Hamarivani.com

आरोही

वो मेरा ही था जिसे मैं मेरा भूतकाल कहती हूँ ख़ुशी के दिन थे, आकाश से मन भर की हुई बातें थी ,चाँदनियां दोस्त हुआ करती थी। दर्द भी थे ,कुछ वहम भी , कुछ रचे-गढ़े बादल के टुकड़े थे जिन्हे  मैं सपने कहा करती थी . कुल मिलाकर वो मेरा बचपन था . फिर सपनो ने मुझसे आगे दौड़ना शुरू किया ,ये कौन...
आरोही...
Tag :
  September 13, 2017, 12:40 am
https://youtu.be/9dxoGU2XfJM...
आरोही...
Tag :
  July 17, 2017, 1:15 pm
देख रही हूँ  पिले फूलो वाले उस पेड़ को ,आजकल हर जगह वही  दिखाई दे रहा हैं , मानो सारी सृष्टि में बस उसीका साम्राज्य हो।  हरी -हरी पत्तियों पर पिले -पिले फूल,पत्तियां कम फूल ज्यादा। सारी सड़को ,रास्तो ,गलियारों में बिखरे ये पिले फूल ,फूलो का वजन पेड़ ले ही नहीं पा रहा हो जै...
आरोही...
Tag :
  April 27, 2017, 1:59 pm
आज फिर मन सपनो के रथ पर सवार दूर गगन की सैर करने चला हैं ,इस बार इस सुनहले रथ में कई सारे  घोड़े हैं ,कुछ सफ़ेद ,कुछ आसमानी रंग के,कुछ सूरज की किरणों से प्रकाशित हो ,सुनहले ,केसरी रंग के। सरपट भागे जा रहे हैं ये घोड़े और सरपट भाग रहा हैं मेरा मन।मन का भागना कुछ ऐसा ही होता हैं ,दा...
आरोही...
Tag :
  March 13, 2017, 10:20 am
           एक छोटी सी कहानी उसने आँखे खोली और वो नदारत।शायद था ही नही कभी वहां।पर वो जानती थी वो वहां हैं। वो जिससे वह अभी-æ...
आरोही...
Tag :
  January 18, 2017, 12:18 pm
बरसो बाद मैंने उसे देखा आज ,वो जिसके साथ मैं पली बढ़ी ,जिसे देखते ही मेरे पिताजी की भौहें तन जाती और माँ के  ह्रदय की धड़कने बढ़ जाती ।  न जाने कौन गली से छुपते - छुपाते वो रोज हमारे घर आ जाता ,और उसके आते ही शुरू हो जाता उसे किसी तरह भगाने का उपक्रम । मुझे उससे प्रेम न था ...
आरोही...
Tag :
  June 8, 2016, 12:49 am
उतरती साँझ की  बेला थी वह ,कुछ गुनगुनाती सी। पास के बागीचे से उड़कर चिरोंजी के पत्ते और चिरोंजियाँ  हमारे आँगन में बिखरी जा रही थी।  चिरौंजिया ?    वो मावे वाली ?          नहीं ! माँ कहती थी इन्हे मत खाओ ये जहर हैं ! पर हम मानते ही नहीं थे ,चुन -चुन चिरों...
आरोही...
Tag :
  April 15, 2016, 9:56 am
कहते हैं ये संपूर्ण जगत  भाव मात्र हैं ,भाव से बना ,भाव से रचा ,भावों से सजा ,भाव निर्मित भाव -विश्व ।सूर्य की रौशनी हो ,चाँद और चांदनी हो ,अमावस की कालिमा हो या भादो की पूर्णिमा हो सब कुछ मात्र भाव !भाव मन ,भाव तन ,भाव ही धन। नाना रत्नो ,विल्व पत्रो ,पायस से पूर्ण सुवर्ण ...
आरोही...
Tag :
  January 29, 2016, 2:26 pm

