POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: ShahLive.com

Blogger: Shah Nawaz
यह एक गलत तर्क है कि सजा का मकसद केवल दोषी को सुधारना होता है, सजा का मकसद केवल दोषी को सुधारना नहीं बल्कि बाकी लोगो को गलत कार्य के प्रति चेताना भी होता है। मतलब बुरे काम का बुरा नतीजा आना आवश्यक है। अगर बुरे काम के भी अच्छे नतीजे आने लगे तो हर कोई बुराई के रास्ते पर बिना ... Read more
clicks 215 View   Vote 0 Like   5:34am 18 Jul 2017
Blogger: Shah Nawaz
यह एक गलत तर्क है कि सजा का मकसद केवल दोषी को सुधारना होता है, सजा का मकसद केवल दोषी को सुधारना नहीं बल्कि बाकी लोगो को गलत कार्य और उसके परिणाम के प्रति चेताना भी होता है। मतलब बुरे काम का बुरा नतीजा आना आवश्यक है। अगर बुरे काम के भी अच्छे नतीजे आने लगे तो हर कोई बुराई के ... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   5:34am 18 Jul 2017
Blogger: Shah Nawaz
सामाजिक न्याय और बराबरी के लिए लड़ने वाले स्वर्गीय असग़र अली इंजिनियर साहब मुझ जैसे अनेकों के लिए प्रेरणास्त्रोत थे और हमेशा रहेंगे, उन्होंने अपनी सारी ज़िन्दगी गैर-बराबरी और धार्मिक कट्टरपंथ के विरुद्ध संघर्ष में बिता दी... असग़र अली इंजीनियर साहब ने इस्लाम और स्त... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   5:36am 17 Jul 2017
Blogger: Shah Nawaz
अगर माँ-बाप ने दुनियावी पढ़ाई के मरकज़ यानी स्कूल में दाखिला करा दिया और छात्र का जज़्बा आलिम या मुफ़्ती बनने का था तो नहीं बन सकता, ऐसे ही छात्र का दिल तो डॉक्टर / इंजिनियर / मार्केटिंग प्रोफेशनल / डिज़ाइनर इत्यादि बनने का था मगर माँ-बाप ने दाखिला दीनी मदरसे में कराया, इसलिए ... Read more
clicks 204 View   Vote 0 Like   4:18am 14 Jul 2017
Blogger: Shah Nawaz
GDP गिर रही है, व्यापार का बुरा हाल है, सारा बाज़ार चंद कारोबारियों की मुट्ठी में पहुंचाया जा रहा है, नौकरियाँ खत्म हो रही हैं, जबरन टेक्स बढ़ाया जा रहा है, महंगाई रोज़ बढ़ रही है, इंफ्रास्ट्रक्चर में कुछ नया नहीं हुआ, सार्वजानिक शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में हालात जस के त... Read more
clicks 211 View   Vote 0 Like   4:11am 5 Jul 2017
Blogger: Shah Nawaz
इन नफ़रत पालने वालों कोकहां परवाह है सत्य कीउन्हें बस नफरत है,कुछ नामों से,कुछ चेहरों से,कुछ लिबासों से,और अपने ख़िलाफ़उठती हुई आवाज़ों से...... Read more
clicks 287 View   Vote 0 Like   6:40pm 30 Jun 2017
Blogger: Shah Nawaz
Ameeque Jamei को भाजपा विधायक ओ पी शर्मा ने मीडिया के सामने तथा आप पार्षद राकेश कुमार को भाजपा पार्षदों ने कैमरे के सामने मारा था, क्या कोई कार्यवाही हुई थी?पर वहीँ दूसरी ओर एक शिकायत भर पर पुलिस दिल्ली के आम आदमी पार्टी के विधायक को प्रेस कॉन्फ्रेंस के बीच में से ही तक... Read more
clicks 294 View   Vote 0 Like   4:38am 27 Jun 2016
Blogger: Shah Nawaz
व्यवस्था की नाकामी या फिर भेदभाव जैसे कारणों से उपजा गुस्सा एक स्वाभाविक क्रिया है... अगर बदलाव चाहते हैं तो इस गुस्से का दुरूपयोग करने की जगह सदुपयोग होना चाहिए... और सब्र से काम लेने वाला ही अपने गुस्से का सदुपयोग कर सकता है।राजनीति जनता को सुनहरे ख्वाब दिखाना भर रह गय... Read more
clicks 320 View   Vote 0 Like   4:06am 14 Jun 2016
Blogger: Shah Nawaz
