POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: छद्मलेखक !

Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
राजेन्द्र ने घड़ी की तरफ एकटक देखा ! सफ़ेद दीवारों पर एकलौती दिवार घड़ी ,रात्री के दो बजने का इशारा कर रही थी ! आज किसी का फोन नहीं आया ,राजेन्द्र के होठो पर एक मुस्कराहट थी .उनके सामने टेबल पर मौजूद स्टीरियो पर मद्धिम संगीत बज रहा था ! किशोर कुमार का गीत ‘जिन्दगी प्यार का ग... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   7:54pm 20 Dec 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
आज ऑफिस जाने के लिये रिक्शा में बैठा ! हमारे यहाँ शेयर ऑटो हुआ करता है जी .हम बैठे थे तभी एक और व्यक्ति आया ,और बैठने से पहले उसने ऑटोवाले से पूछताछ की ..''भैया आपके पास छुट्टा तो होगा ना ? '' ( किराया उस स्टॉप का दस रूपये था )''हां हां क्यों नहीं ? बोलिए कितने का छुट्टा चाही ?''ऑटो वा... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   11:33am 19 Dec 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
जैसा के आप सभी मित्र जानते ही है ,के हम कुछ मित्रो का समूह एक प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है ! जिसका नाम है''आर्यन क्रिएशनज ''  ,तो पेश है आर्यन क्रिएशनज के सदस्यों का परिचय !हमारी स्टाईल में .कैप्शन जोड़ें... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   4:01pm 5 Dec 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
अपने आर्यन क्रिएशनज को मूर्त रूप देने के लिये हमारी टीम अपना पूरा सहयोग दे रही है, किन्तु बीच बीच मेंकुछ हलके फुल्के पल संजोने के प्रयास में कुछ मजेदार कॉमिक स्ट्रिप बनाते रहते है .जिसमे हम अपने कुछ मित्रो को स्थान दे  रहे है ,यह कॉमिक स्ट्रिप हमारी पिछली कॉमिक स्ट्रि... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   5:35am 3 Dec 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
‘’आर्यन क्रियेशनज ‘की ओर से एक कॉमिक स्ट्रिप ,जो समर्पित है कॉमिक फेस्टिवल के लिये आधिकारिक तौर पर मनाये जानेवाले पहले ‘भारतीय कॉमिक्स फेस्टिवल ‘ दिल्ली , के लिये हमारे ‘’आर्यन क्रियेशनज ‘की ओर से एक कॉमिक स्ट्रिप ,जो समर्पित है कॉमिक फेस्टिवल के लिये , कॉमिक फेस्टिव... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   1:40pm 26 Nov 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
आज सुबह अपने छोटे भाई के साथ ‘ भाग मिल्खा भाग ‘ देख रहा था ! ( हां जी ,जो भी वयस्क दृश्य थे उस फिल्म में ,मैंने उसे एडिट करके काट दिया है ! अब परिवार के साथ देख सकता हु ) मैंने यह फिल्म अब तक कम से कम 5-6 बार तो देखि है ! गजब की फिल्म है ,हर बार देखने पर पहली बार देखने जैसा लगता है , ‘मिल... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   12:49pm 23 Nov 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
केंद्रीय जलसंधारण मंत्री 'हरीश रावत '' ''प्रभु श्रीराम जी 'कि ''सीता ''भी विदेशी थी ! किन्तु फिर भी भगवान श्रीराम ने उन्हें अपनाया और भारतीयो ने उन्हें 'अराध्य 'माना तो 'सोनिया गांधी 'के विदेशी होने पर इतना बवाल क्यों ? ऐसा कहना है केंद्रीय जलसंधारण मंत्री 'हरीश रावत ''का ! उन्... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   1:51pm 21 Nov 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
मेरी प्रथम पब्लिश हुई रचना ! 'भोपाल 'से प्रकाशित पत्रिका 'रुबरु दुनिया 'के नवंबर २०१३ के अंक में .'भोपाल 'से प्रकाशित पत्रिका 'रुबरु दुनिया 'के नवंबर २०१३ के अंक में .  'रुबरु दुनिया 'के विषय में अधिक जानने के लिये लिंक पर क्लिक करे !https://www.facebook.com/#!/photo.php?fbid=544150812327842&set=a.346357598773832.79963.335869879822... Read more
clicks 163 View   Vote 0 Like   4:06pm 20 Nov 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
भोजपुरी स्टार का भोजपुरी फिल्मो में बढ़ति अश्लीलता विषय में लिया गया इंटर व्यू, तिवारी जी द्वारा ( सम्पूर्ण तीनो भाग  )नोट : सभी पात्र एवं घटनाये काल्पनिक है ! उद्देश्य मात्र मनोरंजन है, दिल पे ले हमारी बला से  तिवारी जी आज बड़े खुश थे ! उभरते पत्रकार थे , और उन्हें अपनी पत... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   8:37am 15 Nov 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
भोजपुरी स्टार का भोजपुरी फिल्मो में बढ़ति अश्लीलता विषय में लिया गया इंटर व्यू, तिवारी जी द्वारा (  भाग 2 ) नोट : सभी पात्र एवं घटनाये काल्पनिक है ! उद्देश्य मात्र मनोरंजन है, दिल पे ले हमारी बला से हीहीही !तिवारी : जाने दीजिये संदेस जी ! हम दुसरा सवाल पूछते है,क्या आपको नह... Read more
clicks 165 View   Vote 0 Like   10:12am 11 Nov 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
