Hamarivani.com

बाल सजग

"  माँ का प्यार  "  मन करता है मैं छोटा बन जाऊँ, माँ का प्यार दोबारा पाऊँ | उंगली पकड़कर चलना सिखाती, नया संसार की बात बताती | क ,ख ,ग पढ़ना सिखाती,एक से बढ़कर सपने दिखती | इस प्यार की प्यासी सारी दुनिया,माँ ने दुनियाँ को सहराया | वो छोटी सी भी मुस्कराहट तेरी, हर ...
बाल सजग...
Tag :
  October 14, 2017, 10:55 pm
 "नई किरण " निकला नया सूरज जब,नई किरणे कमरे में आई तब | मैं तो यूँ ही सोया हुआ था, सपनों की दुनियाँ में खोया था | प्यारी से एक आवाज़ आई, लगता था कोई जगाने है आई | थोड़ी गुनगुनाहट सी आवाज़ आई, बिस्तर से कोई जगाने है आई | रेशम की डोरी नया  संदेशा लाई, प्रेम का धागा बा...
बाल सजग...
Tag :
  October 14, 2017, 10:32 pm
 "अपने आप को पहचानो "इंसान अपने आप को पहचानो, अंदर छिपे हुए रहस्य को जानो | इंसान अपने आप को पहचानो, खुद करो काबिलियत जगजाहिर, जिसमें हो तुम सबसे माहिर |  कुछ बिगड़ा नहीं ,कुछ गया नहीं, बात है यही सही ,खुद पर दया नहीं | हुनर भरा है कूट -कूट कर, रो रहे हो खुद से रू...
बाल सजग...
Tag :
  October 13, 2017, 10:31 pm
"घबराइए मत "अगर ख्याल हो बड़ी तो घबराइए मत,लाखो सपने पहले से ही सजाइये मत | मेहनत और लगन बरक़रार रखिये, अगर कदम रखा है अपने हौसलों से | तो वापसक़दमों को  लौटाइये मत, कुछ चलने के बाद विचार मन में आएंगे | लेकिन उन विचारों से लडख़ड़ाईये मत | | कवि : देवराज कुमार  ,कक्षा : 8th ...
बाल सजग...
Tag :
  October 13, 2017, 10:03 pm
"जब अपना देश था गुलाम" जब अपना देश था गुलाम, अंग्रेजों का था यहाँ कोहराम | देश में न थी कोई खुशहाली, देशवासियों पर करते थे अत्याचारी | गाँधी ने देशवासियों का साहस बढ़ाया अपने हक़ के लिए विरोध करवाया | खाकी धोती और घड़ी लटकाये ,जीवन में सत्य अहिंसा अपनाये | अंग...
बाल सजग...
Tag :
  October 12, 2017, 10:26 pm
"आदत से लाचार " लोग हो गए हैं आदत से लाचार, इसीलिए गंगा को कर दिया है बेकार | एक नहीं नालें  बहाये हैं हज़ार, तभी मिलते है पिने को पानी बेकार | इसीसे बीमारी उत्पन्न हो रही है हज़ार, डॉक्टर के बढ़ गए हैं पगार | कुछ नहीं करवा रहे हैं सरकार, सिर्फ करते हैं फर्जी का ...
बाल सजग...
Tag :
  October 12, 2017, 10:03 pm
 " पृथ्वी निराली  "सुंदर सा संसार हमारा, जिस पर बसा है दुनिया सारा | ढूंढ आए और जग सारा,कहीं नहीं मिला पृथ्वी जैसा सहारा | पृथ्वी बानी खुली आसमानों में, तारे टिमटिमाएँ रत में | दिन में खो जाता है तारा, फिर न दिखाई देता तारा | क्योंकि पृथ्वी है सुंदर निराला | ...
बाल सजग...
Tag :
  October 11, 2017, 5:51 pm
 "वो सुबह कब आएगी "वो सुबह कब आएगी,जब सारी दुनियाँ खुशियाँ मनाएंगी |  सारे  सरहद ख़त्म हो जाएंगे, दुश्मन भी अपने भाई बन जाएंगे | वो सुबह कब आएगी | | जब सारी प्रथाएं दब  जाएंगी,जाति -वादी की बातें ख़त्म हो जाएंगी | जब हर जगह दुआऍं होगी, हम सभी पर आशाएँ होगी | वो सुब...
बाल सजग...
