Hamarivani.com

Journey

  कर्त्तव्य-परायणता कितने दिन का चुग्गा-पानी नर का, न कोई कथन-शक्यता अति-दूरी होंठ एवं प्याले मध्य, जो खा लिया वही है अपना। स्थल-विरक्तता, व्यक्ति-त्यक्ता, प्रायः सबसे निर्लेपता  भाव मानव छूटता जाता बंधनों से, या स्व-जिम्मेवारियों से दुराव। जगत के रा...
Journey...
Tag :लोक-व्यव्हार
  February 24, 2018, 5:24 pm
सुवीर --------कुछ लघु ही किन्तु अनुपम, अल्प-शब्दों में आह्वानित भाव अति सूक्ष्म, अर्थ गूढ़ व पावन सुंदर का एकत्रण। पूर्ण मन का स्वामी और त्याग त्यज्य को हुआ सजग कुछ बुद्ध-दर्शन ग्रहण-प्रेरणित, कुछ अवस्था सुमधुर। लुप्त हुआ स्वान्वेषण में, पवित्र-पुष्कर में किया ...
Journey...
Tag :काव्य
  February 10, 2018, 11:10 pm
 दूर यात्रा-----------एक शब्द-अन्वेषण प्रक्रिया से गुजर रहा, मिले तो कुछ बढ़े अग्र जीवन यूँ ही बीत जाता, ठहरकर चिंतन से उठा सकता अनुपम। चारों ओर ध्वनि-नाद गुंजायमान, मैं कर्ण होते भी न सकता सुन अंतः से कुछ निकल न पा रहा है, मूढ़ सम बैठा प्रतीक्षा ही बस। इतना विशाल वि...
Journey...
Tag :काव्य
  January 30, 2018, 6:42 pm
स्व-नियंता --------------उच्चावस्था संभव प्रयोजनों में, आत्म-मुग्ध या विद्वद-स्वीकृत संस्तुति वाँछित मनीषियों द्वारा, पर मात्र उसके न कर कष्ट। कोई नहीं है तव प्रतिद्वंद्वी यहाँ, समस्त कवायद स्वोत्थानार्थ निज-भाँति सब विकसित होते, न कोई उच्च है अथवा क्षुद्र। स्व...
Journey...
Tag :काव्य
  January 22, 2018, 12:43 am
 स्वयं-सिद्धा----------------मिश्रित कोलाहल-ध्वनि सा यह जहाँ, गूँज है चहुँ ओर से मानव मन एकाकी चाहता, बाह्य कारक प्रभाव डालते।मैं एक गाथा लिखना चाहता, जो हो एक बिंदु पर केंद्रितपर आ जाते इतर-तितर से अवयव, होते अभिमुख सतत। कैसे चले एक सत्य पथ पर ही, वह भी तो सीधा नहीं जब ...
Journey...
Tag :काव्य
  January 7, 2018, 6:19 pm
ललकार -----------समय यूँ परीक्षा लेता, अनेक कष्ट देकर बनाता सशक्तन बीतता चैन से जीवन, मानव बनने में है बहुत माँग। अब नहीं बालक, जब सब माता-पिता से मिलता पोषण युवा-शिक्षित हो बन्धु, एक पद मिला करने को निर्वाह। विभाग एक जैसों का कुल्य, सबके करने से ही तो प्रगति  न...
Journey...
Tag :चाहत
  December 25, 2017, 11:44 pm
मन-दृढ़ता---------------कौन हैं वे चेष्टाओं में प्रेरक, मूढ़ को भी प्रोत्साहन से बढाते अग्र निश्चित ही कर्मठ-सचेत, वृहद-दृष्टिकोण, तभी विश्व में नाम कुछ। क्या होती महापुरुष-दिनचर्या, एक दिन में कर लेते काम महद प्रत्येक पल सकारात्मक क्रियान्वित, तभी तो कर जाते अनुप...
Journey...
Tag :लोक-व्यव्हार
  December 10, 2017, 8:19 pm
आदर्श व्यवहार --------------------अपने पंथों की मान्यताऐं बनाए रखने हेतु, लोग कैसे-2 उपाय रखते लोभ निश्चित ही मानव में, सत्य जानते भी आनाकानी स्वीकारने में। रूढ़िवादिता - जो लिखा-बोला गया उचित ही, किंचित स्वानुरूप भी  यदि वह भी गुप्त स्वार्थ में ही उवाच, निष्कर्ष ...