भोजपुरी स्टार का भोजपुरी फिल्मो में बढ़ति अश्लीलता विषय में लिया गया इंटर व्यू, तिवारी जी द्वारा ( प्रथम भाग ) नोट : सभी पात्र एवं घटनाये काल्पनिक है ! उद्देश्य मात्र मनोरंजन है, दिल पे ले तो हमारी बला से हीहीही !तिवारी जी आज बड़े खुश थे ! उभरते पत्रकार थे , और उन्हें अपनी पत्र... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   4:10pm 8 Nov 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
काफी दिन हो गये कुछ लिखे हुये, सोचा के अब छोटा मोटा क्या लिखू !क्यों ना एक नोवे...ल लिखने की कोशिश करू ,तो बस शुरू हो गया ! कहानी काफी दिनों से दिमाग में थी ,बस वक्त नहीं मिल रहा था ! कल से लिखना शुरू किया ...तो सोचा के दोस्तों की राय ले लू के हम नोवेल लिखे या रहने दे ...हमारे बस का है ... Read more
clicks 131 View   Vote 0 Like   2:24pm 26 Oct 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
   ‘ तो देखा आपने के किस कदर इन तीन ‘दरिंदो ’ ने अपनी दरिंदगी एक मासूम के साथ दिखाई !आखिर क्यों ? क्या वजह है के समाज ईस कदर अपनी मानवता खोते जा रहा है ? कब तक हम यु ही खड़े तमाशा देखते रहेंगे ? कब तक मासूम बेटिया दरिंदगी की भेंट चढती रहेंगी ?मत भूलिये के अगर आज हम खामोश है तो ... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   2:22pm 26 Oct 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
 सुरेश झुंझलाया हुवा था ! आखिर साल भर के इन्तेजार के बाद बोनस मिला था , खुश होने के बजाय वह काफी नाराज था . “यह क्या है यार ? हमें कहा गया था के बोनस में एक बेसिक सैलरी मिलेगी ! और हाथ में थमा दिया गया यह , आधी बेसिक से भी कम “ “जाने दे सुरेश ! अब गुस्सा करने से क्या फायदा है ? ... Read more
clicks 184 View   Vote 0 Like   2:18pm 26 Oct 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
'रोहन 'मै अब भी कहता हु यहाँ रुकना सेफ नहीं है !चुप कर यार ! और ध्यान उस बन्दे पर दे जो उस बोरी को घसीट कर ले जा रहा है .लेकिन मदन ,यह बन्दा इतनी रात को भला इस तरह जंगल में यह बोरी लेकर क्यों आया है ? देख सभी हमारी तरह पागल तो नहीं होंगे जो आधी रात की जंगले में रेव पार्टी में शामि... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   11:47am 26 Aug 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
‘ट्रेन की बोगी खून से सनी थी , हर दीवार हर जर्रा सूख के काला पड चूके खून से सना हूवा था ,इंस्पेक्टर सुजीत मुआइना कर रहा था , ‘’अय लड्की वही रूक जा , कौन है तू ? और यहा क्या हूवा था , ये लाशे किसकी है ‘’ सुजीत ने अचानक दिखी लड्की को देख के कहा ,‘ पीछे मूड ,चेहरा क्यो छिपाया है , मूड ?... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   11:44am 26 Aug 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
‘’ प्यार ‘’ जैसे विषय पर जो भी लिखा जाये वह कम ही होगा ! इसके स्वरूप हमेशा बदलते रहते है , प्यार किसी एक रिश्ते का मोहताज नहीं रहा है ,यह जरुरी नही के प्यार सिर्फ आशिक –माशुका तक ही सिमित हो .यह भाई –बहन का भी हो सकता है ,दोस्तों का भी हो सकता है ,बाप का बेटे से बेटे का बाप से , म... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   11:41am 26 Aug 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
''राहुल ''यह क्या कर रहे हो , ?''चाची , यह ''हरिया भईया 'ने लड्डू भेजे है ,उनके यहाँ ''पोता ''हुवा है ना ,आप भी लीजिये आपके लिये ही तो भेजा है ''''राहुल पगला गया है क्या ? अभी अभी मै पूजा करके निकली हु ,रामलला को भोग लगाया है ,और तू मुझे यह खिला रहा है '';तो इसमें बुरा क्या है चाची ?''''अरे पगले त... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   11:36am 26 Aug 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
मेरे मित्र ''मोहित शर्मा ''जी जो के एक उभरते हुये लेखक है ,इन्होने मेरे पेज चलते, चलते ,जिसके वे भी सह एडमिन है ,उसपर उन्होंने एक पोस्ट की थी कुछ देर पहले , जिसका मुद्दा था साहित्य की घटटी लोकप्रियता ( यह मुद्दा मैंने जोड़ दिया )और लेखको का बढ़ता चोरी का रवैय्या  , के किस तरह से ल... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   10:33pm 24 Apr 2013 #
Blogger: देवेन्द्र पाण्डेय
एक छोटी सी बात जो मुझे सबसे ज्यादा हैरान करती है , कभी आप भी सोचिये इस बारे में यकीं से कहता हु के आप खुद हैरान हो जायेंगे .वह है हिन्दू पंचांग ,अप खुद ही देख लीजिये अगर आपके घर में कोई हिन्दू पंचांग हो तो ,उसमे सूर्योदय और सूर्यास्त तक समय निर्धारित बताया गया है , और आप जांच ... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   11:05pm 10 Apr 2013 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post