POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: सरल की डायरी Saral ki Diary

Blogger: Sanjay Grover
आज पूरा एक महीना हो गया जब मुझे पैरालिसिस का दूसरा अटैक हुआ था। एक हफ़्ते तक तो मैंने किसी को बताया ही नहीं। मुझे लग रहा था कि मैं ऐसे ही ठीक हो जाऊंगा। एक हफ़्ते बाद मेरी बहिन का फ़ोन आया तो मैंने बताया। डॉक्टर ने कहा कि अब तो कुछ नहीं हो सकता, उसी समय बताते तो ठीक हो जाता। अभी... Read more
clicks 68 View   Vote 0 Like   7:34am 28 Apr 2019 #diary
Blogger: Sanjay Grover
....तो मैंने कहा था मुझे पैदा करो.....आखि़र एक दिन तंग आकर मैंने पापाजी से कह ही दिया...उस वक़्त मुझे भी लगा कि मैंने कोई बहुत ही ख़राब बात कह दी है....कोई बहुत ही ग़लत बात....लेकिन यह तो मुझे ही मालूम है कि वो रोज़ाना मुझसे किस तरह की बातें कहते थे, कैसे ताने देते थे, क्या-क्या इल्ज़ाम ल... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   2:35am 15 Jan 2019 #diary
Blogger: Sanjay Grover
बाल मामाजी, दुनियावाले ईमानदार बच्चों को या तो चूहों की तरह मार देते हैं या अपराधी बनाने पे तुल जाते हैं....बाल मामाजी, दुनियावाले ईमानदार बच्चों के या तो मरने का इंतज़ार करते हैं या उन्हें बेईमान बनाने पे तुल जाते हैं....ये मेरे और तुम्हारे बीच की बात है....मैं किसी तीसरे के... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   7:03am 13 Jan 2019 #world
Blogger: Sanjay Grover
लड़के को मैं भली-भांति जानता था, इसलिए उसके भोलेपन और मासूमियत का मुझे अंदाज़ा था। तबियत भी ख़राब रहती थी उसकी, लेकिन वो रसोई के काम बिना किसी मेल ईगो को बीच में लाए कर देता था। उसकी ऐसी ईगो दूसरे कुछ मामलों में ज़रुर देखने को मिलती थी। उसकी बहिनों के ब्वॉय-फ्रेंडस् थे, उसकी ... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   7:53pm 20 Jun 2018 #friendship
Blogger: Sanjay Grover
उस दिन सीनियर्स ने सुबह 10-11 बजे ही बुला लिया था। एक वजह से तो मुझे ख़ुशी भी हुई कि आज क्लास में नहीं जाना पड़ेगा। मगर सीनियर्स ने भी कोई पिकनिक के लिए नहीं, रैगिंग के लिए बुलाया था। उन्होंने दो-चार सवाल पूछे फिर अचानक एक सीनियर बोला-‘ग्रोवर, चल पैंट उतार!’ मैं बहुत ज़्यादा त... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   2:58pm 23 May 2018 #masturbation
Blogger: Sanjay Grover
एक चुटकी  ुतियापा-1स्त्रियों का मैं बहुत सम्मान करता हूं।मैं हर स्त्री का सम्मान करता हूं।आजकल ऐसे नारे घर-घर में चल निकले हैं। हो सकता है कई लोग करते भी हों। सुबह उठकर मां-बहिनों-पत्नियों का सम्मान करते हों-अरे, तुम अभी तक उठी नहीं ? बताओ, पहले ही देर हो चुकी है, सम्मान क... Read more
clicks 255 View   Vote 0 Like   5:41pm 22 Jun 2017 #fanatics
Blogger: Sanjay Grover
‘चुन्नी कहां हैं ? मेरी चुन्नी कहां है ?’ बाहर से घंटी बजती और माताजी घबरा जाते ; हालांकि सलवार-कमीज़ पहने हैं, स्वेटर पहने हैं, ज़ुराबें पहने हैं, कई-कई कपड़े पहने हैं मगर संस्कार, डर, कंडीशनिंग....मैं तो कहूंगा कि बुरी आदत, थोपा गया आतंक.... और चुन्नी भी कई बार बिलकुल पतली, कांच के ... Read more
clicks 185 View   Vote 0 Like   9:49am 29 May 2017 #change
Blogger: Sanjay Grover
बच्चों की भलाई के लिए काम करनेवाली एक संस्था से आज एक फ़ोन आया। काफ़ी नाम वाली संस्था है। एक भली लड़की बच्चों की किसी योजना का विवरण देने लगी। बच्चों के लिए आर्थिक मदद मांगनेवाले फ़ोन कई बार आते हैं। मैंने भली लड़की से कहा कि मैं आपको बीच में टोक रहा हूं पर आपको बता दूं कि मैं... Read more
