Hamarivani.com

आपका ब्लॉग

कविता: शब्द की हुँकारसारांश:कभी कभी ख़ामोश हो जाता,     शब्द।नजरें     और  चेहरे  से   तब,             पढा              जाता,     शब्द।संभाल   कर    बोला   जाता,     शब्द।औषधी  से       तेज  &...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  July 20, 2018, 8:53 am
चन्द माहिया  : क़िस्त 48:1:क्यों दुख से घबराएधीरज रख मनवामौसम है बदल जाए:2:तलवारों पर भारीएक कलम मेरीऔर इसकी खुद्दारी:3:सुख-दुख  जाए आएसुख ही कहाँ ठहराजो दुख ही ठहर जाए:4:तेरी नीली आँखेंख़्वाबों को मेरेदेती रहती साँसें:5:आजीवन क्यों क्रन्दनख़ुद ही बाँधा हैजब माया का बन्धन-आन...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  June 30, 2018, 9:38 pm
Laxmirangam: राष्ट्रहित - खोटा सिक्का.: राष्ट्रहित अनुष्का शर्मा ने एहरान को डाँट लगाई कि वह कार से सड़क पर कचरा फेंक रहा था. भले ही लोग यह सोचें कि उसने सफाई वालंटीयर होन......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  June 24, 2018, 7:40 am
चन्द माहिया : क़िस्त 47:1:सब साफ़ दिखे मन सेधूल हटा पहलेइस मन के दरपन से:2:अब इश्क़ नुमाई क्यादिल से तुम्हे चाहाहर रोज़ गवाही क्या:3:मरने के ठिकाने सौदुनिया में फिर भीजीने के बहाने सौ:4:क्या ढूँढ रहा ,पगले !मिल जायेगा वोमन तो बस में कर ले:5:जो देना ,दे देनामेरी क्या चाहतआँखों से समझ ल...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  June 23, 2018, 9:53 pm
एक लघु चिन्तन : --"देश हित में"जिन्हें घोटाला करना है वो घोटाला करेंगे---जिन्हें लार टपकाना है वो लार टपकायेगें---जिन्हें विरोध करना है वो विरोध करेंगे--- सब अपना अपना काम करेगे ।ख़ुमार बाराबंकी साहब का एक शे’र हैन हारा है इश्क़ और न दुनिया थकी हैदिया जल रहा है , हवा चल रही  है&nb...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  June 22, 2018, 4:18 am
चन्द माहिया : क़िस्त 45        :1:सब ग़म के भँवर में हैंकौन किसे पूछेसब अपने सफ़र में हैं;2:अपना ही भला देखादेखी कब मैनेअपनी लक्षमन रेखा:3:माया की नगरी मेंबाँधोंगे कब तकइस धूप को गठरी में:4:होठों पे तराने हैंआँखों में किसकेबोलो .अफ़साने हैं:5:आँखों में शरमानादिल  मे कुछ तो हैर...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  June 2, 2018, 8:33 pm
चिड़िया: नशा - एक जहर: नशा - एक जहर नशे की राह में कई गुमराह हो रहे, ये नौनिहाल देश के तबाह हो रहे । कहता है कोई पी के भूल जाएगा वो गम, कहता है कोई छोड़ द......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  May 31, 2018, 8:51 am
          :1:खुद तूने बनाया हैअपना ये पिंजराख़ुद क़ैद में आया है:2:किस बात का है रोनाछूट ही जाना हैक्या पाना,क्या खोना ?          :3:जब चाँद नहीं उतराखिड़की मे,तो फिरकिसका चेहरा उभरा          :4:जब तुमने पुकारा हैकौन यहां ठहरालौटा न दुबारा है ...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  May 26, 2018, 4:20 am
चन्द माहिया : क़िस्त 43:1:जज्बात की सच्चाईनापोगे कैसेइस दिल की गहराई:2:तुम को सबकी है ख़बरकौन छुपा तुम सेसब तेरी ज़ेर-ए-नज़र:3:इक तुम पे भरोसा थाटूट गया वो भीकब मैने सोचा था:4:इतना जो मिटाया हैऔर मिटा देतेदम लब तक आया है:5:कितनी भोली सूरतजैसे बनाई होख़ुद रब ने ये मूरत-आनन्द.पाठक-...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  May 20, 2018, 9:01 pm
Laxmirangam: जरूरी तो नहीं: जरूरी तो नहीं. माना, हर मुलाकात का अंजाम जुदाई तो है तो मुलाकात किया जाए, उसे बदनाम किया जाए जुदाई के लिए ? ये जरूरी तो नहीं. दिल ......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  May 17, 2018, 10:05 am
Laxmirangam: मेरी तीसरी पुस्तक हिंदी : प्रवाह और परिवेश प...: मेरी तीसरी पुस्तक हिंदी : प्रवाह और परिवेश प्रकाशित हो गई हैय.  उसका कवर और संबंधित लिंक संलग्न हैं. अंतिम दो लिंकों  से पुस्तक खरीद......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  May 13, 2018, 10:33 am
जीवन है या दण्ड मिला हैपग-पग पर प्रतिबंध लगा हैकारागारों में साँसों काआना-जाना बहुत खला है।जीवन है यादण्ड मिला है।।हूँ सौभाग्यवतीवरदानित,सृष्टि मुझी से हैअनुप्राणित।मंदिर में महिमा मंडन परदेहरी भीतर हूँअभिशापित ।देवी सम्बोधित कर जग नेऔरत का हररूप छला है।।बेमन क...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  May 13, 2018, 9:40 am
Laxmirangam: जिंदगी का सफर:                               जिंदगी का सफर                                                  आलीशान तो नहीं , पर था शानदार,      ......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  May 5, 2018, 11:17 am
कसूरवार कौन ? #meremankee #rishabhshukla #book #poetry #hindi #onlinegathaबात तब की है जब मै सिर्फ १२ साल का था | मै अपने जन्म स्थान, उत्तरप्रदेश के भदोही जिले में अपने माता-पिता के साथ रहता था | वही भदोही जो अपने कालीन निर्यात के लिए विश्व विख्यात है | मेरा परिवार एक संयुक्त परिवार है, जहाँ मेरे दादाजी अपने द...
