POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: उलूक टाइम्स

Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
जरूरी है घिसना चौक काले श्यामपट पर पढ़ाना नहीं है ना ही कुछ लिखना है कुछ लकीरें खींच कर गिनना शुरु कर देना है कोई पूछे अगर क्या गिन रहे हैं शर्माना नहीं है कह देना है  मुँह पर ही लाशें किसकी कोई पूछे तो बता देना है अपने घर के किसी की नहीं है मातम कहीं दिख रहा हो तो पूछने जर... Read more
clicks 13 View   Vote 0 Like   4:01pm 25 Feb 2020 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
वैसे भी कौन लिख पाता है पूरा सच कोशिश सच की ओर कुछ कदम लिखने की होती है कोशिश जारी रहती है जारी रहनी चाहिये आप लिख रहे हैं लिखते रहें आपके लिखने ना लिखने से किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता है हाँ ज्यादा मुखर होना कुछ समय बाद आपको महसूस होने लगता है आप पर ही भारी पड़ रहा है आप कौन ह... Read more
clicks 22 View   Vote 0 Like   3:10pm 4 Feb 2020 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
एक लम्बे अर्से तक टिक कर अघोषित अर्धविक्षिपतत्ता के अंधेरे में की गयी बड़बड़ाहट को सफेद कागज के ऊपर काले अक्षरों को भैंस बराबर देखते समझते जानबूझ कर रायते की तरह फैलाने की कोशिश जरूर कामयाब होती है एक नहीं कई उदाहरण सामने से नजर आयेंगे जरूरत प्रयास करने की है अब कौन विक... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   4:21pm 28 Jan 2020 #अर्धविक्षिपतत्ता
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
Pageviews today4,091Pageviews yesterday5,924Pageviews last month144,743Pageviews all time history4,006,520Followers253हो सकता है यूँ ही घूमने आते होगेंं आप पर मेरे लिये आपका एक कदम इनाम है चालीस लाख कदम के लिये आभार ।ulooktimes.blogspot.com 225,737Alexa Traffic Rank 22,823Traffic Rank in IN84Sites Linking InSearch AnalyticsTop queries drivingtraffic to ulooktimes.blogspot.comWayback MachineSee how ulooktimes.blogspot.comlooked in the pastSimilar Sitesulookti... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   2:56pm 26 Jan 2020 #चालीस लाख
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
खड़े खड़े किनारे में कहीं पहले से सूखे हुए किसी पेड़ के हरियाली सोचते हुए थोड़े से समझ में थोड़ा थोड़ा करके समय के साथ समझ आ बैठे शब्दों की रेजगारी के साथ मगजमारी करते सामने वाले के मगज की लुगदी बनाने की फिराक में तल्लीन समकालीन दौड़ों से दूरी बनाकर लपेटते हुऐ वाक्यों के स... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   3:06pm 21 Jan 2020 #बटुवा
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
मक्खियाँ ही मक्खियाँ हो रही हैं हर तरफ से भिन भिन हो रही है बस कहाँ हैं पता नहीं चलने दे रही हैं ठण्ड बहुत हो रही है इस साल शायद सिकुड़ कर छोटी हो रही हैं महसूस भर हो रही हैं हर तरफ उड़ रही हैं मक्ख़ियाँबस दिखाईनहीं... Read more
clicks 12 View   Vote 0 Like   4:13pm 17 Jan 2020 #फिजाँ
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
Your few poems touched me. इस बक बक ️को कुछ लोग समझ जाते हैं । वो *पागल* में कुछ *पा* के *गला* ️हुआ इंसान देख लेते हैं । ऐसे लोगो की कविताओं में गूढ़ इशारे होतें हैं । जो जागे हुए लोगों को दिख जातें हैं । मुझे आपकी कविताओं में कुछ अलग दिखा, जिसके कारण में आने उद्गारों को रोक नही पाया । मैँ आपकी ब... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   4:15pm 8 Jan 2020 #गुंडों
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
पूरा हुआ खाता बही आज और अभी इस साल की कुछ चुनी हुयी बकवासों का सभी नहीं भी कही गयी कुछ अनछुयी रह ही गयी  फिर भी बन गया खींच तान कर किसी तरह शतक थके थकाये अहसासों का समझे गये कुछ लोग समझाये गये कुछ लोग लिखे लिखाये में दिखा सैलाब उमड़ते जज्बातों का चित हुआ करते थे सिक्के का ज... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   4:29pm 30 Dec 2019 #पाठक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
