Hamarivani.com

बिनु मसि बिनु कागद

जौहर की ये राजपुताना परंपरा गौरवशालीक्या जाने इतिहास हमारा कोई मूरख भंसालीस्वाभिमान सम्मान जान से बढ़कर हमको प्यारा ...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  January 29, 2017, 1:58 pm
वो क्यों बोलने में सँभलते रहेलगा मुझको सच वो निगलते रहेवहाँ ख़ास की पूछ होती रहीमियां आम थे हम तो टलते रहेमिरी ज़िन्दगी कì...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  January 1, 2017, 11:30 pm
221 2121 1221 122रिश्तों में रंग फिर से चढ़ा क्यूँ नहीं लेतेगिरते हुए मकाँ को बचा क्यूँ नहीं लेतेवो हँस रहे हैं देख तुम्हें अश्क़ बहाते...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  December 30, 2016, 1:18 am
2222 2222 2222 2लेकर नेक खयाल अगर हम मेहनत करते हैंबेशक़ अपनी शोहरत में हम बरकत करते हैंमंचों पर संजीदा हो कुछ शिरकत करते हैंकुछ ऐसे भ...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  December 27, 2016, 10:39 am
मेरी चिता के ऊपर पहचान तब बनाना,जगतारिणी नदी में तब अस्थियां बहाना।लाखों गये डगर से,पर मुश्किलें वहीं हैंबच बच निकल गए ì...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  December 19, 2016, 1:27 am
किस तरह तुमने भला दिल को सँभाला होगा।जब मुझे अपने खयालों से निकाला होगा।दूर वो मुझसे रहे खुश हो ये मुमकिन ही नहीं,दर्द क...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  December 18, 2016, 10:49 am
2122 2122 2122 212साथ चल पाये नहीं तो हम किनारे हो गये।और वो लेकर रवानी बीच धारे हो गये।अब अकेले राह चलने का भरोसा आ गया,ख़ैर ये अच्छा रहा ...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  October 26, 2016, 11:32 pm
ठग गया विश्वास फिर से क्या कहूँ मैं क्या हुआ।फिर मुझे लगता है मेरे साथ इक धोखा हुआ।बेच मत देना शहीदी खून को इस बार फिर,चुप &...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  September 19, 2016, 3:22 am
चोट से काँच का सामान  बिखर जाता हैवक़्त मुँह मोड़ ले अरमान बिख़र जाता हैऔर तूफ़ान में गिरकर के सँभल भी जायेइश्क़ में  हार के  इ...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  September 14, 2016, 8:06 pm
रोज़गार, बिजली,सड़क, पग-पग पर संघर्ष।दर्ज़ कागजों में मिला गाँव वही आदर्श।             :प्रवीण श्रीवास्तव 'प्रसून'         &...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  September 12, 2016, 10:16 am
सूरज क़िस्मत का अब बुझने वाला लगता है।उससे लम्बा मुझको उसका साया लगता है।राहु रिजर्वेशन का उसको ढक कर बैठ गया पूरा चंदा ê...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  September 11, 2016, 7:54 pm
ये हवा क्यों साथ लायी एक दीवाने कि याददो उँगलियों से उलझती ज़ुल्फ़ सुलझाने की यादआँख के नीचे ये कालापन नहीं कुछ और है,रेत क...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  September 8, 2016, 10:33 pm
सबको सरजी मत कहो सरजी शब्द विशेष।सर जी बस वो खास हैं धरे आम जो भेष।            :प्रवीण श्रीवास्तव 'प्रसून'              फत&#...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  September 8, 2016, 4:53 pm
साठ साल का ठाट ले गयाराज ले गया पाट ले गयासोयेगा ना सोने देगा आम आदमी खाट ले गयापहले सर से ताज उताराफिर ज़मीन से पैर उखाड़ेश&#...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  September 8, 2016, 9:24 am
दिल्ली की आज की दो ख़बरों पर  एक हाइकु।यदि लगे कि दोनों स्थितियों पर एक ही हाइकु सटीक है तो लाइक करके आशीष प्रदान करें।हे ...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  August 31, 2016, 11:41 pm
रात के बाद ये लगा कुछ कुछअब उजाले से राब्ता कुछ कुछचल पड़ा आज जब अकेला मैं,खुल रहा एक रास्ता कुछ कुछमौत का खौफ़ हो गया जिस शब,ब...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  August 29, 2016, 11:05 am
एक इंसान ..डेवलप (?) हो रहे देश मेंअपनी अर्धांगिनी की लाशकाँधों पर ढो रहा हैविकास का सपना पालेआम इंसान हैरान हैहाय! यह क्या ह...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  August 27, 2016, 12:25 am
1222 1222 1222 1222बहुत दिन बाद  ये भरने लगा है घाव अब कुछ तो।हमारे देश में दिखने लगा बदलाव अब कुछ तो।दिलों के दरमियाँ पैदा हुई थी दूरिया...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  August 14, 2016, 12:22 pm
कुछ शरारती कर रहे, हिंदु धर्म बदनाम।गोरक्षा की आड़ में, गोरखधंधा आम ।।...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  August 7, 2016, 10:38 pm
आ गए तुम ज़मी पर हमारे लिए।आसमां रह गया चाँद तारे लिए।तैर मझधार में मंज़िलें ढूंढ ले ,मिल सकेगा नहीं कुछ किनारे लिए।हम उसे ...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  July 16, 2016, 12:29 am
परिवर्तन----------------भाईगिरी छोड़करचुनाव में खड़ा हैनाली का कीड़ानाला में पड़ा हैअनकहा---------------जो न कह पायामरते-मरतेलोगों को लगावही तो स&...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  July 1, 2016, 12:36 pm
मोदी हूँ नादान नहीं हूँ।दुश्मन से अंजान नहीं हूँ।टूट नहीं सकता हूँ ज़ल्दी मैं चीनी सामान नहीं हूँ।छोटे प्यादे मात मुझे ...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  June 27, 2016, 12:02 am
हाथ वाला पंखा----------------------प्रवीण श्रीवास्तव 'प्रसून'*******************तुम....हमें वादों में उलझा करबेवकूफ़ बना कर ख़ुश होते होऔर इतराते होअपने चहे...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  June 18, 2016, 11:22 pm
2222 2222 2222 1212ग़म के घर से निकला फिर मैं ग़म के जंगल चला गया।दर्द मिटाने को मैख़ाने क्यों मैं पागल चला गया।उसने बोला दारू सौगातें लाये...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  June 11, 2016, 9:59 am
बेवज़ह रो रो के सूरत क्यों बुरी कर लीजिये।दर्द को भी ख़ूबसूरत शायरी कर लीजिये।आपका भी नाम मंचों में चलेगा ख़ूब तब,शायरी के ...
बिनु मसि बिनु कागद...
Tag :
  June 11, 2016, 12:45 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163601)