Tag :
  October 7, 2017, 10:12 pm
" Journey of life " In the journeyof my life .hindrance will be any where .but the journey of aim . never stop anywhere . will I arrive at my aim ?If today Iwill fail .never will chance come again . my heart is saying .you devote of precious time. if you want to gain something in lifepoet : vikram kumar , class : 7th ,ApnagharIntroduction : He is Vikram kumar belongs to Bihar state but he is living in Apnaghar campus for study .He has abundant of thinking power i,e he write very well and nice poems .He intrested in so many activities such as football , cricket ,kabaddi etc.always smile in his face .we hope that he will write many new and amazing poems in future .&nbs...
बाल सजग...
Tag :
  September 27, 2017, 10:36 pm
"गर्मी " उफ़ ये गर्मी है बेनरमी,                                                                कितनो को है इसने सताया |                                                                बड़े - बड़ों को मार भगाया,           &nb...
बाल सजग...
Tag :
  September 23, 2017, 5:16 pm
"आसमान को छूना "मैं छूना चाहता हूँ आसमान को ,हर मुश्किल  की हर बाधाओं  को | टक्कर देकर आना चाहता हूँ, आसमान में चमकते तारों को| हमेशा अपना रौशनी बिखराये रखते हैं निर्धन हो या धनि, प्रेणना के जलवे फैलाये रखते हैं | हर एक को साथ लेकर चलना, वे द्रश्य रखते हैं | ...
बाल सजग...
Tag :
  September 9, 2017, 10:26 pm
"नोटबन्दी "लोग हो गए हैं बेहाल, पुराने नोटों का हुआ हलाल | अमीर हो गए बेमिशाल ,गरीब हो गए लालम - लाल | क्योंकि पुराने नोटों के हो गए जमाना, लोग एक - दूजे के हुए परमाना | मोदी ने किया पुराने नोटों का खात्मा, काले  धंदे वालों की शांत हुई आत्मा | कवि : कामता  कुमार , क...
बाल सजग...
Tag :
  September 9, 2017, 10:01 pm
"हौशलों से भरा हो " मेरे जीवन की राह में ,हौशलों से भरा हो | मेरी यही ख्वाईश है, मेरा जीवन हौशलों से भरा हो | मेरे जीवन की राह में ,हर तूफान से मैं उलझा हूँ हर मुशीबत से मैं लड़ूँ | मेरे जज्बातों को बाहर आने का, इंतज़ार मैं बड़े उत्साह से करूं |   मेरा जीवन की राह म...
बाल सजग...
Tag :
  September 8, 2017, 10:33 pm
 "सावन "सावन का है मौसम आया,तालाब में है पानी भर आया |  बच्चे नहाते तालाब में ,चिड़िया चहके बैग में |  चरों तरफ कीचड़ - कीचड़,लोग रहते हैं भीतर - भीतर | सावन का है मौसम आया ,तालाब में पानी भर आया | कवि : अखिलेश कुमार , कक्षा : 7th ,अपनाघरकवि परिचय : यह हैं अखिलेश कुमार जो की बि...
बाल सजग...
Tag :
  September 8, 2017, 10:07 pm
"आसमान को छूकर आएंगे" हमें भी जाना है आसमान में इस सितारों के संसार में | ये जुगनू जैसे सितारों को     हम पकड़कर और छूकर आएंगे,     पृथ्वी को स्वच्छ और सुंदर बनाएंगे | जगह - जगह से हम कूड़ा उठाएंगे,    भारत को स्वच्छ और सुंदर बनाएंगे |  हमें भी जाना है आसमा...
बाल सजग...
Tag :
  September 5, 2017, 10:45 pm
"स्वच्छ भारत "चलो - चलो यारा कुछ नया करें ,गन्दगी को इस देश से साफ करें | भूलने की बीमारी को छोड़कर,नदियों से नहर को मोड़कर |  | चलो - चलो यारों कुछ नया करें, इस देश को गन्दगी से मुक्त करें | न लगा सकते हो झाड़ू, तो लगाओ पेड़ मेरे यारो | गन्दगी साफ होगी सचमुच, साफ हो जाएं...
बाल सजग...
Tag :
  September 5, 2017, 1:08 pm
"आज़ाद "  आज़ाद रहना है मुझे आज़ाद जीना है मुझे | कुर्बानियों से न घबराते, ख़ुशी - ख़ुशी अपने जान दे जाते | हर मुश्किल का सामना कर पाते, हौशले को कभी न हारने देते|   आज़ाद ही नाम कहलाते,आज़ाद जीने है मुझे | आज़ाद मरना है मुझे | | कवि : नितीश कुमार ,कक्षा : 7th , अपनाघर कवि प...
बाल सजग...
