POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: लिखते पढ़ते

Blogger: rizwan khan
कोई बता दे मुल्क का ये हाल क्यूं हैहरी-भरी ज़मीं आखिर लाल क्यूं हैमहंगाई पर कब तक रोयेंगे हमसीमा पर कब तक लाल खोएंगे हम।महंगाई की ये शक्ल अजीब सी हैबात सिर्फ तेल और रुपये की नहीं हैबदल रहा है फ़िज़ा-ओ-मंज़र मुल्क काशहीद की मां इसबार रोई नहीं है।देश में झूठों का नया अभ्यारण्... Read more
clicks 26 View   Vote 0 Like   8:51am 23 Sep 2018 #
Blogger: rizwan khan
गांव के बदलते स्वरूप को आलेख रूपी छोटी-छोटी यादों को समेटे रामधारी सिंह दिवाकर की 'जहां आपनो गांव'किताब हाल ही में साहित्य संसद प्रकाशन दिल्ली से छपकर आई है। किताब में बिहार के अररिया ज़िलें के गांवों का ज़िक्र किया गया है। वहां के हालातों, मजदूरों की मुश्किलों और उनके आ... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   7:13am 13 Sep 2018 #
Blogger: rizwan khan
ईद से एक दिन पहले लहलहाती नीम और खुशी15 june 2018रमज़ान का आज आखिरी रोजा है। इस बार 29 रोजों के बाद कल ईद होगी। आज कितना मनोहर, कितना सुहावना प्रभात है। घर की छत पर फैली नीम की शाखाएं ठंडी हवा बहा रही हैं। हर पत्ती हरियाली में डूबी है। आसमान पर सुकून भरी लालिमा दिख रही है। आज का सूर... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   11:39am 1 Aug 2018 #
Blogger: rizwan khan
बकरियां बुरी तरह डरी हुई हैं। अभी रात के दो बज रहे हैं। उनके शोर से घर के सभी लोग जग गए हैं। मुहल्ले में भी जनसर हो गई। पहले बड़ी वाली बकरी ही चिल्ला रही थी, धीरे धीरे पांचों बकरियां शोर करने लगीं। मैं इस्माइल के घर में हूं। उसके घर के बरोठे का ये नजारा वाकई में सबके लिए चौक... Read more
clicks 30 View   Vote 0 Like   8:30am 31 Jul 2018 #
Blogger: rizwan khan
मौत के मकां, खूब हैं यहांदेख लो देख लो खूब गौर सेआ रहे लोग यहां दूर दूर सेन है किसी को पता न किसी को खबरकितनी रेत डाली है कितनी छोड़ी डगरबिल्डर ने सारे नियम तोड़ डाले हैंसीमेंट सरिया हल्की डाली, कच्चे ईंट डाले हैंहम गए हम गए तुम भी पहुंच गएबातों में आके बिल्डर को नोट दे दिएस... Read more
clicks 31 View   Vote 0 Like   9:02am 30 Jul 2018 #
Blogger: rizwan khan
झांसी स्थित राजा रघुनाथ राव का महल।बुंदेलखंड के पांच जिलों में मौजूद 51 ऐतिहासिक स्मारकों के रखरखाव की स्थिति बदतर है। इन स्मारकों की सुरक्षा, देखभाल और संरक्षण के लिएसरकार प्रतिवर्ष मात्र डेढ लाख रुपये इस मद में जारी करती है। इनके रखरखाव के लिए मात्र तीन कर्मचारी तै... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   1:44pm 18 Jul 2018 #
Blogger: rizwan khan
हाल ही बागपत जेल में कुख्यात माफिया मुन्ना बजरंगी की ताबड़तोड़ गोलियां मारकर हत्या कर दी गई। इससे पहले भी ऐसे कई मामले हो चुके हैं। जेल में हत्या हो जाना कोई नई बात नहीं है। दुनिया भर में ऐसा होता आया है। हालांकि, ऐसे मामलों के लिए मानवाधिकार आयोग और कानून बेहद सख्त है।... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   7:57pm 16 Jul 2018 #
Blogger: rizwan khan
मन्दाकिनी के तट पर रमणीक भवन में स्कन्द और गणेश अपने-अपने वाहनों पर टहल रहे हैं। नारद भगवान् ने अपनी वीणा को कलह-राग में बजाते-बजाते उस कानन को पवित्र किया, अभिवादन के उपरान्त स्कन्द, गणेश और नारद में वार्ता होने लगी।नारद-(स्कन्द से) आप बुद्धि-स्वामी गणेश के साथ रहते हैं,... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   7:55pm 27 Jun 2018 #
Blogger: rizwan khan
