Hamarivani.com

मेरी अभिव्यक्तियाँ

                     (चित्राभार इन्टरनेट)काव्यसागर     तोअभी     बाधित है,स्व में     हिंडोलताचरम उत्पलावित है।बहेगा तब तट तोड़कर,अभी तो  लहरेंअधीर हैं,चंचल  हैं,अदम्य,परन्तु  भावघनत्व  फकीर   हैं।गुरूत्व का  सामिप्यअभी दूर है,अपनत्वका ...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :काव्य
  December 18, 2017, 11:45 am
                           (चित्राभार इंटरनेट)पिस रही हूँमैं भी पत्थरोंके बीच पर,हिना सी रंगततो नही देती?ऐ ज़िन्दगी !तू मुझे मेरीमुहब्बत तोनही देती,,,खूँटियों से बाँधदेती है किस्मत,कभी बेखुदी मेंबहक के चलभी दूँ तों,रस्सी की लम्बाईतक भटका करखींच लेती है,जब बे...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :खूँटियां
  December 18, 2017, 10:30 am
                       (चित्राभार इन्टरनेट)#बालकविताचिड़िया रानी बड़ी सयानीअपने मन की हो तुम रानी।  छोटे छोटे पैरों से तुमफुदक फुदक कर चलती हो।जाँच परख कर अच्छे सेफिर चोंच से दाना चुगती हो।बड़ी गजब की फुर्तिली होचंचल कोमल शर्मिली हो।कभी घास पर कभी डाल परचीं- च...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :बालकविता
  December 17, 2017, 7:39 pm
                         (चित्राभार इन्टरनेट)दुश्मन के छक्केछुड़ा दिएदंभ के परचमगिरा दिएवीर सपूतों ने हंसकरसीने को ढालबना दिए,,परिवार के ऊपरउन वीरों नेंदेश को सर्वोपरिमाना,,वीर सिपाही रहाडटाजब तक ना बैरीधूल चटाहुँकार भरी टंकारोंसे शत्रु केसीने चीर दिए,,उस ...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :
  December 15, 2017, 9:50 am
                       (चित्राभार इन्टरनेट)जब भी बैठती हूँखुद के साथ अपनीहथेलियों को बड़े गौरसे देखती हूँ,,,,आड़ी तिरछी इन लकीरोंमें ना जाने क्या खोजती हूँ,,सिकोड़ कर कुछ गाढ़ीखिंची लकीरों की गहराईनापती हूँ,,,पता नही इन गहराइयों मेंखुद को कहाँ तक डूबादेखती हूँ????स...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :हाथों की लकीरें
  December 15, 2017, 9:40 am
                              (चित्राभार इन्टरनेट)परमात्मा काअंश आत्मा,मिलकर बनेएक दिव्यज्योति पुंज,एक विराटऊर्जा कुंड,,,एक सूर्य,करता सम्पूर्णब्रह्मांण कोऊर्जायमान्दैदिप्यमान्एक पदार्थ,अनगिनतअणुओं कासंघटित रूपठोस,द्रव्य,गैसको देता स्वरूपसूर्य कीध...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :
  December 14, 2017, 3:50 pm
                       (चित्राभार इन्टरनेट)सृजन🍃🍂🍂🍃सृजन सृष्टिका चलताप्रतिपल,,,,सरिधार बहेज्यों निर्झरकल-कल,,प्रश्न जुड़ेजब 'कारण'से,,,,,,एक नूतनसिरजन अस्तित्वलिए,,,नव शोध,निष्कर्ष,निर्धारण से,,,एक सोचलहर सी आती हैमन चेतन सजगबनाती है,,सब इंद्रियां संचालितहो जा...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :चाक
  December 8, 2017, 10:47 am
                            (चित्राभार इन्टरनेट)शशि शान्त शिशिर रात्रि में,नीरव सुप्त व्योम शिविर में,निस्तेज शून्य सा था घूमता,कोई प्रिये संगिनी था ढूँढता।निशा कामिनी बन दामिनी,अरविंद  लोचन   स्वामिनी,सघन आरण्य से केशलहर,चलत छम छम गजगामिनीकटि लचक सरि...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :गजगामिनी
  December 7, 2017, 10:05 pm