Journey...
Tag :लोक
  December 3, 2017, 8:50 pm
जीव-कर्त्तव्य -----------------हर दिवस एक नवीन उद्भाव, कुछ प्रगति कुछ अवसाद प्रतिपल एक परीक्षा लेता, चोर-सिपाही का खेल निरंतर। जीवन-चक्र अति विचित्र, खूब खेल खिलाए, डाँटे-फटकारे क्षीणता, अल्पज्ञता, त्रुटियाँ ला समक्ष, यथार्थ पृष्ठ पर पटके। प्रहर्ष अधिक न पनपने देता, विश...
Journey...
Tag :काव्य
  November 18, 2017, 11:30 pm
Journey: श्रीकालिदासप्रणीत मेघ-सन्देश : पूर्व-संदेश: मेघ - सन्देश    ---------------- श्रीकालिदासप्रणीत ( पूर्व - संदेश ) ------------ निज कर्तव्यों से चिंता - मुक्त   एवं अ......
Journey...
Tag :
  August 5, 2017, 6:16 pm

रक्त-रिश्ते---------------रिश्तें प्राण-वाहक, हम निकसित उनसे, एक योग रक्त-सम्पर्क से  कह सकते सीधे जुड़े, किसी औपचारिकता की आवश्यकता नहीं। कुछ जुड़ाव तो अति-निकट जैसे अभिभावक, दादा-दादी, नाना-नानी भाई-बहन, मामा-मौसी, चाचा-बुआ, चचेरा-फुफेरा, ममेरा-मौसेरा आदि। रक्त-माध्यम स...
Journey...
Tag :
  July 31, 2017, 1:52 pm
रक्त-रिश्ते---------------रिश्तें प्राण-वाहक, हम निकसित उनसे, एक योग रक्त-सम्पर्क से  कह सकते सीधे जुड़े, किसी औपचारिकता की आवश्यकता नहीं। कुछ जुड़ाव तो अति-निकट जैसे अभिभावक, दादा-दादी, नाना-नानी भाई-बहन, मामा-मौसी, चाचा-बुआ, चचेरा-फुफेरा, ममेरा-मौसेरा आदि। रक्त-माध्यम स...
Journey...
Tag :लोक-व्यव्हार
  July 31, 2017, 1:52 pm
प्रोत्साहन-मनन-------------------मनन यह क्या मनन हो, निर्मल-चित्त तो वृहत-आत्मसात कहते हम सब उसीके ही भिन्न अवयव, पूर्णता से जुड़ पूर्ण ही बनेंगे। लेखन भी है अद्भुत विधा, कुछ न भी दिखे तथापि पथ ढूँढ़ लेती  कलमवाहक को मात्र माध्यम बना लेती, उकेरेगा जो यह चाहती। माना लेखक की सो...
Journey...
Tag :काव्य
  February 5, 2017, 11:31 pm
दर्शन-यथार्थता--------------------कैसा जहाँ हम बनाना चाहते, सोच का ही है खेल जो भी यहाँ अच्छा-बुरा जैसा है, सब है मानव-कृत। क्या सोचते हम परिवेश हेतु, जो हमारा आवास है कितनों को व क्या सबको, उसमें सम्मिलित करते ? अपने जैसों से सम्पर्क साधते, अन्यों को रखते बाहर...
Journey...
Tag :काव्य
  December 25, 2016, 6:40 pm
विश्व-बवाल ---------------क्यों मानव कष्टमय स्व-कृत व्यवधानों में, अविश्वास में विश्व उबल रहा जहाँ देखे वहाँ हिंसा-साम्राज्य, परस्पर मार रहें पता नहीं क्या पा लेंगे ?जब से पैदा हुए युद्ध विषय में सुन-पढ़ रहें, क्या हैं मूल-कारण इसके किंचित यह लोभ-तंत्र है आत्म-समृद्धि को...
Journey...
Tag :लोक
  December 17, 2016, 9:57 pm
ज्ञान-सोपान ---------------निरुद्देश्य तिसपर उत्कण्ठा तीक्ष्ण, अध्येय पर प्रखर आंतरिक-ताप जीवन स्पंदन की चेष्टा में रत, मन-संचेतना कराती स्व से वार्तालाप। बहु-विद्याऐं मैं हत्प्रद, अबूझ-अपढ़, खड़ा विशाल पुस्तकालय सम्मुखआभ्यंतर का न साहस होता, डर कहीं प्रवेश न कर दिया ज...
