Hamarivani.com

जनशब्द

समकालीन कश्मीरी कविता के प्रमुख हस्ताक्षर गुलाम नबी ‘आतिश’ की कविता किसी भी राजनीतिक, सामाजिक उलझनों और विवादों से अलग दिखती है। इनकी कविताओं में आक्रोश और संघर्ष का एक सादगीपूर्ण इज़हार है साथ ही इनकी विशिष्ट अभिव्यक्ति पाठकों पर गहरी छाप छोड़ती है। प्रस्तुत है इ...
जनशब्द...
Tag :कविता
  June 28, 2013, 11:29 am
‘बीसवीं सदी की ओड़िया कविता-यात्रा’ में पिछली पूरी सदी के 140 प्रमुख कवियों की प्रतिनिधि काव्य रचनाओं का समावेश है। ओड़िया की सृजनक्षमता की एक बानगी गिरिबाला महांतिकी कविता ‘औरत ’ में दिखती है, जो नारी मन के आक्रोश और पीड़ा की अभिव्यक्ति है..औरत..लड़की का भला दुख कैसा,जिसक...
जनशब्द...
Tag :ओड़िया कविता
  June 4, 2013, 10:21 am
हरिशंकर श्रीवास्तव ’शलभ’ के साथ रमेश नीलकमल..                                              कवि, कथाकार और ’शब्द कारखाना’ पत्रिका के सिद्ध संपादक रमेश नीलकमल के निधन से मर्माहत हूँ..। बिहार में समकालीन लेखन के प्रति उनके योगदान को भूलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कई कवि व कथाकारों प...
जनशब्द...
Tag :
  May 27, 2013, 4:02 pm
-सौ बांग्ला लेखकों में तीस प्रतिशत बिहार के लेखक हैं..-‘ढोढाइ चरित्रमानस’ कोसी अंचल के सामाजिक जीवन का आईना है..    बांग्ला के प्रसिद्ध साहित्यकार सतीनाथ भादुड़ी द्वारा स्थापित पूर्णिया जिला मुख्यालय का ऐतिहासिक पुस्तकालय ‘इंदु भूषण पब्लिक लाईब्रेरी’ में 7 फरवरी को ...
जनशब्द...
Tag :पूर्णिया
  February 9, 2013, 12:30 pm
              ‘केदार सम्मान’            समकालीन हिन्दी कविता के विशिष्ट सम्मान ‘केदार सम्मान’ वर्ष 2012  के लिए प्रकाशकों, रचनाकारों एवं उनके शुभचिन्तकों से 30 नवम्बर 2012 तक - पिछले चार वर्षो तक प्रकाशित कविता संकलनों की दो प्रतियां आमंत्रित की जाती है । वे रचनाकार इस सम्मान हेत...
जनशब्द...
Tag :सम्मान
  September 3, 2012, 3:04 pm
बरसातबरसात में सबकुछ बहुतकुछधुल रहा था धीरे-धीरेधुल रहा था जैसे अतीतधुल रही थी जैसे आत्मा बेचैनधुल रहा था जैसे मन का दुष्चक्रपेड़ पहाड़ बाघ घर जल अनंतसब धुल रहे थेबरसात में इसबारधीरे-धीरे जैसे धुल रहा था मैलदेह पर का          *उसने मुझे साधा थावह पानी की तरह तरल थीठोस थ...
जनशब्द...
Tag :कविताएँ
  August 22, 2012, 7:45 am
साहित्य अकादेमी के विशेष कार्य पदाधिकारी जे. पोन्नुदुरै का वक्तव्य...        देश विभिन्न भागों से आये बहुभाषाभाषी कवियों की गरिमामय उपस्थित से पटना स्थित ख्रुदा बख़्श  ओरियंटल पब्लिक लाइव्रेरी का प्रशाल जगमगा उठा। हिन्दी, पंजाबी, उर्दू, नेपाली, असमिया, मैथिली और संता...
जनशब्द...
Tag :साहित्य अकादेमी
  June 29, 2012, 9:28 am
एक दिन बच्चों ने पूछा कैसे लिखते हैं पापा समुद्रफिर पूछा कैसे दिखते हैं पापा समुद्रइसी तरह कभी पूछा था बच्चों ने कैसे लिखते हैं पापा नदी कैसी होती है नदीनदी की कल्पना आसपास थी मेरेनहीं हुई कोई ख़ास दिक्क़त बच्चों को बताने मेंकैसी होती है नदीपर समुद्र मेरी कल्पना से प...
