Hamarivani.com

Journey

परिच्छेद -  ४त्रिलोक-जन्मक (स्रष्टा, विधाता), पोषकऔरसंहारकमहाकालएवंप्रमथ-स्वामीद्वाराअपनानिवासबनाईजैसेकियहएकद्वितीयवसुंधराहीहो, सुवर्ण-युगकाएकआवास, पृथ्वीकामहानतमगौरवउज्जैयिनीनामकनगरहै।वहाँभास्करप्रतिदिनमहाकालकोश्रद्धा-सुमनचढ़ाताहैक्योंकिइसकेअश...
Journey...
Tag :पुरा-साहित्य
  December 1, 2018, 7:31 pm
परिच्छेद – ३ (भाग -२)---------------------------तबशबरनीचेआयाऔरभूमिपरछितरितनन्हेंतोतोंकोएकत्रितकिया, उसनेउन्हेंशीघ्रतासेएकपर्ण-कंडील (टोकरी) मेंएकलता-रज्जुसेबाँधा, औरअपनेनेताद्वारागमितपथद्वाराशीघ्रकदमभरतेहुएउसनेउसक्षेत्रप्रस्थानकिया।मैंनेइसीमध्यजीवन-आशाप्रारंभकरदी,...
Journey...
Tag :पुरा-साहित्य
  November 21, 2018, 11:10 pm
परिच्छेद– ३ (भाग -१)विन्ध्यनामकएकवनहैजोपूर्वीएवंपश्चिमीमहासागरोंकाआलिंगनकरताहै, औरमध्य-क्षेत्रकोऐसेसुशोभितकरताहैजैसेयहपृथ्वी-अंचलहो।यहवन्यगजोंकेमद-सिंचितद्रुमोंसेरमणीयहैजोअपनेशीर्षोंपरश्वेतपुष्प-भारधारणकरतेहैं; इसमेंश्यामवल्ली (कालीमिर्च) केवृक्...
Journey...
Tag :पुरा-साहित्य
  November 17, 2018, 10:55 pm
परिच्छेद -२    एकबारएकसमयशूद्रकनामकएकराजाथा।द्वितीयइंद्रभाँतिउसकाप्रभुत्वसभीनृपोंकेनमितशीर्षोंद्वारासम्मानितथा; चारमहासमुद्रोंद्वारापरिसीमितवसुंधराकावहस्वामीथा, उसकेपासउसकेतेजकेसमक्षसिरझुकाएपड़ौसीमुखियोंकीएकसेनाथी, उसमेंएकसार्वभौमनृपके...
Journey...
Tag :पुरा-साहित्य
  November 4, 2018, 2:03 pm
श्री बाणभट्ट-कृत कादम्बरी : पूर्व – भाग(हिंदी- भाषांतर)परिच्छेद -१ स्तुतिहैउसअजन्मे, स्रष्टा, पालनहारएवंसंहारककीजोत्रिरूपवत्रिगुणहै, जोवस्तुओंकेजन्ममेंक्रिया, उनकीनिरन्तरतामेंकल्याणऔरउनकेसंहारमेंतिमिरदर्शाताहै।महिमात्र्यंबकमकेचरण-रजकी, जोबा...
Journey...
Tag :पुरा-साहित्य
  October 28, 2018, 5:50 pm
आत्म-परिष्कार-------------------कौन उत्कृष्ट रूप स्व से संभव, मार्ग निज-उज्ज्वल करें दर्शित कैसे देह-मानस कायांतरित ही, क्या वृद्धि की सीमा किञ्चित? कैसे 'सुंदरतम मन'प्राप्ति, धरा भाँति सम-असम धारण सक्षम कैसे प्रमाद त्याग सुवृति हेतु, जीव चेष्टा पराकाष्टा करें ग्रहण। क...
Journey...
Tag :काव्य
  October 1, 2018, 10:33 pm
सुमति - दान--------------- दीन्हों सुमति, विवेक अग्रसर, सयंमित साहसी अदमितनीर-क्षीर विवेचन कौशल, वक -हंस पहचान विदित। अंतरतम दृश्य सक्षम, मम गुप्त रिपुओं को करो समक्ष सामना हो स्व-दुर्बलताओं से, विजित हों सर्व-विधर्म। सत्य-आत्मसात, निर्मल बुद्धि का परम-स्तर अनुभव पैम...
Journey...
Tag :आत्म-अभिव्यक्ति
  August 18, 2018, 11:35 pm
वय-वृद्धि क्रम --------------------कालक्रम में जीवन भोला न रहता, बचपन के शौख-अंदाज उम्र संग नदारद मुस्काता, खिलता-हँसता चेहरा, जीवन की वीभत्स-युद्ध छाया में जाता छुप। 'भूल गए तानमान भूल गए जकड़ी, तीन चीजें याद रह गई नून-तेल-लकड़ी' प्रातः-जाग बाद दिवस संघर्ष में धकाया जाता, सा...
