Hamarivani.com

मेरा...मुझ-सा लेखन ...

चाहती थी कुछ यूँ प्रेम करना कि सदियों तक हमारा प्रेम लोग याद करें जैसे ताजमहल...पर वो पत्थर था और है भी ....प्रेम उससे दूर हो गया अब बचे हैं तो दीवारों पर पड़े कुछ खुरदुरे नाम और नाम पर चली कुछ आड़ी-तिरछी लकीरें इसलिए अब तमन्ना है सादी मोहब्बत की जिसे लोग दोहराएं जैसे अमृता-इमर...
मेरा...मुझ-सा लेखन ......
Tag :
  January 15, 2015, 2:00 pm
बदलनाअच्छा है ....पर एक हद तकऔर वो हदखुद तय करनी होती हैऐसी हद जिसके भीतरकिसी का दिल न टूटेकोई रोये न....बीते लम्हें याद करवादे याद कर मलाल न करेवो हद जोदूर करे पर नफरत न पलने देयाद रहे पर इंतज़ार न रहने देरिश्तों में बदलनाकभी भी सुख नहीं देताचुभन...दर्द...अफ़सोस औरबेचैनी लिएपल...
मेरा...मुझ-सा लेखन ......
Tag :
  September 8, 2014, 7:50 pm
कईबारख्यालआताहैजैसेअपनीकहानीसुनारहीहूँकिसीकोमेराहरघटितलम्हाजैसेकहानीहैऔरमैंउसकोजीरहीहूँमेरासोनाजागना, रोना, हँसनासभीकहानीमेंहैलिखाहुआथाकहींकिसीनेऔरजीरहीहूँमैंपरकिसेसुनारहीहूँ?नहींपताकबतकसुनाऊँगी?नहींपताक्यासुनातीरहूँगी?येभीनहींपताअचानकहुई...
मेरा...मुझ-सा लेखन ......
Tag :
  May 24, 2014, 6:28 am
ज़िन्दगीकीतहगुज़रेतोकुछयूँलगासाँसलेनाहीयहाँजीनानहींहैजागना, सोना, खाना, पीनायहीसबनियमवारजीनानहींहैयूँही कटतेदिनरातसुबहवहीरोज़कीतरहाआनेवालीशामउदासरोयींगुमसुमसीजानेवालीरातभरताकनाघरकेसोयेलोगोकोउठकरदरवाज़ेतकजानाखिड़कियोंसेनिहारनाबाहरकाफैलासन्नाटाश...
मेरा...मुझ-सा लेखन ......
Tag :
  May 11, 2014, 2:00 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)