Hamarivani.com

मेरी बातें

जब से एक मित्र की बीमारी के बारे में सुना है तब से थोड़ा मन उदास है.मेरा वो मित्र जिससे दोस्ती हुए अभी कुछ ही महीने हुए हैं, एक बीमारी से लड़ रहा है और अब कितना समय और उसके पास बचा है ये भी ठीक से कोई नहीं कह सकता.हम सब तो लगातार दुआएं कर रहे हैं की हमारे वो दोस्त उस बीमारी से ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :समाज
  May 30, 2013, 10:04 pm
वैसे तो अभी दिल्ली सैंतालीस डिग्री तापमान में फ्राई हो रही है, और आने वाले दिनों में क्या पता पारा पचास के पार पहुँच जाए...लोग सुबह से लेकर रात तक यहाँ की गर्मी में रोस्ट हो रहे हैं, वहीँ दूसरी तरफ मेरे पुराने शहर बैंगलोर में हर दिन बारिश हो रही है और ए.सी तो छोडिये, लोग अपने...
मेरी बातें...
abhi
Tag :बैंगलोर डायरी
  May 23, 2013, 2:26 am
मेरे सबसे करीबी दोस्त अकरम की शादी पिछले महीने की बारह तारीख को हुई.ये पोस्ट यहाँ लगाना मेरे लिए जरूरी था.जहाँ दोस्तों का अनुरोध था की अकरम की शादी से जुडी कोई पोस्ट मैं खासकर के लिखूं, वहीँ इस पोस्ट को लिखने का मन मेरा भी कई दिनों से था.मेरी पूरी कोशिश के बावजूद पोस्ट थो...
मेरी बातें...
abhi
Tag :मेरी डायरी
  April 20, 2013, 11:52 pm
वक़्त तो जैसे पंख लगाकर उड़ जाता है.देखते देखते एक साल बीत जाता है और पता भी नहीं चलता.मुझे तो अब भी यकीन नहीं हो रहा की दिल्ली आये हुए मुझे एक साल हो गया है.पिछले साल आठ फरवरी को बैंगलोर से दिल्ली के लिए चला था और नौ फरवरी को दिल्ली पहुंचा.दिल्ली, एक ऐसा शहर जहाँ मैं कभी रहन...
मेरी बातें...
abhi
Tag :मेरी डायरी
  March 3, 2013, 12:48 am
प्राग - द गोल्डन सिटी...द सिटी ऑफ़ हंड्रेड टावर्स...द सिटी ऑफ़ टियर्स एंड नाईटमेयर्स शायद हर शहर का अपना अलग इतवार होता है..अपनी अलग आवाजें, और नीरवता.तुम आँखें मूंदकर भी जान लेते हो.ये ट्राम के पहिये हैं...यह उबलती कॉफ़ी की गन्ध.बाहर बर्फ पर खेलते हुए बच्चों की चीखें...उनके प...
मेरी बातें...
abhi
Tag :मेरी डायरी
  February 3, 2013, 10:35 pm
दृढ संकल्प हटा सकता है गिरिवर को भी,धारा रेत बना देती है पत्थर को भी.पिछले महीने ही गिरिजा कुलश्रेष्ठ जी की दो किताबें डाक द्वारा प्राप्त हुईं.पहली किताब "ध्रुव गाथा" और दूसरी किताब "अपनी खिड़की से".गिरिजा जी मेरी प्रिय ब्लॉगर में से हैं, उनकी कहानियां,कवितायें औ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :लेखक
  December 28, 2012, 10:04 pm
मैं शायद काफी जल्दी में था और बेहद उत्साहित था..एक तो मैं हैदराबाद दो साल बाद जा रहा था और ऊपर से मेरा बेहद करीबी दोस्त जिससे मैं तीन साल बाद मिलने वाला था वो मुझे स्टेशन रिसीव करने आने वाला था.मैंने ट्रेन की खिड़की से ही अपने दोस्त को देख लिया था, वो बाहर प्लेटफोर्म पर खड़...
मेरी बातें...
abhi
Tag :मेरी डायरी
  December 20, 2012, 8:59 pm
बड़े दिनों से ब्लॉग पे कुछ भी नहीं लिख पा रहा था..बहुत से आधे अधूरे पोस्ट युहीं ड्राफ्ट में पड़े हुए सोच रहे होंगे की जाने कब हमें पब्लिश किया जाएगा.आज शाम मौसम और मिजाज़ दोनों बहुत अच्छा है, तो सोचा की  कुछ पुराने पड़े ड्राफ्ट को ही मुकम्मल कर यहाँ पोस्ट कर दूँ.कुछ महीने ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :ट्रेन यात्रा
  December 5, 2012, 6:33 pm
मुझे लगता है की अगर आप देखना चाहते हैं की समय के साथ आपमें कितना बदलाव आया है तो आप अपने किसी पुराने पारिवारिक विडियो को देखने बैठ जाईये.बदलते समय को अपने आँखों से देखने का इससे बेहतर जरिया आपको शायद दूसरा कोई नहीं मिले.मैं जब भी भाग-दौड़ से थोड़ा थक सा जाता हूँ, खुद से पर...
