POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Mere jajbaat...

Blogger: Chitra Kumar Gupta
 जेहाद नहीं, पाप है जेहाद के नाम पर कितनी बस्तियां उजाडीं ,कितनी ही तक़दीरें बनने से पहले बिगाड़ी,मासूमों के हाथ में रख दिए हथियार,मिटा दिये सुहागिनों के सोलह श्रृंगार,तुम्हारे जुल्म कहानी कहती है कश्मीर की हर गली,ये गुलशन-ए- गुल लगता है कोई बस्ती जली ,क... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   8:20am 11 Jan 2014 #
Blogger: Chitra Kumar Gupta
                              काश आंसू सच या झूठ बता पातेआंसू  जब  आँखों से निकल कर कपोलों पर लुढ़कते हैं,  तो  दर्शाते हैं, कि ह्रदय में  ग़मों की बर्फ  पिघल रही हैमुसीबतों कि तपिश      सिर पर  पड़ रही है,काश आंसू भी बयान दे पाते ,... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   10:38am 30 Dec 2013 #
Blogger: Chitra Kumar Gupta
टूटकर शाख से पत्ते मिटटी मैं मिल जाते हैं,बीते हुए दिन लौट कर नहीं आते हैं,हर रिश्ते को दोनों हाथों से संभालो,आईना गर गिर तो टुकड़े बिखर जातें हैं,ना कोई शहर अजनबी है, ना कोई शख्स,प्यार से मिलोगे दुश्मन भी दोस्त हो जातें हैं,बुलबुले पानी के खिलोने नहीं हो सकते,हाथ लगते ही ... Read more
clicks 204 View   Vote 0 Like   6:29am 27 Mar 2013 #
Blogger: Chitra Kumar Gupta
ऐसा कहा जाता है कि मनुष्य के मतिष्क मेँ नवीन विचार सुरक्षा, शांति एवम विश्राम के वातावरण मेँ अंकुरित होते हैँ। लेकिन कुछ संस्थाऐँ अपने कर्मचारियोँ को कोल्हू के बैल की तरह जोतती हैँ , तत्पश्चात अपेक्षा करती हैँ कि उनके कर्मचारी कोई आविष्कारी क्रियाकलाप करेँ। मैँ मानत... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   5:04am 6 Mar 2013 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post