Hamarivani.com

बाल सजग

"हँसी तो सभी को आती है "हँसी तो सभी को आती है,लेकिन वह हँस नहीं पाता है | दर्द तो सभी को होता है,लेकिन वह सह नहीं पाता है | जिंदगी जीना है सभी को,लेकिन जी नहीं  पाता | पढ़ना उसे पड़ता है जो रह नहीं पाता,दर्द उसे होता है जो सह नहीं पाता | हँसी तो सभी को आती है लेकिन वह हंस नहीं पाता | ...
बाल सजग...
Tag :
  May 18, 2019, 6:57 am
"आज मैंने ये जाना है "आज मैंने ये जाना है,ये तो सिर्फ एक बहाना है | सबको पैसा ही बस खाना है,मुझे बताओ कहाँ अब जाना है | ये पैसा ही सिर्फ बहाना है,बस सबको बड़ा ही बनना है | मुझे तुमसे बस इतना ही कहना है,ये जवाना ही बस बहाना है |बस पैसा ही इनको खाना है | |              ...
बाल सजग...
Tag :
  May 17, 2019, 2:29 pm
"मैं चाहकर भी न रोक सका "मैं चाहकर भी न रोक सका,उस मधुर से गीत को | वह क्या सुर और ताल था,जिसमें सुरीली आवाज़ थी | मन मस्त मगन हो जाता है,जो उस गाना को सुनता है | उस संगीतकार का क्या तारीफ करूँ,जिसने उसे रचाया है | नींद मुझे आ जाती है, उस संगीत की झंकार से | मैं चाह भी न रोक सका,| उस मधु...
बाल सजग...
Tag :
  May 15, 2019, 5:25 pm
"जनता की बारी "आई अब जनता की बारी,सही नेता चुनने की तयारी | वोट जनता का हथियार है, संभलना नेता बहुत होशियार है |  करेंगे चिकनी चुपड़ी बातें,इनके चक्कर जनता है आतें | पाँच सालों में कुछ किया नहीं,जनता सही से जिया ही नहीं |किसी का हल्का किसी का पलड़ा भारी,आई अब जनता की बारी | सह...
बाल सजग...
Tag :
  May 12, 2019, 5:55 am
"आम का महीना आया "आम का महीना आया, बच्चों के मुँह में पानी आया |मुँह से लार टपकता टप टप कर,आमों में रस भरा रहता है ठस ठस कर |धूप से गिरता टप टप,बच्चे खाए खूब चूसकर | रंग रसीला आम लाया,बच्चों के मन में खुशियाँ लाया | आम का महीना आया, बच्चों के मुँह में पानी आया |नाम : सार्थक कुमा...
बाल सजग...
Tag :
  May 11, 2019, 5:56 am
"पीड़ा "जब मैं बैठा था एक खाली रोड पर,पीड़ा होने लगी कसके मेरे दिमाग पर | मैं सोच रहा था अपने इतिहास पर,जो नहीं दिखा कुछ खास | मैंने सोचा अपने आने वाले कल पर,मैं बदल सकता था अगले साल पर |अब मैं जीना चाहता हूँ एक नई जिंदगी,जिसमें मिले मुझे ढेर ख़ुशी | मैं बदल दूँगा उस दुःख समय को ,...
बाल सजग...
Tag :
  May 9, 2019, 2:47 pm
"मजदूरों का अवकाश था "वह दिन कुछ खाश था,मजदूरों का अवकाश था | 1 मई का दिन था,मजदूर दिवस का वह दिन था | यह पल था प्रेम और खुशियों का,यहाँ जन्मदिन था हम सबका | कुछ लोगों ने सजाया था, रात में जन्मदिन मनाया था | कुछ मेहमान आए थे,खाना बड़े मजे से खाए थे | रात में नाच गाना था,वह दिन सबसे मस्...
बाल सजग...
Tag :
  May 7, 2019, 6:17 pm
"सागर बन जाऊँ "मन करता है सागर बन जाऊँ,नदियों के संग मैं मिल जाऊँ | कभी बिहार तो कभी कश्मीर,पूरी दुनियाँ की सैर कर आऊँ | चले मेरे ऊपर से ठंडी समीर,गाए बस मेरे बारे में कबीर | चाहे हो वो अमीर या हो गरीब,अच्छा हो जाए सभी का नसीब | कवि : समीर कुमार  कक्षा : 9th , अपना घरकवि परिचाय : यह ...
बाल सजग...
