POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Mind Body And Luck Balance

Blogger: Dr.Ashok kumar
What is the Impact of Namank 9 on Your Life नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर की जाती रही है. नामांक कि गणना के लिए कीरो पद्धति का उपयोग किया जाता है, आज भी अंकशास्त्री नामांक की गणना इन्हीं प्राचीन तरीकों से करते आ रहे हैं। नामांक जीवन में आवश्यक बदलाव ला सकते हैं और... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   3:33pm 28 Mar 2012 #
Blogger: Dr.Ashok kumar
अकं ज्योतिष एक महत्वपूर्ण विद्या है, जिसके माध्यम से व्यक्ति के विषय एवं उसके भविष्य को जानने का प्रयास किया जाता है। नामांक ज्योतिष में अंकों के माध्यम द्वारा गणित के नियमों का व्यवहारिक उपयोग करके मनुष्य के विभिन्न पक्षों, उसकी विचारधारा , जीवन के विषय इत्यादि का व... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   4:00pm 8 Feb 2012 #अंक नाम~8
Blogger: Dr.Ashok kumar
जीवन में नाम का बहुत महत्व होता है नाम से ही हमारी पहचान होती है। नाम का महत्व खुद ब खुद दृष्टिगत होता है, तथा नाम रखने की विधि को संस्कार कर्म में रखा जाता है और इसमें जातक के जन्म नक्षत्र पर आधारित नाम रखने का प्रयास किया जाता है। कुछ स्थानों पर हम यह भी देखते हैं कि किसी... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   4:30pm 13 Jan 2012 #अंकशास्त्र
Blogger: Dr.Ashok kumar
नामांक जीवन में बदलाव ला सकता हैं और हमारे जीवन को आशावादी दिशा प्रदान कर सकता है। नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर की जाती रही है। नामांक कि गणना के लिए कीरो पद्धति, सेफेरियल पद्धति तथा पाइथागोरस पद्धति का उपयोग किया जाता है आज भी लगभग सभ... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   6:15am 11 Jan 2012 #अंकनाम~6
Blogger: Dr.Ashok kumar
नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर ही की जाती रही है। आज भी अंकशास्त्री नामांक की गणना इसी प्राचीन तरीके से करते हैं।अपना नामांक जानने के लिये सर्वप्रथम आप अपना नाम अंग्रेजी (English )में लिखें।जैसे यदि किसी व्यक्ति का नाम दिव्या दत्त है तो इस न... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   4:00pm 4 Jan 2012 #अँकशास्त्र
Blogger: Dr.Ashok kumar
नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर की जाती रही है। नामांक कि गणना के लिए कीरो पद्धति, सेफेरियल पद्धति तथा पाइथागोरस पद्धति का उपयोग किया जाता है, इनमें से किसी ने नौ अंक को स्थान दिया तो किसी ने स्थान नहीं दिया। आज भी लगभग सभी अंकशास्त्री ना... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   4:00pm 2 Jan 2012 #नाम अंक
Blogger: Dr.Ashok kumar
नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर ही की जाती रही है। अंकशास्त्री नामांक की गणना इसी तरीके से करते हैं। नामांक कि गणना के लिए कीरो पद्धति, सेफेरियल पद्धति तथा पाइथागोरस पद्धति का उपयोग किया जाता है। नामांक जीवन में आवश्यक बदलाव ला सकते हैं... Read more
clicks 152 View   Vote 0 Like   4:00pm 1 Jan 2012 #नाम अंक
Blogger: Dr.Ashok kumar
नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर ही की जाती रही है। व्यक्ति के नाम के अक्षरों के कुल योग से बनने वाले अंक को नामांक कहा जाता है। नामांक को सौभाग्य अंक भी कहते हैं। यह नम्बर परिवर्तनशील हो सकता है। हम ऐसे अनेक लोगों को देख सकते हैं जिन्होंन... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   4:07am 1 Jan 2012 #नाम अंक
Blogger: Dr.Ashok kumar
(1.) 1 Line is SUN line, this line indicate a potential abnormal of blood pressure in this case , the SUN line was extended towards touching the #1 line.(2.) The sympathetic line #3, the line was curving through outside the boundary of yellow centre line. By fulfilling of thes 2 condition, the client have a tendency of high blood pressure.... Read more
clicks 142 View   Vote 0 Like   12:25pm 23 Dec 2011 #
Blogger: Dr.Ashok kumar
Longitudinal lines on nails indicate inability of the digestive system to absorb food properly or malabsorption in the digestive system.A series of line , longitudinal liner show over activity of the nervous system, anxiety, adrenal stress and it's an early warning of rheumatic and arthritic disorders. Try to relax, perhaps with an activity like YOGA or MEDITATION and take Glucosamine sulphate and Omega fatty acids - good for the prevention of joint and mobility problems.... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   12:51pm 6 Dec 2011 #
Blogger: Dr.Ashok kumar
The saying ‘Dhanamoolam idam jagath’ means the entire world bases on money. To live happily, we need money. Whether we can get good occupation, earn a lot of money and social status can be seen in the lines of our palm. There will be a lot of difference in the lines of a person who enjoys rich and royal life and that of a person who leads a life filled with poverty. Are you a spendthrift or miser? Just press your right hand’s thumb away from other fingers. If your thumb bends down easily and there are a lot of gaps between each finger, then you are a spendthrift. It is highly difficult for you to save money. [Fig 1] On the other hand, if your thumb is stiff and not bending down, ther... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   5:49am 5 Dec 2011 #
Blogger: Dr.Ashok kumar
As human beings we need money to lead our life comfortably. To earn money we need a job or profession or we should involve into some business. Such career related issues are clearly represented by the Fate Line in our hands. By observing the Fate Line in both the palms, we can assess when we get the job, when there will be a promotion, when there will be a change in our career and how our earnings will be from time to time. The normal course of the Fate Line is shown in Fig1. It generally starts any where from the base of the palm and ascends towards the Mount of Saturn under the middle finger. Nature of the Fate Line: The Fate Line should be in thick brown color. It should be deep and narro... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   5:00pm 3 Dec 2011 #
Blogger: Dr.Ashok kumar
It is a super specialty hospital and there is heavy rush of people in the waiting hall. A middle-aged man is sitting with a gloomy face in the chair. He has a report in his hands and waiting to be called into the doctor's room. After 1 hour, he is sent into the room. The doctor examined the report and declared that the man has cancer in advanced stage and he may not survive. After 3 months, the man died. Even though, now-a-days hospitals have latest lab equipment, the doctors are able to diagnose a disease only at its culminating stage. Can't we know the onset of a disease well in advance, so that we can get rid of the disease at its preliminary stage itself? Palmistry helps very much in suc... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   4:00pm 1 Dec 2011 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post