Hamarivani.com

कारवॉं karvaan

चित्रकार बनने की आकांक्षा वॉन गॉग में शुरू से थी। गरीबी और अपमान में मृत्यु को प्राप्त होनेवाले महान चित्राकार रैम्ब्रां बहुत पसंद थे विन्सेन्ट को और उसका अंत भी रैम्ब्रां की तरह हुआ और दुनिया के कुछ महान लोगों की तरह उसकी पहचान भी मृत्यु के बाद हुई। जीते जी तो कला क...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :कुमार मुकुल
  December 12, 2018, 12:29 pm
सिद्ध मनोविज्ञानी कार्ल युंगने अपने एक लेख में पिकासो और उसकी कला को स्क्जिोफ्रेनिक कहा था। पिकासो के जीवन में और उसके चित्रों में आई दर्जन भर से ज्यादा स्त्रियों के साथ उसके व्यवहार को अगर देखा जाए तो युंग की बात सही लगती है। पर कलाकार यही तो करता है कि अपनी कमियों क...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :
  December 5, 2018, 2:06 pm
4 फरवरी 2016क्या आज का मेरा दिन खुशी में बीता है? दुकानदार से छुटटा पैसों की जगह माचिस की बजाए मिले तीन चॉकलेट मुंह में डालते हुए मैंने सोचा कि लगभग खुशी ही है यह। लगभग जयहिंद की तर्ज पर। हालांकि काफी बाइट से दिखते चॉकलेट का स्वाद वैसा नहीं था जैसा होना चाहिए था। अगर पसंद आत...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :डायरी
  November 26, 2018, 1:03 pm
करीब बीस साल पहले लिखा गया आलेखजाति और धर्म के काठ की हांड़ी राजनीति के चूल्हे पर एक-एक बार चढ़ चुकी है और अब अपने स्वाभाविक विकृत अंत की ओर बढ़ रही है। बिहार और उत्तर प्रदेश के राजनीतिक घटनाक्रमों को देख कर आप इसे अच्छी तरह समझ सकते हैं। तिलक, तराजू व तलवार को चार जूते मार...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :
  November 24, 2018, 11:33 am
Thursday, 22 March 2012  लगाएक पूरी नदी उछल कर मुझे डुबो देगीपर मुझे डर न थामारे जाने की सदियों की धमकियों के बीचमन ठहरा था आज    -  वर्तिका नंदास्त्री विमर्श के इस युग में जहां देह की मुक्ति से लेकर उनकी आर्थिक मुक्ति तक की बातें होती रहती हैं और स्त्री काफी हद तक बदली भी है। प...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :कुमार मुकुल
  November 22, 2018, 3:06 pm
 हिंसा और अहिंसा क्या हैजीवन से बढ़ हिंसा क्या है - केदारनाथ अग्रवालउपरोक्‍त पंक्तियां स्‍पष्‍ट करती हैं कि हिंसा और अहिंसा अपने आप में कुछ नहीं हैं। उनके परिपेक्ष्‍य ही उनकी सकारात्‍मकता या नकारात्‍मकता को दर्शाते हैं। भूखा व्‍यक्त्‍िा अगर हिंसा करता है तो उसे उ...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :कुमार मुकुल
  November 21, 2018, 11:48 am
इधरके वर्षों में हिंदी आलोचना का वरिष्ठ संसार बड़ी तेजी से संदिग्ध और गैरजिम्मेदारन होता गया है। आलोचना की पहली, दूसरी...परंपरा के तमाम उत्तराधिकारी, जिनकी अपनी-अपनी विरासतों पर निर्लज्ज दावेदारी है, आलोचना के मान- मूल्यों और उसकी मर्यादा से क्रमश: स्खलित होते चले गए ...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :कुमार मुकुल
  November 20, 2018, 11:29 am
 ‘सामाजिक परिवर्तन में बाधक हिन्दुत्व’दलित चिंतक एच एल दुसाध का दुसाध प्रकाशन से आया हजार पृष्ठों का ग्रंथ है। श्री दुसाध पत्रकारिता को समर्पित अकेले ऐसे व्यक्तित्व हैं जिन्होंने राजनीति, साहित्य, फिल्म, क्रिकेट, दूरदर्शन, धर्म, भू-मंडलीकरण, शिक्षा और अर्थनीति ज...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :हिन्दुत्व
  November 19, 2018, 10:42 am
