POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: .मेरी अभिव्यक्ति

Blogger: Deepak Kumar Bhanre
ये मूड क्या होता है ?क्या यह अनिच्छा है काम के प्रति,या फिर अरुचि की स्थिति ,यह काम को टालने की है प्रवृत्ति ,या बातों को करनी है अनसुनी ,या चलानी है अपनी मनमर्जी ,कोई काम जरूरी नहीं है अभी,शरीर में है आलस्य की स्थिति ,और हम कहते है कि मूड नहीं है अभी ।ये मूड को क्या होता है ?जब ... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   6:06pm 22 Oct 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
कुछ नहीं होता भाग्य भरोसे, चाहे बैठ बहाये लाखों अश्रुनीर ,नई तकनीक और कौशल ज्ञान से ,चढ़ते इंसा सफलता प्राचीर ।असफल न हो अपने प्रयास हर वक्त ,लक्ष्यों को भेदे अपने तीर,कौशल विकास और अभ्यास से , बन जायें अर्जुन से वीर ।तकनीक ज्ञान की कुदाल चलाकर , दे धरती की छाती चीर ,बह निक... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   6:19am 19 Oct 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
चाहते है जमाने में लोग , किसी का कुछ हो न हो ,  उनका  हर काम बन जाये ,बाकी को मंजिल मिले न मिले , उनका एक मकाम बन जाये ।चाहते है जमाने में लोग ,अपना काम बनते तक , सलामत रहे दुनिया में सब ,बाद दुनिया में कुछ रहे न रहे , चाहे तो शमशान बन जाये ।जमाने में  लोगों को,तकलीफ होती है ... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   6:43pm 10 Oct 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
इमेज गूगल साभार मातारानी की उपासना का यह पावन त्यौहार है ,श्रृद्धा  और भक्तिभाव से सारा जगत सरोबार है ।मंदिरों में माता के भक्तों की लग रही  कतार है ,मातारानी की कृपा से हो रहा सबका बेड़ापार है ।स्थापित घट में जल रही अखंड ज्योति लगातार है ,अलौकिक प्रकाश से दुखों का ... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   4:33am 7 Oct 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
ये दिल कर ही गया गुस्ताखियां ,होकर उनका कर ही गया मनमानियां ।वो उनकी हंसी शरारत ,वो हर बात पर उनका हंसना , यूं दिल में आकर बसना ,वो दिल में उतर जाने की महारथ ,बढ़ा देती है दिल की बेताबियां ।अब किस से करें शिकायत ,ये दिल भी अपना , और उन्हें भी माना है अपना ,उन्हें अपना बनाने की ह... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   6:42pm 22 Sep 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
वक्त# का क्या है ये  वक्त तो गुजर#  जाना है । संवार लें पल पल# फिर कब ये लौट कर आना है ।गम के लम्हों को गुजरने में सदियों सा समय लगता है ।खुशियों के पल कब गुजर जाये पता ही नहीं चलता है ।ये तो वक्त का अंदाज पुराना है ।..…..…फिसल जाता है वक्त हाथ से रेत की तरह कहां है थमता ।सहे... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   6:47am 14 Sep 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
आज देख लो भारत# ने ऐसा मारा हथौड़ा# ।तोड़ दिया एक झटके में धारा 370# का घेरा ।लोगों को बरगलाकर , जो सेक रहे थे अपनी रोटी ।भोग रहे थे सत्तासुख , जो समझकर अपनी बपौती ।कुटिल इरादे हुए असफल , हाथ में पकड़ा दिया कटोरा । ।इतरा रहे थे नापाक पड़ोसी , दे रहे थे गीदड़ भभकी ।ध्वस्त हुये किल... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   5:37pm 21 Aug 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
                                                            चित्र गूगल साभार                                                                   अंजली में भर लिया बूंदे बारिश की ,भोली भाली सीधी सादी सरल व निर्मल।ठहर न सकी अं... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   4:05pm 2 Aug 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
