Hamarivani.com

नीरज हृदय

मेरे घर के बगल सेगुजरती एक सड़क पेपेड़ एक खड़ा हैसुखा हुआ, नंगा;पत्ते गिर चुके जिसकेटूट चुकीं कई टहनियां हैं।साथ में खड़े कई पेड़ हैंहरे- भरे झूलते-झूमते,अपने में मस्त हैंबारिश की बूंदों को समेटतेहवा के झोकों संग नाचते।मैं देखा करता हूँसूखे पेड़ को कुढ़ते,पक्षियों को घ...
नीरज हृदय...
Tag :
  August 14, 2016, 8:30 am
तुम दोस्त हो मेरे  तुम ही मेरे हमदम, तुम पाक ऐसे हो, ज्यों भोर की शबनम। हर बात है तेरी, बरसात की झमझम तुम साथ ऐसे हो, ज्यों आँख में नमनम। अब साथ मेरा दो, जब शाम है गमगम यह रात ऐसी हो, ज्यों इश्क़ की सरगम। लब आज वो कह दें, सब तोड़ दें बंधन आगोश में सोयें, ज्यों एक हो तनमन। ...
नीरज हृदय...
Tag :
  August 12, 2016, 8:30 am
रात काली ख्वाब काले भागतीं परछाइयाँ, मौत का है जश्न सारा नाचतीं परछाइयाँ। हुश्न खुदा के नूर का जिस्म में दिखता नहीं चीर सीना जो दिखाया झाँकती परछाइयाँ। जो दुआ में हम खुदा से माँगते इंसानियत तो हमारे हाथ आतीं झेपतीं परछाइयाँ। चाँद तारे साज सरगम खो गए ऐ जिंदगी दिन ...
नीरज हृदय...
Tag :
  August 7, 2016, 8:30 am
मेरा कमराऔर मेरी याददाश्तदोनों हैं भरेसड़ी घुटन से,उनके बीच मेंमैं रहता हूँ....बदलते मौसमऔर गुजरते दिनलाते रहे हैंकितने बदलाव-अच्छे और बुरेमैं छांटता हूँ...कडवी यादों कोमिटा सकूँजेहन सेकिसी तरह,इसी प्रयास मेंमैं रहता हूँ...सुनहले पलों कोघर में अपनेसजा सकूँसिलसिलेवा...
नीरज हृदय...
Tag :
  June 9, 2016, 11:16 pm
ऐ जमीन के टुकड़ेमुझे माफ़ करो...मैं तुम्हें कहता रहा तुम होमेरे सपने की जमीनतुम्हें मैं रखूँगा संभालवक़्त के उस पड़ाव तक,हो सकूँगा इतना सक्षमकि बना सकूंएक महल अति भव्य सुखशांति का मक़ाम। ऐ जमीन के टुकड़ेमुझे माफ़ करो... तुझमे नहीं जमने दिया पानी बरसात का,पड़ोसियों की नालिय...
नीरज हृदय...
Tag :
  June 2, 2016, 11:30 am
यादों के कुछ टुकड़ेखूंटी से लटके कपड़ेकोने में रखे मटकेऔर भाग्य के झटके...बीता अभी बचपनउम्र लगे पचपनटूटा हुआ तन-मनऔर बर्तन करें ठनठन...ज्ञान की बड़ी-बड़ी बातेंभूख से सिकुड़ती आंतेसाहेब की बेरहम लातेंऔर कम्मो से मुलाकातें...प्यारा सा नामदिन रात करे कामथोड़ा मिले दामजीवन स...
नीरज हृदय...
Tag :
  May 26, 2016, 8:30 am
मैं भूल जाता हूँतेरा नाम,याद रहता हैतेरा चेहरा। मैं भूल जाता हूँतेरा घर,याद आ जाता हैतेरा नाम। मैं भूल जाता हूँतेरा चेहरा,याद कर पाता हूँतेरा साथ। मैं भूल जाता हूँकठोर आज,सोचता रहता हूँपुरानी बात।मैं भूल जाता हूँतेरा प्यार,याद करता हूँतेरा कटाक्ष। मैं भूल जाता हूँए...
नीरज हृदय...
Tag :
  May 19, 2016, 10:58 pm
प्रेम का मतलब ईश्वर जाने मैं नित सनम बनाता हूँ, जहाँ समर्पण भाव गहन हो प्रेम आनंद बरसाता हूँ। कहें लोग प्रेम ही ईश्वर मैं साधक बन जाता हूँ, जहाँ छलकते नैन प्रेम से अभिमान छोड़ बह जाता हूँ। रूप प्रेम के लाखों होंगे मैं सबको अपनाता हूँ, जहाँ सिसकता व्याकुल मन है प्रे...
