POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Jeevan Mag

Blogger: Akash kumar
बहुत देर से कई घंटों तक क़लम हाथ में लिए बैठा रहा, सोचता रहा क्या लिखूं, हज़ारों लाखों शब्द दिमाग़ से हृदय - हृदय से दिमाग़ की ओर दौड़ते रहे। मैने आज अपने जीवन में ऐसी ख़ामोशी का एहसास किया जिसकी मैने कभी कल्पना भी नहीं की थी। ऐसी ख़ामोशी जिसमे अपने हृदय के चीख़ - चीख़ कर रो देने की ... Read more
clicks 131 View   Vote 0 Like   4:30pm 30 Jul 2015
Blogger: Akash kumar
पूर्व राष्ट्रपति भारत-रत्न वैज्ञानिक डॉ एपीजे अब्दुल क़लाम का आई.आई.एम शिलांग में  छात्रों को सम्बोधित करते वक़्त दिल का दौरा पड़ने से बीते सोमवार 27 जुलाई को निधन हो गया. अचानक हुई इस अपूरणीय क्षति से भारतीय जनमानस सन्न रह गया. जीवन मग की टीम ने भी क़लाम साहब को अपने श... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   10:08pm 29 Jul 2015
Blogger: Akash kumar
हाल ही में बर्मा की लोकतंत्र समर्थक नेता और नोबेल (शांति) विजेता आंग सान सू की ने चीन की राजनीतिक यात्रा की है. चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के आमंत्रण पर यह उनकी पहली चीनी यात्रा थी. इस पाँच दिवसीय (दस से चौदह जून) यात्रा ने वैश्विक मीडिया में खूब सुर्खियाँ बटोरी. ... Read more
clicks 119 View   Vote 0 Like   7:13pm 28 Jun 2015
Blogger: Akash kumar
सुप्रीम कोर्ट ने जनता के पैसे से मीडिया में नेताओं के फोटो वाले विज्ञापन प्रसारित व प्रकाशित करने पर रोक लगा दी है. हालाँकि मोदी जी को इसकी छूट होगी. वह देश के प्रधानमंत्री हैं. प्रतियोगिता-परीक्षा के लिए सामान्य ज्ञान में वृद्धि हेतु जानना लाभप्रद रहेगा कि यह छूट राष... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   9:52am 26 May 2015
Blogger: Akash kumar
सर्दी का महीना था और शाम का समय. दादा जी चादर ओढ़े आग के पास कुर्सी पर बैठे थे. आकाशवाणी से समाचार ख़त्म होते ही चारों तरफ से बच्चों की मंडली आ धमकी. सोनू, मोनू, मिठ्ठू, लालबाबू, टिंकू, रिंकी और अंजलि. सभी ने उन्हें घेर लिया और रोज की तरह कहानी सुनाने की जिद करने लगे. आज भी पहले उ... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   7:39am 20 May 2015
Blogger: Akash kumar
आत्मा और परमात्मा का एकीकरण ही मुक्ति है. मुक्ति दो प्रकार से संभव है. या आत्मा परमात्मा में लीन हो जाए या आत्मा में परमात्मा ही समाहित हो जाए. पहली प्रक्रिया ‘प्रेम’ है. प्रेम से ममत्व भाव और अधिकार बोध उत्पन्न होता है. आत्मा का अहं विराट रूप ग्रहण कर अपने ममत्व में परमा... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   9:21pm 16 May 2015
Blogger: Akash kumar
वर्षों पहले कवि रहीम कह गए- ‘रहिमन पानी राखिये, बिन पानी सब सून/ पानी गये न ऊबरे मोती मानुष चून’. हाल ही में संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर वैश्विक स्तर पर नीतिगत बदलाव नहीं किए गये, तो 2030 में दुनिया की जरूरत का सिर्फ 60 फीसदी पानी उपलब्ध होगा. व... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   1:58pm 12 Apr 2015
Blogger: Akash kumar
जामिया स्कूल Jamia Schoolsलिखने को आज ग़ज़ल येमेरे हाथ थरथराए कहने की बारी अलविदा आँखों में आंसू आये हम क़ाफ़िला थे अब तक क़तरा क़तरा थे समुन्दर अब टूट कर बिखर कर कल किस तरफ़ को जाएँ  उस्तादों के हैं एहसान जो हम ना चुका सकेंगे ग़लती भी हो हमारी तो देते हैं ये दुआएंं&nbs... Read more
clicks 142 View   Vote 0 Like   2:23am 8 Apr 2015
Blogger: Akash kumar
मौर्य-मगध का केंद्र-बिंदु हो,क्रांति की अंगड़ाई हो। वर्तमान को दिया दिखाते,स्वर्णिम भूत की परछाई हो।। भोज-अंग-मिथिला का स्वर हो,वज्जी-मगही का तराना हो। 'पञ्चबजना' की स्वरलहरी पर,विद्यापति का गाना हो।। जाट-जटिन का प्रेमनृत्य हो, 'कोहबर' की फूलकारी हो। 'अरिपन' की तुम उज्... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   3:52pm 28 Mar 2015
Blogger: Akash kumar
एक ज़माना था जब  रेडियो सीलोन की स्वर लहरियों के साथ करोड़ों हिन्दुस्तानियों का दिल धड़कता था. क्या शहर और क्या गाँव, हर सड़क गली मोहल्ला और दुकानों से एक ही रेडियो चैनल बजता था. एक से बढ़कर एक सदाबहार गाने बजते जाते थे और लोग अपने-अपने काम में रमे रहते थे. पचास के दशक की शुरुआ... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   6:29pm 24 Mar 2015
Blogger: Akash kumar
Be a man- Really?I have always stressed how important it is to respect a female. Personally I feel, they are the most important existence on Earth, without them we all have no identity. Barring that, I also feel it's very important to female's and male's alike to understand how negatively society portrays a man. It's very hard being a MALE in today's world.Just a few days back, I was watching this ad which throughout show's how boy's are taught not to express their emotional outbursts -- more specially, BOY'S DON'T CRY. At the end of the same ad it showed because of this men tend to abuse women (because they have suppressed emotion). Naturally I was disgusted and very angry at the ... Read more