                                                              इमेज गूगल साभारमत देखा करो ऐसे ,मचल उठते है  अरमा , उठते है  तूफां।  नशीले नीले नैनो का नशा  ,काले केशों का कहर ढाता कहकशा , बार बार बहकती बाहें करती बयाँ , निहारती नजरें नहीं नादाँ ।मत... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   4:39pm 25 Jul 2019 #mat
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
एक विनती# सुनलो# हमारी !एक विनती सुनलो हमारी ,शीतल कर दो धरती सारी .त्राहि कर रहे सब नर नारी ,रवि रश्मि बनी चिंगारी .अंकुरित हो फसलों की क्यारी,राह निहारती सब तुम्हारी .चिंता में दिन रात गुजारी ,धरती पुत्र की समझो लाचारी .पशु पक्षियों को प्यास ने मारी ,सर सरिता सब सूखी सारी .... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   2:25pm 17 Jul 2019 #vinti
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
दिल# उड़ चला तेरी गलियों# की तरफ !दिल उड़ चला तेरी गलियों की तरफ,कदम क्या खाक रुकेंगे अब ।बार बार तुझसे मिलने की उठती है तड़फ ,सुकून से क्या खाक जीयेंगे अब ।घटाओं सा लहराता केशों का आसमानी फलक ,पाजेब की झंकार और चूड़ियों की खनक ,कदमों की थिरकन और कमर की लचक ,जब भी सुनाई देती ... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   5:31pm 13 Jul 2019 #galiyan
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
                                                                          चित्र गूगल साभार ये वहम अच्छे हैं ! जब तक अपनों के चेहरे पर  मिले मुस्कान ,और मुँह में मिले  हो शहद सी मीठी जुबान ,भ्रम के बादलों से ढँका है रिश्तों का असमान ,तो तब तक जीने ... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   3:10am 24 Jun 2019 #वहम
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
लोकतंत्र का यह पर्व मनायें , मतदान के मंदिर तक जायें  . बड़े बुजुर्गों को संग लेकर , पहचान पत्र की भेंट अवश्य ले जायें  . व्यवस्था संग सामंजस्य बनाकर , अपनी बारी पर प्रवेश पायें  . स्याही का ऊँगली में तिलक लगा , मतदान मंदिर के गर्भ गृह जायें  . बेलेट मशीन और वीवीपेट से , प... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   5:58pm 15 Apr 2019 #vote
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
E-commerce Website #uniqedeal (https://www.uniqedeal.com) #IsFake.आदरणीय महानुभाव / दोस्तों ,मैंने 22 मार्च 2019 को e -commerce site https://www.uniqedeal.com में order no 21273 से एक samsung galaxy m20 स्मार्ट फोन बुक किया , और ऑनलाइन एडवांस्ड पेमेंट Rs 12499 /- UPI से किया। स्मार्ट फोन बुक किये हुए एक सप्ताह से अधिक दिन हो चुके है किन्तु आज दिनांक तक मुझे फ़ोन प... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   1:26am 2 Apr 2019 #uniqedeal
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
कुछ इस तरह से होली मना लें , खुशियों के रंगों से मह्फिल सजा लें ॥ थोड़ी मस्ती थोड़ी शरारत , अपनों संग धूम और धमाल मचा लें . नीला पीला हरा लाल गुलाबी , कुछ गुलाल और कुछ रंग लगा लें .कुछ इस तरह से होली मना लें.........................छुपते छिपाते कुछ शरमाते लोगों को , घर से जरा बाहर निकालें .  च... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   2:27pm 20 Mar 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
इमेज गूगल साभारगीदड़ों के बम पर कहाँ है इतना दम ,जो भिड़ सके शेरों से सामने आकर ।कायरों सा छिपकर कर रहे आक्रमण ,कुछ गद्दारों संग पीछे से आकर ।कंगाली से जिसका भरा है खुनी दामन,आतंकवाद की जहरीली फसल लगाकर ।कुछ न कर पायेंगे ये बुजदिल हासिल ,ऐसी घटिया सी हरकत अपनाकर ।जब भी शेरो... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   5:50am 17 Feb 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