बुंदेलखंड हमेशा से कम बारिश वाला इलाका रहा है, लेकिन 2002 से लगातार सूखे ने मर्ज़ को तकरीबन लाइलाज बना दिया है.यह जमीनी बताती है कि बुंदेलखंड को ईमानदार कोशिशों की ज़रूरत है. साफ-सुथरी सरकारी मशीनरी अगर आम लोगों को साथ लेकर कोशिश करे तो सूखता जा रहा बुंदेलखंड शायद फिर जी उ... Read more
clicks 30 View   Vote 0 Like   6:59pm 10 Jun 2018 #
Blogger: rizwan khan
दलित आंदोलन के पीछे का सचसोमवार को पूरे देश में दलित संगठनों की ओर से बुलाए गए भारत बंद के दौरान हुई हिंसा में अब तक दस लोगों की जान जा चुकी है। हिंसा में बदला दलित आंदोलन देश के उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, बिहार, झारखंड, राजस्थान, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र समेत करीब 20 राज... Read more
clicks 44 View   Vote 0 Like   8:02pm 5 Apr 2018 #
Blogger: rizwan khan
9 अक्टुबर,1967 को बोलिविया में अर्नेस्टो चे ग्वेरा की हत्या कर दी गई। इस काम को अमेरिकी ग्रीन बेरेट से प्रशिक्षण हासिल करने वाले बोलिविया के सैनिक और सीआईए एजेंटों ने अंजाम दिया। चे के सम्मान में हम चे की ओर से फिदेल कास्त्रो को लिखे मशहूर फेयरवेल लेटर को पब्लिश कर रहे ह... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   11:17am 18 Dec 2017 #
Blogger: rizwan khan
बाघपुर चौराहे पर बाबा खाद भंडार के सामने दुकान में पंचर बनाता मिस्त्रीमित्रों, चार साल पहले एक तस्वीर गूगल पर मिली थी। ये बाघुपर चौराहे की तस्वीर थी। स्कूल से छूटने के बाद कुछ छात्र बस/टेंपो के इंतजार में साइकिल पंचर वाले की दुकान पर खड़े हैं। ये दुकान बाबा खाद भंडार क... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   12:10pm 24 Sep 2017 #
Blogger: rizwan khan
तुम्हें तो पंख मिले हैं फितरतनजाओ न उड़ो तुम भीकहो कि मेरा है आकाशक्योंआखिर क्यों चाहिए तुम्हेंउतनी ही हवाजितनी उसकी बांहों के घेरे में हैक्यों है जमीन उतनी ही तुम्हारीजहां तक वह पीपल घनेरा हैसुनी नहीं बहस तुमने टीवी परबिन ब्याही भी पूरी है औरतक्या बैर है तुम्हारा ... Read more
clicks 61 View   Vote 0 Like   11:34am 18 Sep 2017 #
Blogger: rizwan khan
दर्द: हिंसा के बाद अपने बच्चों और परिवार के साथ पलायन करता रोहिंग्या।रोहिंग्या के जरिए लोग अपनी-अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। ज्यादातर इस मुद्दे को हिंदू-मुस्लिम से जोड़कर देख रहे हैं। यही वजह है कि लोग बिना तह तक जाए, रोहिंग्या को आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा और आतंकव... Read more
clicks 49 View   Vote 0 Like   3:05pm 16 Sep 2017 #
Blogger: rizwan khan
बकरीद की छुट्टी---------------तुम्हें उदास नहीं देखना चाहतापर क्या करूं इत्तिला तो करनी ही हैमन में विचार कौंध रहे हैंपर काबू नहीं कर पा रहाअभी अभी मेल पर तार मिला हैपर लिखा पढ़कर भी सच नहीं मान पा रहादफ्तर की डेस्क पर हूं, मन उदास हो चूका हैपर संयम बनाये रखने की कवायद जारी हैकंप... Read more
clicks 61 View   Vote 0 Like   7:49pm 15 Sep 2017 #
Blogger: rizwan khan
नोबल पुरस्कार विजेता मलाला युसुफजई म्यांमार सेना और अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (एआरएसए) के बीच करीब 15 दिनों से चल रही जंग शनिवार को खत्म करने का ऐलान किया गया है। रोहिंग्या मुसलमानों के हक के लिए लड़ने वाली साल्वेशन आर्मी ने  एक महीने के लिए एकतरफा संघर्ष विर... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   2:01pm 10 Sep 2017 #
Blogger: rizwan khan
दुनिया के सबसे खूबसूरत देशों में भारतजैसलमेर में शानदार इतिहास की गवाही देता मोहनगढ़ का किलाभारत को खूबसूरती का राजा माना जाता है। यहीं जन्नत यानी कश्मीर है। इसीलिए कश्मीर को धरती का स्वर्ग भी कहा जाता है। कश्मीर के श्रीनगर की खूबसूरत घाटियां, चमकती हुई झीलें, ऊंच... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   10:37am 9 Sep 2017 #
