Hamarivani.com

मेघवाणी Meghvani

************************* (1.)  'हेल्लो, कवन बोल रहे हैं उधर से? मिस कॉल आया है आपका मेरे नम्बर पर।'मोबाइल पर अंजान नंबर से आए मिस काल को देख फोन लगा प्रीतम ने पूछा।'जी, सॉरी। गलती से लग गया था आप पर। ऊ त हम अपना मौसी के यहां परसा फोन लगाए थे।''त एमे सॉरी के कवन बात है। कबो-कबो गलती से आछा काम हो ज...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  February 28, 2016, 10:03 am
येलड़की सुनो, साहब के साथ जाएगी क्या? उस सुनसान अंधेरी रात में सड़क के किनारे अचानक से एक आभासी छाया को देख ड्राइवर ने गाड़ी धीमे कर दी. और यही शब्द उसकी ओर देखते हुए उसने कहा था. हालांकि उस घुप अंधियारे में कुछ सूझ तो नहीं रहा था. कुछ देर के अंतराल पर गाडियां आतीं भी तो तेज रफ्...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  July 17, 2014, 2:16 pm
जानेवह कौन सी घड़ी और... क्या खासियत लगी होगी इस जगह में. जब देवों के देव महादेव ने यहां बसने का फैसला किया होगा. आज दुनिया इसे अरेराज के सोमेश्वर धाम के नाम से जानती है. जहां सालों भर बोल बम की जयकारा से आस्था की बूंदें छलकते रहती हैं. पड़ोसी होने के कारण बचपन से ही यहां आना जा...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  July 13, 2014, 3:44 pm
बिहारके पूर्वी चंपारण जिले के मुख्यालय मोतिहारी से 36 किमी दक्षिण-पश्चिम में बसी है एक छोटी सी पंचायत, पिपरा. गंडक (नारायणी) नदी के बांध से सटे कछार में बसा यह गांव, प्राकृतिक दृश्यों के लिहाज से बिहार के मैदानी इलाके में स्थित किसी भी गांव से ख़ूबसूरत और उसी के अनुरुप पिछ...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  March 24, 2014, 12:43 pm
“इतिहासहमें सिखाता है कि किसी देश को बर्बाद करना है तो सबसे पहले वहां की मातृभाषा को नष्ट कर दो. शायद जर्मनी, चीन, फ्रांस व जापान के लोग इस हकीकत से अच्छी तरह वाकिफ थे. इसलिए उन्होंने अपनी मातृभाषा को मरने नहीं दिया. मातृभाषा का मतलब महज कुछ शब्द भर नहीं, यह हमारी पहचान, हम...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  March 14, 2014, 6:09 pm
“इतिहासहमें सिखाता है कि किसी देश को बर्बाद करना है तो सबसे पहले वहां की मातृभाषा को नष्ट कर दो. शायद जर्मनी, चीन, फ्रांस व जापान के लोग इस हकीकत से अच्छी तरह वाकिफ थे. इसलिए उन्होंने अपनी मातृभाषा को मरने नहीं दिया. मातृभाषा का मतलब महज कुछ शब्द भर नहीं, यह हमारी पहचान, हम...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  March 14, 2014, 6:09 pm
मुफ्फसिल क्षेत्रों में पत्रकारिता बेहद दुरुह काम है. और यहां तकरीबन 90 प्रतिशत ग्रामीण पत्रकारों को दस टके पर खटना पड़ता है. वह भी सुबह से शाम तक. जबकि यही एक पेशा है जिसमें महज पैसे कमाने के लिए कोई नहीं आता, यदि अपवाद के तौर पर चंद दल्लमचियों को छोड़ दें तो. अभी भी अखबारों क...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  February 26, 2014, 8:06 am
कल एक शादी समारोह में खाना बनाने वाले कैटरर्स को आपस में बंगाली में बतियाते देख नजरें उनपर ठहर गई. स्थानीय हलुवाई टीम का एक भोजपुरी भाषी क्षेत्र में इस कदर दूसरी भाषा में बातें करने को लेकर उनके बारे में जानने की जिज्ञासा हुई. वजह यह भी रही कि वे जितनी सहजता से बांगला बो...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  February 26, 2014, 7:55 am