चलो एक कदम और बढाकर तो देखें ,अपने अंदर के हुनर को आजमाकर तो देखें ।माना कि खुद के अंदर कभी झाँका नहीं ,स्वयं को पहचानने की रही जिज्ञासा नहीं,प्रतिभा को अपनी  कभी आँका नहीं ,क्षमता के अनुरूप खुद को तराशा नहीं।करते  रहे औरों की सुनकर अब तक ,मन की बात सुनने की न थी फुरसत ,स... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   1:19am 14 Feb 2019 #hunar
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
कर लो कौशल# विकास# और सीख लो तकनीकी# हुनर!कर लो कौशल विकास और सीख लो तकनीकी हुनर ।दूर होगी कैरियर  की चिंतायें  जीवन जायेगा संवर ।माना की पढ़ाई पर टूट पड़ा परिस्थितियों का कहर ।न ही हासिल कर पाये उच्च शिक्षा  के अच्छे अवसर ।चिन्ता की कोई बात नही और न ही ज्यादा करें फिकर ... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   6:23am 10 Feb 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
है पथ पग पग पर पथरीले , अभी दूर है मंजिले।कितनी सहूलियतें त्यागनी है ,कितनी ही रातें जागनी है , कितनी बाधायें लांघनी है ,कठिन परिस्थितियां साधनी है ,पड़ जायेँगे पाँव में छाले ,है पथ पग पग पर पथरीले , अभी तो दूर है मंजिले।होती आंख मिचोली अनायास है ,कभी दूर तो कभी तू लगती पास ... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   8:38am 3 Feb 2019 #path
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
Image साभार गूगल .गणतंत्र दिवस पर तिरंगा फहराया ,सलामी देकर राष्ट्रगान गाया ।कुछ नाच गाकर कुछ भाषण देकर ,देशभक्ति का भाव जगाया ।याद किया शहीदों के बलिदानों को,कुर्बानी का न होने देंगे जाया ।हक़ को लड़कर लेने की है ठाना ,फर्ज का जज्बा रग रग में समाया ।प्रण किया  मिलजुलकर ऐसे ... Read more
clicks 11 View   Vote 0 Like   4:56pm 26 Jan 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
अक्सर यह देखने में आता है की हर अभिनव प्रयोग और नए आविष्कार के विदेश में ही होने की खबर समाचार पत्रों में बड़े तामझाम के साथ छपती है , जिससे ऐसा लगता है की वहां के लोग बड़े प्रतिभाशाली है और हमारे यहां के नहीं ।दोस्तों आज 22/01/19 के दैनिक भास्कर में सूरत के इंजीनियर श्री पुरुषो... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   10:44am 24 Jan 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
कुछ# इस तरह# से जीना# आ गया !कुछ इस तरह से जीना आ गया , मुस्कुराते हुये ग़मों को पीना आ गया ।मुश्किलों के दौर के आये जो मंजर , कोई साथ न देगा न थी ऐसी खबर । मदद की आस में भटकते दर बदर , परेशानियों से लड़ने का हुनर जो आ गया। खुद ही अपने जख्मों को सीना आ गया .........फिजाओं में घुल रहे है ... Read more
clicks 10 View   Vote 0 Like   3:23pm 13 Jan 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
खरे सोने# सी बढे दुनिया# में कदर# ।खुशियों का फैला हो अनंत आकाश ,उत्साहों से भरा हो अथाह समंदर ।ऊर्जाओं का बिखरा हो अपार प्रकाश, अवसरों की खुली होअनेकों डगर ।गिरकर उठ जाने के हो पुनः प्रयास , एकलव्य सा दोगुना हो जूझने का असर ।संभावनाओं के दिन व् दिन बढे कयास, लक्ष्यों पर हो... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   5:24am 1 Jan 2019 #
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
लो बीत# गये वो पल# ।... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   5:36pm 26 Dec 2018 #pal
Blogger: Deepak Kumar Bhanre
नजाने# किस बात# का नशा# है।क्यों भटक रहे कुछ युवा, न जाने किस बात का नशा है।अपने में ही खोये हुये है , दुनिया भी उसकी जुदा है।बंधनों में नहीं चाहते बंधना ,न ही चाहते कोई कायदा। जरुरत नहीं मशविरों की ,जिद पूरी करने पर अमादा है।सब पाने की चाह लिये है ,कच्चे रास्तों सा इरादा ह... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   6:41pm 20 Dec 2018 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3931) कुल पोस्ट (193329)