Blogger: rizwan khan
भगवान से नहीं शैवाल से हुआ था प्राणियों का जन्ममेलबर्न के वैज्ञानिकों ने इस रहस्य को सुलझा लिया है कि प्राणी सबसे पहले धरती पर कैसे आए थे। वैज्ञानिकों का मानना है कि दुनिया में सबसे पहले शैवाल का जन्म हुआ और इसी से प्राणियों का उदय हुआ। ऑस्ट्रेलियन नैशनल यूनिवसर्टिी ... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   11:34am 23 Aug 2017 #
Blogger: rizwan khan
ललितपुरः चारदीवारी में कैद की गईं प्राचीन मूर्तियांललितपुर के देवगढ़ में दशावतार मं‌दिर में प्रतिमा।उत्तर प्रदेश की सीमा पर बसा ललितपुर जनपद यूं तो छोटा है। लेकिन अपने नाम की तरह ही यह अपने अंदर अथाह खूबसूरती समेटे है। यहां प्राकृतिक सुंदरता सितंबर में खिलकर पहा... Read more
clicks 81 View   Vote 0 Like   2:28pm 2 Sep 2016 #
Blogger: rizwan khan
500 अंग्रेज सैनिकों को एक साथ मारने वाले वीर बुद्धा की कहानी...वो विकलांग थाग़ज़्ज़ब वफादार थाराजा की गद्दी का चौकीदार थाचिरगांव की सेना का सिपहसालार थाउसे अंग्रेजों से खुन्नस थीपर जंग में भिड़ने की मन्नत थीझांसी से बड़ी मुहब्बत थीपर किस्मत अभी न सवरनी थीहोते करते दिन गुजर... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   7:09am 15 Aug 2016 #
Blogger: rizwan khan
अंग्रेजों के खिलाफ दिया 'न देंगे पाई न देंगे भाई'का नारा Make Money Online : http://ow.ly/KNICZअंग्रेजों  ने युद्ध्‍ा के बाद चिरगांव नरेश्‍ा राजा बख्‍ात सिंह के राजमहल काो ध्‍वस्‍त कर ‌दिया। ख्‍ांडहर पड़ा महल। अंग्रेजों से आजादी पाने के लिए और उनकी नीतियों के विरोध का बिगुल 1840 में ही बुं... Read more
clicks 83 View   Vote 0 Like   8:23pm 14 Aug 2016 #
Blogger: rizwan khan
आजादी की अलख जगाने झांसी के टोड़ी गांव आए थे सुभाष देश के अमर सपूतों में झांसी जनपद के वीरों का नाम हमेशा के लिए दर्ज है। यहां के गरौठा तहसील का सिमरधा गांव अंग्रेजों का विरोध करने के लिए इतिहास में दर्ज है। द्वितीय विश्व युद्घ के दौरान जब अंग्रेजों ने युद्ध लड़ने के लि... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   8:07pm 14 Aug 2016 #
Blogger: rizwan khan
 झांसी आए थे सुभाष्‍ा चंद्र बोसदेश की आजादी में झांसी जनपद का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता है। यहां के लोगों ने 1857 के संग्राम में बढ़चढ़ कर भाग लिया। स्वंतंत्रता आंदोलन की अगुवा रही झांसी की रानी लक्ष्मीबाई को यहां के लोग देवी के समान पूजते हैं। रानी के आह्वान पर य... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   3:11pm 13 Aug 2016 #
Blogger: rizwan khan
मेरे अब तक के जीवन के आधार मेरे पिता रहे हैं वरना मैं कब की टूट कर बिखर चुकी होती। मेरा बचपन एरच में बीता, मेरे तीन भाई हैं। मेरे पिता की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के बावजूद उन्होंने मुझे पढ़ाया। मेरे सपने पूरे करने की आजादी दी।इंटर तक की शिक्षा गांव में पूरी की, आगे क... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   8:17pm 17 Jun 2015 #
Blogger: rizwan khan
क्या आपका अभी तक कुछ गुम हुआ है? फॉर एग्जांपल, दिल, पैसे, मोबाइल, मार्कशीट या रूम, अलमारी, ऑफिस, ड्रॉर की चाबी। और इनमें से किसके गुम होने का सबसे ज्यादा अफसोस हुआ या होता है?यही सवाल मैनें अपने एक मित्र महोदय से किया। आंसर के तौर पर वे तपाक से बोले दिल गुम हुआ है, जो आज तक नह... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   1:02pm 24 May 2015 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post