POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: सृजन

Blogger: chandra prakash
देश में बढ़ते हुए भ्र्ष्टाचार पर आज उसका मन बड़ा दुखी था | कक्षा में पढ़ते हुए उसने कुछ समय तक बच्चों के सामने भ्र्ष्टाचार से होने वाले दुष्प्रभावों पर प्रकाश डाला | बच्चो को भ्रष्टाचार व रिश्वत के खिलाफ लड़ने की प्रतिज्ञा भी दिला ही दी उसने |अगले दिन जब वह लेक्चर ख़त्म कर ... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   2:01pm 20 Sep 2018 #
Blogger: chandra prakash
ट्रक स्टार्ट करते हुए आज वो कुछ ज्यादा ही खुश था | आज बहुत फायदे का सौदा किया था उसने | सस्ते दामों में चार गए खरीद ली उसने|गुजश्ता कई पीढ़ियों से उसके घर वाले यही काम करते आ रहे थे , मवेशियों की खरीद फरोख्त, लिहाजा उसने भी यही काम शुरू कर दिया | आज होने वाले मुनाफे की रकम से उ... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   1:34pm 20 Sep 2018 #
Blogger: chandra prakash
याद है मुझे जो किस्से पुराने थे, मुहब्बत  की बातेँ थी ,खतों के जमाने थे.... हजारों कहानियाँ  थी ,हजारों अफसाने थे कई अधुरे ख्वाब थे , कई मुकाम थे ,जो ईक दिन पाने थे.......आसमान छुने की ख्वाहिशें  थी, और सपने सुहाने थे , खबर थी कुछ बातों की हमें , कुछ बातों से हम अनजाने थे …… ... Read more
clicks 216 View   Vote 0 Like   4:05pm 1 Oct 2013 #
Blogger: chandra prakash
  आँखों  सेमोतीबनकर,निकलतीहैंतेरीयादफिरगालोसेहोतेहुए, होंठोकोचूमकर,गिरपड़तीहैहथेलीयो  पर, तेरीयाद........ सीपमेंरखेमोतीसी, पत्तोपरपड़ीशबनमसी,मेरेअहसासोंकेप्रतिबिम्बसी,तेरीयाद.................. Read more
clicks 175 View   Vote 0 Like   1:32pm 28 Sep 2013 #
Blogger: chandra prakash
(For my wife)येतेरीमोहब्बतहीतोहै, कीजियेजाताहूँमैं,वरनारक्खाहीक्याहैइसज़मानेमें। भीड़मेंभी इकअकेलापनहै, तन्हाईहैं,हरतरफबदहवासीहैं, बदहालीहैं,बेहयाईहैं,हरआदमीमशरूफहैजबअपनीहीभूखमिटानेमें, येतेरीमोहब्बतहीतोहै, कीजियेजाताहूँमैं,वरनारक्खाहीक्याहैइसज़मानेमें।... Read more
clicks 198 View   Vote 0 Like   5:30am 15 Sep 2013 #
Blogger: chandra prakash
मत हो निराश , मत हो हताश ,बटोर अपनी ताकत  और कर फिर प्रयास …छोड़ गए कुछ लोग तेरा साथ तो क्या ,नहीं है अब वो तेरे साथ तो क्या ,ले मदद  उनकी जो है तेरे पास , मत हो निराश , मत हो हताश …….सफलता के पथ पर चलना पड़ता है अकेले भी ,हो जाते है दूर दुनिया के मेले भी ,घबरा मत जगा  पुन: अपनी आस, म... Read more
clicks 179 View   Vote 0 Like   5:24pm 11 Aug 2013 #
Blogger: chandra prakash
(These one liners are taken from many unknown sources.)                                                                                 शाम होते ही चिरागों को बुझा देता हूँ ,एक दिल ही काफ़ी है , तेरी याद... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   4:33pm 10 Aug 2013 #
Blogger: chandra prakash
कुछ  तो बात थी इनमे जो अब तक याद हैं ...(This post is submitted by one of my student "Ranjeet Darji") वो बचपन में तुतलाना, तुतलाकर सबको हंसाना,वो  भागदौड़  और लुकाछिपी में सबसे अंत में पकड़े जाना,कुछ  तो बात थी इनमे जो अब तक याद हैं …वो  पापा का पीट-पीटकर  स्कूल ले जाना,और स्कूल में  टीचर से  मार खाना,व... Read more
clicks 228 View   Vote 0 Like   4:27pm 6 Aug 2013 #
Blogger: chandra prakash
 जिन्दगीकी  भागदौड़मैं,बैठतेहैजबकभीअकेलेमैं,तोयादआतेहैवोगुजरेजमाने, अपनेदोस्तोंकेवोकिस्सेपुराने,कॉलेज  केदिन, जयपुरकीरातें,दोस्तोंकीनखतमहोनेवालीबातें,वोबास्केटबॉलकाकोर्टऔरकॉलेजकीकैंटीन, 'महारानी' कागेटऔरकेमिस्ट्रीलैबकीबेंजीन,'राठी' कीबोली, और'सक... Read more
clicks 202 View   Vote 0 Like   11:06am 1 Aug 2013 #
Blogger: chandra prakash
कुछ फैसले लेते हुए , ये सोचा न था .... की मुमकिन नहीं है वक़्त को वापस पलट पाना ...     दुहाई बहुत दिया करते थे वो अपनी सरपरस्ती की …वक़्त गुजरता गया और सामने आती गयी उनकी मौकापरस्ती ....     सच को मैंने सच कहा ,जब कह दिया तो कह दियाअब ज़माने की नज़र में ये.........हिमाकत है तो ह... Read more
clicks 189 View   Vote 0 Like   3:31am 1 Aug 2013 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post