Hamarivani.com

आपका ब्लॉग

चिड़िया: होली: होली के अवसर पर सारे, रंगों को मैं ले आऊँ, और तुम्हारे जीवन में मैं, उन रंगों को बिखराऊँ... लाल रंग है गुलमोहर का, केशरिया पलाश का ह......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  March 19, 2019, 6:30 am
भीषण ग्रीष्मधरती छूकर जलते पैरबड़ी कठीनाई से पहुचता थाबिना चप्पलों केतालाब के किनारेउस पेड़ के नीचे ।एक गौरैया गर्मी से बेहालकिनारे पानी मेंहो रही थी लोटपोट।फिर पानी से बाहर रही थी फूदक ।फरफरा रही थी पंखझाड़ रही थी पांखों की बूंदेंअल्हड़ता के साथआसपास से अनभिगव स...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  March 8, 2019, 1:16 am
कुछ और नहीं हमी की तरह हैये जिंदगी जिंदगी की तरह हैयो न झुका सर हर चैखटों परये आदत बंदगी की तरह हैक्यूं जां लेके घूमता है हथेली पेये जूर्रत आशिकी की तरह हैरात ख्वाबों में उससे मुलाकात हुईउसकी हर बात मौसिकी की तरह हैळो अब ख्याल गजल बनने ळगेहर खुशी गम, गम खुशी की तरह हैयूॅ ...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  March 8, 2019, 1:12 am
गुरुवासरीय गोष्ठी संपन्न =================प्रत्येक माह के प्रथम गुरूवार को होने वाली गुरुवासरीय काव्यगोष्ठी दिनांक ७ मार्च २०१९ गुरूवार को डा श्यामगुप्त के आवास सुश्यानिदी, के-३४८, आशियाना , लखनऊ पर संपन्न हुई |\डा श्यामगुप्त ने माँ सरस्वती वन्दना प्रस्तुत करते हुए पढ़ा---हे म...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  March 7, 2019, 11:06 pm
Laxmirangam: ब्लॉग पर पोस्ट की सूचना.: कृपया टिप्पणियाँ ब्लॉग पर ही करें. गूगल + की टिप्पणियाँ अस्वीकार्य कर दी गई हैं. प्रिय पाठकगण, हाल ही में गूगल प्लस से एक संदेश आया कि...कृपया टिप्पणियाँ ब्लॉग पर करें....
आपका ब्लॉग...
Tag :
  February 15, 2019, 2:12 pm
इन्द्रवज्रा/उपेंद्र वज्रा/उपजाति छंद"शिवेंद्रवज्रा स्तुति"परहित कर विषपान, महादेव जग के बने।सुर नर मुनि गा गान, चरण वंदना नित करें।।माथ नवा जयकार, मधुर स्तोत्र गा जो करें।भरें सदा भंडार, औघड़ दानी कर कृपा।।कैलाश वासी त्रिपुरादि नाशी।संसार शासी तव धाम काशी।नन्दी सवा...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  February 4, 2019, 5:07 pm
एक गीत : तुम जितने चाहे पहरेदार बिठा दो---      तुम चाहे जितने पहरेदार बिठा दोदो नयन मिले तो भाव एक रहते हैं    दो दिल ने कब माना है जग का बन्धन  नव सपनों का करता  रहता आलिंगन  जब युगल कल्पना मूर्त रूप  लेती हैं  मन ऐसे महका करते  ,जैसे चन्दनजब उच्छवासों में य...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  February 3, 2019, 5:00 pm
         हेमन्त ऋतु अपने यौवन पर  है , रात्रि- समारोहों आदि में ठिठुरन सेबचने के लिए  अलाव जलाए जाने  का क्रम प्रारम्भ हो चला है | प्रस्तुत है एकठिठुरती हुई रचना .....                          १.(श्याम घनाक्षरी --३० वर्ण , १६-१४,&nbs...
आपका ब्लॉग...
