ से हटकर,पूछा उनसे एक सवाल डटकर | कौन है भीमराव अंबेडकर,सोचने लगी वह कुछ देर बैठकर | चुपके से खिसक लिया वहां से,माँ बैठी थी जहाँ पर | गया मैं पुस्तकालय के अंदर, दिखा मुझे ज्ञान का समंदर | एक किताब उठाकर देखा,उनके बारे में था ल...
बाल सजग...
Tag :
  September 25, 2018, 5:38 am
 "आसमां को छूकर आऊँगा "मैं  सूरज की रौशनी बनकर, उजाला धरती पर पहुँचाऊँगा | जो मैंने कुछ बनने के सपने देखे थे, वह मैं जीवन में सच कर दिखाऊँगा | जितनी भी बाधाएँ आएँगी,हर पल साहस दिखाऊँगा | निडर होकर उस बाधा को, मुकाबला कर दिखाऊँगा |  जोश और साहस को जगाऊँगा, ...
बाल सजग...
Tag :
  September 21, 2018, 5:50 pm
"हंस लो हसने वालों,"हंस लो हसने वालों, करो घृणा करने वालों | पर दिल का दुःख नहीं,समझ पाओगे पैसा वालों | दुःख की धरा को लेकर मैं निडर रहता हूँ, जुल्म करो या सितम इस मिटटी की शरीर को लिए रहता हूँ | कब तक हुक्म चलाओगे,समाज को बेवकूफ बनाओगे | चारो तरफ है पैसा का धंधा, प...
बाल सजग...
Tag :
  September 19, 2018, 5:21 am
" चंद्रशेखर आज़ाद "चंद्रशेखर आज़ाद की थी यह क़ुरबानी, खूनों से भरी थी तालाब और नदियों का पानी | अंग्रेज़ भारतवासियों को लटका रहे थे, मौका मिलने पर धीरे से टपका रहे थे |  भारतवासियों में से निकला एक हीरो, अंग्रेज़ों को पटक -पटक कर दिया ज़ीरो | अब बताइये आप वो कौन थे ह...
बाल सजग...
Tag :
  September 15, 2018, 8:02 pm
"हिंदुस्तान में पली- बड़ी है हिंदी "हिंदुस्तान में पली -बड़ी है हिंदी,देश के हर गली में है हिंदी | जिह्वा के हर कण में है हिंदी,मातृभाषा के हर शब्द में है हिंदी | मातृभाषा रूपी भाषा है हिंदी, शब्दों को जानने की  अभिलाषा है हिंदी | देश की शान बढ़ाता है हिंदी, जन -जन  प...
बाल सजग...
Tag :
  September 15, 2018, 7:44 pm
"ये खुला आसमान है अपना "ये खुला आसमान है अपना ,  जिस पर सजाना है सपना |हर एक दिन हो अपना ,  जिस पर हक़ हो अपना | जीने और मरने की हो आज़ादी ,  जाति धर्म में नहीं करेंगे बर्बादी |जिस जहाँ में कुछ कर सकते है ,  एक दूजे के साथ रह सकते है |मन में सदा जिज्ञासा हो ,  ...
बाल सजग...
Tag :
  September 6, 2018, 7:56 pm
"बारिश का दिन आया "पहले काले  बादलों ने डराया ,  फिर पानी खूब बरसाया | बारिश का दिन आया ,  बूंदों का भंडार लाया | गर्मी का तापमान गिराया ,  मेंढक भी खूब टर्र - टर्रया | किसानों का भी मन बहलाया ,  बंजर जमीं को खूब भिगाया | बारिश का यही है माया , कहीं ...
बाल सजग...
Tag :
  September 5, 2018, 5:03 am
"कल का भविष्य हैं हम "हम मज़दूर हैं तो क्या हुआ ,  कल का भविष्य हैं हम | मेरी सफलताओं को ,  कदम चूमेगी एक दिन | हौसला और जज्बा को ,  कम होने नहीं देंगे हम | जब तक मंजिल तय न हो जाए ,  तब तक कोशिश करते रहेंगे हम | मुश्किलों से नहीं घबराएंगे ,  हर संकटों ...
बाल सजग...