वेदों की आधारभूमी स्पष्ट है कि खेतिहर समाज के लिए वर्षा प्राथमिक जरूरत है, इसी तरह बादलों से वर्षा कराने वाले इंद्र की पूजा भी स्वाभाविक है।वेद आदिग्रंथ है। इसमें मांसाहारी समाज से विकसित हो, नए-नए बन रहे खेतिहर समाजके अनुभवों को ऋषियों ने अपनी ऋचाओं में अभिव्यक्त कि...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :इंद्र
  November 17, 2018, 10:59 am
उपन्‍यास जगत की महान हस्‍ती और अपराध और दंडजैसी सार्वकालिक कृति के सर्जकदास्‍वोएवस्‍की के जीवन को हम देखें तो वह भी अपराध और दंड के जटिल संजाल में गुत्‍थम-गुत्‍था दिखेगा। रूप सिंह चंदेल की पुस्‍तक दास्‍तोएवस्‍की के प्रेम को पढते हुए यह साफ हो जाता है कि जीवनानुभव क...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :
  November 16, 2018, 11:26 am
सहज बुद्धि के आधार पर मन पर नियंत्राण रखना ही जीवन का सबसे बड़ा अर्थ है। एडलर लिखते हैं कि ``जीवन का अर्थ है, मैं अपने साथी मनुष्यों में दिलचस्पी लूं, सम्पूर्ण का एक अंश बनूं, मानव-मात्र की भलाई के लिए अपना कर्तव्य-भाग निबाहूं।´´ वे मानते हैं कि दुनिया के सभी विफल मनुष्य ...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :फ्रायड
  November 15, 2018, 11:12 am
समय का संक्षिप्‍त इतिहास  कुछ नोटससंयोगों की सत्‍ता ईश्‍वरीय सत्‍ता का निषेध करती है : स्‍टीफेन हाकिंग 'पूरा सच कभी किसी एक के हिस्‍से नहीं पड़ता' - स्‍टीफेन हाकिंगको पढते हुए लगता है कि पूरा सच कभी किसी एक के हिस्‍से नहीं पड़ता। अरस्‍तू से हाकिंगतक सब थोड़ा-थोड़ा ब...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :Stephen Hawking
  November 14, 2018, 10:57 am
डॉ सेवा सिंहके लियेब्राहमणवादजातिसूचक संज्ञान नहीं एक विचारधारा है, वचर्स्वी वर्गों के प्रभुत्व को आधार प्रदान करने वाली एक सत्तामूलक विचारधारा। बौदध और लोकायत लंबे समय तक इसे चुनौती देते रहे पर छठी शताब्दी के बाद लोकायतों के विघटन और बौदधों के पतन के बाद से यह वि...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :डॉ सेवा सिंह
  November 6, 2018, 11:40 am
( 2017 - आज मुकुल जी को दुसरी बार सुना...मुझे उनके स्वेत धवल बालों से जलन है...वो मुझे भी चाहिए था।)कविता तब दीर्घजीवी होती है ....जब समय को लांघकर बार बार प्रासंगिक बनी रहे और कुमार मुकुल की कविता ऐसी ही है....''आफिसिअल समोसों परपलनेवाले चूहेमालिक के आलू के बोरों को काटते हुएसोचत...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :कृष्ण समिद्ध
  November 5, 2018, 11:03 am
चर्चित किताब : बयालीस - 'एक उर्सुला होती है' ( कुमार मुकुल )            इससे पहले भी युद्घ हुए थे           पिछला युद्ध जब ख़त्म हुआ           तब कुछ विजेता बने और कुछ विजित           विजितों के बीच आम आदमी भूखों मर...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :शहंशाह आलम
  November 3, 2018, 10:27 am
‘एक उर्सुला होती है’कवि कुमार मुकुल का ताज़ा कविता संग्रह है जिसकी कविताएँ जीवन और समाज में छीजते जा रहे प्रेम को केन्द्र में लाते हुए एक सार्थक-साहित्यिक हस्तक्षेप की बुनियाद रखती हैं। इस संग्रह में कुमार मुकुल विंसेंट वॉन गॉग और उर्सुला के बहाने प्रेम की प्रचलित...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :प्रांजल धर
  November 2, 2018, 1:55 pm
हर रचनात्‍मक यात्रा में सहजीवन के रूप में किसी न किसी 'उर्सुला'की मौजूदगी अवश्‍य रहती है, इस संग्रह की कविताएं इसी बात की तस्‍दीक करती हैं। इस तरह कुमार मुकुलवॉन गॉग की 'उर्सुला'को एक प्रतीक में बदल देते हैं, उर्सुला जो प्रतीक है सृजनात्‍मक जीजिविषा और जिगीषा की। हर रच...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :एक उर्सुला होती है