एकजमाना था जब अखबारों के जिला संस्करण नहीं होकर प्रादेशिक पन्ने छपते थे. जिला कार्यालय में ब्यूरो चीफ की अच्छी खासी धाक रहती थी. अखबार के चर्चित संवाददाताओं की गरिमा निराली थी. उनकी धारदार लेखनी के कायल स्थानीय विधायक, मंत्री से लेकर एसपी व डीएम तक रहते. स्थिति यह थी कि...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  February 18, 2014, 3:16 pm
भले ही अन्य निजी संस्थानों में तमाम डिग्रियां होने के बावजूद स्किल टेस्ट लेकर ही भर्ती करने का प्रावधान है. लेकिन मीडिया में दक्षता जांच कर पत्रकार रखने की परिपाटी लगभग खत्म सी हो चुकी है. जबकि 90 के दशक के अंतिम वर्ष तक अखबारी जगत में परीक्षा लेकर रखने का चलन था. वे चाहे ...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  February 18, 2014, 3:13 pm
जब भी रक्सौल आता हूं, जाने क्यों नास्टलेजिक हो जाता हूं. इस पार भारत व उस पार नेपाल का वीरगंज शहर. इस बार मां की आंखों के इलाज के लिए परवानीपुर (नेपाल) आया हूं. लकिन रक्सौल में ही एक रिश्तेदार के यहां ठहरना हुआ है. सीमा पर बसा यह अनुमंडलीय शहर दूसरों की नजर में भले ही अंतराष्...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  February 18, 2014, 3:08 pm
हमारीज़िंदगी में जो कुछ भी घटित होता है, उनमें अधिकांश पर हमारा नियंत्रण नहीं होता. स्वेच्छा से या जबरिया हम परिस्थिति का दास बन, बस साक्षी भाव से उन लम्हों के झेलते चले जाते हैं. लेकिन यादों के गलियारे में जब कभी गुजरे ज़माने के खुशनुमा पल दस्तक देते हैं. हमारा मन बिना र...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  September 23, 2013, 12:57 pm
किसी भी पद के लिए चयन से ज्यादा महत्वपूर्ण होता है उसकी गरिमा को बचाए रखना. और यह तभी मुमकिन है जब उस पद पर किसी योग्य व्यक्ति को चुना जाए. 'बिहार भोजपुरी अकादमी'भी एक मर्यादित संस्था है. जिसका जुड़ाव या यूं कहें कि सरोकार करीब 20 करोड़ भोजपुरी भाषियों से है. पिछले दिनों अक...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  September 18, 2013, 9:34 pm
'छपास'की बीमारी बेहद ख़राब होती है. जिस किसी को यह रोग एक बार लग जाए. ताउम्र पीछा नहीं छोड़ता. प्रायः यह पत्रकारों व लेखकों में पाया जाता है. एक जमाना था वह भी जब अपना लिखा छपवाने के लिए संपादक की कितनी चिरौरी व तेल मालिश करनी पड़ती थी. विभिन्न अख़बारों या पत्रिकाओं के दफ्त...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  September 18, 2013, 9:45 am
निरालापत्रकारिता तो सभी करते हैं पर इसे जीता कोई-कोई ही है. एक ऐसे ही बिहारी पत्रकार हैं निराला जो कि पत्रिका तहलका,पटना से जुड़े हैं. इनकी खासियत यह है कि ये अच्छा कलमची व खबरची होने के साथ ही भोजपुरी एक्टिविस्ट भी हैं. साथ ही घुमक्कड़ स्वभाव के, अव्वल दर्जे के साहित्यि...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  September 14, 2013, 10:31 pm
आज 14 सितम्बर है, बोले तो हिंदी दिवस. सुबह में ही अमेरिका के बोस्टन शहर में रहने वाले एनआरआई सुधाकर मिश्रा का फोन आया. बोले, मेरा नंबर उनको इंटरनेट से मिला. भोर के 2 बजे (अमेरिकी समय शाम 4.30 बजे) से ही प्रयास कर रह थे, बात करने के लिए. लेकिन फोन लगा सुबह 8.30 बजे (अमेरिकी समय रात 11 बजे)....