Journey...
Tag :काव्य
  November 21, 2016, 10:42 pm
Journey: वीरता:   वीरता  सचमुच ही   वे   कर्म योद्धा हैं, लेखनी जो  उद्देश्यार्थ  चलाते   सतत चलते दुराहों पर अकेले, विवेचन-मंथन करते हुए।   ......
Journey...
Tag :
  October 30, 2016, 6:34 pm
 सहज शब्द-प्रवाह---------------------बहु-भाँति लेख-संस्मरण, कथा-साहित्य, जन लिखते भिन्न रस-संयोग से सबका निज ढंग मनन-अभिव्यक्ति का, समग्र तो न सब कह ही सकते। लेखन-विधा अति-निराली, यूँ ही न मिलती, कुछ तो चाहिए सहज रूचि ही विशेष समय आवश्यक बतियाने को, वरन सुफियाने की ...
Journey...
Tag :काव्य
  October 12, 2016, 1:45 pm
 उत्प्रेरण-विधा ------------------वर्तमान अनूठे असमंजसता-पाश में, अबूझ हूँ जानकर भीकैसे खेऊँ नैया, पार दूर, अकेला, कभी हिम्मत खण्डित सी।  सकारात्मक मन-मस्तिष्क धारक, तथापि अनिश्चितता घेरे विवेक प्रगाढ़ न हो रहा, नकारात्मकता आकर है झिझकोरे।वातावरण जो होना चाहिए भय-म...
Journey...
Tag :आत्म-अभिव्यक्ति
  October 2, 2016, 7:03 pm
आत्मानुभूति - संज्ञान -------------------------मन बिसरत, काल बहत जात, बन्दे के कुछ नहीं हाथ हत्प्रद यूँ वह देखता रहता, कैसे क्या हो रहा नहीं ज्ञात। हर क्षण घटनाऐं घटित, कुछ के तो हम प्रत्यक्ष साक्षात्कार पर इतनी सहजता से हो रहा, मानो हमारा न हो सरोकार। हम निज एक अल्प-स्...
Journey...
Tag :काव्य
  September 18, 2016, 9:22 pm
लक्ष्य-कटिबद्धता---------------------क्यों अटके हो यत्र - तत्र, दृष्टि-प्रगाढ़ करो किंचित उत्तम लक्ष्य में यदि क्षुद्र में ही व्यस्त रहते, कहाँ से महा ग्रन्थ - काव्य जाते रचे। माना अल्प जुड़कर बृहद बनता, लक्ष्य हेतु कटिबद्धता चाहिए पर रामायण, महाभारत, बृहत्कथा संभव, क्...
Journey...
Tag :काव्य
  August 14, 2016, 1:10 am
विहंग-दर्शन -----------------निरत निनाद विहंग-वृन्द ध्वनित प्रातः, प्रेरित करें बनो शाश्वत अन्य भी चहकते लघु चेष्टाओं में, प्रमुदित हों करें दिवस आरंभ। ये हैं साम-गीतिका के ऋषि, प्रातः नीड़ों से निकल गुंजन करते आशय तो वे निज मन में समझे, हमें तो प्रायः अनुशासि...
Journey...
Tag :काव्य
  July 30, 2016, 11:48 pm
सुपथ-मनन -----------------कौन सा ज्ञान कहाँ से उदित, जब सामान्यतया तो हम होते निस्पंद विशेष परिस्थिति में विद्वान बनता मनुज, भावमय होते सब शब्द। कहाँ से देख व्याख्यान-शक्ति मिलती, कौन जोड़ता तंतु-अवयव कैसे विभिन्न पहलू होते समन्वयित, संचित हो जाता कुछ ...
Journey...
Tag :काव्य
  July 17, 2016, 4:08 pm
मेघ-सन्देश  ----------------श्रीकालिदासप्रणीतउत्तर-संदेश-------------जहाँ प्रासाद करते मेघोंकोस्पर्श, तेरी महत्तासम ऊँचे होते, जिसकेमणिमयतलों कीचमक, तेरे जल-बिन्दुओंसे करती स्पर्धा। जहाँसुन्दरभित्तिचित्र, तेरेइन्द्रधनुषी वर्ण कोमातदेते, ललित...
Journey...
Tag :काव्य
  June 27, 2016, 9:14 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3755) कुल पोस्ट (175946)