Tag :
  May 6, 2019, 5:59 am
"तपती हुई धूप "इस तपती  हुई धुप ने,पसीना से लथपथ किया | गर्म हवा में शरीर है जलता,यही लू से बीमार है करता | बाहर निकलने का हिम्मत न करता,पेड़ों को ये दर्द पहुँचाता | धूपों से लोग तड़प रहे हैं ,पेड़ की छाँव के लिए झूझ रहे हैं |ये तपती हुई धूप ने, पसीना से लतपत किया | पानी के ल...
बाल सजग...
Tag :
  May 5, 2019, 7:15 am
"जाऊँ मैं कहाँ और क्या चुनूँ "जाऊँ मैं कहाँ और क्या चुनूँ,क्या मैं करूँ और क्या सुनूँ | मुझे नहीं समझ में आता,पता नहीं मेरा दिल क्या कह जाता | ये मेरे दिल का सुरूर, मैं कहाँ से करूँ शुरू | पर मुझे नहीं पता, क्या और कब है होता | पर मुझे अपने लक्ष्य लिए, चुनना पड़ेगा एक अच्छा गुरु...
बाल सजग...
Tag :
  May 3, 2019, 6:54 pm
"एक जहाज है कुछ ऐसा "एक जहाज है कुछ ऐसा,जिसपे सब कोई है बसा | पेड़ - पौधे , झील - नदियाँ,सब थे इसके सवारी | जब इस पर मनुष्य सवार हुए,बदल गया चल - चलन | संभाला फिर भी न संभला,अब कौन बचाएगा हमें बला | न जाने अब कहाँ रुकेगी,अब न बचा कोई चालक इसका | नाम : नितीश कुमार , कक्षा : 9th , अपना घरकवि परिच...
बाल सजग...
Tag :
  May 1, 2019, 5:29 am
"नोट "बहुत कीमत होती है, छोटे से कागज की | बस गाँधी की फोटो हो,गवर्नर का साइन हो | उसी को नोट कहते हैं,लोग उसी नोट में  रहते हैं |दुनियां ऐसी हो गई है, कहते हैं पैसा फेको तमाशा देखो | इसका कागज है लाइट, इसके चलते हो जाती है फाइट |   नाम : सूरज , कक्षा : 5th , अपना घरकवि परिचय : यह कवि...
बाल सजग...
Tag :
  April 30, 2019, 5:38 am
"एक पल ऐसा था "एक पल ऐसा था,जब मुझको पता न था | अचानक से तापमान, बढ़ता जा रहा था | मन भी इधर उधर ,मचलता जा रहा था | चक्कर जैसा हो रहा था, मुझको सोने का मन | जिससे मुझको हो गया फीवर,तापमान न मेरा घटता था | होकर इससे मैं परेशान, सोने लगा रातों -रात | ठीक हुआ चार दिन बाद, जो था मेरा पल का बेका...
बाल सजग...
Tag :
  April 29, 2019, 6:52 am
"वोट का खुमार "वोट का ये खुमार है,भाजपा को दे या कांग्रेस को | न मिले तो सपा को दो,चरों ओर से बेमिशाल से प्रचार है | अबकी बार किसकी सरकार है,सभी को वोट डालने का अधिकार है | १८ से ऊपर खुला बहार है,सभी को सही नेता चुनने का अधिकार है | क्योंकि उनके हाथ में वोट का हथियार है | | कवि : वि...
बाल सजग...
Tag :
  April 29, 2019, 6:38 am
 "बाल मजदूर "नाजुक हाथों ने क्या कर दिया पाप, जन्म से ही दे दिया कामों का वनवास |कलियों जैसी खिलने वाले उस मासूम, जिंदगी को कर दिया तबाह |हर बचपन के लम्हों को, हर सजाये हुए सपनों को |दो मिनुट में कर दिया राख,दर्दनाक जिंदगी उसे तडपा दिया |बचपन के खिलौनों की जगह, जिंदगी ...
बाल सजग...
Tag :अशोक
  April 28, 2019, 6:26 am
"जब लोगों ने किया तंग "जब लोगों ने किया तंग,तब सिर्फ तूने दिया संग,जातिप्रथा का था वो समय,बस लोगों में थी प्रलय | सभी थे जातिप्रथा के बस में, जातिवाद दौड़ रही थी सभी के नश में | नहीं था कोई अपने बस में, क्योंकि थे वो सिर्फ अंग्रेजों के बस में |   कवि : समीर कुमार , कक्षा : 9th , अपना ...
बाल सजग...
Tag :
  April 28, 2019, 6:15 am
"चीजें समझ में आई "अब मुझे चीजें समझ में आई, जब दो कदम आगे चलकर देखा | मैंने पीछे देखा , मैंने देखा की पापा मुझे मर रहे थे,हर गलतियों का कसार निकल रहे थे | तब मुझे गुस्सा आता था, कभी घर से भाग जाने का मन करता था | दूसरे बच्चों की किस्मत देखी, खुद को दोषता था | तो कभी सब को बुरा भला कह...