Tag :बिजली का तार
  January 21, 2019, 11:26 pm
एक व्यंग्य : धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे---धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे   समवेता युयुत्सव:मामका: पाण्डवाश्चैव  किमकुर्वत संजयधृतराष्ट्र उवाच -- हे संजय ! सुना है मेरे ’ भारत’ भूमि पर  2019 में ’महाभारत’ होने वाला है?संजय उवाच --- किमाश्चार्यम आचार्य ! किमाश्चार्यम !तो इस...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  January 21, 2019, 8:38 pm
एक व्यंग्य : आँख दिखाना--आज उन्होने फिर आँख दिखाईऔर आँख के डा0 ने अपनी व्यथा सुनाई--"पाठक जी !यहाँ जो मरीज़ आता है ’आँख दिखाता है " - फीस माँगने पर ’आँख दिखाता है ’। क्या मुसीबत है ---।--"यह समस्या मात्र आप की नहीं ,राजनीति में भी है डा0 साहब "मैने ढाँढस बँधाते हुए कहा-"जब कोई अपना ग...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  January 16, 2019, 6:30 pm
डा श्याम गुप्त की  सद्य प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह------पीर ज़माने की -----अनुशंसा         महाकवि डा श्यामगुप्त का नया ग़ज़ल-संग्रह ‘पीर ज़माने की’प्रकाशित होरहा है जिसमें उन्होंने उनके मन-लुभावनी, उत्साहवर्धक एवं तनाव को खुशी में, दुःख को शांति में बदलने की क्षमता रखने व...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  January 13, 2019, 10:55 pm
एक ग़ज़ल : लोग क्या क्या नहीं --लोग क्या क्या नहीं कहा करतेजब कभी तुमसे हम मिला करतेइश्क़ क्या है ? फ़रेब खा कर भीबारहा इश्क़ की दुआ करतेज़िन्दगी क्या तुम्हे शिकायत हैकब नहीं तुम से हम वफ़ा करतेदर्द अपना हो या जमाने कादर्द सब एक सा लगा करतेहाथ औरों का थाम ले बढ़ करलोग ऐसे कहाँ मिला...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  January 5, 2019, 6:41 pm
एक ग़ज़ल : इधर आना नहीं ज़ाहिदइधर आना नहीं ज़ाहिद , इधर रिन्दों की बस्ती हैतुम्हारी कौन सुनता है ,यहाँ अपनी ही मस्ती  हैभले हैं या बुरे हैं हम ,कि जो भी हैं ,या जैसे भीहमारी अपनी दुनिया है हमारी अपनी हस्ती हैतुम्हारी हूर तुम को हो मुबारक और जन्नत भीहमारे वास्ते काफी  हमारी&nb...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  December 27, 2018, 6:27 pm
एक ग़ज़ल : आज इतनी मिली है--आज इतनी मिली है  ख़ुशी आप सेदिल मिला तो मिली ज़िन्दगी आप सेतीरगी राह-ए-उल्फ़त पे तारी न होछन के आती रहे रोशनी  आप सेबात मेरी भी शामिल कहीं न कहींजो कहानी सुनी आप की आप सेराज़-ए-दिल ये कहूँ भी तो कैसे कहूँरफ़्ता रफ़्ता मुहब्बत  हुई  आप सेगर मैं पर्दा ...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  December 14, 2018, 4:06 pm
छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ कवि व पत्रकार स्वर्गीय श्यामलाल चतुर्वेदी का 7 दिसंबर 2018 की सुबह बिलासपुर स्थित एक निजी चिकित्सालय में इलाज के दौरान निधन हो गया। वह 92 वर्ष के थे। उनका जीवन महात्मा गांधी के आदर्शों से पूरी तरह से प्रभावित रहा। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से प्रभावित...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  December 8, 2018, 3:14 pm
आजकल पटाखे फोड़ना ‘दबंग’ संस्कृति वाले लोगों के बीच खुशी का इजहार करने का फैशन बन गया है। शायद उन्हें नहीं पता कि इन पटाखों के फोड़ने से किस कदर प्रदूषण फैल रहा है और हमारी जलवायु जहरीली होती जा रही है। देश की राजधानी दिल्ली में फैले वायु प्रदूषण से शायद हर कोई अवगत हो चु...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  December 3, 2018, 3:47 pm