जनशब्द...
Tag :कविता
  May 22, 2012, 6:17 pm
एक दिन बच्चों ने पूछा कैसे लिखते हैं पापा समुद्रफिर पूछा कैसे दिखते हैं पापा समुद्रइसी तरह कभी पूछा था बच्चों ने कैसे लिखते हैं पापा नदी कैसी होती है नदीनदी की कल्पना आसपास थी मेरेनहीं हुई कोई ख़ास दिक्क़त बच्चों को बताने मेंकैसी होती है नदीपर समुद्र मेरी कल्पना से प...
जनशब्द...
Tag :कविता
  May 22, 2012, 6:17 pm
डा. मोहय्या अब्दुरहमान (ताशकंद), अरविन्द श्रीवास्तव , डा. असगर अली इंजीनियर, सतीश कालसेकर (मराठी साहित्यकार) व डा. चौथी राम यादव (पूर्व आचार्य बीएचयू)गत दिनों ( 13 अप्रैल 2012 ) दिल्ली विश्वविधालय के नौर्थ कैम्पस स्थित केन्द्रीय सभागार में मधेपुरा के युवा कवि अरविन्द श्रीवास...
जनशब्द...
Tag :लोकार्पण
  April 28, 2012, 3:28 pm
कोई भी रचना चाहे वह किसी भी विद्या मे हो, उन सभी की संरचनात्मक मांग वक्त की तमाम हालतों को अपने में अंतर्निहित करने की होती है। सच है कि उस समय के सम्पूर्ण संयोजन के अभाव में किसी बेहतर रचना का विन्यास नहीं हो सकता। तब यह आवश्यक प्रतीत होता है कि रचना में स्मृति, अनुभव और ...
जनशब्द...
Tag :समीक्षा
  February 18, 2012, 4:09 pm
जनता मुझसे पूछ रही है, क्या बतलाऊँजनकवि हूँ सच कहूँगा, क्यों हकलाऊँ,जनकवि हूँ मैं क्यों चाटूँ थूक तुम्हारीश्रमिकों पर क्यों चलने दूँ बंदूक तुम्हारी                                                                                                                                             - नागार्जुन         ...
जनशब्द...
Tag :कविता
  February 1, 2012, 4:22 pm
यह डा. वीरेन्द्र ‘आज़म’ और उनके टीम की इच्छा शक्ति, संकल्प और समर्पण का ही परिणाम रहा कि ‘शीतल वाणी’ का ’कमला प्रसाद स्मृति अंक’ सामने आ सका। यह अंक उस महान शख्सि़यत को समर्पित है जिनके योगदान को साहित्यिक व सांस्कृतिक जगत आसानी से भुला नहीं सकता। कमला प्रसाद जी ने एक स...
जनशब्द...
Tag :समीक्षा
  January 27, 2012, 2:47 pm
बाज़ारवाद की अपसंस्कृति ने हमारी लोक परंपरा व संस्कृति को जिस तरह से मर्माहत करना प्रारंभ  किया है यह भविष्य के भयावह दृश्य का रिहर्सल-मात्र है। साजिशें रची जा रही है, आततायी लुभावने शब्दों के साथ सुंदर, सम्मोहक खिलौने लिए खड़े हैं दरवाजे पर। हमारी लोक परंपराओं को बा...
जनशब्द...
Tag :समीक्षा
  January 26, 2012, 3:36 pm
नये रचनाकारों को लिखने से अधिक पढ़ना चाहिए। वरिष्ठ साहित्यकारों की रचनाओं को पढ़ना, आत्मसात करना फिर लिखना ही एक मंत्र है। अधिकांश नया लेखक हड़बड़ी में रहता है जबकि साहित्य की कोई भी विधा मुकम्मल समय मांगती है। प्रमोद वर्मा स्मृति संस्थान के अध्यक्ष विश्वरंजन ने रा...
जनशब्द...
Tag :आयोजन
  January 16, 2012, 8:09 pm
 कवि राजकिशोर राजनपटना, युवा कवि राजकिशोर राजन को वर्ष 2011 का ‘जनकवि रामदेव भावुक स्मृति-सम्मान’दिए जाने की घोषणा ‘रचना’ (एक साहित्यिक मंच) की ओर से स्थानीय केदार भवन, अमरनाथ रोड, पटना के कविवर कन्हैया कक्ष में की गई। संस्था के अध्यक्ष तथा वरिष्ठ साहित्यकार छंदराज ने कह...
जनशब्द...
