POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Guftugu

Blogger: Pammi singh
लोगो नेये कौन सीऱीवाज पाल रखी जहाँ खुद कीपाकीजगी साबितकरने की चाह मेंदुसरो को गिराना पडा,मसाइबो की क्या कमीखुद की रयाजत औरउसके समर की है आस..रफाकते भी चंद दिनो कीपर मुजमहिल इस कदर किमैं हि मैं हूँ।न जाने वो इख्लास की छवि गई कहाँजहाँ अजीजो की भी थी हदेंखुदी की जरकाऱसाब... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   7:29am 30 Apr 2016 #छवि
Blogger: Pammi singh
मुड़  कर जाती  ज़ीस्त गुज़रते  लम्हों  को शाइस्तगी  से ताकीद   की, फ़र्ज़  और क़र्ज़  किसी  ओर  रोज़,खोने  और  पाने  का हिसाब  किसी  ओर  दिन, मुद्द्त्तो  के  बाद  मिली पलक्षिण  को  समेट  तो  लू,शाद  ने  भी शाइस्तगी  से ताकीद  ... Read more
clicks 73 View   Vote 0 Like   12:05pm 31 Mar 2016 #कर्ज.किसी
Blogger: Pammi singh
नूर-ए-रंग है फाग कीहमें खिलने के लिए,चंद रस्म नहीं सिर्फनिभाने के लिए,निखर कर निखार देपूर्ण चांद निकला हैये बताने के लिए..-    ©पम्मी                     ... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   5:46pm 22 Mar 2016 #
Blogger: Pammi singh
ये मेआर...बेटियो सेमधु मिश्रित ध्वनि से पुछाकहाँ से लाती हो, ये मेआरनाशातो की सहर             हुनरमंद तह.जीब,और तांजीमसदाकत,शिद्दतो की मेआर,जी..मैने हँस कर कहाँमेरी माँ ने संवारा..उसी ने बनाया हैस्वयं को कस कर हर पलक्षिण मेंइक नई कलेवर के लिए शनैः शनैः प... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   3:25am 8 Mar 2016 #
Blogger: Pammi singh
जुम्बिशे  तो  हर    इक   उम्र  की  होगी कसमसाहटो  की  आहटे  भी  होगी ,शायद   इसलिए  हि कल  की  ज़िक्र  कर आज  हि  संवर  जाते , ज़िस्त  यू  हि कटती  जाती किसी  ने  कहाँ ?क्यू  कल  की  चिंता . . वो  भी  आजमा  कर.. रुकी  हुई  सी &n... Read more
clicks 76 View   Vote 0 Like   10:18am 14 Feb 2016 #आहटें
Blogger: Pammi singh
कह  दो इन आइनों को नत हुआ है सच दस्तूर है आज का छद्म  रूप  के  सभी  है भक्त्त रोष  की आंच  में सभी  है  मस्त सत्य की  आंच कम  न  पड़  जाए इसलिए  लेखनी  को  सहारा मानती हूँ. .                                                   ... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   8:51am 31 Jan 2016 #
Blogger: Pammi singh
                       स्वार्थ 'स्वार्थ 'शब्द   पर परिज्ञप्ति   चंद  परिज्ञा जी हाँ, स्वार्थ   ऐसी  प्रवृति  जो  हम  सभी  में  विराजमान ..  एक  संज्ञा  और  भाव  जो  सर्वथा  नकारात्मकता  ही संजोए   हुए  है। प्रश्न  है  स्वार्थ &nbs... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   9:57am 18 Jan 2016 #
Blogger: Pammi singh
       शफ़क़ नव वर्ष की   नवोत्थित शफ़क़ यू हि बनी  रहे . . हमारे  एवानो में आसाइशे  से नज़दीकियों की सफ़र बहुत छोटी हो साथ  ही उन दहकानों  की दरे भी  जगमगाती  रहे . . ख्वाबों  में  भी इन अज़ीयते  से दूरियाँ बहुत  लम्बी हो  इन्सानियत फ़ना होने ... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   3:39pm 29 Dec 2015 #
Blogger: Pammi singh
नियतखामोश  जबानों  की भी  खुद  की  भाषा  होती  है कभी अहदे - बफा  के  लिए ,कभी  माहोल को काबिल  बनाने के  लिए मु.ज्तारिब क्या  करु नियत नहीं . . दूसरो पर कीचड़ उछाल कर ख़ुद को कैसे साफ़ रखू।   कभी  खुद  के  घोसले ,कभी दुसरो के  तिनके  की पाकी... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   1:09pm 8 Dec 2015 #
Blogger: Pammi singh
                                                                               रिश्ते  आप  सभी  का    अभिनन्दन, ब्लॉग  जगत  का  एक  कोना   जहाँ कलम  भी अपनी दवात  भी  अपनी  और  विचार  भी  अपने। . चलें   ... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   7:22am 24 Nov 2015 #
Blogger: Pammi singh
                                                तलाश                                                                                            स्वतंत्रता  तो उतनी  ही है  हमारी          जितनी लम्बी बेड़ियों  ... Read more
clicks 81 View   Vote 0 Like   9:53am 29 Oct 2015 #
Blogger: Pammi singh
                                              कुछ                               भावनाओं  , संवेदनाओं   एवम विचारों  की प्रस्तुतिकरण की   प्रयास ताकि शब्द और भावो  की अभिवयक्ति संजीदगी  से हो  कुछ से सबकुछ का सफर..… ... Read more
clicks 97 View   Vote 0 Like   7:32am 30 Sep 2015 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post