अपनी ईमानदारी और धमकियों के बावजूद करप्शन के आगे नहीं झुकने के कारण क़त्ल कर दिए गए NDMC स्टेट मैनेजर मुहम्मद मोईन ख़ान के परिवार को दिल्ली सरकार द्वारा 1 करोड़ रूपये की मदद को कई अंधभक्त बेशर्मी के साथ धार्मिक एंगल देने की कोशिश कर रहे हैं, ऐसे मेसेजेस को व्हाट्सऐप और ... Read more
clicks 278 View   Vote 0 Like   11:11am 27 May 2016
Blogger: Shah Nawaz
राजनैतिक पार्टियों द्वारा सबकी बात करने की जगह सिर्फ हिन्दू या मुसलमानों की बात करना एक भ्रमजाल है, जिससे इन्हे छोड़कर बाकी किसी और को कुछ हासिल होने वाला नहीं है। हमें अलग से कुछ नहीं चाहिए, ज़रूरत इसकी है भी नहीं, बल्कि हमें जो सबका है उसमे से बिना भेदभाव अपना वाजिब और ब... Read more
clicks 268 View   Vote 0 Like   7:21am 16 May 2016
Blogger: Shah Nawaz
आजकल प्रधानमंत्री मोदी जी की डिग्री का मामला चारो और चर्चा का विषय है, हम अक्सर दीवारों पर एक विज्ञापन लिखा देखते हैं कि 'बिना दसवीं पास किये बारहवीं करें'या फिर बिना 'दसवीं, बारहवीं पास किये ग्रेजुएशन करें'! तो क्या यह मामला भी कुछ वैसा ही है या फिर जानबूझ कर डिग्री नहीं ... Read more
clicks 235 View   Vote 0 Like   5:21am 6 May 2016
Blogger: Shah Nawaz
आजकल प्रधानमंत्री मोदी जी की डिग्री का मामला चारो और चर्चा का विषय है, हम अक्सर दीवारों पर एक विज्ञापन लिखा देखते हैं कि 'बिना दसवीं पास किये बारहवीं करें'या फिर बिना 'दसवीं, बारहवीं पास किये ग्रेजुएशन करें'! तो क्या यह मामला भी कुछ वैसा ही है या फिर जानबूझ कर डिग्री नहीं ... Read more
clicks 325 View   Vote 0 Like   5:21am 6 May 2016
Blogger: Shah Nawaz
वो कितना जानता है, मेरे अंदर झांक लेता हैमेरी हँसी में छुपती, हर उदासी भांप लेता है- शाहनवाज़ 'साहिल'... Read more
clicks 265 View   Vote 0 Like   6:15am 5 May 2016
Blogger: Shah Nawaz
एक हिंदुस्तानी होने के नाते मेरा अंतर्मन, मेरा रोम-रोम ख़ुद-बाखुद हिंदुस्तान ज़िंदाबाद बोलता है, अगर कोई यह कहता कि मुझे यह सिखाना पड़ेगा तो वो आप सब को मेरे खिलाफ भड़का रहा है, वोह अपने कुटिल शब्दों का इस्तेमाल करके आपके दिल में यह बैठना चाहता है कि मैं 'गद्दार'हूँ।इसलिए अग... Read more
clicks 347 View   Vote 0 Like   9:54am 21 Mar 2016
Blogger: Shah Nawaz
इस ज़िन्दगी का इश्क़िया उन्वान भी भारी रहाखाकिश्तरों से होना यूँ अन्जान भी भारी रहाहम दुनिया को समझते रहे शादमानियाँइन हसरतों का होना यूँ मेहमान भी भारी रहा- शाहनवाज़ 'साहिल'शब्दों के अर्थ:उन्वान = शीर्षक, Tital, Headingखाकिश्तर = ऐसा अंगारा जिस के बाहर में राख़ और अन्दर आग होशादम... Read more
clicks 419 View   Vote 0 Like   8:43am 4 Feb 2016
Blogger: Shah Nawaz
एबीपी न्यूज़ के सर्वे 'देश का मूड'के मुताबिक़ तक़रीबन हर मुद्दे पर जनता की राय मोदी सरकार के विरुद्ध है, परन्तु लोकप्रियता के मामले में प्रधानमंत्री मोदी अपने समकक्ष दूसरे नेताओं से कहीं आगे हैं... आपकी नज़र में इसके पीछे क्या कारण हो सकते है?मेरे विचार में ... Read more
clicks 318 View   Vote 0 Like   5:09am 29 Jan 2016
Blogger: Shah Nawaz
दिल्ली में पैदल चलने की आदत बनी रहती है, भला हो हमारे बाज़ारों का पांच मिनट का रास्ता आधा घण्टे में तय करने का मौका मिल जाता है। अगर आप दिल्ली से बाहर चलें जाएं तो भीड़भाड़ की आदत के कारण दिल लगता ही नहीं, ना दुकानों की चकाचैंध, ना हॉकर्स की चिल्ल-पौं... बोर होने से बचाने... Read more