एक लघु व्यथा : सम्मान करा लो---जाड़े की गुनगुनी धूप । गरम चाय की पहली चुस्की --कि मिश्रा जी चार आदमियों के साथ आ धमके।[जो पाठक गण    ’मिश्रा’ जी से परिचित नहीं है उन्हे बता दूँ कि मिश्रा जी मेरे वो  ’साहित्यिक मित्र’ हैं जो किसी पौराणिक कथाऒ के पात्र की तरह अचानक अवतरित ह...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  December 1, 2018, 12:13 pm
चन्द माहिया : क़िस्त 521जब जब घिरते बादलप्यासी धरती क्योंहोने लगती पागल ?:2:भूले से कभी आतेमेरी दुनिया मेंरिश्ता तो निभा जाते:3:कुछ मन की उलझन हैधुँधला है जब तकयह मन का दरपन है:4:जब छोड़ के जाना थाक्यों आए थे तुम?क्या दिल बहलाना था?:5:लगनी होती ,लगतीआग मुहब्बत कीताउम्र नही बुझती-...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  November 24, 2018, 11:04 am
एक ग़ज़ल :वक़्त सब एक सा  नहीं होतारंज-ओ-ग़म देरपा नहीं होताआदमी है,गुनाह  लाज़िम हैआदमी तो ख़ुदा  नहीं  होताएक ही रास्ते से जाना  हैऔर फिर लौटना नहीं होताकिस ज़माने की बात करते होकौन अब बेवफ़ा नहीं  होता ?हुक्म-ए-ज़ाहिद पे बात क्या करिएइश्क़ क्या है - पता नहीं  होतालाख मा...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  November 16, 2018, 6:01 pm
Laxmirangam: अतिथि अपने घर के: अतिथि अपने घर के बुजुर्ग अम्मा और बाबूजी साथ हैं,  उन्हे सेवा की जरूरत है, घर में एक कमरा उनके लिए ही है  और दूसरा हमारे पा......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  November 7, 2018, 8:40 pm
एक ग़ज़ल : एक समन्दर ,मेरे अन्दर...एक  समन्दर ,  मेरे  अन्दर शोर-ए-तलातुम बाहर भीतरएक तेरा ग़म  पहले   से हीऔर ज़माने का ग़म उस परतेरे होने का ये तसव्वुरतेरे होने से है बरतर चाहे जितना दूर रहूँ  मैंयादें आती रहतीं अकसरएक अगन सुलगी  रहती हैवस्ल-ए-सनम की, दिल के अन्दरप्य...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  November 2, 2018, 1:42 pm
ग़ज़ल  : हमें मालूम है संसद में फिर ---हमें मालूम है संसद में कल फिर क्या हुआ होगाकि हर मुद्दा सियासी ’वोट’ पर  तौला  गया होगावो,जिनके थे मकाँ वातानुकूलित संग मरमर  केहमारी झोपड़ी के  नाम हंगामा   किया  होगाजहाँ पर बात मर्यादा की या तहजीब की आईबहस करते हुए वो गालि...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  October 27, 2018, 7:40 pm
तोहमतें हजार मिलती हैं,नफरतें हर बार मिलती हैं,टूट कर बिखरने लगता है दिल,आंखें जार-जार रोती हैं,देख कर भी अनदेखा कर देते हैं लोग,आंसुओं को पनाह नहीं मिलती।।मुफलिसी के आलम में गुजरती जिंदगी,सपनों को बिखरते देखा करे जिंदगी ,फिरती है दर-बदर ठोंकरे खाती,किस्मत को बार - बार आ...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  October 26, 2018, 11:19 am
चन्द माहिया : क़िस्त 55:1:शिकवा न शिकायत हैजुल्म-ओ-सितम तेराक्या ये भी रवायत है:2:कैसा ये सितम तेरासीख रही हो क्या ?निकला ही न दम मेरा :3:छोड़ो भी गिला शिकवाअहल-ए-दुनिया सेजो होना था सो हुआ:4:इतना ही बस मानाराह-ए-मुहब्बत सेघर तक तेरे जाना:5:ये दर्द हमारा हैतनहाई में बसइसका ही सहार...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  October 20, 2018, 4:54 pm
मेरी इस रचना का उद्देश्य किसी वर्ग विशेष परआक्षेप करना नहीं है बल्कि मैं उस सत्य कोशब्द रूप में प्रकट कर रहीं हूँ जो प्रतिदिन हमारे सामने आता है।बड़ा अच्छा धंधा है, शिक्षा का न फंदा है।न ही कोई परीक्षा है, लेनी बस दीक्षा है।बन जाओ किसी बाबा के चेले।नहीं रहोगे तुम कभी अक...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  October 17, 2018, 9:03 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3854) कुल पोस्ट (187353)