Hamarivani.com

satya

निर्मल   निर्झर   नीर   , नीरद  का  अम्बर  देखा ,मन  उत्कंठा  मोर  देख ,मन  विह्वल  नाचे ,चातक,  मीन,   नीर  ,मन  भावै ,स्वाति  बूँद   चातक     रस  पावै ,,निर्मल   निर्झर   नीर   , नीरद  का  अम्बर  देखा ,जैसे  मीन  मेघ  जल  पाई , स्वाति ...
satya...
Tag :
  July 28, 2013, 4:26 pm
सुबह  उठता  हूँ ,अखबारों  का  न्यूज   देखता  हूँ ,,, इस  सारे  जहाँ  में  क्या   हो  रहा   है ,  आज का  मौसम   कैसा  है ,  कंही  पर   बारिस  अपना कहर   ढाती  है ,  कहीं   ग्रीष्म  की  उष्णता   तपन   ढाती  है ,  कुदरत  का    नजारा  अजीब &...
satya...
Tag :
  July 28, 2013, 3:34 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163761)