                       (चित्राभार इन्टरनेट)बेचैन करवटों ने चादरी सिलवटों को गहरा दिया,रात पिसती रही जागकर  चाँद ने पहरा दिया।।तलबगारी तेरे नाम की दावानल सी भड़कती रही,हर सांस बड़ी गर्म थी धड़कनो को ठहरा दिया।।उम्मीद एक बस छूअन की नस नस में उमड़ती रही,दूर बहुत वह ...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :लिहाफ
  December 7, 2017, 10:29 am
                           (चित्राभार इंटरनेट)दाईं आंखसे लुढ़का नसिकाके उभार को बड़ीकुशलता से पार करता,अपना मार्ग खुद प्रशस्तकरता,तेज़ी के साथतकियें पर,,,,,,,,अपने निश्चित गन्तव्यपर पहुँचने की तस्सली लिएवह गिर गया,,,,उसका वह पतनएक समर्पण लिए,एक नेतृत्व लिए,कईपथ...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :लुढ़कता आँसू
  December 4, 2017, 8:46 am
                     (चित्राभार इन्टरनेट)यूँ ही लुकते छुपतेकिसी क्षितिज परअस्त हो जाने कीहसरत,लाई है शामएक दीर्घ स्वास संगखींच लूँ सब कोहरामनिर्मित हुआ यह कैसाभंवर दिखाती है शाम।पूछेगा ना कोई मेरे बादज्ञात है मुझे मेरा अंजामफिर भी संचय की चाहप्रश्न कैसा ल...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :
  December 3, 2017, 4:44 pm
                      (चित्र जिमकार्बेट से, मेरा द्वारा )अच्छा है नदीरूख मोड़ लेसागर से मिलनेकी ज़िद छोड़ देअपने किनारोंको छोड़,हुईजाती है कृषगातबड़े पथरीले लगतेहैं आने वाले हालात्तक्लुफ़ो कों जगहही क्यों देना?फिर उन्हे प्रेम कीनई परिभाषाओं कारूप देना!!यह कैसे ...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :
  December 3, 2017, 3:30 pm
                      (चित्राभार इन्टरनेट)याद है वह दिसम्बर की भोरघने कोहरे को चीरतीबस तुम्हे करीब से देखने की कसमसातीतड़प,ठिठुरती ठंड मेंनरम कम्बल के आवरणसा सुकून देगी,,,,कोई और ख्याल फटकतानही था दिल के दरवाज़े परना जाने क्यों पहली बार महसूसकिया तंरगे सागर के ...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :
  December 3, 2017, 10:42 am
                         (चित्राभार इन्टरनेट) कागज़ परही सहीमैं अपनीकल्पनाओं केबादल रचती हूँमै औरत हूँमै अपनाआसमान खुदरचती हूँ,,,घर-गृहस्थी केकैनवास परभी सबकीखुशियों केरंग भरती हूँमै औरत हूँमै अपनाकैनवास रंगीनरखती हूँ,,ख्वाब आंखों में,पर यथार्थके चश्म...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :घर-गृहस्थी
  November 26, 2017, 4:50 pm
                          (चित्राभार इन्टरनेट)   क्यों हरबार औरत को विषय बनाएं??*****************************रचनाकारो से कह दोखुली छाती और चिथड़ोंमें लपेट किसी औरत को,अपने सृजन पर ना इतराएंकभी विकृत मनोभावों औरकुलषित विचारों की अंधेरीकोठरी में छुप छुप कर रोतेपुरूषों को अपन...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :पौरूष
  November 26, 2017, 4:44 pm
(चित्राभार इन्टरनेट)आसान नही होतासांसारिकता में बंधतुम्हे रचना,,फिर भी मै प्रयास करती हूँ,,हे साहित्य! मै तुम्हे आत्मसात करती हूँ,,,,मिले हो ईशाषीश सेतुम्हे प्रीत का मुधरतम्गीत मान मै तुम्हे काव्यसात्करती हूँ,,हे साहित्य!मै तुम्हे आत्मसात करती हूँ,,हाँ प्रेम...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :प्रीत
  November 24, 2017, 1:54 pm
                       (चित्राभार इंटरनेट)शिव समसाहित्य मेरा,शान्त,स्निग्ध,सौम्य,सुन्दरलीन है अभीध्यान योग में,भावनाएं मेरीगौरी सम,चाहतीहैं उसे जागृत करनाशिव समसाहित्य मेरा,,,,,,उसे समर्पितकरनाचाहती हूँतपस्या मेरी,,कर अर्पित मेरीसंवेदनाओं केबेलपत्र,शब्द...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :साहित्य
