POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: अंतर्मंथन

Blogger: Dr T S Daral
कहते हैं,खरबूजे को देखकरखरबूजा रंग बदलता है। लेकिन पत्नी पर भैया, भलाकिसका वश चलता है। हमने पत्नी से कहा ,आप में बस एक कमी है। आपको हमारी लम्बी उम्र की,फ़िक्र ही नहीं है। पत्नी बोली,देखो मेरा गला ख़राब है, ज्यादा जोर से बोल नहीं सकती। लेकिन ना पहले की है नक़ल ,ना अ... Read more
clicks 5 View   Vote 0 Like   7:47am 17 Oct 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
जुर्माना है क्यों इतना, थोड़ी सी तो ही पी है,नाका तो नहीं तोड़ा, लाइट जम्प तो नहीं की है।  क्यों उनसे नहीं मतलब, जिनके हैं शीशे काले,क्या जाने उस गाड़ी में, बैठा इक बलात्कारी है।  जुर्माना है क्यों इतना. , थोड़ी सी तो ही पी है,स्टॉप लाइन तो क्रॉस नहीं की, पी यू सी भी है।गाड़ी को ल... Read more
clicks 22 View   Vote 0 Like   3:30am 10 Oct 2019 #ट्रैफिक
Blogger: Dr T S Daral
जो दौड़ते थे ८० -९० पर , सरकने लगे हैं धीरे धीरे।मेरे शहर के लोग आखिर, बदलने लगे हैं धीरे धीरे।हाथ में लटकाकर हेलमेट, उड़ती थी हवा में ज़ुल्फ़ें,गंजे सर भी अब तो हेलमेट,पहनने लगे हैं धीरे धीरे।डंडे के डर से मदारी, नचाता है अपने बन्दर को ,चालान के डर से इंसान, सरकने लगे हैं धीरे ध... Read more
clicks 31 View   Vote 0 Like   4:30am 1 Oct 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
फेसबुक पर हम इतना झूल गए,के कविता ही लिखना भूल गए।जिसे देनी थी जीवन भर छाया ,उस पेड़ को सींचना भूल गए।मतलब में अपने कुछ ऐसे डूबे,देश पर मर मिटना भूल गए ।नींद में देखते रहे जिसे रात भर ,आँख खुली तो वो सपना भूल गए।बड़े भोले थे जाल में जा फंसे ,फंसे तो पर निकलना भूल गए।आँखों पर ऐस... Read more
clicks 44 View   Vote 0 Like   9:00am 25 Sep 2019 #ब्लॉगिंग
Blogger: Dr T S Daral
सूखा पड़ा बड़ा जब आई नहीं बरखा तो ,मेंढक और मेंढकी का ब्याह करवाना पड़ा।  चलता रहा जून भर दोनों का हनीमून पर ,दो माह बाद उनका रोमांस रुकवाना पड़ा।  हुई छम छम वर्षा और बरसा  पानी जमकर ,बाढ़ रोकने का इंतज़ाम करवाना पड़ा।रुकी नहीं बरखा और शहर हुआ पानी पानी तो ,किसी और मेंढक मेंढ... Read more
clicks 24 View   Vote 0 Like   8:55am 24 Sep 2019 #मेंढक मेंढकी
Blogger: Dr T S Daral
सूखा पड़ा बड़ा जब हुई नहीं बरखा तो ,मेंढक और मेंढकी का ब्याह करवाना पड़ा।   चलता रहा जून में दोनों का हनीमून पर ,दो माह बाद उनका रोमांस रुकवाना पड़ा।   ऐसी हुई बरखा कि जमकर पानी बरसा ,बाढ़ रोकने का इंतज़ाम करवाना पड़ा।  रुकी नहीं बरखा और शहर हुआ पानी पानी तो ,मेंढक और मेंढक... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   8:55am 13 Sep 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
बचपन में अक्सर नेताओं और मंत्रियों को विदेश जाते देखते थे जो सरकारी खर्चे पर अपने विभाग से सम्बंधित विषय पर जानकारी प्राप्त करने के लिए विदेश का दौरा बनाते थे।  उनके साथ परिवार के सदस्य और विभाग के ऑफिसर्स भी जाते थे। इस तरह हर दौरे पर सरकार के लाखों रूपये खर्च होते थ... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   12:55pm 3 Sep 2019 #टोरंटो
Blogger: Dr T S Daral
1.सोते हुए आदमी ने जागते हुए आदमी से कहा ,जाग जाओ।जागते हुए आदमी ने सोते हुए आदमी से कहा ,भाग जाओ।ना जागता हुआ आदमी जागा ,ना सोता हुआ आदमी भागा।मैं सहमा सहमा , डरा डरा ,सड़क पर खड़ा खड़ा देखता रहा।जागते हुए आदमी को सोते हुए ,और सोते हुए आदमी को भागते हुए।मेरे जैसे और भी खड़े  थ... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   9:23am 16 Jul 2019 #दिल्ली
Blogger: Dr T S Daral