नीरज हृदय...
Tag :
  May 12, 2016, 8:30 am
हर वक़्त ख़ुद को चौराहे पर खड़ा पाता हूँ, टार्च पास नहीं अंधेरे में भटक जाता हूँ। जो सीधे रास्ते चले थे आगे निकल गए, हम नए राह की खोज में पिछड़ते चले गए। वक्त का तकाजा समझा ठोकरों के बाद, लहूलुहान थी शख्सियत खुले थे मेरे हाथ। गर चाहते हो तुम दामन भरा हो खुशियों से, करो मे...
नीरज हृदय...
Tag :
  May 5, 2016, 5:00 pm
जोश है इस जिस्म में, जज्बात से सिहरता बदन,जंग से हालात हैं, हर रात है पिघलता बदन। आरज़ू-ए-वस्ल वो, खूंखार आज बाकी नहीं,साथ हो बस हमसफ़र, तन्हा पड़ा तरसता बदन। कायदा संसार का इंसान पे लिपटता कफ़न,फ़र्ज़ की अदायगी, दर-ब-दर भटकता बदन।जिंदगी में जख्म के मायने बदलते रहे,जिस्म है जूनून ...
नीरज हृदय...
Tag :
  April 28, 2016, 8:00 am
मेरी कलम रुक जाती हैजबकोई कहता हैभूख लगी हैपैसे दे दो...मेरी कलम रुक जाती हैजबमैं देखता हूँछोटे से बच्चे कोचाय की दूकान पेकाम करते...मेरी कलम रुक जाती हैजबकोई सिमटी सिकुडी लड़कीकिनारे से गुजरती हैसर झुका करभीड़ से बचकर...मेरी कलम रुक जाती हैजबकोई रिक्शा वालादस के बदले ...
नीरज हृदय...
Tag :
  April 21, 2016, 12:00 am
अधखिली कली वो जूही कीमेरे बचपन की आली थी, मेरे सपनो की गलियों में फिरती बनी मतवाली थी।चंचल चितवन, गोरी शबनमसोम-सुधा की प्याली थी,वह वसंत के दिन मेंमेरे जीवन की हरियाली थी।जब यौवन सावन घिर आयादूर खड़ी भरमाती थी,गुमसुम गुपचुप नयनों सेउसकी छुअन सहलाती थी।पाक जिस्म मैं, मन ...
नीरज हृदय...
Tag :
  April 14, 2016, 12:00 am
तुम दोस्त हो मेरे, तुम ही मिरे हमदम,तुम पाक ऐसे हो ज्यों भोर की शबनम।हर बात है तेरी बरसात की झमझमतुम साथ ऐसे हो ज्यों आँख में नमनम।अब साथ मेरा दो जब शाम है गमगमयह रात ऐसी हो ज्यों आग हो मध्यम।लब आज वो कह दें, सब तोड़ दे बंधन,आगोश में सोयें, ज्यों एक हो तनमन। ...
नीरज हृदय...
Tag :
  April 7, 2016, 12:00 am
क्या हो अगर... रेनबो उतर आए मेरी बालकोनी में, दीवालें सतरंगी हो जायें। आखों में बसने लगे सपने नए... क्या हो अगर... चाँदनी उतर आए मेरे घर पर, ख्याल जगमगाने लगें होठों पर आने लगें गाने नए... क्या हो अगर... धुप ठहर जाए सारे शहर पर, रेगिस्तान पसरने लगे। राहों में मिलाने लगें, क...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 31, 2016, 12:00 am
क्या हो अगर...रेनबो उतर आएमेरी बालकोनी में,दीवालें सतरंगी हो जायें।आखों में बसने लगेसपने नए...क्या हो अगर...चाँदनी उतर आएमेरे घर पर,ख्याल जगमगाने लगेंहोठों पर आने लगेंगाने नए...क्या हो अगर...धुप ठहर जाएसारे शहर पर,रेगिस्तान पसरने लगे।राहों में मिलाने लगें,काटें नए...क्या ह...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 31, 2016, 12:00 am
गरमी की धूपसावन की फुहारेंजाड़े की कम्पनबसंत सिहरन का...होली की तरंगदिवाली की उमंगविवाह का बंधनमृत्यु का क्रंदन...सागर का अनंतनदियों का तरंगपर्वतों का उतुंगमिटटी के बहुरंग...सुख का गागरदुःख का सागरआपस का प्यारमाँ की फटकार...जिंदगी के सवालसोचो तो बुरा हालएक सच है कालब...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 30, 2016, 12:00 am
खामखां सर पटकते हो पत्थरों में अब नारायण नहीं बसते।आसमां सर पे उठाते होशहरो में अब इन्सान नहीं रहते।मजमा समेट वह चल दिएसड़कों पे अब कद्रदां नहीं मिलते।कारवां गुजरे वक्त गुजराक़दमों के अब निशां नहीं मिलते।किस्मत से तू जो है इंसान बचारेगिस्तान में अपने निशां छोड़ जा....
