POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: ललित वाणी

Blogger: Lalit Chahar
आज फिर से, एक नया सा, स्वप्न सजाना है अभी,आज फिर से, इक नई दुनिया बनानी है अभी |कह दिया है, जिंदगी से, राह न मेरी देखना ,खुद ही जाके, औरों पे, खुद को लुटाना है अभी |साख पे, बैठे परिंदे, हिल रहे हैं खौफ से,घोंसला उनका सजा कर, डर भगाना है अभी |लग गई है, आग अब, दुनिया में देखो हर तरफ,बाँट क... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   3:58pm 27 Sep 2013 #ग़ज़ल
Blogger: Lalit Chahar
तुम अक्सर पूछा करते हो ,कविता कैसे बन जाती हैलो ,मै तुमको बतलाता हूँ, कविता ऐसे बन जाती हैरातों को नींद न जब आती ,जगता रहता,भरता करवटजब सपन अधूरे रह जाते , होती है मन में अकुलाहटकुछ अंतर्मन की पीडायें ,कुछ दुनियादारी के झंझटतब उभर उभर कर भाव सभी ,शब्दों में ढलने लगते झटहोती... Read more
clicks 176 View   Vote 0 Like   11:50pm 19 Sep 2013 #
Blogger: Lalit Chahar
आज से शुरू करेंगे जीनाउसी पुराने ढग से हमन किसी की फ़िक्रन किसी से बिछड़ने का डरवही हमारी साथी किताबेवही पुरानी दोस्ती हमारीजिसने दिया हमें जग मेंइतना यश और मानउन्ही दोस्तों के संग बितायेगेपास कर लेंगे फिरदुनिया के सारे इम्तिहानक्योकि दुनिया चाहे छोड़ देपर ये सच्... Read more
clicks 204 View   Vote 0 Like   4:04am 19 Sep 2013 #कविता
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post