बाल यौन शोषण किसी न किसी रूप में सदियों से होता आया है।  भले ही वो इजिप्ट, ग्रीक या रोमन बाल वेश्यालयों का इतिहास हो या पाकिस्तान में बाल्की या आशना रीति , नेपाल में देवकी या दक्षिण भारत में देवदासी प्रथा, बाल यौन शोषण सदियों से प्रचलित रहा है, लेकिन समाज में इसे कभी पहच... Read more
clicks 77 View   Vote 0 Like   8:30pm 3 Jul 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
१.अमीर पत्नी गरीब कवि पति से :  मेरे पास कोठी है , बंगला है , गाड़ी है , साड़ी है , हीरे हैं , जवाहरात हैं।  तुम्हारे पास क्या है !कवि पति : मेरे पास कविता है , रचना है , कल्पना है , गीत है , नगमा है और नज़मा भी है।कवि जी अब फुटपाथ पर रहते हैं।२.लेबर डे पर पत्नी पति से : देखो कल तापमान ४५ ... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   9:00am 6 Jun 2019 #लतीफ़े
Blogger: Dr T S Daral
उत्तर पूर्व भारत के राज्य मेघालय की राजधानी शिलॉन्ग को पूर्व का स्कॉटलैंड कहा जाता है। समुद्र तल से लगभग ५००० फुट की ऊँचाई पर स्थित शिलॉन्ग एक हिल स्टेशन जैसा ही है। हालाँकि यह उत्तर भारत के हिल स्टेशंस की तरह पहाड़ की ढलान पर नहीं बसा है। सारा शहर लगभग समतल भूमि पर बसा ... Read more
clicks 84 View   Vote 0 Like   3:06pm 8 May 2019 #सैर
Blogger: Dr T S Daral
मार्केट में सड़क किनारेहमने जब गाड़ी करी खड़ी ,तभी आधी ढकी नाली पर खड़ेखोमचे वाले पर नज़र पड़ी।कुछ कमसिन, हंसती खिलखिलातीचटकारे लेती नवयौवनाएँ दी दिखाई।तभी कानों में झगड़ने की आवाज़ दी सुनाई।पता चला बुआ बबुआ में बहस छिड़ी थी ,बुआ यानि ई कोलाई अपनी जिद पर अड़ी थी ,शिगैला रुपी बबु... Read more
Blogger: Dr T S Daral
काज़ीरंगा मुख्यतया एक सींग वाले गेंडों गेडों के लिए जाना जाता है।  ये घास खाते हुए सड़क किनारे तक आ जाते हैं। गौहाटी से लगभग सवा दो सौ किलोमीटर और गाड़ी से ५ -६ घंटे दूर ४३० वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है काज़ीरंगा नेशनल पार्क जिसे १९८५ में यूनेस्को ने वर्ल्ड हेरिट... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   10:09am 27 Apr 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
एक ज़माना था जब नव विवाहित जोड़े पहली बार शादी के बाद हनीमून के बहाने घर से बाहर जाते थे और अक्सर वही उनकी आखिरी सैर होती थी क्योंकि उसके बाद जीवन यापन में इस कद्र व्यस्त हो जाते थे कि घूमने जाने के लिए न समय होता था और न ही संसाधन। उधर गांवों में तो हनीमून कोई जानता ही नहीं ... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   3:24pm 22 Apr 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
होली पर्व हैमस्ती में आने का।खाने खिलाने का ,पीने पिलाने का।हंसने हंसाने का ,और सबको प्यार से गले लगाने का।लेकिन इतना प्यार भी नहीं दिखाने का ,कि तकरार ही हो जाये !हैप्पी होली !!!!!... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   6:50am 20 Mar 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
कभी सर्जिकल स्ट्राइक को फ़र्ज़ी बता रहे हैं,पत्थरबाजों की पिटाई पर आंसू बहा रहे हैं।स्विस बैंकों में अरबों रखने वाले पूछ रहे हैं ,बताओ खाते में पंद्रह लाख कब आ रहे हैं।  जंग जीतने को जंगल के सब जीव मिल जाते हैं,लेकिन शेर को देख सबके होंठ सिल जाते हैं ।जिनकी फितरत है जितन... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   4:25am 16 Mar 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
आतंक के ठिकानों की तबाही से मुँह मोड़ना पड़ा ,नापाक पाक को खुद अपना ही गुरुर तोड़ना पड़ा। मोदी ने विश्व नेताओं से मिलकर कसा ऐसा शिकंजा ,अभीनंदन को सही सलामत बिना शर्त छोड़ना पड़ा।   ना तो इमरान को हिंदुस्तान पर प्यार आया है ,ना ही उसके मन में शांति का विचार आया है। बाजवा ... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   10:22am 5 Mar 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