मुँह में दबी सिगरेट से जैसे झड़ती रही राख पूरे पूरे दिन पूरी रात फिर एक बार और सारा सब कुछ हवा हो गया एक साल और सामने सामने से मुँह छिपाकर गुजरता हुआ जैसे धुआँ हो गया थोड़ी कुछ चिन्गारियाँ उठी कुछ लगी आग दीवाली हुयी आँखों की... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   3:11pm 28 Dec 2019 #आग
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
उसके पास है एक किताब वो उस किताब को पढ़ता जैसा नजर आता है पढ़ा लिखा है बताना चाहता है उसे पसन्द नहीं हैं पढ़े लिखे लोग जो उसकी उस किताब की बात करने की कोशिश भी करते हैं किताब में सुना है सब कुछ लिखा है उसी लिखे हुऐ से कहा जाता है बहुत कुछ चलेगा या नहीं का पता चलता है ऐसा कु... Read more
clicks 5 View   Vote 0 Like   12:48pm 27 Dec 2019 #खास
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
क्या परेशानी है किसी को अगर कोई अपने हिसाब का सवेरा अपने समय के हिसाब से करवाने का दुस्साहस करता है उनींदे सूरज को गिरेबान खींच ला कर रख देना अपनी सोच की दिशा के छोर पर और थमा देना उसके हाथ में अपने बहुमत से निर्धारित किया गया उसके समय का सरकारी आदेश उसके चमकने का कोण और ... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   4:27pm 21 Dec 2019 #आदेश
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
हमेशा ढलती शाम के चाँद की बात करना और खो जाना चाँदनी में गुनगुनाते हुऐ लोरियाँ सुनी हुयी पुरानी कभी दादी नानी के पोपले मुँह से ऐसा नहीं होता है कि सूरज नहीं होता है सवेरे का कहीं फिर भी रात के घुप्प अंधेरे में रोशनी से सरोबार हो कर सब कुछ साफ सफेद का कारोबार करने वाले ही ... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   4:55pm 18 Dec 2019 #काल
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
आओ बोयें कल के लिये आज कुछ इतिहास जो सच है बस उसे छोड़कर कुछ भी चलेगा होनी चाहिये मगर कुछ ना कुछ शुद्ध बिना मिलावट की कोई भी आसपास की रद्दी की टोकरी में फेंकी गयी ज्यादा चलेगी ही नहीं बकायदा दौड़ेगी होनी चाहिये एक&n... Read more
clicks 5 View   Vote 0 Like   2:49pm 16 Dec 2019 #बोयें
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
किस लिये रोता है तेरे सामने तेरे घर को तोड़ कर एक टुकड़ा देखता क्यों नहीं है फैंका नहीं है गुलाब की कलम है माली नहीं भी है तो क्या हुआ रोपने के लिये सोच ले कोई जरूर होगा मवाली सही कहीं ना कहीं उसके सामने जा कर दीदे फाड़ लेना पूछ लेना क्यों नहीं बोता है घर तेरा टूट गया क्या हुआ ... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   1:24pm 11 Dec 2019 #कबूतर
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
हो सकता है आवारा नजर आ रहे हों पर सच मानिये हैं नहीं बंधे हुऐ हैं पट्टे गले में और जंजीर भी है खूंटे से बंधी हुई भी नहीं है हाथ में है किसी के यानि आजादी है आने जाने की साथ में जहाँ ले जाने वाला जायेगा वहाँ तक तो कम से कम&nb... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   3:59pm 7 Dec 2019 #इशारे
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
कोई नहीं लिखता है अपना पता अपने लिखे पर शब्द बहुत होते हैं सबके पास अलग बात है शब्दों की गिनती नदी नालों में नहीं होती है लिखना कोई युद्ध नहीं होता है ना ही कोई योजना परियोजना लिखना लिखाना पढ़ना पढा‌ना लिखा लाकर समेटा एक बड़े से परदे पर ला ला कर सजाना लिखना प्रतियोगिता भी ... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   3:58pm 5 Dec 2019 #उलूक
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
इतने दिन भी नहीं हुऐ हैं कि याद ना आयें खरोंचें लगी हुई सोच पर और भूला जाये रिसता हुआ कुछ जो ना लाल था ना ही उसे रक्त कहना सही होगा अपने आस पास के नंगे नाँचों के बगल से आँख नीची कर के निकल जाने को वैसे याद नहीं आना चाहिये भूल जाना सीखा जाता है यद्यपि वो ना तो बुढ़ापे की निशा... Read more
