POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: शरारती बचपन

Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
लहू बोलता भी हैं -- सैय्यद शाहनवाज कादरीचम्पारण बगावत 12 वी रेजिमेंट के सिपाही रंगी खान को 4 जून 1857 को होम्स ने फांसी पर लटका दिया | 23 जुलाई 1857 की शाम से चम्पारण जिले के सुगौली में घुड़सवार पलटन ने बगावत शुरू कर दिया | बागी सैनिको के साथ मेजर होम्स ने चूँकि बहुत जुल्म किये थे , इ... Read more
clicks 5 View   Vote 0 Like   8:10am 18 Sep 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
गजब बनारसजितनी निराली बनारस है .उतने निराले यहाँ के मकान भी .किस गली को किस मकान के अन्दर से पार करना है .वह तो बस बनारसी जान सकता है ।बनारस के मकान.....................बनारस के मकानों पर कुछ लिखने से पहले एक बात साफ़ कर देना चाहता हूँ | मेरा मकसद यह नही है की बनारस में कहा ,किस मुहल्ले मे... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   5:16am 18 Sep 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
गजब बनारसजितनी निराली बनारस है .उतने निराले यहाँ के मकान भी .किस गली को किस मकान के अन्दर से पार करना है .वह तो बस बनारसी जान सकता है ।बनारस के मकान.....................बनारस के मकानों पर कुछ लिखने से पहले एक बात साफ़ कर देना चाहता हूँ | मेरा मकसद यह नही है की बनारस में कहा ,किस मुहल्ले मे... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   5:16am 18 Sep 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
लहू बोलता भी हैं -- सैय्यद शाहनवाज कादरी गया में नजीबो और सिपाहियों की बगावत बिहार में गया जेल का फाटक तोड़कर बागी सैनिको ने वहाँ बंद आंदोलनकारियो को आजाद करा लिया था | अंग्रेज अफसरों का मानना था की जेल के मिलाजिमो की मिलीभगत से ही जेल पर हमला कैदियों को आजाद कराया गया है... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   7:10am 17 Sep 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
अहमदाबाद एक नजर -अहमदाबाद से 8 किलो मी दूर सरखेज क्षेत्र अहमदाबाद की स्थापना से पूर्व यह जगह सरखेज के नाम से विख्यात था | सरखेज एक प्राचीन जगह है कभी इस जगह से साबरमती नदी का प्रवाह इसके पास से बहता था | साबरमती नदी के तटवर्ती में स्थित होने के कारन इसका नाम ''श्रीक्षेत्र ''भ... Read more
clicks 12 View   Vote 0 Like   8:58am 16 Sep 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
लहू बोलता भी हैं -- सैय्यद शाहनवाज कादरी बिहार शरीफ - नवादा बगावत 1857 की जंगे आजादी की पहली लड़ाई में नवादा के लोग भी अंग्रेजो के खिलाफ बगावत करने में किसी से पीछे नही थे | एक तो यहाँ आरा की बगावत का असर था , दुसरे यहाँ के बहुत से लोग सेना और पुलिस से बगावत करके अपने - अपने गाँव प... Read more
clicks 13 View   Vote 0 Like   6:11am 16 Sep 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
कानून के दरवाज़े पर ----------- फ़्रांज काफ़्काकानून के द्वार पर रखवाला खड़ा है। उस देश का एक आम आदमी उसके पास आकर कानून के समक्ष पेश होने की इजाज़त मांगता है। मगर वह उसे भीतर प्रवेश की इजाज़त नहीं देता।आदमी सोच में पड़ जाता है। फिर पूछता है- ‘‘क्या कुछ समय बाद मेरी बात सुनी जा... Read more
clicks 15 View   Vote 0 Like   6:25am 13 Sep 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
बना रहे बनारस( प्राचीन शहर )जिस प्रकार हिन्दु धर्म कितना प्राचीन है पता नही चलता ठीक उसी प्रकार काशी कितनी प्राचीन है ,पता नही लग सका |यद्धपि बनारस की खुदाई से प्राप्त अनेक मोहरे ,ईट,पथ्थर ,हुक्का ,चिलम और सुराही के टुकडो का पोस्मार्टम हो चुका है फिर भी सही बात अभी तक प्रक... Read more
clicks 13 View   Vote 0 Like   12:32pm 12 Sep 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