  November 1, 2018, 11:15 am
भारतीय साहित्य में यह विचित्र सी स्थिति हैे कि जिन आचार्याें ने काव्य की आलेाचना के सिद्धान्त गढ़े आमतौर पर वे कविता लिखने से बचते रहे। प्लेटो या अरस्तू ,दांडी, भामह से लेकर आचार्य रामचन्द्र शुक्लसे आज तक जाने कितने विद्वानों ने कविता की श्रेष्ठता के सांचे तो तैयार क...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :राधेश्‍याम तिवारी
  October 31, 2018, 12:26 pm
मित्र कवि कुमार मुकुलका अंतिका प्रकाशन से :'एक उर्सुला होती है'शीर्षक से तीसरा कविता संकलनआया है। इससे पूर्व 'परिदृश्य के भीतर''(2000)और'ग्यारह सितम्बर और अन्य कविताएँ'(2006)शीर्षक से उनके दो संग्रह आ चुके हैं। बक़ौल डॉ विनय कुमार मुकुल महीन संवेदना के कवि हैं - जीवन के आदिम र...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :विनय कुमार
  October 30, 2018, 11:47 am
"परस्पर अर्थों को अन्तिम सीमाओं तक समझते हुये/एक-दूसरे के स्पर्श तक की इच्छा नहीं करते थे"(द्रोपदी के विषय में कृष्ण) कवि विष्णु खरे की पंक्तियों को उध्दृत करते हुये कुमार मुकुल अपनी काव्य कृति "एक उर्सुला होती है"की शुरुआत करते हैं,जिस में अनुक्रम के अनुसार लगभग अठ्ठ...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :कैलाश मनहर
  October 29, 2018, 11:37 am
संस्कृति संस्कृति व्यक्ति एवं उसकी सावयवी व्यवस्था दोनों से श्रेष्ठ होती है। संस्कृति ही मनुष्य की भौतिक अभौतिककृतियों की वो संपूर्णता है जिसके जरिये वो अपने सामाजिक जीवन की अभिव्यक्ति कर पाता है। एक समाज जब अपनी संस्कृति का विकास करता है तो उसके साथ आवश्यक रूप स...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :
  October 26, 2018, 11:11 am
सियाराम शर्मा - राजूरंजन प्रसादभिलाई, 27. 11. 2000।प्रिय भाई राजू,तुम्हारा पत्र और मुकुल जी के कविता संग्रह की समीक्षा मिली। मैंने अभी-अभी मुकुल जी का संग्रह दुबारा पढ़ा है और तुमसे ठीक पहले उन्हें पत्र भी लिख चुका हूं। ऐसे में तुरन्त तुम्हारी समीक्षा से गुजरना एक सुखद अनु...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :पत्राचार
  October 25, 2018, 11:41 am
चैट पर एक दिन उसने लिखा कि मुझसे मिलने के लिए आपको करना पड़ेगा - कयामत का इंतिजार।फिर तो अगली सुबह मैं निकल पड़ा कयामत की खोज में। और राह में जो भी गिरजा, महजिद और शिवाला पड़ा सब में झुक-झुक के अरदास कर डाला कि जल्‍दी कहीं से बुलवा दे कयामत को और करने लगा उसका इंतिजार कि तभ...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :
  October 24, 2018, 11:58 am
यहां हर कोई स्‍म़तियों में पाता है सुखवर्तमान में दुख और भविष्‍य में अंधेराकहीं लेना चाहता है ऐसा मकान जहां छोटे शहर जैसा पडोस हो और महानगर सी सुविधाएंकि जाम न हो, मॉल हो, बिल्‍कुल पडोस में हवाई अडडा हो स्‍टेशन और अस्‍प्‍ाताल हो जहां बढिया एबुंलेंस होपिज्‍जा वगैरह तो ...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :रंजीत वर्मा
  October 24, 2018, 11:25 am
यहां अरूण कमलरहते हैं मेरे प्रिय कवि।खगेन्‍द्र ठाकुरहैं यहां ख्‍यात नाम सरल। नंद किशोर नवलहैंनामवर आलोचक। इस शहर में इतिहासकार रामशरण शर्मारहते हैं। स्त्रियों के संघर्ष की झंडाबरदारशांति ओझारहती हैं।अवधेश प्रीतहैं यहां कथाकार यारबाश आदमी। एक लगभगअपनी उम्र के ...
कारवॉं karvaan...
कुमार मुकुल
Tag :आलोक धन्‍वा
  October 23, 2018, 11:36 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3830) कुल पोस्ट (184513)