जिंदगी के सफर में हमसफ़र अनेक होते हैं ,कुछ बेवफा, बेगैरत , कुछ बन्दे नेक होते हैं।अच्छी सूरत देखकर झांसे में ना आओ यारो ,फेसबुक पर दिखते चेहरे अक्सर फेक होते हैं।आस्था के बाज़ार में बाबा अनेक होते हैं ,कुछ रामदेव से संत, कुछ आसाराम से नेक होते हैं।डेरों के घेरों में नहीं ह... Read more
clicks 115 View   Vote 0 Like   6:30am 11 Feb 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
आज फिर हमने कटिंग कराई ,आज फिर अपनी हुई लड़ाई ।नाई ने पूर्ण आहुति की पुकार जब लगाईं ,तो हमने कहा , बाल कुछ तो काटो भाई ।भले ही ले लो जितना तुमको माल चाहिए ,वो बोला काटने के लिए भी तो बाल चाहिए।बाहर निकले तो सिर के बीच सर्दी लग रही थी ,घर जाकर देखा , आधे सिर में बर्फ जम रही थी।  अ... Read more
clicks 109 View   Vote 0 Like   7:18am 5 Feb 2019 #सर्दी
Blogger: Dr T S Daral
विदेशों में सडकों पर,कोई हॉर्न नहीं बजाता।हॉर्न नहीं बजाता,क्योंकि वहां आवश्यकता नहीं होती।  आवश्यकता नहीं होती,क्योंकि वहां अनुशासन होता है।अनुशासन होता है,क्योंकि वहां कानून व्यवस्था अच्छी है।कानून व्यवस्था अच्छी है,क्योंकि वहां जनसँख्या कम है।जनसँख्या कम ह... Read more
clicks 118 View   Vote 0 Like   5:30am 2 Feb 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
एक दिन एक महिला बोली ,डॉक्टर साहब,आप पत्नी पर कविताक्यों नहीं सुनाते हैं।हमने कहा , हम लिखते तो हैं ,लेकिन पत्नी को सुनाने सेघबराते हैं।एक बार हमने,पत्नी पर लिखी कविता,पत्नी को सुनाई।गलती ये हुई कि,अपनी को सुनाई।उस दिन ऐसी मुसीबत आई ,कि हमेंघर छोड़कर जाना पड़ा।और तीन दिन ... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   4:53am 31 Jan 2019 #पत्नी
Blogger: Dr T S Daral
एक दिन एक महिला बोली ,डॉक्टर साहब,आप पत्नी पर कविताक्यों नहीं सुनाते हैं।हमने कहा , हम लिखते तो हैं ,लेकिन पत्नी को सुनाने सेघबराते हैं।एक बार हमने,पत्नी पर लिखी कविता,पत्नी को सुनाई।गलती ये हुई कि,अपनी को सुनाई।उस दिन ऐसी मुसीबत आई ,कि हमेंघर छोड़कर जाना पड़ा।और तीन दिन ... Read more
clicks 100 View   Vote 0 Like   9:06am 29 Jan 2019 #हास्य कविता
Blogger: Dr T S Daral
एयर चाइना की एयर होस्टेसबोल कम मुस्करा ज्यादा रही थी,इंग्लिश में उसकी बातें हमें कुछ भीसमझ में नहीं आ रही थी।हम थे परेशान और उसकीपेशानी पर भीआ रहा था पसीना ,क्योंकि हमारी इंग्लिश भीकौन सी उसकी समझ में आ रही थी।... Read more
clicks 102 View   Vote 0 Like   7:14am 28 Jan 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
देखते देखते गुजर गया एक और साल ,जाते जाते देखिये कर गया क्या हाल । हम ले रहे थे ऑस्ट्रेलिया में गर्मियों के मज़े ,वापस आये तो सर्दी और प्रदुषण ने कर दिया बेहाल। हम तो विदेश में करते रहे मोदीत्त्व का प्रचार ,पर चिंता में डालने लगे चुनावी नतीजों के समाचार।   भारत के का... Read more
clicks 124 View   Vote 0 Like   7:16am 3 Jan 2019 #
Blogger: Dr T S Daral
पूर्वी दिल्ली की दो आवासीय कॉलोनियों के बीच बहते नाले को ढककर बनाई गई सड़क के बनने से इस क्षेत्र में आना जाना काफी आसान हो गया है। सुबह जब पहली रैड लाइट पर रुकना पड़ा और नज़र सड़क के पार गई तो देखा कि दूसरी ओर की स्लिप रोड़ को स्कूल की बाउंड्री होने के कारण एक ओर से बंद कर दिया ग... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   4:38am 5 Dec 2018 #पेशाब
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post