आज भी कबीर की धार मौजूद हैं - दार्शनिक विनोद मल्लपिछले दिनों इंदौर के जाल सभागार में स्वरागिनी जन विकास समिति के तत्वाधान में बुद्ध व कबीर नये संदर्भ में नये तथ्यों के साथ विषय पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया | कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्ज्वलन के साथ आरम्भ हुआ सर्व प... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   11:11am 30 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
बादशाह खान ( खुदाई ख्द्मात्गार ) आखरी कड़ी 1942 के भारत छोडो आन्दोलन में सीमांत प्रांत के खदाई ख्द्मात्गार सक्रिय भूमिका निभाते रहे | बादशाह खान के प्रयासों से इस क्षेत्र में स्वतंत्रता आन्दोलन में तेजी आ गयी थी .पर उसका स्वरूप अंत तक अहिंसात्मक बना रहा | खान अब्दुल गफ्फार ... Read more
clicks 38 View   Vote 0 Like   6:01am 19 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
बादशाह खान ( खुदाई खिदमतगार ) आखरी कड़ी 1942 के भारत छोडो आन्दोलन में सीमांत प्रांत के खदाई ख्द्मात्गार सक्रिय भूमिका निभाते रहे | बादशाह खान के प्रयासों से इस क्षेत्र में स्वतंत्रता आन्दोलन में तेजी आ गयी थी .पर उसका स्वरूप अंत तक अहिंसात्मक बना रहा | खान अब्दुल गफ्फार खान... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   6:01am 19 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
बादशाह खान ( खुदाई ख्द्मात्गार ) आखरी कड़ी 1942 के भारत छोडो आन्दोलन में सीमांत प्रांत के खदाई ख्द्मात्गार सक्रिय भूमिका निभाते रहे | बादशाह खान के प्रयासों से इस क्षेत्र में स्वतंत्रता आन्दोलन में तेजी आ गयी थी .पर उसका स्वरूप अंत तक अहिंसात्मक बना रहा | खान अब्दुल गफ्फार ... Read more
clicks 15 View   Vote 0 Like   6:01am 19 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
बादशाह खान -- भाग तीन बादशाह खान समाज में महिलाओं की व्यापक भूमिका , स्वतंत्रता के संघर्ष में उनकी सक्रिय भागीदारी पर जोर देते थे | उनकी खुद की बहनों ने परदे के बहार आकर उनके आंदोलनों में सक्रिय भूमिका निभाई | 1930 में उनकी बहने सीमांत के एक क्षेत्र से दुसरे क्षेत्र में यात... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   12:34pm 17 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
खान अब्दुल गफ्फार खान - बादशाह खान - 2''मेरा मानना है कि इस्लाम अमन , यकीन और मोहब्बत का नाम है ....''---------------------------------------- बादशाह खान खान अब्दुल गफ्फार खान का जन्म पेशावर से लगभग 24 मील दूर स्थित उत्तमजई गाँव के समृद्द परिवार में हुआ था उनके पिता बहराम खान अपने गाँव के मुखिया थे | अपने ... Read more
clicks 39 View   Vote 0 Like   7:38am 16 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
बादशाह खान ( खान अब्दुल गफ्फार खान )देश की आजादी और उत्तर - पश्चिम सीमांत क्षेत्र की पठान आबादी के सर्वोमुखी विकास जैसे उदात्त उद्देश्यों के लिए जीवन भर अहिंसक संघर्ष जारी रखने वाले बादशाह खान सही मायने में मानवता के सच्चे खिदमतगार थे | उन्होंने अपना सारा जीवन अंग्रेज... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   7:19am 15 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
बादशाह खान ( खान अब्दुल गफ्फार खान )देश की आजादी और उत्तर - पश्चिम सीमांत क्षेत्र की पठान आबादी के सर्वोमुखी विकास जैसे उदात्त उद्देश्यों के लिए जीवन भर अहिंसक संघर्ष जारी रखने वाले बादशाह खान सही मायने में मानवता के सच्चे खिदमतगार थे | उन्होंने अपना सारा जीवन अंग्रेज... Read more
clicks 16 View   Vote 0 Like   7:19am 15 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
अहिंसा का देवदूत - बादशाह खान वास्तव में अफगानिस्तान की सीमा से लगे अविभाजित भारत के सीमांत प्रांत में बादशाह खान उनके द्वारा बनाई गयी खुदाई खिदमतगार सगठन ने जो उपलब्द्धि हासिल किया था वह देश ही नही पूरी दुनिया के लिए एक बड़ी मिशाल थी आज इतना लम्बा समय बीतने के बाद भी यह... Read more