Journey...
Tag :काव्य
  July 14, 2018, 10:07 pm
 कठिन मूल-भेदन-------------------सृष्टि-चलन एक महातंत्र, बहु कारक, सतत घटित है, अनेक रहस्य विस्मयी कौन जग को पूर्ण मनन में सक्षम, प्राणी क्षीण-चिंतक, विचार मात्र सतही। विशाल सृष्टि, बहुल-विस्तृत अवयव, चिर-दूरी मध्य, स्पष्ट संदर्भ भी न दर्शित सब अपनी जगह नन्हें जग में...
Journey...
Tag :काव्य
  July 1, 2018, 6:19 pm
सम्मिलित चेतना--------------------इस प्रकृति के बहु-आयाम, अति सघन-विस्तृत, प्रतिकण  है विचित्र रूप उसका सबसे गहन-संबंध, मनीषियों का सर्व-ब्रह्मांड एकत्रण हेतु मनन। मानव भी बहु-संख्यक, अन्य जीव सम प्रकृति-हिस्सा, तदानुक्रम उत्पन्नलाखों वर्षों  संग रह रहा, एक समन्वय सा बना...
Journey...
Tag :लोक-व्यवहार
  May 28, 2018, 12:47 am
निकटस्थ - हित -------------------सभी निज संगठनों से जुड़े रहते, शांत रह समाज हेतु करते काम घर-कार्यालय माना प्रधान, पर यहीं नागरिक-दायित्व रूकता न। जिस परिवेश में हम जन्म लेते, उसके प्रति लगाव एक प्रवृत्ति सहज माना संपूर्ण ब्रह्मण्ड एक कुटुंब ही, निकटस्थों को समझते ...
Journey...
Tag :काव्य
  May 20, 2018, 12:08 am
मस्तिष्क-ग्रंथि प्रहेलिका---------------------------अन्वेषण प्रक्रिया से एक शब्द की यात्रा, प्राप्ति तो कुछ अग्र चरण  सकल जीवन यूँ चिंतन में बीतता, ठहरकर क्यूँ न उठाता अनुपम। चारों ओर ध्वनि-नाद गुंजायमान, मैं कर्ण होते भी न श्रव्य-सक्षम  अंदर से कुछ भी निकल न रहा, यूँ मूढ़...
Journey...
Tag :काव्य
  May 6, 2018, 7:14 pm
निज-निर्णय ---------------लोगों से सीखना ही होगा, निर्भीकता से निज बात कह-कर देते  लोग चाहे उनको पसंद करें या नहीं, जो जँचता प्रस्तुत कर देते। एक उक्ति पढ़ी थी 'Always Take Sides', जो मनानुरूप लगे हम भी सदा उचित न सोच पाते, पूर्वाग्रह-आवरण ओढ़े रहते। बहुदा एक मन बना लेते, परिस्थिति-प...
Journey...
Tag :दर्शन
  April 28, 2018, 11:23 pm
गहराई -----------'गहराई'शब्द अभी मेरे जेहन में आया है और मैं सोच रहा हूँ कि इसे कैसे परिभाषित करूँ, कैसे इसे अपने साथ जोड़ूँ, और कैसे इससे अनुभूत होऊँ। 'गहराई'क्या है - यह मात्र अनदेखी भ्रान्ति तो नहीं है जिसकी दूर से ही कुछ कल्पना करके हम अपना कुछ अस्पष्ट सा निष्कर्ष निकाल ल...
Journey...
Tag :आलेख
  April 1, 2018, 6:08 pm
विद्यानग-पथ ----------------कितना बना वह शिक्षित, इसका पैमाना है क्या कुछ उपाधियाँ एकत्रित भी, पर क्या वे पर्याप्त ?कितना शिक्षा-यत्न, कितना वास्तव में ही समझता  कितनी फिर स्मृति ही, कितना आचार में ला पाता ? कितने अल्प सतही ज्ञान पर, यूँ इतराता है फिरता स्वयं को फिर वि...
Journey...
Tag :काव्य
  March 25, 2018, 6:31 pm
  कर्त्तव्य-परायणता कितने दिन का चुग्गा-पानी नर का, न कोई कथन-शक्यता अति-दूरी होंठ एवं प्याले मध्य, जो खा लिया वही है अपना। स्थल-विरक्तता, व्यक्ति-त्यक्ता, प्रायः सबसे निर्लेपता  भाव मानव छूटता जाता बंधनों से, या स्व-जिम्मेवारियों से दुराव। जगत के रा...
Journey...