मेरी बातें...
abhi
Tag :पटना
  October 8, 2012, 9:39 pm
मुझे लगता है की मन एक रहस्मय लोक है, उसमे अँधेरा है, अँधेरे में सीढियां हैं..सीढियां गीली हैं.सबसे नीचली सीढ़ी पानी में डूबी हुई है, वहां अथाह काला जल है, उस अथाह जल से स्वयं को भी डर लगता है.उस अथाह काले जल में कोई बैठा है, वो शायद मैं ही हूँ. ---एक था पक्षी.वह नीले आसमान में ख...
मेरी बातें...
abhi
Tag :कलाकार
  September 26, 2012, 8:09 pm
मीना कुमारी [1 August 1932 – 31 March 1972]मीना जी चली गईं..कहती थीं - राह देखा करेगा सदियों तक, छोड़ जाएंगे यह जहां तन्हा...और जाते हुए सचमुच सारे जहान को तन्हा कर गईं; एक दौर का दौर अपने साथ लेकर चली गईं.लगता है, दुआ में थी. दुआ खत्म हुई, आमीन कहा, उठीं, और चली गईं. जब तक ज़िन्दा थीं, सरापा दिल की ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :गुलज़ार साहब
  August 1, 2012, 10:15 pm
वो बचपन से ही डरता था.बेवजह ही एक डर उसके अंदर समायी हुई थी.लेकिन वो अपने इस डर के बारे में किसी से कुछ नहीं कहता.स्कूल जाने में, नये दोस्त बनाने में, किसी नयी जगह जाने में, सफर पे जाने में वो बेवजह ही डरते रहता.उसे सबसे ज्यादा डर लगता था अँधेरे से और सुनसान रास्तों से..स्कूल ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :Random
  July 21, 2012, 10:37 pm
मैं तो ये मानता हूँ की फ़िल्में बिना किसी पूर्वाग्रह के देखनी चाहिए.कुछ लोगों की ये आदत होती है की वो पहले ही असम्प्शन कर लेते हैं की फिल्म इस विषय पर बनी होगी और इस तरह, इसलिए वे देखने भी नहीं जाते..जबकि इसकी भी संभावनाएं हैं की फिल्म उनके सोच से एकदम विपरीत हो.मैं कोशिश ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :फिल्म समीक्षा
  July 12, 2012, 1:33 am
पहली और दूसरीपोस्ट से जारी,२०१० के अप्रैल-मई की बात है, कहीं किसी ब्लॉग पर एक कमेन्ट देखा, एकदम पटनिया भाषा का रंग लिए हुए..जाहिर है उत्सुकता तो होगी ही, अपने मिट्टी की भाषा में इतना सुन्दर कमेन्ट करने वाले आखिर ये हैं कौन?प्रोफाइल देखा तो नाम पता नहीं चला, नाम की जगह लिखा ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :ब्लॉग-परिवार
  July 6, 2012, 6:29 pm
(पिछली पोस्ट से जारी...)मेरे ब्लॉग में अधिकतर पोस्ट पर टिप्पणियों को मजेदार बनाने के श्रेय जाता है प्रशांतऔर स्तुतिको...जिसमे कभी कभी अजय भैया भी शामिल रहते थे.लेकिन मजाक के अलावा स्तुति कभी कभी मेरे ब्लॉग पर कुछ संजीदा टिप्पणी भी कर देती थी, और अब स्तुति की उन टिप्पणियों...
मेरी बातें...
abhi
Tag :Comments
  July 1, 2012, 8:18 pm
बेखबर रहने से बड़ा सुख कुछ भी नहीं.कितनी सही बात है ये.इसका एक छोटा सा प्रमाण मुझे तब मिला जब कल शाम युहीं बेकार बैठे हुए अपने ब्लॉग के पुराने पोस्ट को पढ़ रहा था.पोस्ट के लिस्ट के तरफ जब गौर किया तो देखा की पब्लिश्ड पोस्ट की संख्या 204 है.यानी मैंने पोस्ट्स की डबल सेंचुरी ठ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :मेरे दोस्त
  June 30, 2012, 11:12 am
जलियाँवाले बाग से निकलने के बाद हमने लंच किया और फिर वाघा बॉर्डर की तरफ निकल पड़े.वहाँ से  निकलने के बाद भी मैं पूरी तरह से उन यादों से बाहर नहीं आ पाया था और रह रह कर उसी जघन्य हत्याकांड  की तस्वीरें मेरे दिमाग में घूम रही थीं जिसे मैंने देखा नहीं था..बस जिसके बारे में सू...