clicks 73 View   Vote 0 Like   9:44am 12 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
अहिंसा का देवदूत - बादशाह खान वास्तव में अफगानिस्तान की सीमा से लगे अविभाजित भारत के सीमांत प्रांत में बादशाह खान उनके द्वारा बनाई गयी खुदाई खिदमतगार सगठन ने जो उपलब्द्धि हासिल किया था वह देश ही नही पूरी दुनिया के लिए एक बड़ी मिशाल थी आज इतना लम्बा समय बीतने के बाद भी यह... Read more
clicks 22 View   Vote 0 Like   9:44am 12 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
अलमस्त फकीर --------------------- अमीर खुसरोतीर , तलवार , दरबार , सरकार से हटकर भी एक ऐसी दुनिया है इस जहांन में जहा सिर्फ हर ओर एक नगमा है प्यार का हर सांसो का एक एहसास है , एक ऐसी रूहानी दुनिया जहा सिर्फ मुहब्बत है प्यार है और उस प्यार में खोने का कोई एहसास नही बस समर्पण है जहा चाह कोई नह... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   6:55am 12 Aug 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
तहरीके जिन्होंने जंगे - आजादी - ए - हिन्द को परवान चढाया लहूँ बोलता भीं हैं मेरठ बगावत के एक महीने बाद -----------------------------------देघर बिहार के रोहणी में 12 जून 1857 को पांचवी देशी घुड़सवार सेना के कुछ जवानो ने बगावत कर दी | बिहार सूबे में सन 1857 की यह पहली वारदात थी | बागी सैनिको ने नौकरशाहों से ... Read more
clicks 49 View   Vote 0 Like   6:31am 22 Jul 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
तहरीके जिन्होंने जंगे -आजादी -ए- हिन्द को परवान चढाया लहूँ बोलता भी हैं स्वदेशी आन्दोलन----------------------- स्वदेशी आन्दोलन का मकसद था ब्रिटेन में बने सामानों का बाईकाट करना और भारत में बने सामानों को बढावा देकर ब्रिटेन को नुक्सान पहुचना था | इससे हिन्दुस्तानियों को अपने रोजगार ... Read more
clicks 39 View   Vote 0 Like   5:49am 21 Jul 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
तहरीके जिन्होंने जंगे -आजादी -ए- हिन्द को परवान चढाया लहूँ बोलता भी हैं गदर मूवमेंट ------------------- भोपाल के बरकतुल्लाह ने सैन -फ्रांसिस्को में गदर पार्टी के नाम से एक तंजीम बनाई | इस तंजीम का मकसद भारत और भारत के बाहर जहाँ भी ब्रिटिश - मुखालिफ तंजीमे थी , उन सबके साथ एक नेटवर्क बन... Read more
clicks 63 View   Vote 0 Like   6:49am 20 Jul 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
लहूँ बोलता भी हैं तरीके जिन्होंने जंगे - आजादी -ए - हिन्द को परवान चढाया रेशमी रुमाल तहरीक आन्दोलन की जानकारी को खुफिया तरीके से एक - दुसरे तक पहुचाने के लिए इस तहरीक का इजाद किया गया था | खिलाफत मूवमेंट व अदमताऊन तहरीक की वजह से अंग्रेज खुफिया एजेंसी के lओग ज्यादातर मुस्... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   8:18am 19 Jul 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
                                                                                                                                        ''इंदिरा नेहरु को''                                                  &nbs... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   7:24am 19 Jul 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
बाबू मोशाय --- जिन्दगी लम्बी नही बड़ी होनी चाहिए और जिन्दगी को खुलकर जीना चाहिएआनद मरा नही ---------- आनद कभी मरते नही ..........आनद ने सिखाया की मौत तो आनी है लेकिन हम जीना नही छोड़ सकते | जिन्दगी लम्बी नही बड़ी होनी चाहिए |इस दुनिया में जिन्दगी का एक नया फलसफा गढने वाला ''बाबू मोशाय , ''ह... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   7:15am 18 Jul 2019
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3911) कुल पोस्ट (191501)