POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: दिल मेरा

Blogger: jayshri patel
http://www.pureitwater.com Pure it ultima ro+uv4-5/5First impression - stunning.Straight out of Tron (movie)Design - Eye candy.The reason why i looked up the internet for its features was its looks.black glossy finish looks feels good. It does attract fingerprints  & minute dust particles but its worth a wipe everyday. The screen kind of blends with the black front cover, and yet manages to ... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   4:45pm 17 Apr 2014 #
Blogger: jayshri patel
कभी कभी हम युही बैठे हो और सोचते सोचते ब्होत दूर निकल जाते हे ,अकसर ऐसा शायद हम सब के साथ होता हे ,कभी हम होते तो ऐक जगा पर ,पर असल में हम वहाँ होते नही हे ,आज ऐसा लगा की विचारो के माध्यम से हम अपनी ही खुद की एक अलग दुनिया में चले जाते हे ,जहाँ पहोचने असल जिंदगी में पॉसिबल नही हो... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   3:09pm 16 Apr 2014 #
Blogger: jayshri patel
कागज में लिखी थी तेरे आने की खबर  दिल में अजब सा सुकून दौड़ा था पलभर  लिखावट में तेरा प्यार बेसबब पशरा था  जुदाई के दिन कैसे कटे वो साफ साफ लिखा था  तरस थी देखने की ,अब दुरी से थकी थी नजर  हौले हौले बरसी थी आँखे ,छुप छुप निकले थे आँसू  कोई नही दर्द  बिरह की बेला के राजदार प... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   8:16pm 15 Apr 2014 #चाँदनी
Blogger: jayshri patel
तुजसे रुठकर किधर जाऊ मेंचलु दो कदम और ढहर जाऊ मेंदो जहाँ की खुशी तो हे तेरे साथ में  तुझसे जुदा  होकर कहा ढूँढू खुद को  याद जब तेरी आती साजन  किताबों के पन्नो पर टपकते आँसू  हलके पुरवैया के जोके उड़ते पन्ने  भीग जाती में मोती अश्रु के उड़ते ही  तुजे क्या मालूम कैसी कैसी ... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   7:58pm 12 Apr 2014 #चाँदनी
Blogger: jayshri patel
हिन्दू लग्न ए पवित्र धार्मिक संस्कार है ,हिन्दू लग्न संस्कार मे दाम्पत्य जीवन की पवित्र और प्रेममय गरिमा है ,जनम जन्मांतर का अटूट बंधन है ,यज्ञ की पवित्र अग्नि से उसकी सुरुआत होती है , लग्न बन्धन मे जुड़ते ही पति - पत्नी मे विस्वाश और प्रेम .त्याग ,सहन सिलता ,क्षमा ,धीरज क... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   2:34pm 12 Apr 2014 #
Blogger: jayshri patel
दीदार तेरा हुवा तब से  हुवा फ़क़ीर …।!!दवा तो क्या कोई दे मुझे जीने की  …।!!दुवा दे बस तुजे हरपल पाने की  …।!!जुस्तजू नही तुजे एकपल खोने  की  …।!!आरज़ू हे बस तुजे पलभर देखने की  …।!!तमन्ना नही तुजे क्षणभर छोड़ने की …।!!ख्वाहिश बस जनमो जनम अपना बनाने की …।!!                                               ... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   6:52am 12 Apr 2014 #
Blogger: jayshri patel
 Personality development.  पर्सनालिटी ___ मॉर्डन जमाने की मॉर्डन मांग  बदलाव हर युग की जरूरियात हे।               पर्सनालिटी के  दौर का बहु चर्चित टॉपिक  ,बाजार में बहोत सारी बुक भी मिलती हे और पर्सनालिटी डेवलपमेंट के क्लासिज़ भी चलते हे , कॉलेजों में भी पर्सनालिटी के बारे में जागृत कि... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   11:02pm 10 Apr 2014 #
Blogger: jayshri patel
                                                                      सुबह सुबह पँछियों का कलरव सुनके सुगंधा कि आँखे खुल गयी ,वो दोनों बाजुओ को फैलाके सुबह कि ताजगी को अपने अंदर महसूस कर खिड़की के पास वैसे ही बैठी रही ,तब उसने माँ सैलजा को हाथो में रोटियों कि डिश ले जाते हुए देखा तो दरवाजे पे एक फ... Read more
