POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: अनकहे एहसास

Blogger: Neelam Mahajan
✍🏻    *सुबह हो चुकी है*खुली ताजी हवा से अहसास हो रहा है      मन में ताजगी का आनंद उभर रहा हैधरती निखर रही है खुशबू बिखर रही हैउदित हो रहा सूरज उजाले ने ली अंगड़ाइयां....#जल्दी जागना हमेशा ही फायदेमंद होता है।... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   9:57am 21 Aug 2019 #
Blogger: Neelam Mahajan
✍🏻नया आयाम बनाया 'मोदीजी'नई पहचान बना गया 'मोदी जी'जनता की जो पकडी़ नब्जफिर से छा गये मोदी जीविरोधियों को दे पटकनीफिर से आ गये  मोदी जी नये अनजान चेहरों को भी आज जीत गया 'मोदी जी'नई पहचान बना गया 'मोदी जी'... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   8:14am 25 May 2019 #
Blogger: Neelam Mahajan
✍🏻"मैं तुम्हें नहीं भूल सकती/सकता" ------ये अटपटा सच है----मेरे विचार...क्यूं है ना... क्योंकि ना ऐसी कोई बात,समय,दृश्य, कहानी,ना ही कोइ इंसान और ना ऐसी कोइ चीज है जिसे हम नहीं भूल सकते। जब तक इनमें से कोई हमारी नजरों के सामने होता है तब तक उसका प्रभाव हमपर रहता है।नजरों से ओझल ... Read more
clicks 162 View   Vote 0 Like   6:10pm 18 Apr 2019 #
Blogger: Neelam Mahajan
यह विचार पढ़ा तो मन को भा गया ------ करके देखें ----- सच बचपन याद आ गयाहर रात सोने से पहले अपने बिस्तर पर बैठें और मुंह बनाना शुरू करें। ठीक वैसे ही जैसे छोटे बच्चे करते हैं और उसका आनंद लेते हैं। तरह-तरह के चेहरे: अच्छे बुरे, सुंदर,कुरूप, ताकि पूरा चेहरा और मांसपेशियां हिलने लगे... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   6:55pm 17 Apr 2019 #
Blogger: Neelam Mahajan
✍️आ गया अप्रैल.....धूप छांव का खेल शुरूगर्मी का प्रकोप शुरूठंडी हवा की मांग शुरूरातरानी की महक शुरूगुलाबी फूलों की रंगोली शुरूपर्वों का आयोजन शुरूकटाई और बुआई शुरूरसों की भरमार शुरूमीठे फलों का सेवन शुरू.…...#नववर्ष#नवजीवन#नईशुरूआत....... Read more
clicks 208 View   Vote 0 Like   4:02pm 4 Apr 2019 #
Blogger: Neelam Mahajan
📝जाने का नाम न ले रही ..........हफ्ते भर से आई है पर थमने का नाम नहींलबालब भर रहीं हैं दिल की नदियांउफन रहे है मन के नालेफीका पड़ रहा झूलों का मज़ान सावन का पता न आषाढ़ काहां, तेरे आने की खुशी में हरियाली की दावत बहुत बढ़िया हैखुशी है मज़ा है वैसे ही रहने दे#बेटियां मायके में आत... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   3:49am 22 Jul 2018 #
Blogger: Neelam Mahajan
✍️मुझे कई फूलों के नाम नहीं पता ..पर उनकी खूबसूरती और खुशबू के बारे में जानती हूं  .. मोगरा,अमलतास,गुलमोहर ये नाम हैंबाद में पर पहचान बहुत पहले से है।शायद ऐसे ही नामी बेनामी लोग नाम वाले रिश्तों का भी मेरे आस-पास एक दायरा है जिसकी खुशबू व खूबसूरती मुझे महका रही है।..(पर  ... Read more
clicks 175 View   Vote 0 Like   7:50am 20 Jul 2018 #
Blogger: Neelam Mahajan
काग़ज कलम  साथ तो ले कर चले थे हम। कभी कह न पाए तो कभी  लिख न पाये हमगहरा नाता है काग़ज कलम और हमारा।... Read more
clicks 206 View   Vote 0 Like   9:58am 26 Apr 2018 #
Blogger: Neelam Mahajan