clicks 202 View   Vote 0 Like   5:40pm 14 Mar 2017 #dishonest
Blogger: Sanjay Grover
‘ऐसा भी होता है’पर क्लिक करें-क्या आपने बाल सीक्रेट एजेंट अमित, असलम और अल्बर्ट के नाम सुने हैं ?चिंता न करें, संभावना यही है कि मैंने भी ये नाम तभी सुने होंगे जब मैंने इस उपन्यास को लिखने की सोची होगी। अंदाज़न क़रीब 35-36 साल पहले की ही बात.......। अजीब दिन थे मगर उनके बारे में सोच... Read more
clicks 225 View   Vote 0 Like   5:45pm 20 Nov 2016 #espionage
Blogger: Sanjay Grover
छोटा ही था। उन दिनों स्टील के बर्तन बहुत ज़्यादा प्रचलन में नहीं आए थे। लोग पीतल के बर्तन ज़्यादा रखते थे जिनमें समय-समय बाद कलई करानी पढ़ती थी। गर्मियों की एक ऐसी ही दोपहर में जब कलईवाला हमारे बर्तन कलई कर रहा था, माताजी ने मुझसे वहीं खड़ा होकर ध्यान रखने को कहा। कलईवाला ... Read more
clicks 245 View   Vote 0 Like   2:02pm 22 May 2016 #feminism
Blogger: Sanjay Grover
(पिछला भाग)क्या लोग आधुनिक हो गए हैं ! ख़ासकर स्त्रियां !?वह किसी काम से लाइन में लगा होता है और कई बार एक घटना घट जाती है। हवा में कोई ऐसी गंध अपनी जगह, थोड़ी देर के लिए ही सही, बना लेती है कि बड़े-बड़े सहनशील अपनी सहनशीलता भूलने लगते हैं। बोलता कोई कुछ नहीं हैं मगर किसीका हाथ अप... Read more
clicks 290 View   Vote 0 Like   1:05pm 24 Sep 2015 #partner
Blogger: Sanjay Grover
(पिछला भाग)स्त्रियां आज़ाद हो रहीं हैं, होंगी।मगर उसके लिए न सिर्फ़ उन्हें अपनी पारंपरिक भूमिका को छोड़ना होगा बल्कि पुरुष को भी उसकी पारंपरिक भूमिका से मुक्त करके देखना होगा, जो कि अभी तक कम ही होता दिखाई दिया है।कितनी स्त्रियां हैं जो अपने पतियों, भाईयों, पिताओं से भार... Read more
clicks 253 View   Vote 0 Like   10:13am 6 Aug 2015 #manliness
Blogger: Sanjay Grover
(पिछला भाग)भारतीय एक ही सांस में, एक ही वक़्त में कितनी सारी विरोधाभासी बातें एक साथ सोच और कर सकते हैं, इसका एक और उदाहरण अभी-अभी देखा। ‘तनु वेड्स् मनु रिटर्न्स्’ की शुरुआत में ही नायिका/पत्नी नायक/पति के लिए कहती है-‘यह आदमी अदरक की तरह कहीं से भी बढ़ता जा रहा है‘....। यह डा... Read more
clicks 271 View   Vote 0 Like   11:02am 8 Jul 2015 #honor
Blogger: Sanjay Grover
(पिछला भाग)भारतीय एक ही सांस में, एक ही वक़्त में कितनी सारी विरोधाभासी बातें एक साथ सोच और कर सकते हैं, इसका एक और उदाहरण अभी-अभी देखा। ‘तनु वेड्स् मनु रिटर्न्स्’ की शुरुआत में ही नायिका/पत्नी नायक/पति के लिए कहती है-‘यह आदमी अदरक की तरह कहीं से भी बढ़ता जा रहा है‘....। यह डा... Read more
clicks 197 View   Vote 0 Like   11:02am 8 Jul 2015 #honor
Blogger: Sanjay Grover
(पिछला भाग)आजकल जगह-जगह सुनने को मिलता है कि औरतें तो समझदार हो गईं हैं अब तो बस मर्द को बदलना है।क्या वाक़ई ऐसा है? क्या हम ज़रा-सा सच सुनने या पढ़ने को तैयार हैं ? वे कौन औरतें हैं जो यह सुनकर ख़ुश हो रहीं हैं कि ‘हर औरत का सम्मान करना चाहिए’ या ‘मैं स्त्रियों का बड़ा सम्मान कर... Read more
clicks 250 View   Vote 0 Like   10:35am 22 Apr 2015 #hypocrisy
Blogger: Sanjay Grover
(पिछला भाग)इस वीडियो में ज़्यादा आपत्तिजनक तो कुछ नहीं है मगर नया भी कुछ नहीं है। दुनिया-भर में, भारत में भी पत्र-पत्रिकाओं, इंटरनेट की बहसों और टीवी सीरियलों में पिछले कई सालों से ये बातें कही जा रहीं हैं और इस वीडियो से बेहतर ढंग से कही जा रहीं हैं। इस वीडियो का सबसे कमज़... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   9:29am 7 Apr 2015 #hypocrisy