  November 24, 2017, 1:49 pm
                             (चित्राभार इन्टरनेट) 🌷कृष्ण🌷**********कहो कृष्ण कैसेसमेटिहो हमेंहम कृष्ण कृष्ण होय रहेकृष्ण बदन रूप मदनमनन मनन मोह रहेकहो कृष्ण कैसेसमेटिहो हमेंहम कृष्ण कृष्ण होय रहेकमल नयन कुंज सघनमगन मगन खोय रहेकहो कृष्ण कैसेसमेटिहो हमेंहम...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :
  November 24, 2017, 6:21 am
                         (चित्राभार इन्टरनेट)हवा ,घटानभ,चन्द्र चीरउड़ते पक्षींनदिया का नीरजब रह रह करछू जाते हैं,,,कुछ शब्द यूँ हींगिर जाते हैं,,,उदधि हिंडोलेंसूरज की पीरपरवत का पौरूषधरती का धीरजब रह रह करछू जाते हैं,,कुछ शब्द यूँ हींगिर जाते हैं,,,नव कोपल कीशैश...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :
  November 20, 2017, 11:34 am
                          ( चित्राभार इन्टरनेट)मेरी कविताओं के कावित्य को समर्पित,,हे कावित्य!रहते हो मेरीकविताओं के साथकभी तो पकड़ोंजीवन पथ पर भीमेरा हाथ,,,,,,,,,,,,,शब्दों और भावों सेआओ निकल कर बाहर,जिन सड़कों पर तुम्हे सोच कई बार मुस्कुराती,कई बार नयन छलकातीचलती ...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :
  November 16, 2017, 2:56 pm
                       (चित्राभार इन्टरनेट से)मन को क्यों तूने गौरैया बना डाला,,बनाया भी अगर तो उसकी मुंडेर सेखुद को क्यों परचा डाला,,,?रोज़ जाता है उड़ कर तेरी खिड़कीपर लिए एक आस ,,,,,,,,,,कुछ प्यार भरे दानों और चाहतकी लिए प्यास ,,,,,,,,चल पागल! उड़ जा हो जा फुर्ररररररररअभी घर ...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :मुंडेर
  August 20, 2017, 11:32 am
                          (चित्राभार इन्टरनेट)दौड़ मैया के करे गलबइयां,सरस बोल रिझाएं कन्हैंया।लपट झपट पुचकार     रहे,नटखटी चाल बूझें हैं मइयां।मइया सो माखन ना बनावे कोई,स्वाद दूजा मन को ना भावै कोई।कान्हा के मन की सब समझ रहीं,बालक के प्रेम मे जसोदा सुध ख...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :माखन
  August 14, 2017, 12:02 pm
                       (चित्राभार इन्टरनेट) भारत माँ की आत्मव्यथा**********************माँ को ही लपेट तिरंगें से,सूली पर उसको टांग दिया।देश के रखवालों ने देखो,देश का जनाज़ा निकाल दिया।आरोपों की बोली ऊँचीं,निज कर्तव्यों को त्याग दिया।आत्मव्यथा से कराह रही माँ ,हमने विवे...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :देश
  August 14, 2017, 11:02 am
                         (  चित्राभार इन्टरनेट)   🌺🍃सभी को श्रीकृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं🌺🍃श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की आप सभी को अग्रिम शुभकामनांए🍃🌺🍃🌺🍃🌺🍃🌺🍃🌺🍃🌺🍃🌺🍃घुटुवन के बल जाए केमाखन में अंगुरी डूबाए के कछू खाए रहे,कछू गिराए रहेम...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :
  August 14, 2017, 10:56 am
                       (चित्र इन्टरनेट से)जो होता है वहदिखाया नही जाता,,एक निर्धारित फोकस के गोले मे पूरा सचसमाया नही जाता,,,,,,कौन है असल कसूरवारये समझना है मुश्किलबहुत सर खुजा के देखलिया नही हुआ कुछ हासिल,,सच को झूठ बनाने वालाभी पेट की खातिर लड़ेझूठ को सच बनवा क...
मेरी अभिव्यक्तियाँ...
Tag :मीडिया
  August 13, 2017, 11:58 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3755) कुल पोस्ट (175875)