भंवरा बावरा -बावरा  आज भोर मन कुछ गुनगुनाते हुए  जागा। ठंडी पुरवाई ने  रिमझिम के  संग जैसे शब्द भी अनंत पर बिखेर दिए हो।कुछ क्षण यु ही बीते ,फिर बरबस ही वह शब्द सुरों का संग ले मेरी गायत्री वीणा से मुखरित हो घर में मधु वर्षा करने लगे ,दीवारो  प्रतिध्वनित होते हुए ...
आरोही...
Tag :
  November 12, 2015, 7:54 pm
ख़ुशी .............एक ऐसा शब्द जिसे हर कोई कहना चाहता हैं ,हर कोई पाना चाहता हैं ,हर कोई जीना चाहता हैं,हर कोई महसूस करना चाहता हैं ,ये आती हैं तो जीवन कुछ महकने सा लगता हैं ,चाँद तारे सब हमारे दोस्त मालूम पड़ते हैं ,घर के आँगन में (अब आँगन नही तो बालकनी में और वह भी नही तो जहाँ से आका...
आरोही...
Tag :प्रेम love
  July 24, 2015, 9:29 am
Veena Venu Art Foundation Invites you to attend Summer workshops and summer camps. Learn Indian Music ,Be in Music ,get healed by Indian Music .No age for learnin Art an music . Music do the best for health ,wealth and peace. Learn with Gurushishya Parampara.Join us today : Call Us on +91-9833703592 or Mail us : veenavenufoundation@gmail.com or drradhika@aarohipromotions.comEnjoy the Video.....
आरोही...
Tag :
  May 7, 2015, 1:09 pm
...
आरोही...
Tag :
  August 27, 2014, 12:53 pm
 अधूरी इसलिए क्योकि अभी पूरी नहीं हुई  पूरी होने में शायद कई पोस्ट्स लिख जाये।  पर मैं लिखती रहूंगी अधूरी पोस्ट पर पूर्णविराम लगाते हुए। शायद महीनो शायद बरसो शायद कभी लेखन पूरा हो भी जाये पर ये यादे पूरी न होंगी। . सागर से मोती की तरह  पुरानी किन्तु  नयी निकल...
आरोही...
Tag :
  June 24, 2014, 10:56 am
VeenaPani The Institute Of Indian Classical MusicThe biggest asset of Indian culture is its music. The Indian classical music is one of the richest heritage of our country. The scope of Hindustani classical music is so vast that it cannot be scaled in degrees and courses.It is meant to be learned and pursued for a lifetime. Veenapani- The institute of Indian classical music is a place where students who are keen on pursuing the art of Indian classical music ,are tutored in a way to master this art. Our students are learners and worshippers of music and they need not test their knowledge in terms of examinations. Along with vocals we also teach all kinds of instruments like Vichitra...
आरोही...
Tag :Indian Classical Music.Music Institute
  February 4, 2013, 3:29 pm
Add caption...
आरोही...
Tag :
  October 21, 2012, 11:38 pm
सफ़र लम्बा था ...बहुत लम्बा ,उतना ही कठिन ...सूर्य देवता मानो सर पर विराजमान थे ..मंजिल का कोई अता -पता  न था..पैरो के निचे जलती रेत  ..मस्तिष्क शून्य , मन... वो तो शायद संग था ही नहीं ....जाना किस ओर हैं किस रस्ते कुछ भी पता  न था , वही उस मरुस्थल में थककर आँखे मुंद ली ..ह्रदय में&...
आरोही...
Tag :Friends
  July 13, 2012, 1:01 pm
रंगमंच से परदे का उठाना ..नाटक का प्रारंभ ..दृश्य प्रथम ...राजमहल से बड़े ,जीवन की हर सुख सुविधा से युक्त घर में तीन मनुष्य आकृतियाँ ...शाल्मली .संजीव चिमणी.माँ भूख लगी हैं ..माँ - माँ आज टीचर ने होम वर्क दिया हैं ,माँ देखो मैंने कलर किया डोरेमोन को ,माँ आज भीम ने छुटकी से कहा की ...
आरोही...
Tag :
  March 28, 2012, 12:40 pm
एक छोटा सा आँगन  और आँगन में बिखरे कुछ चावल के दाने ...फुर्र र रर .. से उड़ कर आती  फुदकती इठलाती एक छोटे से दाने को मुँह में उठा हवा में पंख फैलाती सामने वाले पेड़ पर बने  छोटे से आशियाने में छुपती छुपाती वह ..उसके आने से हम बच्चो के चेहरों पर बासमती चावल के दानो सी खिली खि...
आरोही...
Tag :Sparrow
  March 20, 2012, 11:55 am
वैरी गुड morning .....कभी कभी सुबह की पहली किरण हमारे घर के दरवाजे की घंटी बजाकर हमारे हाथ में कुछ तोहफे दे जाती हैं ...सुंदर ..सलोने चमकदार कागज़ के एक लिफाफे में बंद होती हैं हमारी जिंदगी की सबसे बड़ी चाहत ...हमारी खुशियाँ ..लिफाफा खोलते ही स्वर्णिम किरणों सी हमारी हथेलियों में स...
आरोही...
Tag :
  January 20, 2012, 9:48 am
आरोही को सुलाने की कोशिश में यह समय हो गया,बच्चे शायद भगवान का रूप होते हैं ,उन्हें पता होता हैं कब क्या करना हैं ?बिना वजह अभी तक खेलती रही,मेरे इस जागरण का फायदा यह हुआ की अभी अभी किसीने मुझे फोन करके बताया की राधिका तुम्हारी इच्छा पूरी हुई ,मैंने कहा कौनसी इच्छा ??जवाब आ...
आरोही...
Tag :kolhapur.women power
  April 16, 2011, 12:48 am
आँखे खुलते ही उसे नज़र आते हैं अपने बच्चे .. उन्हें खिलाना ,पिलाना ,सुपोषित संस्कृत कर मनुष्य बनाना ...माँ ,बेटी ,बहन ,पत्नी ,सखी इन सब रिश्तो से उसका अपना व्यक्तित्व मुखरित होता हैं ,हर रिश्ता उसके लिए उतना ही महत्वपूर्ण ..हर रिश्ता उसके अस्तित्व की पहचान ..बच्चो की किलबिल म...
आरोही...
Tag :devi durga
  March 8, 2011, 11:41 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3693) कुल पोस्ट (169613)