Tag :
  September 4, 2018, 8:06 pm
"पाँच उँगलियाँ मिलने से "पाँच उँगलियाँ मिलने से , एक हाथ बन जाता है |हर जन लोग मिलने से , एक समाज बन जाता है |एक दूसरे का साथ दो तो , वह  सहारा बन जाता है |पहाड़ के बीच झरना निकलने से , एक किनारा बन जाता है |मन में जिज्ञासा भर लो तो , वह जिज्ञासु कहलाता है |अच्छे क...
बाल सजग...
Tag :
  September 3, 2018, 6:22 am
"खेल नसीब का "अजीब है खेल नसीब का ,  टूटता है सपना मज़दूर का | मासूमियत से भरा चेहरा है,  यह बात बहुत ही गहरा है | उस घर ने सबको मजबूर बना दिया,  पैदा हुआ सबको  मज़दूर बना दिया | वहाँ भी सपना सजा दिया,  आखिर में आँसुओं को मिटा दिया | यह बात है एक गरीब का,  अज...
बाल सजग...
Tag :
  September 2, 2018, 6:44 am
"खुदा सम्मान है "खुदा नहीं इस जहान में,  नहीं तेरी इन्द्रियों के ज्ञान में | वो सदा तुम्हारे साथ है,  आदर और सम्मान में | खुदा खुद को जानता है, अपने घर को पहचानता है | जहाँ आदर और सम्मान है,  वहीँ उसका विश्राम है | खुदा को कहीं खोदा नहीं जाता, खुदायी को कहीं ...
बाल सजग...
Tag :
  September 2, 2018, 6:19 am
"रक्षाबंधन "रेशम का यह डोर,  जो तूने बाँधी है बहना |हर एक एक कदम पर,  खुशियाँ तुझको ही है देना|मैं जमीं पर भी रहकर,  तुम्हें आसमां में उड़ाना सिखाऊँगा |हिम्मत से मैं तुम्हें आगे,  आगे चलना सिखाऊंगा |हर मुश्किलों में साथ,  मेरा साथ देना होगा |इस रेशम की डोर की, &...
बाल सजग...
Tag :
  September 1, 2018, 6:03 am
"पल भर की है अपनी जिन्दगी "पल भर की है अपनी जिन्दगी,  कल का वेट मेट कर अभी | क्या पता ये होगा या नहीं,  खुल कर जिओ तुम सभी | हर मिनट का इंतज़ार करता हूँ,  क्या होगा ये अनुमान करता हूँ | बस पुराणी यादों से सहमा रहता हूँ,  उसी को देखकर जिन्दा रहता हूँ | कवि : प्रांज...
बाल सजग...
Tag :
  August 24, 2018, 5:10 am
"ये तूने क्या किया "ये तूने क्या कर दिया, अपने दोस्त को मार दिया | माँ कहती है जाओ स्कूल, स्कूल जाना जाते हो भूल | स्कूल में पढ़ना तुम जी के, पर तू देखता है पी के | माँ को धमकी दिया, ये तूने क्या किया | शराब पीकर आता है तू, सबको गाली देता है तू  |  कवि : महेश कुमार,&...
बाल सजग...
Tag :
  August 22, 2018, 6:35 am
"ये जिंदगी फिर क्या जिंदगी है "मैंने एक देश में देखा ऐसा, जहाँ कानून को कर रहे थे लोग ऐसे को तैसा | हर कानून को तोड़ रहे थे , झूठ को सच साबित कर रहे थे | जात - पात के नाम पर लड़ रहे थे,  एक दूसरे को कम नहीं समझते थे | हर जुल्म -अत्याचार कर रहे थे, अपने देख को ही बर्...
बाल सजग...
Tag :
  August 18, 2018, 5:24 am
"गुरु का ज्ञान "अँधेरे में हर व्यक्ति घबराते हैं, गुरु की ज्ञान पाने वाला व्यक्ति | जीवन में अवश्य सफलता पाता है, गुरु की ज्ञान से उजाला हो जाता है | जीवन के हर मुसीबत में, गुरु का ज्ञान ही काम आता है | अँधेरे में छिपी हुई एक मोमबत्ती, जलने के लिए बेताब रहती है |&nb...
बाल सजग...