Tag :सम्मान
  December 16, 2011, 8:36 am
    हिन्‍दी में साहित्‍य अकादेमी का बालसाहित्‍य पुरस्‍कार 2011 वरिष्‍ठ बालसाहित्‍यकार डॉ. हरिकृष्‍ण देवसरे को उनके आजीवन योगदान के लिए आज उनके आवास (ब्रजविहार, गाजियाबाद) पर साहित्‍य अकादेमी के उपसचिव श्री ब्रजेन्‍द्र त्रिपाठी के हाथों प्रदान किया गया। पुरस्‍कार के ...
जनशब्द...
Tag :सम्मान
  November 29, 2011, 5:28 pm
 ‘समकालीन साहित्य मंच’ मुंगेर के तत्वावधान में स्थानीय बदरुन मंजि़ल, गुलज़ार पोखर,  में वरिष्ठ कवि उद्भ्रांत के सद्यः प्रकाशित कविता-संग्रह ‘अस्ति’पर एक सारगर्भित विचार-गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता चर्चित शायर डा. अनिरुद्ध सिन्हा ने की तथा संचालन युवा...
जनशब्द...
Tag :आयोजन
  November 25, 2011, 9:11 am
बिहार प्रगतिशील लेखक संघ की पूर्णिया इकाई के प्रस्ताव पर दिनांक 11 एवं 12 फरवरी (रविवार) को बिहार प्रगतिशील लेखक संघ का 14 वाँ राज्य सम्मेलन पूर्णिया में संयोजित होने जा रहा है। जिसमें प्रलेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. नामवर सिंह, डा. खगेन्द्र ठाकुर, महासचिव प्रो. अली जावेद, ...
जनशब्द...
Tag :बिहार प्रलेस
  November 16, 2011, 2:05 pm
'दोआबा' अंक - 10 अपने आकर्षक कलेवर और संपादक के रूचिकर रचना-चयन जैसे श्रमसाध्य अनुष्ठान का प्रतिफल है। यही कारण है कि दोआबा अपनी उपादेयता को मूल्यवान बनाने के साथ-साथ यह साहित्य जगत की अनिवार्य पत्रिका भी बन जाती है।     'दोआबा' के इस अंक में सुचयनित कविता एवं कहानियों म...
जनशब्द...
Tag :समीक्षा
  October 18, 2011, 12:29 pm
‘प्रसंग’ के इस अंक में प्रतिष्ठित लेखकों ने विभिन्न तरह की स्मृतियों को रचनात्मक वाणी दी है। शताब्दी पूरा करने वाले अपने दिवंगत महान रचनाकारों  में राधाकृष्ण, उपन्द्रनाथ अश्क, शमशेर, नागार्जुन, केदारनाथ अग्रवाल, फादर कामिल बुल्के और तेलगु के महाकवि श्री श्री के रचन...
जनशब्द...
Tag :समीक्षा
  October 1, 2011, 10:56 am
बहुचर्चित कवि, कहानीकार और साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित श्री उदय प्रकाश की षष्ठीपूर्ति  के अवसर पर ‘शीतल वाणी’का अगला अंक केन्द्रित होगा। इस अंक हेतु उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर आधारित रचनाएं आमंत्रित-...
जनशब्द...
Tag :आमंत्रण
  September 24, 2011, 7:05 pm
कमला प्रसाद के साथ अरविन्द श्रीवास्तवबाजार में क्या नहीं है? बाजार में सब है, धन है, कीर्ति, धर्म-कर्म, अर्थ- काम, मोक्ष सब है। ऐसे में साहित्य क्या कर सकता है। निश्चय ही संवेदना की रक्षा विखण्डन में से संश्लेषणात्मक विचारों और भावों के नये रचनात्मक रूपाकारों को मानवीय ...
जनशब्द...
Tag :प्रलेस
  September 20, 2011, 1:47 pm
राजस्थान की साहित्यिक परंपरा में ‘एक और अन्तरीप’ (संपादक- डा. अजय अनुरागी एवं डा. रजनीश संपर्क- 1.न्यू कालोनी, झोटवाड़ा, पंखा, जयपुर- 302012. राज., मोबाइल- 09468791896) का लंबे अंतराल के बाद साहित्य जगत में सुखद व साथर्क हस्तक्षेप हुआ। पत्रिका के प्रधान संपादक प्रेमकृष्ण शर्मा का मानन...
जनशब्द...
Tag :समीक्षा
  September 16, 2011, 9:33 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163578)