बाल सजग...
Tag :
  April 28, 2019, 5:42 am
"दुनिया कितनी सुन्दर है "ये दुनिया कितनी सुन्दर है,जहाँ देखो हर जगह समुन्दर है | पर ये है इतना खारा,इसका इस्तेमाल न होता सारा | जिव जंतु हैं बहुत सारा,जो घूमते फिरते हैं आवारा | ये दुनिया कितना सुन्दर है, पेड़ों का भरमार है | इससे जिव को जीवन मिलती,छोटे बड़े सभी के चेहरे खिलती | ...
बाल सजग...
Tag :
  April 21, 2019, 6:34 am
 "बारिश आया"काले - काले बादल आसमान पे छाया, यह देखकर मोर , मेंढक शोर मचाया |फिर बड़े -बड़े बूंदें गिराया,सूखे हुए पौधों में जीवन लाया | बारिश आया बारिश आया,बूंदें भी खूब गिराया | हवा -पानी साथ में लाया,लम्बे - लम्बे पेड़ों को गिराया | बारिश आया बारिश आया | |           &n...
बाल सजग...
Tag :
  April 21, 2019, 6:23 am
"बारिश आई "बारिश आई बारिश आई ,साथ में देखो पानी लाई | जब बारिश आ जाती है,फूलों की कलियाँ खिल जाती है | पेड़ भी हरे - भरे हो जाते हैं,सब थककर अंदर सो जाते हैं | बारिश आई बारिश आई,मस्ती करने का महीना लाई | बच्चे नाव बनाते हैं, बारिश में खूब नहाते हैं | बारिश आई बारिश आई ,साथ में देखो पा...
बाल सजग...
Tag :
  April 9, 2019, 6:26 am
"एक ऐसे मोड़ पर "जब मैं खड़ा था एक ऐसे मोड़ पर,मेरी जिंदगी ले गई उस छोर पर | दिखाए मुझे कई किनारे उस छोर पर,पर मुझे ही नहीं था भरोसा अपनी सोच पर | मेरी जिंदगी ने मुझे वहाँ पर टोका,पर मुझे डर था कहीं मैं खा न जाऊ धोखा | मैंने वहाँ पर भी कुछ ठहर कर सोचा,मुझे लगा इसमें है कुछ न कुछ लोचा | म...
बाल सजग...
Tag :
  April 8, 2019, 6:06 am
"सुबह का मौसम "ये सुबह का मौसम कुछ ऐसा होता है | जो सुबह फिर सोने पर,मजबूर कर देता है | धीरे धीरे हौले हौले ठंडी ठंडी बहती ये हवाएँ | मेरे शरीर को छूकर है जाती,पता नहीं वह क्या कह जाती | शोर होता है यहाँ,चिड़ियाँ चहकती है जहाँ | बड़ा खूबसूरत होता है,ये सुबह का नजारा |      &...
बाल सजग...
Tag :
  April 3, 2019, 5:41 pm
"सुहानी सी सुबह "सुहानी सी सुबह खिली है,लगता है धरती सूरज से मिली है | उसके एक एक कण ऊर्जा से भरे है,ऐसा लगता है जैसे सागर में मोती बिखरे हैं | सुनहरी सुबह प्रकति से बात करती है,पता नहीं प्रकति क्यों इतना मचलती है | चहचहाती चिड़ियाँ, खुली हुई खिड़कियाँ,बंधन से टूटी साडी वो बेड़ि...
बाल सजग...
Tag :
  April 3, 2019, 5:59 am
"लम्हा जो मैंने खो दिया "वह लम्हा जो मैंने खो दिया,हर कदम वह लगन जो मैंने कम कर दिया | वह याद आती है और दुबारा बुलाती है,जोश और होश में आने की आशा दिलाती है | दिमाग और दिल तड़पकर कुछ कर जाने को आहट निकलती है | खोकर वह एक नया पहचान बनाना चाहती है | वह लम्हा जो खो गया उसे पाना चाहती ह...
बाल सजग...
Tag :
  April 2, 2019, 5:55 am
"वीरों को याद करो "गर्मी के मौसम में,धरती के आँचल में | गर्म हवाएँ चल रही हैं,गर्मी से भू दहक रही है | लू लपाटा चले फर्राटा,कर न पाए कहीं सैर सपाटा | पेड़ पत्ते जल रहे हैं,बिन हवा के मचल रहे हैं | दिन लम्बा तो हो ही गया है,ठण्ड मानों सो ही गया है | आलस कर देता है मन में,सोना बस रहता...
बाल सजग...
Tag :
  March 31, 2019, 7:14 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3875) कुल पोस्ट (188730)