clicks 119 View   Vote 0 Like   5:50am 23 Mar 2015
Blogger: Akash kumar
Dear Youth of today,What the F*** are you doing? That caught your attention didn't it? Until and unless you don't swear or use an expletive word, you just don't care. My name is Ashneel Jaynesh Prasad, and I'm not a RAPIST. But I'm equally responsible for all the rapes that have taken place today and in the last few years. In December, 2012 a girl in Delhi, India was gang-raped, I was responsible. In January 2013, a 16 year old girl was gang-raped in Vanua-Levu, Fiji, I was responsible for it. An 18 year old girl was raped in Leeds, England on Friday (6th March, 2015), Ia m responsible for it.I was born in a very traditionalist Hindu family. My parents taught me to respect woman. My rel... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   2:37am 8 Mar 2015
Blogger: Akash kumar
Cricket and BaseballJanuary 16, 2015Mesa, Arizona (USA)It has been 5 months since I came to the States and now I feel that I’ll never be back home again, because part of my heart will always be here roaming around in the land of the 5 C’s and the grand hole. Oh, I haven’t visited the Grand Canyon yet. Anyways, it’s on my calendar. I have much on my plate of life to taste giving me a life lesson very often. It comes with the necessity of managing the limited amount of time which is yet another skill needed to succeed.So, the spring semester in school has started with the chilly mornings and the Mondays everyone hates. I went hiking to the Superstition Mountains when it was snowing ove... Read more
clicks 109 View   Vote 0 Like   10:56pm 21 Feb 2015
Blogger: Akash kumar
This statement has evoked provoking thoughts in my mind. First was how did humans actually thought of knowing if gods existed. Apes and early human beings didn't have the ability to think of gods existence for they were too busy learning the skills of surviving. And as per our religious texts, be it the Ramayana, Koran or Bible, the assumption of god descending to earth came about in mid-civilization, so what happened before that? What I am more concerned is that how did people actually came to the conclusion that there was a creator of all of them and that they should pray to it (I say it, for God doesn't have a masculine or feminine form)? If we belief Science, then it states ... Read more
clicks 112 View   Vote 0 Like   3:20am 17 Feb 2015
Blogger: Akash kumar
           एक  तब गाँव हमारा ऐसा था तब गाँव हमारा ऐसा थाइंसान जहाँ पर रहते थेसब शत्रु थे एक-दूजे के पर एक दूजे पर मरते थेआदर था तब पंचों का उपयोग नहीं तमंचों कापंचायत के निर्णय का तबमान बड़ा वो रखते थेपर कई बार मनोरंजन खातिरकेस-मुकदमे लड़ते थेएक नदी किनारे बह... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   2:35am 12 Feb 2015
Blogger: Akash kumar
हालिया दिल्ली चुनावों में आम आदमी पार्टी की जीत भारतीय लोकतंत्र के जीवंतता का सूचक है। अरविन्द केजरीवाल ने एक बार फिर उन सारे राजनीतिक पंडितों को धता बता दिया जो कि लोकसभा चुनावों के बाद "आप" के भविष्य पर प्रश्नचिन्ह खड़े कर रहे थे। ये जीत एक बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी है और दे... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   1:52am 11 Feb 2015
Blogger: Akash kumar
भारत के आधुनिक कार्टून जगत की महानतम शख्शियत श्री आरके लक्ष्मण का २६ जनवरी, २०१५ को निधन हो गया। पूरी जीवन मैग टीम की ओर से भारतीय चित्र-व्यंग्य के इन अद्वितीय स्तम्भ को श्रद्धांजलि। पेश है हमारे कार्टूनिस्ट अनिल भार्गव का बनाया आरके लक्ष्मण जी का एक स्केच-साथ ही पढ़ि... Read more
clicks 185 View   Vote 0 Like   4:13am 3 Feb 2015
Blogger: Akash kumar
 Watch the Republic Day Parade India online here- “If there is one place on the face of earth where all the dreams of living men have found a home from the very earliest days when man began the dream of existence, it is India!” - Romain Rolland This Republic day let's pledge to make India a better place to live! Let's work together to restore the pride! Happy 66th Republic Day!US President Barack Obama with a cartoon of him made by JeevanMag.com Cartoonist Anil Bhargava!... Read more
clicks 184 View   Vote 0 Like   2:48am 26 Jan 2015
Blogger: Akash kumar