Tag :
  August 16, 2018, 5:32 am
"मिलकर एक दुनियाँ बनाएँ "आओ मिलकर एक ऐसी दुनियाँ  बनाएँ ,जिसमें कोई भेद - भाव नहीं हो | हर कोई हंसी और ख़ुशी से जीते हो ,कोई हिन्दू - मुश्लिम न कहलाते हो  | आओ मिलकर एक ऐसी दुनियाँ बनाएँ, जिसमें कोई गरीब अमीर नहीं होता | हर कोई एक दूसरे के साथ रहता,  कोई भी जाति  ...
बाल सजग...
Tag :
  August 15, 2018, 5:36 am
"छोटी सी जिंदगी हमारी"छोटी सी जिंदगी हमारी,कुछ कर जाने की चाह हमारी | जमीं आसमां एक कर जाएंगे,दुनिया को हम कर दिखलायेंगें | कोशिश हम हमेशा करते रहेंगे,अपने लक्ष्य को छूते  रहेंगें  | ये तो सपना है हमारा,घूमेंगें हम ये दुनिया सारा | छोटी सी जिंदगी हमारी | | कवि : क...
बाल सजग...
Tag :
  August 14, 2018, 5:53 am
"ख्वाबों में एक चाह है "ख्वाबों में एक चाह है, जिसको पूरा करना है | ख्वाबों की हर  एक बात ,उसे सच कर दिखाना है | मुश्किलों से नहीं डरना है,                                                               आगे ही आगे चलना है |                 &...
बाल सजग...
Tag :
  August 13, 2018, 5:41 am
"बालगोपाला "लल्लन के लाल,  बालगोपाल,यशोदा का नटखट नन्दलाल | पूरे मथुरा में बजाता है मुरली,बन्सी से निकलती आवाज़ सुरीली |मन को मोह लेने वाला,मथुरा का बालगोपाल |सुदामा संग चुराता माखन,अद्भुद प्यारा था वो बचपन |गौ चराता  मुरली बजाता,राधा संग प्रेम के नैन लड़ाता |गोपाल तो...
बाल सजग...
Tag :
  August 13, 2018, 5:28 am
"पूर्व दिशा से मानसून है आई "पूर्व दिशा से मानसून है आई,साथ में अपनी बारिश है लाई |बारिश तब बरस रहा था,इंसान जब तरस रहा था |एक्सिस अमाउंट में बरसा पानी,कानपुर ने की है मनमानी |जगह जगह सब भर डाला,फिर भी मौसम है काला |सुबह से लेकर शाम तक बरसा,बहार जाने के लिए  इंसान तरसा |फिर भी ...
बाल सजग...
Tag :
  August 8, 2018, 5:26 am
"काश बारिश हो "आशा है मुझे , बारिश होगी,आशा है मुझे , कुछ नया होगा |देखने में लगता है कुछ खास,ये बादल रुक जाए काश |जहाँ भी जाऊँ बादल हो साथ,मेरे चारों तरफ हो जाए बरसात |बारिश की बूंदों को मैं देखूँ,बारिश  को मैं महसूस करूँ |उछल कूदकर खूब नहाऊँ,इतना पानी हो की मैं डूब जाऊँ |काश ब...
बाल सजग...
Tag :
  August 5, 2018, 2:29 pm
"सपथ  ली है " भारत को देखो यह देश है कैसा , इसमें नीति है यह देश है ऐसा | जब तक गाँधी जी की साँस थी ,तब तक भारत को आज़ाद कराया | भारत में जब अंग्रेज़ थे ,तो यह भारत बंधी था | जब गाँधी जी भारत में आए ,तो भारत को आज़ाद कराया | लोग आज़ादी का सपना देखते थे ,नए सपने सजाने क...
बाल सजग...
Tag :
  August 4, 2018, 6:11 am
"डरपोक का डर "डरपोक का एक सपना,सपने में हुई एक घटना |घटना थी काफी खास ,बिस्तर में पड़ी थी एक लाश |लाश से वह डर रहा था ,बिस्तर से दूर हट रहा था |जब बिस्तर का आया किनारा,तब उसको न मिला कोई सहारा | जब बिस्तर गिरा धड़ाम,डरपोक के मुँह से निकला है हाय  राम | न उसके बिस्तर में कोई लाश थ...
बाल सजग...
Tag :
  August 3, 2018, 6:52 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3821) कुल पोस्ट (181527)