मेरी बातें...
abhi
Tag :घूमना फिरना
  June 27, 2012, 10:19 pm
उन दिनों मैं दसवीं कक्षा में था.करीब दो महीने मेरी तबियत खराब थी और मैं घर से बाहर निकलता नहीं था.मेरे एक दो मित्र लगभग हर शाम मुझसे मिलने आते थे.एक मित्र ने एक दफे एक इतिहास की किताब मुझे लाकर दी, और बोला इस किताब को जरूर पढ़ना...वो किताब हमारे पाठ्यक्रम में था नहीं बल्कि व...
मेरी बातें...
abhi
Tag :घूमना फिरना
  June 21, 2012, 9:24 pm
ये बातचीत मेरे और प्रकाश(बैंगलोर के एक कॉफी शॉप के मालिक का बेटा जो लगभग मेरा हमउम्र ही है) के बीच 24 सितम्बर 2011 को हुई थी, जिसे उसी दिन मैंने ड्राफ्ट के रूप में सेव किया था..आज बहुत दिनों बाद देखा इसे तो उस शाम की पूरी तस्वीर आँखों के सामने घूमने लगी...आज शाम उस कॉफी शॉप की याद ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :मेरा शहर बैंगलोर
  June 5, 2012, 10:03 pm
आप क्या सोचते हैं?अगर आपको पहले के किसी टाईमफ्रेम में जीने का अवसर मिले तो आप किस टाईमफ्रेम में जाना पसंद करेंगे?शायद अपने बचपन के टाईमफ्रेम में..या फिर अपने वैसे समय में जिसे आप अपना गोल्डन डेज मानते हैं...या फिर शायद उस सदी में जो आपको सबसे ज्यादा अपने तरफ आकर्षित करती ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :बेतरतीब ख्याल
  May 31, 2012, 10:47 pm
कुछ दिन पहले मैंने एक विडियो देखा.जिसमे इंडियन आर्मी के योगेन्द्र सिंह यादव ने अपने कारगिल युद्ध के अनुभव को सबके साथ साझा किया.कारगिल युद्ध में अद्दुत साहस और वीरता के लिए योगेन्द्र सिंह यादव को परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था.वैसे तो योगेन्द्र सिंह यादव का नाम आ...
मेरी बातें...
abhi
Tag :मेरी जान हिन्दुस्तान
  May 23, 2012, 10:35 pm
पूछते हैं वो के ग़ालिब कौन है?कोई बतलाओ के हम बतलाएं क्या? ..बल्ली मारां की वो पेचीदा दलीलों की-सी गलियाँएक क़ुरआने सुख़न का सफ़्हा खुलता है  असद उल्लाह ख़ाँ `ग़ालिब' का पता मिलता है  करीब तीन-चार साल पहले की बात होगी, ग़ालिब को गंभीरता से तभी पढ़ा.यूँ तो गुलज़ार साहब द्व...
मेरी बातें...
abhi
Tag :गुलज़ार साहब
  April 29, 2012, 1:51 pm
दिल्ली में हूँ और गर्मियां शुरू हो गयी है...कई सालों बाद मैं उत्तर भारत की गर्मी को अनुभव कर रहा हूँ..पिछले आठ-नौ सालों से कर्नाटक में रहने के कारण उत्तर भारत की गर्मियों से पाला ही नहीं पड़ा.वैसे कर्नाटक में भी गर्मी अच्छी खासी पड़ती है, लेकिन इधर से बिलकुल अलग.वैसे मुझे ग...
मेरी बातें...
abhi
Tag :गुलज़ार साहब
  April 22, 2012, 11:02 pm
पिछले पोस्ट में मैंने तीन कार-थीम फिल्मों का जिक्र किया था और कहा था की अगले पोस्ट में और भी अपने पसंदीदा फिल्मों का जिक्र करूँगा, लेकिन कुछ कारणवश इस पोस्ट को पब्लिश करने में काफी देरी हो गयी.(ये पोस्ट पूरी तरह कार-थीम फिल्मों के ऊपर ही है, आपको यदि इस विषय में दिलचस्पी न...
मेरी बातें...
abhi
Tag :कार-थीम-फ़िल्में
  April 17, 2012, 8:44 pm
कारों के बारे में जानकारी इकठ्ठा करने का फितूर हमेशा से मुझे रहा है.कभी कभी तो ऐसा भी पागलपन किया है मैंने की जिसे सुन लोग हँसेंगे भी.कुछ साल पहले मुझे ये फितूर चढ़ा की कारों से सम्बंधित अभी तक जितनी भी फ़िल्में बनी हैं, सभी देखनी है.वैसे कुछ कार-थीम पे बनी फ़िल्में मैं द...
मेरी बातें...
abhi
Tag :कार-थीम-फ़िल्में
  March 31, 2012, 11:23 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)