clicks 5 View   Vote 0 Like   4:46pm 2 Dec 2019 #थोड़ा थोड़ा
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
हैं दो चार वो भी कोई इधर कोई उधर कोई कहीं दूर कोई कहीं उस पार सोचते हुऐ होने की आर पार लिये हाथ में लिखने का कुछ सोच कर एक हथियार जैसे हवा को काटती हुई जंक लगी सदियों पुरानी शिवाजीया उसी तरह के किसी जाँबाज की एक तलवार सभी की सोच में तस्वीर सूरज और रोशनी उसकी शरमाती हुई सी ... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   4:21pm 28 Nov 2019 #कुआँ
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
छोड़ो रहने दो कुछ नहीं लिखो कुछ नहीं ही सब कुछ है कुछ कुछ  लिखते लिखते अब तो समझ लो कुछ नहीं लिखोगे पहरे से दूर रहोगे लिखे का हिसाब भी नहीं देना पड़ेगा कहीं कोई बही खाता ही नहीं बनेगा आई टी सेल नजर ही नहीं रखेगा सब कुछ सामान्य सा दिखेगा कुछ नहीं लिखना एक नेमत होती है समझा कर... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   4:03pm 23 Nov 2019 #कुछ कुछ
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
खुले दरवाजे पर लात मारते ललकारते गुस्से से भरे बच्चों को पता है उनको जाना कहाँ हैंफुँफकारते हुऐ गाली देने के बाद पुलिस वाले से मुस्कुराते हुऐ कुछ साँस लेने का सा इशारा उनका अपना सा है समय के साथ दिशायें पकड़ते हुऐ भविष्य के सिपाही जानते हैं अपना भविष्य ये नहीं करेंगे ... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   2:04pm 17 Nov 2019 #दिशायें
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
गुलाब लाल हो शेरवानी हो जरूरी नहीं बच्चो समय देखो चाचा पुरानी सोच का रिश्ता है नये रिश्ते खोजो नये चाचा में नया जोश होगा पुराने की कब्र में बरबाद ना करो फूल फूल मालायें बनाओ नये रिश्तों पर ले जाकर चढ़ाओ चौदहनवम्बर एक अंक है वोट के हिसाब से रंक है मत फैलाओ देखो सामने कोई ह... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   4:06pm 14 Nov 2019 #गुलाब
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
स्याही से भरी दिख रही है पर कुछ नहीं लिख रही है उँगलियों से खेल रही है मगर कुछ भारी होकर कलम आज बस रिस रही है चलती रही है हमेशा किसी के इशारों से आज भी दिख रही है ना जाने क्यों लग रहा है कुछ झिझक रही है कुछ रुक रही है कागज कागज न्योछावर होती रही है अपनी आज भी कुछ नहीं कह रही है... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   3:29pm 12 Nov 2019 #दिख
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
एक सी नहीं मानी जाती हैं आधुनिक चित्रकारी कुछ खड़ी कुछ पड़ी रेखायें खुद कूदी हुयी मैदान पर या जबरदस्ती की मारीऔर कुछ भी लिख देने की बीमारी होली पर जैसे आसमान की तरफ रंगीन पानी मारती खिलखिलाते बच्चे के हाथ की पिचकारी उड़ते फिर फैल जाते हुऐ रंग ब... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   4:52pm 31 Oct 2019 #दिन
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
शब्दों के जोड़ जन्तर जुगाड़ हैं कुछ के कुछ भी कह लेने के तरीके बुलन्द हैं सच के झूठ के फटे में किसने देखना होता है लगे हुऐ कई रंगीन पैबन्द हैं लिखना लिखाना पढ़ना पढ़ाना पढ़े लिखों का कहते हैं परम आनन्द हैअनपढ़ हाँकता चल रहा है पढ़े लिखों की एक भीड़ का आदि है ना अन्त है लिखा ज... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   1:10pm 29 Oct 2019 #आदि
Blogger: डा. सुशील कुमार जोशी
कुछ रोशनी की करनी हैं बातें और कुछ भी नहींदीवाली अलग है इस बार की पहले जैसे अब नहींअंधेरा अब कहीं होता ही नहीं जिक्र करना भी नहींउजाले लिख दिये जायें बस दीयों की जरूरत ही नहींबोल रोशनी हुऐ लब दिये तेल की कुछ कमी नहींसूरज उतर आया जमीं पर मत कह देना नहीं नहींचाँद तारे सभी ... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   1:09pm 27 Oct 2019 #नहीं नहीं
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3941) कुल पोस्ट (195200)