Blogger: Sanjay Grover
(पिछला भाग)(पिछला भाग)यहां देखिए, नायिका को सीधी बात में मज़ा नहीं आ रहा, वह चाहती है कि नायक कुछ घुमा-फिराकर कहे। यह तो फ़िल्मी सिचुएशन है मगर बाहर की दुनिया में भी घुमाने-फिराने को बड़ी प्रतिष्ठा मिली हुई है। घुमाने-फिराने के सबसे ज़्यादा शौक़ीन हमारे कवि और साहित्यकार हैं... Read more
clicks 251 View   Vote 0 Like   6:30am 7 Apr 2015 #hypocrisy
Blogger: Sanjay Grover
(पिछला भाग)हे देश के पवित्र महात्मागणों, फूफा-फूफिओं, दादा-दादिओं, नाना-नानिओं, जीजा-जीजिओं, पिताओं-माताओं, तुम जो ये झंडे ले-लेके एकाएक क्रांतिकारी हो उठे हो, ये न सोच बैठना कि जो लोग बलात्कार नहीं करते वे बहुत महान हैं। उन्हींमें से बहुत-सारे लोग सरिता-मुक्ता-मेट्रो नाऊ... Read more
clicks 248 View   Vote 0 Like   9:09am 4 Apr 2015 #hypocrisy
Blogger: Sanjay Grover
(पिछला भाग)जब सानिया मिर्ज़ा जीतती हैं, साइना नेहवाल जीतती हैं, सचिन तेंदुलकर रिकॉर्ड बनाते हैं, धोनी वर्ल्ड कप दिलाते हैं तो तुम कहते हो कि ये हमारे आदमी हैं, हमें इनपर गर्व है। तुम्हारे बेटे-बेटी क्लास में सबसे ज़्यादा नंबर लाते हैं, अच्छी नौकरी पाते हैं तो तुम कहते हो क... Read more
clicks 235 View   Vote 0 Like   12:48pm 2 Apr 2015 #hypocrisy
Blogger: Sanjay Grover
(पिछला भाग)चंद रोज़ पहले उसने सुना कि एक भीड़ ने क़ानून अपने हाथ में लेकर एक बलात्कारी की हत्या कर दी। सोचने की बात यह है कि हत्या और बलात्कार में फ़र्क़ क्या है ? दोनों ही तरह के लोग बातचीत में या तो यक़ीन नहीं रखते या उनमें इतना धैर्य नहीं होता। कहीं न कहीं उन दोनों में दूसरों क... Read more
clicks 258 View   Vote 0 Like   9:57am 2 Apr 2015 #hypocrisy
Blogger: Sanjay Grover
एन डी टी वी इंडिया अकसर रविवार को मुहिम जैसा कुछ चलाता रहता है।साल-भर हुआ होगा शायद। स्त्रियों की स्थिति को लेकर बातचीत चल रही थी।किसी गांव में मौजूद एक संवाददाता स्टूडियो में मौजूद अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा की बातचीत किसी ख़ाप पंचायत के मुखिया से करा रहा था। मुखिया ... Read more
clicks 253 View   Vote 0 Like   8:45am 1 Apr 2015 #hypocrisy
Blogger: Sanjay Grover
इज़्ज़त के दुपट्टे की छांव के डर और लालच में औरत को क्या-क्या नुकसान सहने पड़े, इसपर बात चल निकली है, आगे भी जाएगी। मगर क्या ऐसा मानना ठीक होगा कि मर्दों को ऐसी किसी समस्या से कभी जूझना नहीं पड़ा!?उसे याद आता है कि बस या ट्रेन में सफ़र करते वक़्त कभी खिड़की बंद करनी हो या खोलनी हो... Read more
clicks 291 View   Vote 0 Like   1:18pm 15 Jun 2014 #बलात्कार
Blogger: Sanjay Grover
‘आपका मेल मिला, मैं आपकी हर मुहिम में आपके साथ हूं।’‘चलिए, किसीने तो जवाब दिया।’$                            $                       $‘यह तसवीर कैसी लगा रखी है आपने?’‘क्यों ठीक नहीं है क्या?’‘नहीं, नहीं, बहुत गोरे हो रहे हैं आप तो।$                   &... Read more
clicks 274 View   Vote 0 Like   12:57pm 19 Sep 2013 #कहानी
Blogger: Sanjay Grover
वह बिस्तर में पड़ा है, आंखें बंद हैं।आंखें बंद कर लेने से क्या नींद आ जाती है ? रात किस वक्त आंख लगती है, कितना वक्त नींद आती है, कुछ समझ में नहीं आता। बस सुबह मन होता है कि सोया रहे, अभी तो नींद आनी शुरु ही हुई थी और......। यूं भी कोई चुस्ती-फुर्ती उसे अपने बदन में महसूस नहीं होती... Read more
clicks 279 View   Vote 0 Like   12:26pm 14 Sep 2013 #diary
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post