clicks 133 View   Vote 0 Like   11:50am 5 Apr 2014 #Moral story
Blogger: jayshri patel
या देवी सर्वभुतेषू मातृरूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै।। नमस्तस्यै।। नमस्तस्यै नमो नमः।।   ... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   5:36am 5 Apr 2014 #जय माँ भवानी
Blogger: jayshri patel
पहरा लगाया हे मेहँदी भरे हाथो से पलकों कि चिलमन से  नजाकत भरी चांदनी ने एक आसियाना बनाया चाँद के दिल में  ... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   5:29pm 4 Apr 2014 #नारी
Blogger: jayshri patel
बेफिक्री तमन्ना ओ कि, जलती हुयी फरियाद पैरों कि छुवन से उड़ाती ख्वाहिसे बिखरी हवाओ में उड़ चली उड़ चली उड़ चली बस उड़ चली बेफिक्री से ... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   2:26pm 29 Mar 2014 #
Blogger: jayshri patel
रास्ते इधर उधर कि बुधेड में कई ले जा रहे थे ....!! पीपल के पेड़ निचे युही ठहरना चाहता था दिल थोड़ीदेर , वक़त उगली थामकर दिल मेरा लिए जा रहा था ....!! पीछे से पुकारती यादो कि किताबे साथ चलना चाहती थी, इज़ाज़त बिना ही रिस्तो के मेले धसीटै जा रहे थे ....!!  मजबूरियों का बोज़ ढ़ोने से बाहर आना ... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   1:21pm 29 Mar 2014 #
Blogger: jayshri patel
दीदार कर रहा हे चाँद  ....!! अजीब हाले - दिल   ....!! बयां क्या करे जुबा से     ....!!                                    दिल कुछ थमा सा    ....!! वक़त कुछ रुकासा    ....!! नयन यु झुके से   ....!! लब हे थरथराये से   ....!! धड़कन कुछ ज़िलमिलाई सी  ....!! साँसे पल पल धबराई सी  ....!! चाँदनी कुछ यु मुस्कुराई सी   ....!!  ... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   5:50pm 25 Mar 2014 #
Blogger: jayshri patel
तेरी शर्मो -ह्या उजली चांदनी में निखर जाती हे  दिल केसे करें पर्दा हुश्न कि आगोश में  …।!! ढलती जुल्फ़े तेरी रेशमी गालों तेरे सहलाती हे  जूनून सा उठता है शोर जब तुम बालों को हटाती हों …।!! तुम हो खूबसूरत, शीशे को जैसे तरासा मलमल कि कटार से  दुवा यही हरदम करता हु नयन मेरे प... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   8:44pm 24 Mar 2014 #
Blogger: jayshri patel
जिंदगी के कुछ बीते पलों को तलाश ती हुयी में उन यादो में वापस जाना चाहती हु ,क्यों ये पल आज से ज्यादा मुझे अछे लगते थे ? ये जवाब था भी और नही भी हे पता नही ,पर कुछ तो बात होगी जो रेह रेह कर भी वहा उन पलो में लोटना फिर एकेले में युही मुस्कुराना अछा लगता हे ,पल दो पल कि खुसी मिलती ह... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   7:05am 19 Mar 2014 #
Blogger: jayshri patel
नदी में पानी न हो  ....! सूरज में आग न हो   ....! फूलों में खुश्बू न हो  ....! नींद में सपने न हो  ....! दिल में मोहबत न हो  ....! मोहब्त में तड़प न हो  ....!   जिंदगी में रंग न हो  ....!   गगन में तारे न हो  ....!   आसमान में पंछी न हो  ....!   माँ में ममता न हो  ....!   नारी में लज्जा न हो तो  ....!   शायर कैसा  ने ... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   7:59am 9 Mar 2014 #
Blogger: jayshri patel
सुबह कि किरणो के साथ पंछियो का मधुर कलरव मिलता हे तो दिल मेरा ज़ूम उठता हे ,हाथ में केमरा लिए बाग़ में खिले ताजे ताजे फूलो को मेरे केमरे में कैद करना ,उड़ते पंछियो की तस्वीर आँखों के साथ दिल में भी कैद हो जाती हे क्युकी अपनी मन मर्जी खुले आसमान में उड़ना ,खुसी महसूस करना ,बादल... Read more
clicks 128 View   Vote 0 Like   12:30pm 2 Mar 2014 #शुप्रभात
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post