अनकहे एहसास : मौसम... Read more
clicks 310 View   Vote 0 Like   7:13pm 9 Dec 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
📝वक्त बदल रहा है हम भी बदल रहे हैबड़े शहरों के कमरों में मौसम भी बदल रहे हैं ...न सेंकती धूप... न मदमस्त बादल.... न भीगी बरसातन मीठी हवा का झोंका...न लू की तपिश.....न सुड़कती चाय न पकौड़ी न चूल्हे की सोंधी रोटियां ....जीना सीख रहे हैं..... पर हम भी शहर वाले हो रहे हैं!#मनकीबात... Read more
clicks 283 View   Vote 0 Like   7:11pm 9 Dec 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
📝हर औरत के पल्लू की  गाँठ---- मां और मायकान तो ये निकलती है और न ही कभी ढीली पड़ती हैकड़ी धूप में ठंडी छाँव है माँ ---... Read more
clicks 267 View   Vote 0 Like   6:18am 30 Aug 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
📝अपने-अपने चश्मे पहन रखे हैं --- अपने-अपने नजरिये से हम सब देखते हैं -----अपना-अपना सच !साझां करें..... चश्मा......तब शायद साफ दिखाई दे-एक-दूसरे का नजरिया   और दिखे सच!#मनकीबात... Read more
clicks 299 View   Vote 0 Like   9:54am 17 Aug 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
📝बदला हुआ समां है बदला हुआ है मनकुछ बदला हुआ दिल भी है बदली हुई धड़कन भीनई सी चाह भी है कुछ नये अरमान भीख्वाबों को जी लेने की चाह भीहै तो इक तड़पन भीउड़ने को मन परिन्दा बेताब है........See MoreSee Translation... Read more
clicks 267 View   Vote 0 Like   7:57pm 30 Jun 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
📝दुनियादारी बदल गयी है सब दिखावा हो चुका है !ज़माने के साथ बदलाव ठीक है, पर ज्यादा दिखावा,इतना भी अच्छा नहीं।आज आप कितने भी स्मार्ट क्यों ना हो पर आपने चलन के हिसाब से कपड़े नहीं पहने तो......ये भी सच है आज का कि पैरो से सर तक ब्रांड है तो लोग आपको देखेंगे वर्ना...............doesn't matterआप क... Read more
clicks 359 View   Vote 0 Like   10:45am 12 Feb 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
📝दर्द को समेटे हुये रहती है वोन जाने कहाँ से हिम्मत लाती हैन अपनों में कहनान अपनों से सुननासीने में समा रखना 'उदासी'जाने कहाँ से हिम्मत लाती है वोख़ुशियाँ आतीं भी हैं तो नीरस बन कर ...रस भरना,खोना,बनना 'मधु'जाने कहाँ से हिम्मत लाती है वो....#वो#... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   10:37am 12 Feb 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
📝यादों की कोंपलें फूट आईं हैंख़्वाबों की कलियाँ खिलने लगीं हैं शाख़ों पर तस्वीरें नज़र आने लगी हैं फिर आया मौसम खिलने -खिलाने का‪#‎बगिया‬ के फूल#... Read more
clicks 404 View   Vote 0 Like   9:45am 5 Feb 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
 📝अक्सर अकेलेपन का बोझ भी बढ़ता ही चला जा रहा था शाम काट खाने को दौड़ती थी ......जिनका कोई वजूद न था,वो ही हम पर भावी होने लगे !.... अब तो ; अकेलापन दोस्त बनता जा रहा है! हमें हरतरह के तौर-तरीको से लेकर इंसान  की पहचान तक कराना सिखाने  लग गया है ।.. देखाफिर--------Life में कुछ भी हो सकता ... Read more