Tag :लोक-व्यव्हार
  February 24, 2018, 5:24 pm
सुवीर --------कुछ लघु ही किन्तु अनुपम, अल्प-शब्दों में आह्वानित भाव अति सूक्ष्म, अर्थ गूढ़ व पावन सुंदर का एकत्रण। पूर्ण मन का स्वामी और त्याग त्यज्य को हुआ सजग कुछ बुद्ध-दर्शन ग्रहण-प्रेरणित, कुछ अवस्था सुमधुर। लुप्त हुआ स्वान्वेषण में, पवित्र-पुष्कर में किया ...
Journey...
Tag :काव्य
  February 10, 2018, 11:10 pm
 दूर यात्रा-----------एक शब्द-अन्वेषण प्रक्रिया से गुजर रहा, मिले तो कुछ बढ़े अग्र जीवन यूँ ही बीत जाता, ठहरकर चिंतन से उठा सकता अनुपम। चारों ओर ध्वनि-नाद गुंजायमान, मैं कर्ण होते भी न सकता सुन अंतः से कुछ निकल न पा रहा है, मूढ़ सम बैठा प्रतीक्षा ही बस। इतना विशाल वि...
Journey...
Tag :काव्य
  January 30, 2018, 6:42 pm
स्व-नियंता --------------उच्चावस्था संभव प्रयोजनों में, आत्म-मुग्ध या विद्वद-स्वीकृत संस्तुति वाँछित मनीषियों द्वारा, पर मात्र उसके न कर कष्ट। कोई नहीं है तव प्रतिद्वंद्वी यहाँ, समस्त कवायद स्वोत्थानार्थ निज-भाँति सब विकसित होते, न कोई उच्च है अथवा क्षुद्र। स्व...
Journey...
Tag :काव्य
  January 22, 2018, 12:43 am
 स्वयं-सिद्धा----------------मिश्रित कोलाहल-ध्वनि सा यह जहाँ, गूँज है चहुँ ओर से मानव मन एकाकी चाहता, बाह्य कारक प्रभाव डालते।मैं एक गाथा लिखना चाहता, जो हो एक बिंदु पर केंद्रितपर आ जाते इतर-तितर से अवयव, होते अभिमुख सतत। कैसे चले एक सत्य पथ पर ही, वह भी तो सीधा नहीं जब ...
Journey...
Tag :काव्य
  January 7, 2018, 6:19 pm
ललकार -----------समय यूँ परीक्षा लेता, अनेक कष्ट देकर बनाता सशक्तन बीतता चैन से जीवन, मानव बनने में है बहुत माँग। अब नहीं बालक, जब सब माता-पिता से मिलता पोषण युवा-शिक्षित हो बन्धु, एक पद मिला करने को निर्वाह। विभाग एक जैसों का कुल्य, सबके करने से ही तो प्रगति  न...
Journey...
Tag :चाहत
  December 25, 2017, 11:44 pm
मन-दृढ़ता---------------कौन हैं वे चेष्टाओं में प्रेरक, मूढ़ को भी प्रोत्साहन से बढाते अग्र निश्चित ही कर्मठ-सचेत, वृहद-दृष्टिकोण, तभी विश्व में नाम कुछ। क्या होती महापुरुष-दिनचर्या, एक दिन में कर लेते काम महद प्रत्येक पल सकारात्मक क्रियान्वित, तभी तो कर जाते अनुप...
Journey...
Tag :लोक-व्यव्हार
  December 10, 2017, 8:19 pm
आदर्श व्यवहार --------------------अपने पंथों की मान्यताऐं बनाए रखने हेतु, लोग कैसे-2 उपाय रखते लोभ निश्चित ही मानव में, सत्य जानते भी आनाकानी स्वीकारने में। रूढ़िवादिता - जो लिखा-बोला गया उचित ही, किंचित स्वानुरूप भी  यदि वह भी गुप्त स्वार्थ में ही उवाच, निष्कर्ष ...
Journey...
Tag :लोक
  December 3, 2017, 8:50 pm
जीव-कर्त्तव्य -----------------हर दिवस एक नवीन उद्भाव, कुछ प्रगति कुछ अवसाद प्रतिपल एक परीक्षा लेता, चोर-सिपाही का खेल निरंतर। जीवन-चक्र अति विचित्र, खूब खेल खिलाए, डाँटे-फटकारे क्षीणता, अल्पज्ञता, त्रुटियाँ ला समक्ष, यथार्थ पृष्ठ पर पटके। प्रहर्ष अधिक न पनपने देता, विश...
Journey...
Tag :काव्य
  November 18, 2017, 11:30 pm
Journey: श्रीकालिदासप्रणीत मेघ-सन्देश : पूर्व-संदेश: मेघ - सन्देश    ---------------- श्रीकालिदासप्रणीत ( पूर्व - संदेश ) ------------ निज कर्तव्यों से चिंता - मुक्त   एवं अ......
Journey...
Tag :
  August 5, 2017, 6:16 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3825) कुल पोस्ट (184059)