आपका ब्लॉग...
Tag :book
  April 7, 2018, 4:42 pm
Laxmirangam: सरकारों को चाहिए कि BE, MBBS, CA, ICWA, Ph.D  व भाषा विशारद जैसे क्षेत्रों में छात्रों को भेड़ बकरियों सा आभास मत दीजिए, उनमें गुणवत्ता लाइए. कम से कम शिक्षण के क्षेत्र में भ्रष्टाचार पूरी तरह से बंद करवाइए. जितनी नौकरियाँ उपलब्ध करा पाते हैं, उसी अनुपात में शिक्षा को भी न...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  March 29, 2018, 1:39 am
चिड़िया: बाँसुरी: बाँसुरी - 1- बाँस का इक नन्हा सा टुकड़ा, पोर - पोर में थीं गाँठें ! जीवित था पर प्राण कहाँ थे ? चलती थीं केवल साँसें !!! मन का मौजी,......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  March 14, 2018, 8:35 am
एक ग़ज़ल : ये कैसी रस्म-ए-उलफ़त है----ये कैसी रस्म-ए-उलफ़त है ,न आँखें नम ,न रुसवाईज़माने को खटकता क्यों  है दो दिल की  पज़ीराईतुम्हारे हाथ में पत्थर ,  जुनून-ए-दिल इधर भी हैन तुम जीते ,न दिल न हारा,नही उलफ़त ही रुक पाईन भूला है ,न भूलेगा कभी यह आस्तान-ए-यार मेरी शिद्दत ,मेरे सजदों ...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  March 4, 2018, 1:15 pm
होली पर एक ठे भोजपुरी गीत रऊआ लोग के समने--अशीरवाद चाही ]होली पर सब मनई लोगन के हमार बधाई बा--------होली पर एक भोजपुरी गीत-----------कईसे मनाईब होली ? हो राजा !कईसे मनाईब होली ........आवे केS कह गईला अजहूँ नS अईलान ’एसमसवे"भेजला नS पइसे पठऊलापूछा नS कईसे चलाईला खरचा-तोहरा का मालूम? परदेस...
आपका ब्लॉग...
Tag :
  March 1, 2018, 11:19 am
Laxmirangam: जिद: जिद जायज न हो शायद तुझे दोष देना कन्हैया, मगर मैं तो मजबूर हूँ. तुम्हारे किए का हरजाना देने, मैं कब तक सहूँ, मैं कब तक मरूँ......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  February 28, 2018, 10:39 pm
Laxmirangam: टूटते बंधन: टूटते बंधन पाश्चात्य सभ्यता के अनुसरण की होड़ में जो सबसे महत्वपूर्ण बातें सीखी गई या सीखी जा रही है उनमें जो सर्वप्रथम स्थान पर आता है......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  February 13, 2018, 11:26 am
♥कुछ शब्‍द♥: मुरली वाले__❤: मुरली वाले तू सुनले पुकार नैया मेरी, फंस गई मजधार___ भूल हुई तुझको न जाना दिलने कभी तुमको न माना तुझमें ही सारे संसार का सार मुरली वाले......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  February 1, 2018, 5:04 pm
चिड़िया: दो बालगीत: 1- जानवरों का नववर्ष जंगल के पशुओं ने सोचा हम भी धूम मचाएँ , मानव के जैसे ही कुछ हम भी नववर्ष मनाएँ ! वानर टोली के जिम्मे है फल-फू......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  December 19, 2017, 9:42 pm
चिड़िया: बूँद समाई सिंधु में !: प्रीत लगी सो लगि गई, अब ना फेरी जाय । बूँद समाई सिंधु में, अब ना हेरी जाय ।। हिय पैठी छवि ना मिटे, मिटा थकी दिन-रैन । निर्मोही के ......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  November 26, 2017, 8:21 pm
चिड़िया: पुस्तक समीक्षा - "मन दर्पण": पुस्तक समीक्षा रचना – मन दर्पण. रचनाकार – माड़भूषि रंगराज अयंगर. प्रकाशक – बुक बजूका पब्लिकेशन्स, कानपुर. मूल्य – रु. 175 मात्र ......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  November 13, 2017, 3:09 pm
चिड़िया: जब शरद आए !: ताल-तलैया खिलें कमल-कमलिनी मुदित मन किलोल करें हंस-हंसिनी ! कुसुम-कुसुम मधुलोभी मधुकर मँडराए, सुमनों से सजे सृष्टि,जब शरद आए !!! ......
आपका ब्लॉग...
Tag :
  November 7, 2017, 11:34 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3771) कुल पोस्ट (178855)