clicks 349 View   Vote 0 Like   8:59am 29 Dec 2015
Blogger: Shah Nawaz
मानता हूँ कि कुछ चीज़ें संवैधानिक मज़बूरी में करनी पड़ती हैं, जैसे कि निर्भया केस में जघन्यय अपराध करने के बावजूद नाबालिग लड़के को अदालत ने फांसी देने अथवा जेल भेजने की जगह 3 साल के लिए बाल सुधर गृह में भेजा। जहाँ उसकी किसी मेहमान की तरह शिक्षा, खान-पान और सुरक्षा पर हज़ारों-ल... Read more
clicks 314 View   Vote 0 Like   7:07am 18 Dec 2015
Blogger: Shah Nawaz
दिल्ली सरकार ने गाड़ियों को चलाने का सम-विषम फार्मूला सामने रखा, हो सकता है नाकामयाब रहे और यह भी हो सकता है कि कामयाब हो जाए... मगर हम लोग विषय की गंभीरता को समझने और कार पूल, सार्वजानिक परिवहन या इलेक्ट्रिक  इस्तेमाल करने की बात करने की जगह चुटकुले बना रहे हैं, कानून का त... Read more
clicks 319 View   Vote 0 Like   4:18am 15 Dec 2015
Blogger: Shah Nawaz
रूठते हैं कभी मान जाते हैंकुछ ऐसे बेक़रार करते हैंजो बोलना है, बोलते ही नहींवैसे बाते हज़ार करते है- शाहनवाज़ 'साहिल'फ़िलबदीह मुशायरा - 022 में आदित्य आर्य जी के मिसरे 'प्यार जो बेशुमार करते है'पर मेरे दो शे`र... Read more
clicks 359 View   Vote 0 Like   10:24am 11 Dec 2015
Blogger: Shah Nawaz
अपनी सोच दूसरों पर थोपने और ख़ुद से सज़ा देने की सोच गुंडागर्दी है और इसका जमकर विरोध किया जाना चाहिए।मुल्क, पंथ या फिर धर्म इत्यादि से मुहब्बत दिल से होनी चाहिए ना कि दिखावा! दिखावा आम होने से लोग दूसरों पर अपनी राय को ज़बरदस्ती थोपने लगते हैं। इमोशनल ब्लैकमेल करके लोगों ... Read more
clicks 302 View   Vote 0 Like   8:03am 3 Dec 2015
Blogger: Shah Nawaz
अपनी सोच दूसरों पर थोपने और ख़ुद से सज़ा देने की सोच गुंडागर्दी है और इसका जमकर विरोध किया जाना चाहिए।देश, पंथ या फिर धर्म इत्यादि में दिखावे की जगह दिल से मुहब्बत का जज़्बा होना चाहिए, दिखावा आम होने से लोग दूसरों पर अपनी राय को ज़बरदस्ती थोपने लगते हैं। इमोशनल ब्लैकमेल कर... Read more
clicks 212 View   Vote 0 Like   8:03am 3 Dec 2015
Blogger: Shah Nawaz
रामगोपाल वर्मा और अनुपम खेर साहब के कहने का मतलब है कि अगर एक "हिन्दू बहुल राष्ट्र"में कोई 'मुस्लिम'एक कामयाब 'फिल्म स्टार'बन सकता है तो वहां "कुलबुर्गी, पानसरे जैसे लेखकों की हत्या और बाकी लेखकों को इन जैसा हश्र करने", "गाय के मांस खाने के नाम पर मारे जाने वाली घटनाएं", "छेड़... Read more
clicks 315 View   Vote 0 Like   9:06am 29 Nov 2015
Blogger: Shah Nawaz
इस्लाम में 'इंसाफ'बेहद अहम है,बल्कि इस्लामिक स्कॉलर्स मानते हैं कि रूह की तरह है, मतलब अगर 'इस्लाम'का कोई और नाम हो सकता है तो वोह 'इंसाफ'है।इसमें किसी भी तरह की छोटी सी भी 'नाइंसाफी'को जायज़ नहीं ठहराया जा सकता।जो लोग इस्लामिक बातों को तोड़-मरोड़ कर ऐसा करने की कोशिश करते हैं... Read more
clicks 358 View   Vote 0 Like   6:54am 19 Nov 2015
Blogger: Shah Nawaz
क्या फ़्रांस के बेगुनाहों की मौत का बदला सीरिया के बेगुनाहों की हत्या करके लिया जा सकता है या लिया जाना चाहिए? गुनाह का बदला गुनहगारों से लिया जाना चाहिए ना कि बेगुनाहों से और दुनिया की किसी भी लड़ाई में आम नागरिकों के मारे जाने का समर्थन नहीं किया जाता है और ना ही किया जा... Read more
clicks 281 View   Vote 0 Like   6:57am 18 Nov 2015
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3916) कुल पोस्ट (192471)