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  September 14, 2013, 10:05 pm
-------------बकवास तुकबंदी (2)-------------दिल की रूमानियत जब चाहे जुबां पे आ जाती हैचलते फिरते सरेराह यूं ही कोई अदा लुभा जाती हैकक्षा की तीसरी बेंच हो या सिनेमा की बालकनीपड़ोस की छत पे टटोला तो पार्क में मिली चवन्नीफिल्म के गीतों में मिला शायर की कविताओं मेंनहीं मिला अफसाना जिसे ढूंढ़...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  May 24, 2013, 8:37 am
उसकी काली जुल्फें हवा में क्या लहराईमानो भरी दोपहर में शाम ने ली अंगड़ाईफिर जब मेरी नजर से उसकी नजर टकराईउसके गुलाबी गालों पे थोड़ी सुर्खी सी आई हाथ में मोबाइल कंधे को पर्स ने संभाला थामासूम चेहरा, ओठों पर लिपस्टिक डाला थासाढ़े पांच के हाइट पर स्कर्ट थोड़ा टाइट थाघुटने तक...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  April 17, 2013, 7:36 am
रचनात्मक लेखन की कश्ती पर सवार हिंदी के युवा साहित्यकारो, जरा ध्यान दीजिए...  --------------------------------------------------------------------------------------साथियों, चाहे क्षेत्र कला का हो या... साहित्य का, बाजार में बिकता कंटेंट ही है. कुछ नयेपन की तलाश में कब कौन सी रचना खरीदार के दिल को छू जाए, कौन सा कंटेंट हिट हो जा...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  April 16, 2013, 3:36 pm
जब मैंने होश संभाला 5 साल की उम्र रही होगी, सन 88 का वर्ष था. वह दौर जब उदारीकरण की सुगबुगाहट में उनींदा भारत ‘इंडिया’ बनने की और अग्रसर था. यानी ‘भारत’ व ‘शाइनिंग इंडिया’ के बीच का वक्त. तब मनोरंजन के तौर पर लोगों के पास सीमित विकल्प थे. भले ही जिला मुख्यालय या बड़े शहरों मे...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  April 14, 2013, 11:50 am
यादाश्तपरजोरदूंतो90 काशुरूआतीदशकथावह. तबमैंदूसरीकक्षामेंपढ़ताथापड़ोसकेहीप्राथमिकविद्दालयमें, नाम- राजकीयकन्याप्राथमिकविद्दालय, बथानीटोला, कनछेदवा. बोलेतो- ईटकीदीवारवखप्पड़ेकीछतवालीदोकमरेकीईमारत, बाहरमेंछोटासाबरामदा, परफर्शपरप्लास्टरनहींथा. इन्हींकमरों...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  April 7, 2013, 2:44 pm
अतीत की यादें अक्सर हमारी स्मृति को कुरेदती हैं. और... गुजरी जिंदगी में कुछ पल ऐसे भी होते हैं, जिन्हें हम चाहकर भी नहीं भूल सकते! किसी के भी जीवन में तीन अवस्थाएं बेहद खास होती हैं- बचपन, जवानी व बुढ़ापा. मैंने इनमें दो पड़ाव को, कुछ अपनी मर्जी से और कुछ जबरिया जी ही लिया है. इस...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  March 31, 2013, 2:33 pm
"नीक लागे धोती, नीक लागे कुरता, नीक लागे गउवा जवरिया हो, नीक लागे मरद भोजपुरिया सखी, नीक लागे मरद भोजपुरिया..!"इस लोकप्रिय भोजपुरी गीत में खांटी देहाती अंदाज में होली की ठिठोली रची-बसी है. बसंती बयार से आई फागुन की धमक, हर साल कुछ नयेपन का एहसास लेकर आती है. फिर क्या बच्चे, ...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  March 13, 2013, 2:01 pm
प्यार को लेकर महिला व पुरुष में भी परस्पर दंद्द चलते रहता है. काफी पहले ओशो टाइम्स पढ़ा था. इसमें रजनीश ने लिखा है- पुरुष प्यार करते हैं सेक्स पाने के लिए और इसके ठीक विपरीत महिलाएं प्यार पाने के लिए ये शर्त मंजूर करती हैं.महिलाएं रिश्ते में समर्पण व स्थायीपन चाहती हैं. ...
मेघवाणी Meghvani ...
Tag :
  February 24, 2013, 6:56 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163601)