नीरज हृदय...
Tag :
  March 28, 2016, 12:00 am
कदम-कदम बढाये जातू राहगीर बन जाएगा,सकपकाता क्यूँ है बन्देकुछ-न-कुछ तो पायेगा।हमसफ़र होती हैं राहेंहर कदम पर साथ हैं,तुझमें होगी कुव्वत जैसीवैसी ही मंजिल पायेगा।हर कदम जो तय कियामंजिलों की ओर तूनें,आने वाले वक्त में वहमंजिल ही कहलायेगा।गुजरे क़दमों के निशान हीराह ब...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 27, 2016, 12:00 am
कदम-कदम बढाये जा तू राहगीर बन जाएगा, सकपकाता क्यूँ है बन्दे कुछ-न-कुछ तो पायेगा। हमसफ़र होती हैं राहें हर कदम पर साथ हैं, तुझमें होगी कुव्वत जैसी वैसी ही मंजिल पायेगा। हर कदम जो तय किया मंजिलों की ओर तूनें, आने वाले वक्त में वह मंजिल ही कहलायेगा। गुजरे क़दमों के निश...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 27, 2016, 12:00 am
तू छाया मेरे अतीत कीसपनों में यूँ भरमाती है,रात अँधेरी होने परतन-मन से लिपट जाती है।मैं तेरे देह के भ्रम मेंनींद में जागृत हो जाता हूँ,अहसास प्यार का पाकरमदहोश बिखर-सा जाता हूँ।जब सुबह कहानी कहती हैगुज़रे रात के ख्वाबों की,तब सलवटें मुझें खलती हैंपसरे कोरे चादरों की। ...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 26, 2016, 12:00 am
जिंदगी ईंटों से बनी कोई इमारत तो नहीं!कब्रिस्तान में लाशों को शिकायत तो नहीं?सिकंदर बड़े-बड़े वक्त की मिट्टी में मिले,मौत शहंशाह की भी क़यामत तो नहीं!दाग मेरे दामन में थे पुराने कितने,दिखाया था तुझे की वकालत तो नहीं।मासूमों के खून से रंगी है सरजमीं ,शायरी है जंग मेरी, इ...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 25, 2016, 12:00 am
बालकोनी की ओर उठती है नज़र कभी-कभी,तेरे चेहरे पर जाती है ठहर कभी- कभी।यूँ तो इस गली से मेरा गुजरना होता नहीं,शाम में शायद सिमट जाता है शहर कभी-कभी।दिल मेरा और यह इलाका हराभरा है नहीं,यकायक आ जाती है बारिश कभी-कभी।इंसानों की नीयत का ठिकाना होता नहीं,मुसलमां हैं लेकिन पूजते...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 24, 2016, 12:00 am
इस बरस रंगीली होली में तन ना रंगाऊं, मन रंगाऊं।इस बरस उम्र की डोली में, मैं ना जाऊँ, ठहर ही जाऊँ।इस बरस सखियों की ठिठोली से मैं क्यों घबराऊँ, मैं तो मुस्काऊँ।इस बरस जीवन के रंगों को मैं ना पाऊँ तो कब पाऊं।इस बरस रति के अंगों को मैं ना सजाऊँ तो कब सजाऊँ?इस बरस यौवन की कलिय...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 23, 2016, 12:00 am
मेरी नजर टिकी थीएक बंद खिड़की पे,धूप पसर रही थीबदरंग खिड़की पे।मुहब्बत हो गई थीसुनसान खिड़की से,हसरतें बढती गईजान-ऐ-मन खिड़की से।काश! तू भी झांकतीकमबख्त खिड़की से,तन्हाई क्यों तंगी थीहर वक्त खिड़की से? शाम-ओ-सहर हम रहते थेबेकरार खिड़की पे,अब और नहीं करेंगेइंतज़ार खिड़...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 22, 2016, 12:00 am
मैं अकेला रो रहा थातूनें कब की परवाह,आगोश में जिसने समेटावो नहीं थी मेरी माँ।मैं ग़लत था, मैं सही था,तूनें कभी बताया कहाँ?प्रेम से जिसने समझायावो नहीं थी मेरी माँ।काश! तब समझा होतातेरे मौन का मतलब माँ,तू जगी, मैं सो रहा थारो रही थी मेरी माँ । इस जहाँ में तेरा-मेरासबसे न्य...
नीरज हृदय...
Tag :
  March 21, 2016, 12:00 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163761)