clicks 313 View   Vote 0 Like   5:55pm 23 Jan 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
दिन पहले सर्दी को निमन्त्रण भेजा था :::::::::::कुछ दिन पहले सर्दी रानी को निमन्त्रण भेजा था:हेसर्दी रानी .......कहाँ गुम हो गई तून कोई ख़ैर-ख़बर न कोई संदेशकहाँ छुप गई तू .....ढूढों रे ढूढों.....न कोहरा न पालान भावे धूप, नसुहाये गर्म कपड़ेरज़ाई की गुदगुदी में भी चैन न आवेदिस्मबर निकला ... Read more
clicks 311 View   Vote 0 Like   8:37am 21 Jan 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
खुशी क्या है ----दूसरों को खुश करना या अपनी खुशीदूसरों की खुशी में ही अपनी खुशी ढूँढीं जा सकती है -कुछ सीमा तक लेकिन किसी की खुशी में अपनी खुशी ढूँढना थोड़ा मुश्किल है!... Read more
clicks 290 View   Vote 0 Like   9:17am 19 Jan 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
सुबह बालकनी में चाय पी रही थी कि एक चिड़िया उड़ती चली आई और चीं-चीं करते हुये फुदकने लगी! मैं उसके करतब का मज़ा लेने लगी तभी उसकी चीं चीं तेज़ हो गई, वो इधर से उधर चक्कर काटने लगी मानो कुछ ढूँढ रही हो परेशां होने लगी मैं समझ नहीं पा रही थी क्योंकि मैं मज़े ले रही थी.....मैंने ... Read more
clicks 273 View   Vote 0 Like   8:47am 19 Jan 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
आसमान में रंग बिरंगी पतंगें नज़र आ रही थीं---- खुश, मस्त,उन्मुक्त सी उड़ी चली जा रही हवा में पंखफैलाये इधर से उधर पेंच लगाती हुई !पर जैसे ही उसकी डोर खिंचीं :होश आया कि वो एक डोर से बंधी है उसकी डोर किसी के हाथ में है : ढील दी तो पेंच का डर, कसी तो कटने का और यह गई वो गई .....कोई ठिकान... Read more
clicks 277 View   Vote 0 Like   4:43pm 17 Jan 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
मान मिले सम्मान मिले,             खुशियों का वरदान मिले.क़दम-क़दम पर मिले सफलता,              डगर-डगर उत्थान मिले.सूरज रोज संवारे दिन को,            चाँद मधुर सपने ले आये,हर पल समय दुलारे आपको           सदियों तक पहचान मिलेHappy New Year 2016... Read more
clicks 301 View   Vote 0 Like   3:29am 1 Jan 2016 #
Blogger: Neelam Mahajan
मन तो है मेरा ही परमेरे पास नहींन  जाने कहां भटकता रहता हैजहां चाहे चल देता हैरहूं ताकती इसे सदाकब यह भटक जाएकब यह बिगड़ जाएकब यह सुख लाएकब यह दुख दे जाएइसी लिए मुझे अवकाश नहीं,,,,,,चैन नहीं... Read more
clicks 272 View   Vote 0 Like   6:15pm 24 Sep 2015 #
Blogger: Neelam Mahajan
वो मीठी -मीठी सी सुबह,बादलों से घिरे पहाड़ , ठंडी ठंडी फुहार, सफ़ेद धुँध की चादरमनमोहक द्रश्यदार्जिलिंग की पहाड़ियों काअक्सर  कभी कभी वो पल याद आ जाते हैं जो यादों को झँझोड़ जाते हैं एक प्यारा सा एहसास दे जाते हैं।... Read more
clicks 273 View   Vote 0 Like   12:00pm 13 Jun 2015 #
Blogger: Neelam Mahajan
मैं कुछ इस तरह से रहूं -::स्वाद की तरह लोगों की यादों मेनमक की तरह जरूरत बनकरपानी की तरह घुल -मिल जाऊंसुख-दुख में और दुनिया रहे मेरे आसपास मां की तरह. ---नीलम ... Read more
clicks 252 View   Vote 0 Like   11:10am 28 Nov 2014 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4020) कुल पोस्ट (193830)