सरकार बदलने से नहीं बल्कि विचार बदलने से अच्छे दिन आते हैं| अपने दिल पर हाथ रख कर पूछिये कि  क्या अब किसी लड़की के काले रंग और छोटी नाक के कारण उसका रिश्ता नहीं ठुकराया जायेगा? क्या दहेज़ की आग में अब कोई बेटी नहीं झुलसेगी ? क्या किसी को प्यार कर उसे अपना लेने की हिम्मत रखन... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   11:37pm 20 Jan 2015
Blogger: Akash kumar
Frank Bainimarama, is the current military Prime Minister of Fiji. One of my most recent interactions with him before shifting to New Zealand was in November, 2011 at an awards ceremony. I was receiving the award for the “Best Young Writer” by the Kailaand the Fiji Times at Holiday Inn in Suva. He was the chief guest and I was the award recipient. Amidst the claps while handing me the award, he said something very intimidating to me. His exact words were “so you’re the one who writes about me and also gets away with it” followed by an elusive laugh. Though he may have said it flippantly but there was something in his tone that caught my attention. Coincidentally two days before rec... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   9:55pm 19 Jan 2015
Blogger: Akash kumar
Hello, I’m Christ from Indonesia. I am Akash’s friend and I am also on the YES Program living here in the United States. It has been really adventurous and fun here. I believe that the young people of the world will share the same future, and the same planet; which everyone of us has the same responsibility to make a better to live.  Indonesia, just like India, is a big and beautiful developing country With more than two hundred and fifty million people living across nearly 17,500 islands, we are the fourth most populous country in the world and home to the third largest democracy. Living here in Indonesia is in fact very interesting. We have the largest flower in the world, th... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   1:03am 19 Jan 2015
Blogger: Akash kumar
Only one thing remains fixed in today's newspaper's and magazines - A woman has been raped somewhere. A woman is raped, a family is asked for dowry in exchange for their daughter's hand in marriage, a mother is told to abort her baby just because it's a girl & they need a boy to survive the lineage, a girl is sold into prostitution, a girl is not given the freedom to pursue her education. I feel ashamed as a man on letting other men do all this.For us Indians', we are always told by our elders that Devi Durga is the Shakti, he equivalent of strength and hard-work. Then where does the mentality of tagging a female as a weakling come from? The first step towards rape is eve-teas... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   11:07pm 13 Jan 2015
Blogger: Akash kumar
ज़िंदगी गुलज़ार है। तमाम उलझनों से। परेशानियों से। उन तन्हाइयों से। खुशी और गम का व्यापार है। ज़िंदगी गुलज़ार है। अपनी हसरतों से। दुनिया कि उम्मीदों से। यादों की गलियों से। मौन पहेलियों से। हसीन सपनों का बाज़ार  है। ज़िंदगी गुलज़ार है। टूटते रिश्तों से। रुठते फरिश्तो से... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   4:37am 6 Jan 2015
Blogger: Akash kumar
Among thousands of social evils prevailing across the globe, child abuse definitely ranks among the highest on list. It’s a hideous crime practiced since ages. Pain and injury from child sexual abuse can heal with time, however psychological and medical consequences can persist throughout one’s entire life. Every day, countless children around the world are sexually, physically, verbally, or emotionally abused leaving them with the most horrifying and calamitous memories for lifetime, for when they’re supposed to have the most remarkable years of their lives.  Statistically, more than five children die every day as a result of child abuse. On average, 3.3 million cases are reporte... Read more
clicks 226 View   Vote 0 Like   2:17am 31 Dec 2014
Blogger: Akash kumar
गुज़रते रंज में अफ़सोस में हैं ये सारे दिन मुझे फिर याद आए हैं मुहब्बत के वो प्यारे दिन वो तन्हाई में तुमको याद करना और रोना था मेरी नज़रों का टकराना तेरा शर्मिंदा होना था  मुलाक़ातों पे एक दूजे से हम ना बोल पाते थे हज़ारों लफ्ज़ आँखों से ही सुनते और सुनाते थे नाज़ुक हाथ तेरा ... Read more
clicks 183 View   Vote 0 Like   11:26pm 23 Dec 2014
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3916) कुल पोस्ट (192471)