Tag :
  September 3, 2017, 10:38 pm
"आओ नया संसार बनाएं"आओ नया संसार बनाएं ,  इस धरा को फिर दोहराएं | अत्याचार को मार भगाएं, सत्य अहिंसा को अपनाएं |  फैक्ट्रियाँ सारी बंद करवाएं,प्यार भावना को हम अपनाएं | एक दूजे के तरफ ले जाएं, आओ नया संसार बनाएं | इस धरती को सुन्दर बनाएं | | कवि : संजय कुमार ,...
बाल सजग...
Tag :
  September 2, 2017, 10:06 pm
"काश मैं चिड़िया बन जाऊँ " काश मैं चिड़िया बन जाऊँ, दूर - दूर तक सैर लगाऊँ | रोज़ सुबह पंख फैलाऊँ, दूर - दूर से दाना लाऊँ | दो दिन उसको मैं चलाऊँ, कोई पकडे तो फुर्र हो जाऊँ|  काश मैं चिड़िया बन जाऊँ | | कवि : कामता कुमार , कक्षा : 6th ,अपनाघर कवि परिचय : यह कामता कुमार बिहार ...
बाल सजग...
Tag :
  September 1, 2017, 10:05 pm
 "पंद्रह अगस्त " आओ चले पंद्रह अगस्त मनाए ,सारे हिंदुस्तान में ध्वज लहराए | सबको बताएं तिरंगा है शान हमारा, पंद्रह अगस्त का दिन खाश है हमारा |  स्वतंत्रता सेनानी का अरमान है हमारा,हिंदुस्तानी बच्चों का पैगाम है हमारा, स्वतंत्रता दिवस पर खुशहाल देश हो हमार...
बाल सजग...
Tag :
  August 31, 2017, 10:03 pm
"यह राही की आवाज़ है " यह राही की आवाज़ है,कह राही है पुकारकर | आशा मेरा मंजिल है, संघर्ष करना मेरा रास्ता |  धैर्य ही मेरी  संभावना, बस यही है मुझको कहना | दूर है मंजिल ,तो दूर ही सही,,रस्ते में काँटे है ,तो काँटे ही सही | वह सफलता ही क्या, जो सरलता से मिल जाये | वह ...
बाल सजग...
Tag :
  August 30, 2017, 9:54 pm
“Don’t change intension”IF THE PEOPLE IS LAUGHING ON YOU,IT’S MEAN YOU ARE DOING SOMETHING NEW.THEY WILL COMPELLED YOU TO CHANGE VIEW,AND GIVE IDEA TO YOU.WOULD BE THINK I CAN CRAZZY,AND IT WILL BE MAKE YOU MORE LAZY.BUT YOU PATIENCE AND KEEP ATTENTION,DON’T CHANGE YOUR INTENSION.POEM WRITTEN BY : DEVRAJ KUMARCLASS:  7TH (a)Introduction : He is devraj and belongs to Bihar .His parents works in brickyards .He is getting his study from Apnaghar .He is interested in dance and to write poems . He has lots of dream to become something ....
बाल सजग...
Tag :
  August 29, 2017, 10:12 pm
why we suprised We suprised beneath the sky. Why we can not go so high ?Would be also have feather,Then we can fly together. to sit on the clouds, and solve our all doubt .we face first ray of Sun then release the ray of bun no any problem and tensionall bad deads forgot, switch on television Poet - Pranjul kumar , Class -8th , ApnagharIntroduction -He is Pranjul kumar and he belongs to Chatisgarh .He is from poor family .present time he is living in Apnaghar institute for education .He loves to dance , study listeining music ....
बाल सजग...
Tag :
  August 26, 2017, 10:13 pm
सीखो फूलों से मुस्काना सीखो, चिड़ियों से यूँ गुनगुनाना सीखो | हवाओं से लहराना सीखो, समंदर से यूँ झूमना सीखो |  पेड़ों से कुछ पाना सीखो, भोरों से गुनगुनाना सीखो | हिमालयों जैसी सफलता पाना सीखो, सूरज से रौशनी फैलाना सीखो |  चाँद से चमकना सीखो, ये है जीवन की ...
बाल सजग...
Tag :
  August 25, 2017, 10:19 pm
प्यारे बनो ,न्यारे बनो प्यारे बनो ,न्यारे बनो,सबके दिल के दुलारे  बनो | करो सदा अच्छे काम ,जिससे हो जग में तेरा नाम | जागनी  पड़ेगी सारी  रात, अगर  पाना चाहते हो अपना पथ |  समय को कभी नहीं करना बर्बाद, हमेशा रखना यही याद | जिंदगी का लो पूरा आनंद, जैसे जिए थे ...
बाल सजग...
Tag :
  August 19, 2017, 10:36 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3693) कुल पोस्ट (169654)